Wednesday, November 28, 2018

" ठंडी -ठंडी हवा झुलदी , झुलदे चीलां दे डालू , जीणा काँगड़े दा "- लोकगायक प्रताप चंद सरमा


चला गया लोकगायक धंतारा बजदा
नमन

" ठंडी -ठंडी हवा झुलदी ,
झुलदे चीलां दे डालू ,
जीणा काँगड़े दा "

धण गद्दियाँ दे धारा च फिरदे 
सैला खबलू , फुलणू चुगदे ,
गद्दी दिक्खी-दिक्खी हस्सै 
ओ बांका सजदा गद्धणी बालू 
जीणा काँगड़े दा,
मर्द घरां दे बाहर कमांदे 
छणकदे हथड़ू मंधाणीया घुमान्दे
भोला छान्बे-छान्बे पिय्ये ओ गोरिया हत्थै दई दिहालू 
जीणा काँगड़े  दा,

खाणै जो मिलदा भत्त भटुरू , उच्चियाँ धारां ते पौण छरुडु,
रिडियां-रिडियां डंगरेयां चारण , कनै गान्दे गीत गुआलु 
जीणा काँगड़े दा,

घर -घर टिकलु घर -घर बिंदलु , बंकियां नारां छैल -छैल गभरु 
सौगी - सौगी मेले जांदे गीतां गान्दे वही हंडोलू
जीणा काँगड़े दा .................

सारे हिमाचले  च लोकगीत बणी चुकयो इस गीते जो खबरे ही कोई हिमाचली होणा जिस ए गीत नी सुणया होए
, गुण -गुणान्दे ताँ सब इस गीते जो अपर मतयां जो पता नी होणा कि देआ छैल गीत लिख्या कुणी , कुण है भला इस गीते जो लिखने आला ?
सुरीले गीतां जो मिट्ठा सुर देई ने लोकां तकर पुजाणे आले लोकगायक प्रताप चंद सरमा , अप्पू गीत लिखी धन्तारे कनै गाई करी इतणा क प्रसिद्ध करी दित्ता कि अज्ज ऐ गीत लोक गीत बणी गेओ , काँगड़े च लोकगीतां दिया परम्परा विच इणा दे लिख्यो कनै गायो गीत बड़े ही मसहूर हन , इणा देयां गीतां च काँगड़े दियां धारां दी सुंदरता , लोकां दे रैहण-सैह्ण, रिति- रिवाजां कनै परम्परावां दी जीँदी-जागदी चलक मिलदी है , 

सांभ दे सिलसिले च पिच्छे देइया प्रताप होराँ कनै मिळणे दा मौक़ा मिलया , अपणी ज़िंदगियाँ दे ठासी सौण दिखी चुक्यो प्रताप होराँ दा जन्म तरेई जनवरी उन्नी सौ सताई जो पणत झाणु राम कनै माता कालो देवी होराँ दे घर मतबल धरोहर ग्रां  गरली- परागपुरे कनै लगदे  ग्रां  नलेटी तसील देहरा जिला कांगड़ा हिमाचल प्रदेश च होया , 
, इणा दा व्याह  चौदह सालां दिया निक्किया उमरा च ही होई गेआ
, इणा देयां पितां होराँ जो गाणे- बजाणै दा खरा चा था , सै कथा -कीर्तना च गाँदे -बजांदे थे तिस करी प्रताप होराँ जो लौके होंदे ते घरे विच ही गीत-संगीत आला मौहाल मिल्या जिस ने प्रताप होराँ जो भी प्रेरणा मिल्ली
, निक्किया उमरा विच व्याह होणे दिया बजह ने चार जागतां कनै तरै बिट्टियाँ दे पालण -पोसण दी ज़िम्मेवारी सरे उप्पर पेई गेई ,उपरै ते  बेरोजगारी सबना ते बड्ड़ी  मसीबत रेई , फिरि सन उन्नी सौ  काट च माता होराँ  काल होई गे , जित्थू रहन्दे थे सै छप्पर भी ढही गेआ , दिहाड़ियाँ -मजूरिया ने टैम निकलदा रेहा , अपर  प्रताप होराँ अंदर बैठ्या कलाकार इतणे मुस्कल हलातां विच होर कड़दा गेआ , 
फिरि सन उन्नी सौ  बाट (1962)  च दुर्गादत्त शास्त्री ,विद्यालंकार , सुशील चन्द्र रत्न होराँ दे सहयोगे ने लोक संम्पर्क विभाग काँगड़े दिया संगीत मंडलियाँ  च कम्म मिल्या , इसा मंडलियां दे लीडर संगीताचार्य मास्टर शाम सुन्दर थे , डी पी आर ओ प्रोफेसर चंदरवरकर होराँ दी गुजारशा पर  पैहला गीत " ठंडी -ठंडी हवा झुलदी 

