Friday, January 4, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता


कालजयी चितेरा नैनसुख -साभार विजय शर्मा

पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी मशहूर गजलकार पवनेंद्र पवन होरां पेश करा दे।


1. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन असां दे मुल्के दियां दूइयां भासां दे मुकाबले च कुतू खड़ोंदा

पवनेन्द्र 'पवन': हां रेत्ता दे ढेरे छाणी जितणा कि सोन्ना पल्ले पोंदा उतणा कि पहाड़ी साहित्य तां सिर कढ्ढी मुकाबले च खड़ोई सकदा. मसला ए है जे लेखक बाह्जी मेहनता रातों रात महान होणे दे सुपने दिखदे रैंहदे. किन्ने उतणा ही लेखकां जो बगाड़ने दा कम अखबारां नै होर पत्रिकां, तिनां दे लेखां (खास करी कवितां, गज़लां) जो बाह्जी तिन्हां दे स्तर जो दिक्खी छापी ने करा दियां. ठीक है जे लिखणे आळयां जो प्रोत्साहन मिलणा चाहीदा अपर 1966 ते लिखोंदा साहित्य अज भी प्रोत्साहन ही मंगगा तां खरा काह्लु लखोंह्गा?
एही दया हाल समीक्षां दी भी है. तिन्हां दियां टिपणियां पढ़ी इयां लगदा जणी इस बारिया दा ज्ञानपीठ पुरस्कार इन्हां जो ही मिलणा है. शौकिया नाटक लिखणे बाळे तां इक्का दुक्का ही सुझदे. कवियां दी गिनती परमात्मा दिया दया ने बधेरी है.

2. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्‍या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्‍नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्‍हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है

पवनेन्द्र 'पवन': पहाड़ी भाषा बह्ल जोरदार लफ्जां दी दौलत ने मुहावरयां दा खजाना है. इस करी इस बह्ल सब कुछ लिखणे दी कने सशक्त लिखणे दी ताकत है. पहाड़या च जेकर जौह्डा दया उपन्यास लखोई सकदा या संसार चन्द प्रभाकर दा खण्ड काव्य लखोई सकदा, द्विज होरां गज़लां लिखी  गज़ल विधा नै पूरा इन्साफ करी सकदे तां इन्हां दे मुकाबले दा या होर खरा कैंह नी लखोई सकदा. अपर लेखके दा उट पटांग लिखया ही छपदा रैंह्गा तां तिन्नी तां ए ही समझणा जे मैं ता भाऊ बधिया लिक्खा दा. तिन्नी अपणे लेखे च कमी ताईं तोपणी जाह्लु तिदिया रचना च कमियां गणाई नी छापगे. इस कने पत्रिकां दा भी अपणा स्तर बनणा. 
तस्‍वीरा च टांकरी लिपि च लिखिया -  मलोहतड़ कांगड़ा 

3. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्‍ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्‍या क्‍या करना चाहिदा

पवनेन्द्र 'पवन': सारयां ते बड्डी मुसीबत एह ही है जे पहाड़िया ने पाठक नी जुड़ी सकया. पहाड़िया दे लेखकां दा रिस्ता श्रोतयां तिक्कर ही जुड़ी सकया है. पाठक तां लगभग नदारद ही है. इक लेखक ही दुए लखारिए दे लिखयो जो डुगिया नजरां ने नी पढ़दा तां होरना दी गल भी क्या करनी. इसदी इक बजह लोकां तिकर पहाड़ी कताबां दा नी पुजणा भी होई सकदा.
अखबारां, मैगजीना च पहाड़िया दे लेख छापी करी, स्कूलां च Wall magzine चलाई उऩ्हां पर पहाड़ी कहाणियां, कवितां, लेख लग्गण कने स्कूल्लां च पहाड़िया च लिखयो नाटकां दा मंचन करुआणे ताईं मास्टरां जो प्रेरित कित्ता जाए तां पाठक त्यार होई सकदे. इक सुझाव ए बी है जे स्कूल्लां च पहाड़िया च कथां कवतां लिखणे दे कम्पीटीशन करवाए जाण. ए Competition लोक कथां, लोक गीतां लिखणे पर या कुसी लेखक दियां पहाड़ी कवतां बोलणे पर भी होई सकदा. दो, तिन नाटककारां दियां कताबां बंडी नै नाटक खेलणे दे मुकाबले भी करुआए जाई सकदे. अब्बल रैह्णे वाळयां जो बधिया इनाम देई बच्चयां जो प्रेरित कित्ता जाई सकदा.

