Sunday, December 20, 2015

रामदयाल नीरज

रामदयाल नीरज
लिखारीयां कलांकारां दे मास्टर जी कनै गुरुजी।




हुड़के दिया ताला पर नीरजे दिया दाढ़ीया च
फडफडादें वग्‍ते दा ज़ख्मी मोनाल
ज़हन च पहाड़े दे बणदे बिगड़दे रंग
राजे गूंजदियां टंकारां च/अजादीया दी लड़ाई/ 
राणा़ंया दे शौक- 
प्रजामंडल विद्रोह दी ऊंची उआज़
नेहरूये दियां यात्रां ,परमारे दा ज़माना
जख्‍मां साही गईं गईं पर उघड़दे पहाड़
गीतां दिया लैं पर खणकदी चींड

-- मालरोड पर एक पीढी,- 


असां जो व्यक्तिवाचक कवतां लीखणे तार्इं प्रेरित करने वाळे रामदयाल नीरज किछ दिनं पैहलें 95 सालां दिया उमर पूरी करी असां सारयां ते विदा लई ने चली गै। तिन्‍हां दा जन्म 1 जून, 1920 जो रेणुका तसीला दे ग्रां ददाहू होया था। पंजमीं तक ताऊअें लुधियाणे पढ़ाये। 

इक रोज़ एह मुंडु नाहन नठणे ताईं रेला च बैठी गिया ,अपर गडी कराची जा दी थी। पता लग्‍गा ता दरयाए सिंध दे कनारे सखर उतरी गिया। किछ दिन इमलीया दे पत्‍तरां कनै पाणी पी गज़ारा कीता। फिरी साबणे दे कारखाने च नौकरीया ते बाद साधुआं दे भंडारे च मालपुए खाई सिर मंडाईनिरंजनी अखाड़ा अहमदाबादउज्जैन वगैरा च रही। दुनिया जो  ठगा- मजे ने,रोटी खा घयो-खंडा ने इस ज्ञान च माहर होई गै। 

नागा बाबा बणने दा डर कनै सिरमौरी खेशडी दी लाज बचाणे ताईं साधु वेशे च बम्बे पूजी रामलीला कम्पणीया च दाखल होर्इ गै। इसी दौरान गुजराती कनै मराठी सिखी। शास्त्रीय संगीत कनैं नाटकां च अभिनय करने दा  हुन्‍नर हासल कीता। साधू रूप च नां  रामचंद्र गिरि इस ताईं कलाकार दे रूप च नां रखोया राम मराठे। संत तुलसीदास फिल्मा च तुलसीदास दे बचपन दिया भूमिका च  ताऊअें  अपणा रामदयाल पछैणी लिया कनै बहुरूपिया पकड़ोई गिया।

बम्बे ते हटी ताऊ भाल दिल्लीया प्रभाकर, बी  ..दी  पढाईया कनै-कनै कवि सम्मेलनां सुणी कवि नीरज बणी गै। नाहन मास्टरी कीती, 1945 च  प्रजामंडल आंदोलन  शामल होई गै। डॉ परमार दे सहयोगी बणी सरकरी सूचना विभाग च आई गै। लगभग बीहां सालां तिकर हिमप्रस्थ पत्रिका दे सम्पादक रही ने उपनिदेशक दे पद ते सेवानिवृत होणे ते बाद  ट्रिब्‍यून दे हिंदी कनै पंजाबी सम्वाददाता रैह। साधु, अभिनेतागायकअध्यापक,आंदोलनकारीसम्पादककविअधिकारी  कनै पत्रकार इन्‍हां ऊंचार्इंया ते गुज़रयो नीरज जी इक स्वतंत्र लिखारी कनै सांस्कृतिक चिंतक थे। एह जनवादी लेखक संघ दे कमकाज च गांह बधी ने हिस्‍सा लेणे वाळे सदस्य थे।

संजौली दे श्मशान पर तिन्‍हां दे अंतिम संस्कार दे मौके पर तिन्‍हां दे पुत्‍तर अनिल जी जो असां एही गल्‍लाया--नीरज होरां इक शानदार अनुभवां दी पूरी जिंदगी जी ने गै! 
नीरज जी किछ म्‍हीनें  पेंहले तिकर जीन पैहनी माल रोड़ तिकर पैदल आई जांदे थे। गोष्ठियां च  खरे अध्यक्षीय भाषण देई  खूब मिठी चा पींदे थे।

