Monday, September 15, 2014

कीह्याँ सैर मनाइये ?

- स्वर्गीय  ’साग़र’ पालमपुरी

मँघयाइया दा जोर कीह्याँ सैर मनाइये ?
जीणे दा क्या धोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

जे मैह्ल बणे म्हारिआ मिह्णती ने तिह्नाँ
आई बस्से कोई होर कीह्याँ सैर मनाइये ?

कुथु खेह्लिये हण खोड़ाँ, कीह्याँ गाइये छंझोटी?
रुत बड़ी मुँह्जोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

अपणेयाँ कुलाचाराँ त्यागी ने असाँ लोक
होआ दे आँ कमजोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

सैह रूप नीं सैह रंग नीं धरियाइयाँ बणाँ दा
नचदे नईं हण मोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

किछ लाळचाँ लोब्भाँ देह्यी ग्रेथिओ दुनियाँ
जळबाँ दी टकठोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

दान्नाँ ब्रताँ, जगाँ दा सुफल मिल्लै बी कीह्याँ?
बस्सेया मनें चोर, कीह्याँ सैर मनाइये ?

दड़ी जाइ्ये कुथु मित्तरो! जमाने ते डरी ने
हण तोपिये कुण झोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

लोहुए ने दीया सान्जो बलाणाँ पोऐ
निह्यारा बड़ा घोर कीह्याँ सैर मनाइये ?

’साग़र’ दिखा जिस पास्से बह्दी गेह्यो माह्णू
गोह्राँ बत्ताँ सोर  कीह्याँ सैर मनाइये