 ,झुलदे चीलां दे डालू ,जीणा काँगड़े दा " प्रताप चंद होराँ लिख्या  ,

इस गीते  अलावा इणा दा ए  गीत " जे तू चल्ला नेफा नौकरी , मेरे गले दे हारे लैंदा जायां " भी अज्ज  लोकगीते साहीं  गाया जाँदा है 


बकौल प्रताप चंद सरमा  लोक तिणा जो ध्नतारुए वाला भी गलांदे जित्थु -कुत्थी भी कोई मिलदा  ए ही गलांदा " अरा प्रतापुआ किसी गीते दा टक्क ताँ सुणादा जा " वाह-वाह ताँ सबना जगह मिलदी कनै -कनै ए भी सुणने जो  " अरा प्रतापुआ मज़ा आई गेआ " इस दे अलावा किछ नी …

चार जागतां कनै तरै धियाँ आले टब्बरे दे पालने  - पोसने जो नौकरियां च तनख्वाह बड़ी घट्ट मिलदी रही  , बड़ी  मुसकला च गुजरदा रेहा जीवन …


दिखा भला
क्या गला करदे प्रताप होराँ

 http://youtu.be/FTcYJHzN4z8




Friday, November 23, 2018

जाति व्यवस्थाः उदगम, विकास होर जाती रे अंता रा प्रश्न


अपणिया भासा च समाज दे बारे च, समाज दे विकासाा दे बारे च लेखां दे मार्फत जानकारी हासल करने दा अपणा ही मजा है। समीर कश्‍यप होरां इक लेखमाला जाति व्‍यवस्था दे विकास पर लिखा दे हन। 
इसा माला दा पैह्ला मणका अज पेस है 


जाति व्यवस्था क्या ही? एता रे बारे बिच जानणे होर समझणे कठे आसा जो ऐतिहासिक स्रोता री मदद लैणी पौहाईं। ऐतिहासिक स्रोत हुआएं पुरातात्विक, साहित्यिक होर मुद्रा (सिक्के) बगैरा। इन्हा बिच साहित्यिक स्रोत बी कई तरहा रे हुआएं। जिंहा ऐतिहासिक, धार्मिक, लोककथा, कहावता होर लोक गीत बगैरा। जाति रे बारे बिच पैहला लिखित प्रमाण मिलहां ऋग्वेदा बिच। हालांकि ऋग्वेद लिपिबद्ध बादा बिच हुआ पर एता री ऋचा, स्मृतियां होर श्लोक 1700 ले 1100 ई. पू. रे बिच रचे गए। ऋग्वेद 10 खंडा बिच हा पर ये क्रालानुक्रमा बिच नी हा। मतलब कई बाद रे खण्डा बिच पैहलके वक्ता री ऋचा बी मिली सकाहीं।
 
ऋग्वेदिक काला (1700-1100 ई. पू.) जो प्रारंभिक वैदिक काल बी बोल्हाएं। ऋग्वेदा बिच पैहली बार 1100 ई. पू. री ऋचा रे एकी हिस्से बिच वर्णाश्रमा रा जिक्र आवहां पूरष सूक्ता रे 10वें मण्डला बिच। जेता बिच बोल्या जाहां भई चार वर्ण हे। ब्राह्ण, राजन्य, विष होर शुद्र। पर आजकाले री जाती व्यवस्था री विशेषता इन्हा वर्णा बिच नीं थी। आजकाले जाती व्यवस्था री विशेषता ही सजातीय ब्याह, पुश्तैनी श्रम विभाजन होर अश्पृश्यता। इन्हा तीन विशेषता मंझ सजातीय ब्याह अझी बी काफी मजबूत हा जबकि पुश्तैनी श्रम विभाजन होर अश्पृश्यता काफी हदा तका कमजोर हुई चुकीरी। पर ऋग्वैदिक काला बिच इन्हा विशेषता रा जिक्र नीं आउंदा होर ना हे जाती शब्दा रा जिक्र आवहां।
 
