Saturday, May 23, 2020

हिऊंआ रीया धारा ते



कामरेड मियां शमशेर सिंह पर कताबा पर इक नजर पाई है कुशल कुमार होरां  



हिऊंआ रीया धारा ते कताबा च कामरेड मियां शमशेर सिंह जी दियां तीह दे लगभग कवतां, जीवन परिचयइन्‍हां दे कम कनै सामाजिक सोच,  इन्‍हां दे बारे च मितरां कनै स्‍नेहीयां दे लेख संस्‍मरण हन। एह कताब पढ़ने ते बाद एह एहसास होंदा कि सैह अपणे वग्‍ते ते किछ पैर गांह थे। समाजे दिया पीड़ा जो घटाणें ताईं जेड़ी मेहनत तिन्‍हां किती तिसा जो कदी नी भुलाया जाई सकदा।

मियां शमशेर सिंह जी दा जन्‍म 1930 च बिलासपुरे दे इक जमींदार परुआरे च होया। छोटीया ही उमरा च इन्‍हां दे पिता होरां दा सुअर्गवास होई गिया कनै परुआरे दी सारी जिम्‍मेदारी इन्‍हां पर पई गयी। इन्‍हां दसमीं बड़या खरयां नंबरां ने पास कीता कनै सरकारी नौकरी भी लगी गई। पर शमशेर सिंह जी जमींदार करसाण थे कनै दलितगरीब मुजारयां मजूरां दा दुख भी इन्‍हां ते दिखी नीं होंदा था। तिस वग्‍त गरीब मुजारयां मजूरां दा जीणा बंधुआ मजूरां ते भी बदतर था। दुअें पासें करसाणे दे दुख भी घट नीं थे। मेहनता दा फळ मिलणा की नीं मिलणा पक्‍का नीं था। मोसमे दी मारबमारी समारीब्‍याह-कारजफिरी साहुकारां दे ब्‍याजां दे फेर। ऐह देह्या मोह्ल कनै सुच्‍चा मन-सोच। तिन्‍हां जो अपणयां लोकां ने सुच्‍चा प्‍यार होई गिया कनै बाकी जेड़ी कसर थी। सैह सुच्‍चे वचार कनै नोंईंया चेतना वाळयां कम्‍युनिस्‍ट साथीयां गुआई ती। पार्टीया दे चक्‍करे च नौकरी चली गई पर प्‍यार बधदा गिया। फिरी सारी उमर लोकां दी पीड़ कनै एह प्‍यार तिन्‍हां जो नचादां रिह्या, गीतां गांदा रिह्या।    
मैं सदा गांदा रहया, गांदा रहयांगा इक नवें माणुयेरे गीत
सै जे जुल्‍मां जो बिच रणे ललकारदा
सारी दुनियारयॉं लुटेरेयां जो सामणे फटकार दा
हुई गया जे सामणा तॉं हिटलरां जो मारदा
ये भलामानुष मनुख दीन दु‍खियां रा गीत
मैं सदा गांदा……………

सारयां ते बडी गल्‍ल ता ऐह थी कि करसाण बणी जिमींदारी करने दे बजाए सैह बडे अफसर हाकम, प्रोफेसर, पत्रकार लखारी कवि किछ भी बणी सकदे थे। 1948 च नौकरी जाणे दे बाद इन्‍हां अपणी जीविका जो कदी कोई तवज्‍जो-ध्‍यान दिता ही नीं। जेला ते बचणे ताईं नह्ठी ने अंबालें लुक्‍की नें  कम्‍युनिस्‍ट-मार्क्‍सवादी साहित पढ़या कनै मितर बणाए। फिह्री मार्क्‍सवाद-लेनि‍न दे साम्‍यवादी वचार कनै कताबां लेई बिलासपुरी आई गे। ऐत्‍थु इन्‍हां वचारां नें हिमाचले दे प्‍हाड़ां खुणना लगी पैए्। आई नें मितरां जो कठेरी बिलासपुर कम्‍युनिस्‍ट पार्टीया दी शाखा खोली ती। पाटींया दी प्रदेश इकाई भी बाद च शिमलें खुड़ी थी।  

इसते बाद बडयां जमींदारा दे खलाफ आंदोलन, पंजाब देयां प्‍हाड़ी लाकयां हिमाचल च मैळणने दी लड़ाई, करसाणा कनै जनता दे बिच सहाकारा दी भावनां कनै सहकारी संस्‍थां बणाई नें लोकां जो जोड़ने-कठेरने ताईं कामरेड शमशेर सिंह जी पार्टीया दा झंडा चकी गरीबां, मुजारयां, द‍लतां दी लड़ाईया च सार्यां ते मूह्रे ही चलदे रेह्। मियां जी सच्‍चे कामरेड होणे कनै सच्‍चे करसाण भी थे। जिमीं करसाणे दी मा होंदी इक्‍की पासें लड़ाई लड़ी नें पूरे प्रदेसे देयां सारयां गरीब मुजारयां जो जमीनां दुआई ने करसाण बणाई ता कनै मुजारंया ते अपणी जमीन भी छडाई लेई। ऐह वरोधाभास जिंदगीया दी मजबूरियां भी होंदे। तिन्‍हां भाल सैह पुरखयां दी अमानत इक जमीन ही ता थी टब्‍बरे पाळने दा जरीया।

