Thursday, July 26, 2012

फिलमकार बी.आर. ईशारा नी रैह



लीका ते हटी ने फिलमां बणाणे वाळे फिलमकार बी.आर. ईशारा नी रैह। हिमाचली कैमरामैन सुदर्शन नाग होरां इना दे बारे च गलाया कि हिमाचले दे कांगड़ा जिले दे इक्‍की ग्रांये ते रोजी-रोटी ताएं बंबई आये कन्‍ने रणजीत स्‍टुडियो दे बाहर इक्‍की होटले च चाही वाले मुंडुऐ ते  इना दा सफर शुरू होया। स्‍टुडियो च कलाकारां जो चाह प्‍यादें-प्‍यादें अप्‍पु भी कलाकार बणी गै। लेखकां दे घरें भांडया मांजी लेखका दियां गप्‍पां सुणी-सुणी लेखक बणी गै। इन्‍हां कन्‍ने इक सतपाल भी होटले च कम करदे थे। सैह भी फिलम डरेक्‍टर बणे पर दोनों जणे हिमाचल बापस नी गै। नाग होरां जो इन्‍ना ही अपणी फिल्‍म चेतना च मौका दिता कन्‍ने ऐह पैहली फिल्‍म थी जेड़ी स्‍टुडियो ते बाहर खुलीया जगह पर शूट होई थी। शूट करने वाले थे सुदर्शन नाग कन्‍ने बणाणे वाळे बी आर ईशारा। नाग होरां साही इनां परवीन बॉवी, बप्‍पी लैहरी जो पैहली बरी फिल्‍मां च मौका दिता। रजा मुराद होरां दा गलाणा है कि अणपढ़ होणे दे बावजूद ऐह असां दे सबते बडे प्रग‍तीशील फिल्‍मकारां च थे। इनां दी उड़दु कन्‍ने हिंदी पर गजब दी पकड़ थी। हिमाचल मित्र ताएं इन्‍ना ने गलबात करने दी असां सोचदे ही रही गै। हिमाचल मित्र, दयार कन्‍ने सारयां हिमाचली मित्रां दी तरफां ते नमन कन्‍ने परमात्‍मे ने आत्‍म शांति दी बिणती। 

Thursday, July 12, 2012

चाचू-भतीजू


चाचू-भतीजू     




(चाचू ग्रांये च जायी ने फसी गिया। सरकारी डाक्‍टरें पराणे दंद ता पट्टी लै पर नोंये लाए नी। सरकारी समान मुक्‍की गिया था दुबारा ओणे जो गलाया कन्‍ने चाचू मुंबई पूजी गिया।) 