एह लिखारीयां कलांकारां दे मास्टर जी कनै गुरुजी थे। अपर इन्‍हां दे अंतिम संस्कार च सूचना विभाग दे चार अफसर कनै लीखारीयां ते किह्ले डॉ सारस्‍वत थे। हालांकि इन्‍हां दे पुतरां दे मित्‍तर कनै निजी सम्बंधी लगभग सठ लोग इन्हां जो अ‍खीरी विदा देणा श्मशाने पर थे। हिमेश दे जाणे ते बाद मालरोड दी तिसा पीढ़ीया दा एह दूआ शख्स भी विदा लई ने चली गिया। जिन्हां आज़ादीया ते बाद इन्‍हां  पिछड़यां पहाड़ां च साहित्य कनै कला दा मोह्ल बणाया था।

पहाड़ां दे इस जुझारू बुद्धिजीवी नीरज जो सलाम-दर-सलाम !सलाम।

तुलसी रमण

तुलसी रमण जी दे फेसबुक पेज ते साभार।
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार                                                                              

Saturday, December 12, 2015

भगवाने दी तोप



रविंद्रनाथ टैगोर दी कहाणीया दा पहाड़ी अनुवाद।





जितणा की मिंजो याद ऐह् मैं कईंयाँ जिंदगियां ते, धरतीया पर जाह्लु जीवन शुरू ई होया था ताह्लु ते ही भगवाने जो तोपा दा ऐह्। तिसदे बारे च सबना ते पुछदा रैहन्दा।
कई बरि मैं तिसियो दूर इक्की तारे बहखें बैठया दिखया कने दिह्खि करि खुसिया च नच्चेया भी था की भई दूर ता ऐह् पर पुजणा कोई नामुमकिन भी नि।
फिरी मैं यात्रा भी किती तिस तारे पर पुज्ज्या, पर जाह्लु मैं तिहथु पुज्जा ता भगवान तिहथु ते जाई चुकया था कुसी दूजे तारे पर। एह सिलसिला कैइयां सदियाँ ते चलेया। एह कम ऐह् ही इतणा ओखा की मैं कोई आस नि होणे पर भी आस नि छड्डियो। मिंजो कुसी भी हालता च सैह तोपणा ऐह्, मैं तिदीया तोप्पा च पूरा रम्मी चुकेया।
एह तोप ऐह् ही इतणी दिलचस्प, रहस्यमयी कने लुभाव्णी की भगवान ता इक बॉह्ना बणी करि रेह्यी गया, तोप ही मकसद बणीयोह।
मेरिया रैह्निया जो इक दिन मैं दूर इक्की तारे पर इक्की घरे बह्खे पुज्ज्या जिस पर लिखेया था, "भगवाने दा घर"
मैं ता खुसिया ने पागल होइ गया, आखरकार मैं पुज्जि गया। मैं खिट लाई, तेज तेज तिस घरे बह्खे लप्पां मारियां। पर जिंयांह जियांह मैं  घरे दे नेड़े पुज्जा दा था, दिले च इक अजीब देया डर भरोई या। मैं जिंयांह ही दरवाजा खटकाणा लाया मिंजो इक्की अजीब दे डरैं लकवा मारी ता, इस डरे दे बारे मैं कदि सोचेया नि था, सुपने च भी नि।
कने डर एह था "अगर सच्ची च ही एह भगवाने दा घर ऐह् ता अगर मिंजो भगवान मिली या ता मैं तिसते बाद क्या करगा"
हुण भगवाने जो तोपणा मेरी जिंदगी बणी चुकियो थी, कने अगर भगवान मिंजो मिलिया ता एह आत्महत्या करने दे बराबर ऐह्। कने मैं तिदा करगा क्या। मैं एह सब चीजां पैह्ले कदि नि सोचियां थियां, एह सब मिंजो अपणियां तोप्पा दे पैह्ले सोचणा था, मैं तिदा करगा क्या?
मैं जुट्टे खोड़ी के हथे च पकड़े कने पीछे हटेया की कुथकी भगवाने छेड़ सुणी के दरवाजा खोलेया कने पुछ्या, "कतां चलया तू? मैं ऐहथु ही ऐह् अंदर उरया।
जिंहंया ही मैं पैड़ियां उतरया इतणी तेज नठया जितणा कदि नि नठया होणा।
तिस्ते बाद फिरि मैं अपणी तोप सुरु करि ति, फिरि मैं हर बह्खे भगवाने जो ही दिखदा फिरदा, बस जिस घरे च सैह रैहन्दा तिस्ते दूर टळी के रैहन्दा।
हुण मिंजो पता ऐह् की तिस घरे ते दूर रैहणा ऐह्।
मेरी तोप जारी ऐह्, यात्रा दा पूरा मजा लैह दा ऐह्, धार्मिक यात्रा।
मूल कहाणी: रविंद्रनाथ टैगोर  

पहाड़ी अनुवाद: सुमित भट्ट।