जाती शब्दा रा पैहला जिक्र 200 ई. पू. बिच पाणिनी रे अष्टाध्यायी बिच आवहां। पर इथी वर्ण और जाती दोनों शब्दा रा प्रयोग समानार्थी रे रूपा बिच हुइरा। एस हे समय रे दौरान वारहमिहिरा री बृहत संहिता बिच भी उल्लेख आवहां। पर इथी बी वर्ण होर जाती रा समानार्थी रे रूपा बिच प्रयोग हुईरा। पैहली बार याज्ञवल्क्य स्मृति बिच जाती होर वर्ण शब्दा रा एकी जगहा हे अलग इस्तेमाल हुईरा। पर 200 ई.पू. तका वर्णा बिच सजातीय जातियां री व्यवस्था नीं बणीरी थी।
कॉमन इरा (सीई) ले पैहले तक वर्ण व्यवस्था बिच भीतरी गतिकी काफी थी। उपरले वर्ण ब्राह्मण होर क्षत्रिय आनुवांशिक रूपा ले बंद नहीं हुईरे थे यानि जिनोलोजिकली ओपन थे। परिवारा रा बडा भाई ब्राह्मण हुआं था ता छोटा क्षत्रिय। देवति ब्राह्मण था ता शान्तनु क्षत्रिय, देवश्रवश होर देववास, सुमित्र होर देवोदास भाई हुणे रे बावजूद ब्राह्मण होर क्षत्रिय थे।
ऋग्वेदा बिच दासी पुत्र ब्राह्मणा रा उल्लेख बी हा। दासी रा मतलब तेस वक्त गुलाम नीं था। बल्कि दासी पुत्र तिन्हा जो बोल्या गया ज्यों वैदिक आर्या ले अलग थे। इथी रे मूल निवासी कबीले वैदिक आर्या ले पुराणे आर्या के मिश्रित हुई गईरे थे। ऋग्वेदा बिच दासी पुत्रे बौहत सारी ऋचा बी लिखिरी। ऋग्वेदा बिच ब्राह्मण कवष दाषी पुत्र इलुषा रा बेटा था। महीदास बी दास कबीले रे थे। ऐतरेय ब्राह्मणा रा रचयिता महीदासा जो मन्या जाहां। तिन्हा जो बी ब्राह्मणा रा दर्जा दितिरा था। एहडे दास कबीले रे मुखिये रा जिक्र बी आवहां जिन्हें ब्राह्मणा जो संरक्षण दितया था। मुखिये रा नावं हा बलिभूत तरूस्क होर ब्राह्मणा रा नावं हा वास अश्व। ऋग्वेदा रे 8वें खण्डा री 46 श्रुति अश्वे रची थी।
 
दिवोदास प्रमुख क्षत्रिय था होर दास कबीले ले हे था। तेस जो क्षत्रिय री भूमिका दितीरी थी। ऋग्वेदा रे खण्ड 1,4 होर 6 बिच जिक्र आवहां भई वैदिक आर्यां रे प्रमुख इहलौकिक देवता इन्द्रे दिवोदासा री मददा के शम्बरा रे खिलाफ युद्ध लडया था। शम्बर बी दास कबीले रा था। दो दास कबीले लडी करहाएं थे। तेता बिच वैदिका आर्यां रे कबीले दिवोदासा री मदद किती होर दिवोदासा जो क्षत्रिय रा दर्जा दितेया। ऋग्वैदिक काला री समाप्ती रे दौरा बिच समाजा मंझ तेस वक्ता रे वर्ण विभाजना रा बीज पैदा हुंदे लगी गईरे थे। वर्णाश्रमा रा जिक्र तेस काला रे वर्ग विभाजना रा प्रतिनिधित्व करहां। वर्ण आपणे जन्मकाला बिच वर्ग हे था होर असलियता बिच वर्ण अर्थव्यवस्था रे वर्ग विभाजना जो ही दसी करहां था। वर्गा री आपसी गति जो पूरी तरहा के रोकया नीं गईरा था क्योंकि अझी वर्ग पूरी तरहा के नीं बणीरे थे पर बणने री प्रक्रिया मंझ थे। एस समय पवित्र-अपवित्र (प्योरिटी एंड पोलुशन) रा कोई अर्थ नीं था। रक्त शुद्धता रा कोई मतलब नीं था। दासी पुत्र क्षत्रिय बणी जाहें थे होर तिन्हा रे वैवाहिक रिश्ते बी हुई जाहें थे। 












(ये लेख मजदूर बिगूल अखबारा रे संपादक अभिनव सिन्हा रे यू टयूब लैक्चरा ले लितिरे नोट्स पर आधारित हा।)
क्रमशः.....