भतीजू: चाचू तू फळफळ क्‍या करी जादा कन्‍ने ऐह चूफयो अम्‍बे साही क्‍या शकल बणाई लईयो।
चाचू : भतीजू तिजो क्‍या पता। अहुं मुल्‍खें था गिया। ऐह सरकारी मुस्‍कान है।
भतीजू: ऐह मुस्‍कान है या सस्‍ते नाजे वाळी खाली सरकारी दकान है। ठीक भी है माल ही नी है ता ताळा भी कैत पाणा। 
चाचू : मुआ तू दकान होए ता माल ओंदा जांदा रैहंदा।
भतीजू: चाचू ऐह ओणे जाणे वाळा माल नी था। ऐह माल ता फूकणे ते बाद गंगा पजाणे ताएं कम्‍मे ओंदा। तैं खरा कीता पैहलें ही पजाई आया। मेरी ऐह टेन्‍सन ता गई।
चाचू : तू किछ खरा भी सोचा कर।
भतीजू: अहुं ता खरा ही सोचदा तेरे बारे च पर तू अप्‍पुं ही पुठयां कमा कमांदा रैंहदा। सारयां दंदा ही गुआई आया।  
चाचू : गुआई नी आया। कुर्से पाई आया। इस पर हुण नौयीं बिल्डिंग खड़णी है।
भतीजू: बडा आया कुर्से वाळा। जेड़े दो-चार गठी थे तिनां ते भी छुटी होई गई। चाचू तेरे जमाने दी गप्‍प है। जेड़े चलदे बगाने बोलां सेह जांदे बजदे ढोलां।
चाचू : कोई ढोल नी बजया। बस इक बरी कड़च होई कन्‍ने दंद हत्‍थें।
भतीजू: सोची-समझी करी चला कर। तेरी उमर होई गईयो तैं कैत पाणे ऐह डंड-कीले काल की ओईंया ही कड़च होई जाणी है। 
चाचू : भतीजू। तू ता अहुं जो मारना ही बही गिया तिजो ते ता अपणी सरकार खरी जेड़ी नोंयां ददां मुफ्त लगा दी।
भतीजू: मुफ्त लगा दी कि पुट्टा दी।
चाचू : नोंये बूटे लगाणे ताएं पराणा जंखाड़ साफ करना ही पोंदा।
भतीजू: चाचू। तिजो मती बरी गलाया। जादा भासण बाजी मत करा कर। जमाना ठीक नी है। हुण करदा रैह फळफळ।
चाचू : भतीजू। तू जादा बकबास मत करें। नहीं ता अहुं ते पई जाणीयां हन।
भतीजू: बस ऐही कमी है। तैं बुड़बुड़ कीती कन्‍ने तिनां तेरे दंद ही पट्टी लै।
चाचू : चौप। मेरे दंद कुन्‍नी नी पट्टे। अहुं अप्‍पुं ही गिया था सरकारी हस्‍पताल।
भतीजू: ठीक है ऐही ता अहुं भी गला दा। तू अप्‍पुं ही गिया था कन्‍ने तिनां दंदां पट्टी भेजी ता।
चाचू : भतीजू। हुण तिनां नोंये दंद भी लाणे हन। सरकारी स्‍कीम है। सरकार जबरयां जो मुफ्त दंदां ला दी।
भतीजू: चाचू। तू समझा कर ऐह स्‍कीम है। वरोधियां दें दंदा पट्णे दी।  
चाचू :  भतीजू। तू किछ भी मत बोला कर। नोंयां दंदा दा समान मुक्‍की गिया था नईं ता अहुं तिजो इतणी बकबक करना ही नी देणी थी। नोंयां दंदा ने तू धेड़ी खाणा था।
भतीजू: चाचू। समझा कर तेरिया बारिया ही समान कैं मुक्‍या। बडी जीभा कन्‍ने दंदां वाळयां जो कोई पसंद नी करदा। सब डरदे सरकार भी।   
चाचू : भतीजू। मेरयां दंदा ते सरकारा जो क्‍या डर।
भतीजू: है ना। तिजो साही जबरयां दे जियां-जियां दंद टुटदे जांदे जीभां अजाद होंदियां जांदियां। नूहां, पुतर, गुआंडी-पड़ेसी, सरकार सभनां जो बेले-कवेले गाळीं बक दे रैहंदे। कन्‍ने सरकार नाएं दा जेड़ा ऐह जीव है ना रोळे ते बड़ा डरदा।   
चाचू : मुआ। तू भी ह्नेरें ही पत्‍थरां मारदा रैंहदा। नूहां पुत्‍तरां भाल टैम ही कुत्‍थु है जबरयां दियां गप्‍पां सुणने ताएं। ऐह ता याणयां संभाळ ने दी नौकरी कन्‍ने गठरी या ताएं ही होंदी जबरयां दी पुछ। 
भतीजू: चाचू। तू किछ भी बोल तुंहा जबरे होंदे बड़े कपते। इक जबरे अन्‍नें सारयां जो वक्‍त पाई तिया। 
चाचू : भतीजू। सरकार भी कुत्‍थु जवान है। सब जबरे ही ता हन। घर होऐ या देश जबरयां वगैर नी चली सकदा।
भतीजू: चाचू। सब तुहां जबरयां दा ही गंद है। ता ही सरकार तुहां दे दंदां पट्टा दी। 
चाचू : भतीजू। तेरा दमाग खराब है। सरकारा च जेड़े जबरे बैठयो तिनां जो असां दी चिंता है तिनां असा जो नोंयें दंद लाणा लायो।
भतीजू: चाचू। तेरा दमाग खराब है। सरकार कोई बेवकूफ नी है। जेड़ी खूने वाळे असली दंदा पुट्टी नकली दंदां ला दी। 
चाचू : भतीजू। अहुं जो समझा नी ओआ दा। इनां नोंया दंदा च क्‍या खराबी है।