4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात कि
ञा पूजदी

पवनेन्द्र 'पवन': अगलिया पीढ़िया ताईं पहाड़िया जो लेई अग्गे बधणा जे असां इसयो पहाड़िया ने जोड़ी सकगे.

6. तुसां दे स्‍हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्‍की भासा नै कम चली सकदा कि इक्‍की ते जादा भासां जरूरी हन ?  

पवनेंद्र पवन
पवनेन्द्र 'पवन': आम जिन्दगी जीणें ताईं भी अज इक भासा नाकाफी है.. घट ते घट अंग्रेजी कने हिन्दिया दी जानकारी होणा बड़ा जरूरी है.






8 comments:

  1. बड़ी छैल कन्ने सारथक गल्ल-बात
    💐💐💐💐💐💐💐

    ReplyDelete
  2. अच्छी गल्ल गलाई पर खण्ड काव्य नवीव हलदूणवी होरां लिखया ।
    कन्नै पवनेन्द्र होराँ जो पहाड़ी दे विकास दे बारे च सोचणाँ चाहिदा ।कविया दा सत्र जनता तय करदी । हमेशा ते ओ ही लिखोया जेडा जनता सुनना चाहंदी ।या जेड़ा दूनियाँ च होदा है ।
    मेरा सौभाग्य है कि मैं पहाड़ी हाँ कन्नै पहाड़ी दे विकास दे प्रति सजग हाँ ।

    ReplyDelete
  3. अच्छी गल्ल गलाई पर खण्ड काव्य नवीव हलदूणवी होरां लिखया ।
    कन्नै पवनेन्द्र होराँ जो पहाड़ी दे विकास दे बारे च सोचणाँ चाहिदा ।कविया दा सत्र जनता तय करदी । हमेशा ते ओ ही लिखोया जेडा जनता सुनना चाहंदी ।या जेड़ा दूनियाँ च होदा है ।
    मेरा सौभाग्य है कि मैं पहाड़ी हाँ कन्नै पहाड़ी दे विकास दे प्रति सजग हाँ ।

    ReplyDelete
  4. अनूप जी मातड़ें कख लिखया तां जबरयाँ फुरकणा नी दैणा मिंजो एथू ,,, मुक्तकंठ भी स्याणा वभाण है मुक्तकण्ठे जो भी पुच्छा ए सुआल ,,,

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुक्‍तकंठे गैं अरजी मंजूर होई गइयो है।

      Delete
  5. पवनेंद्र "पवन" होरां अज्ज जेह्ड़ा प्हाड़ीया पर राह्ड़ेया है कनै जिस ढंगे नै छेड़ा लाया है, तिस्च बड़ीयां सच्चाइयाँ दी खुश्बू उठी खड़ोत्त्ती। मते भराते हन पर इन्हां सच्चाइयाँ जो बोलणे दी हिम्मत कई नी करदे। प्हाड़ी भासा वास्ते पवन होरां दे जुआबां च बड़ा सेक है। भासा दे तिंएँ इन्हां दे अंदर जेह्ड़ी अग्ग बळी:यो तिहा दा हुआस भी लग्गा दा। खबाराँ च, मैं भी दिक्खेया, बड़ी घटिया कनै वेसुआद चीजां छाप्पी देया दे। पवनेंद्र जी दे कुछ सुझाव बड़ीया पैरीय्या दे भी हन। अपण, सब्भ तैं बड्डा कम्म, मेरे ख़याले च, पुराणीयां लीह्कां ते बाह्र निकळी नै , लिखणे दे अजकला दे नापां दे स्हाबे नै ख़रीयां रचना रचणा चाह्यीदीयां।
    चलो, इत पाहैं सोच्चा दा नाळू तां वगदा सुज्झेय्या। इक मीदा दी चलकोर लगी दु:स्सणा, भई होर भी नाळू जु:ड़गे तां खड्ड कनै भीरी दरया भी वगी सकदा। क्या कैंह् नि कुछ भी होई सकदा?