भतीजू: चाचू। दंदां वालयां ते सारे ही डरदे। तिजो पता है सपेरे सरपां दे जेह्रे वाळयां दंदा पटटी ने झोळिया पायी लेंदे। इस भाने सरकारें भी तिजो साही जबरयां दे थोबड़े मारी ते।     
चाचू : भतीजू। सरकार कोई सपेरी नी है। तिन्‍नें कैत पाणे असां दे दंद।
भतीजू: चाचू। सरकारां इसते भी उपरलियां पुडि़यां होंदियां। इनां सरकारी दंदां लाई तू रों गा, गाळी दिंगा, कुछ भी करगा ता भी ईयां लगणा हास्‍सा दा कैं कि इनां दा नां ही मुस्‍कान है। होर जै ते बड़ी हुश्‍यारी कीती ता इक्‍की थप्‍पड़े ने दंद बार कन्‍ने तैं रही जाणा फळफळ करदे।

गप्‍पी डरैबर 

Sunday, July 1, 2012

फुलवाड़ी

 
एह् पहाड़‍िया दा ई कमाल हुंगा. जदूं असां हिमाचल मित्र कड्डा दे थे तां बड़े तरले कीते. भाई जी किछ लिखा. किछ देया. किछ करा. पर भाई होरां गैं नी पट्टी. जदूं मिलणा तां मुस्‍कड़ाई देणा.  जाह्लू मैगजीन छपणी, असां इक थब्‍बी इन्‍हां जो भेजी देणी. भई बंडी छडण्‍यों. क्‍या पता पढ़ने गुणने आळा कोई टकरी जाऐ. पर मजाल जे भाई होरां कदी जुंगसे भी होन. एह भी पता नीं लगदा था भई मैगजीन बंडोई कि गुआची गई.
पहाड़‍िया दा कमाल एह् होया भई दयार सुरू होया तां थोड़्यां दिनां परंत भाई होरां जागरत होई गै. फोन आई गया, '' कदेह्या चलेया दयार''. मैं गलाया, चलेया मठैं मठैं. लगे गलाणा, अजकला फुल खिड़यो, मैं सोच्‍या किछ फोटो भेजां''.
मिंजो पता था भाई रामस्‍वरूप होरां घरैं फुल लाह्यो कनै रोज भ्‍यागा तिन्‍हां दी खूब सेवा करदे. एह भी पता था भई इक्‍की जमाने च फोटो भी जबरदस्‍त खिंजदे थे.
ताईं तां मैं सुरू च ई बोल्‍या था, एह पहाड़‍िया दा ही कमाल लग्‍गा दा भई रामस्‍वरूप होरां अपणा मौन तोड़्या कनै फोटो भेजियां. इन्‍हां ते सांझो पैह्लें भी उमीद थी, कैंह् कि कि भाई होरां आखर हन तां कलाकार ही न. भौएं मकलोडगंज होटल खोह्ली लेया होऐ कनै पिछलेयां बीह्यां सालां ते बदेसी मसाफरां दी सेवा करा दे होन. भौएं एमएलए दे इलेक्‍सन लड़ी लड़ी नै हुण सलाहकारे दी ड्यूटी लई लइयो होऐ.
वैसे इलेक्‍सनां लड़ने दा चस्‍का इन्‍हां जो कालजे च ही लगी गया था. मैं जदूं धर्मसाळा कालजे च एमए च दाखला लया तिस ई साल रामसरूप होरां भी हिंदिया दे छातर बणने ताई हाजर होई गै. इन्‍हां सोच्‍या एह् था भई कालज रैंह्गे तां बास्‍कटबाल खेलणे दा मौका मिह्लगा. पंज सत्‍त साल पैह्लें जदूं बीएससी कीती थी तां नेशनल लेवल पर खेली आयो थे. मैं लीडरां त बडा डरदा था. पर भाई होरां हिंदी बड़ी साफ बोलदे थे. असां नाटक करदे थे कनैं ऐसे बंदे तोपदे रैंह्दे थे जेह्ड़े हिंदी, पहाडि़या च न बोलदे होन. गल इन्‍हां दे कन्‍नैं पई गई. तां एह नाटक मंडलिया च सामल होई गै. असां कालजे दे पासे ते इन्‍हां सौगी बलराज पंडित होरां दा 'पांचवां सवार' नाटक खेल्‍या. फिरी बंगाली नाटककार बादल सरकार होरां दा 'जुलूस' खेल्‍या. नाटक करने ताईं टीम अंबरसर, लुधियाणा कनै होस्‍यारपुर भी गई. लौह्ल स्‍पीति बड़ी बर्फ पई तां चंदा कट्ठा करने ताईं लक्ष्‍मी नारायण लाल होरां दा संगीत नाटक 'सगुन पंछी' खेल्‍या. इस च गुरू चेले दोआ ई थे. प्रो. बेदी, प्रो. रमेस रवि, मैडम ससी शर्मा वगैरा थे. (हुण सारेयां दे नां याद भी नी औआ दे). रामसरूप होरां इस नाटके च भूत थे बणयो. मुंडुआं कुड़ि‍यां च साह्ड़े सौगी राज कुमार अग्रवाल, संजीव कनै प्रवीण गांधी (भ्राता), रकेस वत्‍स, सुजाता गुप्‍ता कनै आसा सर्मा हुंदियां थियां. सुजाता तदूं भी कवतां लिखदी थी. आसा गजलां गांदी थी कनै जलतरंग बड़ा छैळ बजांदी थी. इन्‍हां दा सारा कुनबा ही संगीतकार था.
एमए दे साह्ड़े साथी कलाकार भी थे. रमेस मस्‍ताना होरां भी साह्ड़ि‍या ई क्‍लासा च थे पर तिन्‍हां दा ध्‍यान पढ़ाइया च जादा था. तिन्‍हां दा घर भी दूर था. अज्ञेय दियां कवतां असां बगैर प्रोफेसरां ते अप्‍पू ई पढ़ी लइयां. मैं आधुनिक कहाणी अप्‍पू ई पढ़ी. कुनी पढ़ाई नीं. रामसरूप होरां दे घरें बही नै असां मुक्तिबोध दी 'अंधेरे में' कनै 'ब्रह्मराकसस' पढ़ी. तदूं लिखणे दा नौंआं नौंआं सौक था, पढ़ने दा भी जनून था. पी सर्मा होरां प्रिंसीपल थे. तिन्‍हां ते परमीसन लई लई, बीह बीह कताबां इक्‍की बरिया इसू कराई लैणियां. घरैं ढेर लाई ता. झोळे च कताबां भरी नै, छातिया नै कताबां चपकाई नै (प्रो. ओम अवस्‍थी होरां साह्ई) चलणे च बड़ा मजा औंदा था. रामसरूप होरां दे भाई विजय सर्मा होरां दे घरैं एलपी रिकार्डां दा खजाना था. सैह् अमरित भी कन्‍नां च बड़ा घुळेया. तदूं रामसरूप होरां गैं मोटरसाइकल था. सैह् गांह् मैं पचांह्.. लिकळी जांदे थे मीलां मील.. कदी तांह् कदी तुआंह्..
ओ ए मैं कुतांह निकळी आया. भाई होरां चार फोटो भेजियां, खिड़ेयां फुल्‍लां दियां. मेरे अंदर पुराणे वक्‍तां दी फुलवाड़ी खिड़ी पई. फुल्‍लां दे ब्‍हानें पुराणेयां मितरां दे कछ झाती मारी लई. जियां कोई पुराणी एलबम बड़े सालां परंत दिक्‍खी होऐ.
लेया हुण फोटो भी दिक्‍खी लेया
Ramswaroop14062012
Ramswaroop14062012 (1)
Ramswaroop14062012 (3)
Ramswaroop14062012 (2)
अनूप सेठी