    ReplyDelete
  6. नवीन शर्मा होरां दा वट्सऐप पर आया कमेंट

    सेठी साहब नमस्कार,
    तेज सेठी होरां ने मेरी खुल्ली गप्प लगदी, तुहां तिन्हां दे भ्रातरी अज्ज इ पता चल्ला, कनें लग्गा मैं पतरियां खोलणां।
    सर जी तुहां दयार व्हाळा कम्म मतॉ छैळ करॉ दे, घरे ते दूर मुंबई जैसे सैहर च रई ने मां बोली वास्ते फिकर सराह्णे जोग, तुहांदे संस्कारां जो हत्थ जोड़ी मत्था टेकदा।
    पर,.......
    बोल्ला लिखां गांः?
    एह जितणे बी बड्डे बड्डे नां हन, जिन्हां जो तुहां छाप्पा करदे, बड़े धुरंदर हन कोई सक्क नी, जाती तौर पर मैं मता किछ सिखया इन्हां सबनां ते, खास कर द्विजेन्द्र द्विज होरां दीया कलमा दा तां मैं काइल हां।
    एह् बड्डे बड्डे लोक सच्च लिखदे सच्च गलांदे छैळ गल्ल, कैंः भई इक साहितकार सच्चा सुच्चा होणां ई चाईदा, पर मेरा वचार किछ होर ऐ, मुऑफ़ करयो सारे मिंजो, पर एह सच्चाई इन्हां ऑस्ते छैळ होई सकदी, पहाड़िया ऑस्ते नी जनाब, कैंः जे सबनां जो पता पहाड़िया दी क्या हालत ऐ, सच्चाई लिखणे दी लोड़ इ नी सर, सब जाणदे, लिखणा तां सैः लिखा जिसने आकर्षण बधै, लोक सोचणे जो मजबूर होन, ८ कलास पढ़ियो जनानी बी नियाणयां ने हिंदी बोलदी तुहां बी जाणदे मैं बी, तां जे जागत तरक्की करै गांः बधैः, स्हाड़ी समस्या ऐ कुछ देस ऐसे न भई जिसा भाषा च बच्चा रोंदा तिसा च इ पी०एच०डी० कर करदा, अहां रोणा पहाड़िया च, पढ़ना हिंदिया च, नौकरी तोपणी अंग्रेजियां च मजबूरी ऐ, मिलणी कुथकी बंगलौर तां कन्नड़ सिक्खा, पंजाब च तां पंजाबी बगैरह।
    फिः तुहां देः अपणिसां मां बोलियां दे एहलकार मिल्लणे तां दिले च औंदा किछ करिए, तित्थू सच्च गलाणे व्हाळे लहुंआं पीआ दे, जरूरी ऐ एह सब्ब गलाणां क्या? पता धैः सबनां जो।
    इन्हां जो बोल्ला मितरो सैः गलाण जिसने पहाड़िया पास्सैं लोक औह्न, कनें सरकार बी।
    मॉफ करन्यो जिस घरे च मां बुढ़े बी सब्ब किछ सच सच गलाणां लगी पौह्न, टब्बर नी बस्सदे तिन्हां दे, किछ गल्लां टब्बरे जो राःळिया पाणे ताईं, रस्ते लाणे ताईं लुकाणा छुपाणा पौंदियां, कनें खरियां बणाई पर्ताणां बी पौंदियां, साहित्यकार समाज बिच एई माऊ बुढ़यां दी भूमिका नभान तां भला हुंगा, भगवान कुनी नी दिखया फिः बी गलांदे सब भई भगुआन ऐ बैठया कुथकी, दिक्खा दा सब्ब, सच बी ऐ कने सैयद झूठ बी!
    भगवान ने बी झूठ दा स्हारा लिया, अश्वथामा हतो....!
    असां जो बी रौळा पाणा पौणां, पहाड़ी जिंदा चाईदी तां, नी तां कम्म तां चल्ला इ करा दा ऐ।
    भड़ास कढी ती, बुरा दिखन्यो मनांदे भलयो।
    पर गुस्सा औंदा दिक्खी कन्नें।
    नां बड्डे बड्डे, तां गल्ला पचांः मकसद बी बडड़े होणा चाईदे जी!
    डोगरयां ते पुच्छिए किह्यां मिल्ली मान्यता, मैं दिक्खया तिन्हां दा जूझणा कने मजबूर करना सरकारा जो, निर्मल विनोद होरां दस्सी सकदे। असां जो बी खंग खड़ाका करना ई पौणा ऐ, नी तां कवतां सुणा कने घरेयो जा।
    जय माता दी!

    ReplyDelete
  7. पवन होरां पहाड़िया विच बड़ी डुग्घी कवता कने ग़ज़ल करने वाळी हस्ती हैंन । इह्नां साहम्मणे मुंह खोड़ना सूरजे जो दिय्या दस्सणे वाळी गल्ल है । इक्को ही गल्ल ग्लाणी है कि सांजो सबनां जो दबा$ बणाणा पौणा तां जे सरकार भी जागें।

    ReplyDelete