कॉमरेड जी पार्टीया दे सच्‍चे सपाही होणे दे बावजूद वामपंथीयां दे अतिवादी वचारां कनै नक्‍सलवाद ने सहमत नीं थे। तिन्‍हां दा ज्‍यादा जोर सहकार कनै कट्ठे होई मिली-जुली समस्‍यां दूर करने पर था। इन्‍हां दा पक्‍का कनै निघा निश्‍चा था कि सरमायादारीया दा मकाबला सहकार ने ही होई सकदा। जा‍ह्लू भाखड़ा दा कम्‍म पूरा होई गिया। गोविंद सागार झील च पराणा बिलासपुर डुब्‍बी गिया कनै सरकारें मच्‍छीयां पकड़ने दा ठेका इक सरमायादार ठेकेदारे जो इक लखा सालाना पर देई ता। इन्‍हां मच्‍छीयां मारने वाळयां दरयाईयां जो कट्ठेरी नें तिन्‍हां दियां सहकारी संस्‍थां बणाई सैह ठेका इन्‍हां जो दुआई ता। इन्‍हां मतियां सहकारी संस्‍था गठित कितीयां पर स्‍वारथां दियां आरियां ते गांह सहकारीयां नीं टिकी सकीयां। जेह्ड़ा स‍हकारी आंदोलन नें सारे देसे च होया वग्‍ते कनै अज सारा सहकार खर्च होई गिया।   
जे मिल-जुल कर हिम्‍मत करिए,
तां मेहनतां रा बोलबाला हुई सकदा।
मिली जुली जुल्‍मां रा मुंह काल़ा हुई सकदा
जे सारे इक बार हल्‍ला बोली देंगे,
तां बड़ी गल नी सरमाये रे,
राकसां जो भगाई सकदे।      
पर इक्‍की गल्‍ला दी तसअ्ल्‍ली है। ग्रां-ग्रां च भटकणे कन्‍ने काफी मश्‍क्‍कत करने ते बाद इन्‍हां जो 13 साथी कनै 130 रपईयां दी पूंजी मिली थी। तिसा पूंजीया ने शमशेर सिंह जी ने 1955 च दधोल ग्राम सेवा सहकारी सभा बणाई ती। जेड़ी अज करोंड़ां च है कनै देसे दियां किछ बडीयां सहकारी संस्‍थां दी मू‍हरली है। मियां शमशेर सिंह जी हिमाचल दी जुवा पीढ़ीया ताई अज भी प्रेरणा स्रोत हन।
इन्‍हां कहलूरी(प्‍हाड़ी) बोली च सैंकड़ें दे साह्बें रचना लीखियां कनै अनुवाद किता पर सांभ नी होई सकी। इन्‍हां दे मते सारे गीत आकशवाणी गायकां गाये कनै लोक अज भी लोकगीतां साही गांदे। कॉमरेड शमशेर सिंह जी दिया कवतां-गीत, लेख कनै गोर्की दे मा नाबल दा प्‍हाड़ी अनुवाद प्‍हाड़ी भासा साहित्‍य जो तिन्‍हा दा कदी नीं भुलणे वाळा जोगदान है। 



कॉमरेड मियां शमशेर सिंह पटियाल जी स्‍मृति जो नमन कनै दयार दी विनम्र श्रद्धंजली। पेश है तिन्‍हां दियां तिन कवतां।

हिऊँआ रीया धारा ते
हिऊँआ रीया धारा ते लैणियॉं गवाईया ओ,
किने-किने खादीरियॉं लोकां री कमाइयां
पत्‍थरां ने घुलदयां रे हड्ड बी ओ टुटी गए
फेरी भी ओ कामेयां तिजो खाणोरी मनाईयां
ऐड़ी चोटी र जोर लाई फसलां कमाइयां
खाणोरियां बेला मुया भुखां सिर आईयां
हिऊँआ रीया धारा ते………….

छाई रे सन्‍देसे दुधा री त गल क्‍या?
टुटूरे खन्‍दोलू लेफांरी ता गल क्‍या?
खड़दियां छुड़दियां टपरीयां तेरी कामयां
तिनाते भी तिज्‍जो वेदखलियां आइयां
हिऊँआ रीया धारा ते………….

रोडुए रा साब कित्‍ताचवानियां रा ब्‍याज दित्‍ता
फेरी बी इना शाहांरियां कुरकियां आईयां
शरमा जो छड्डी करी धरमा जो छड्डी करी
इने जालमें लोकारियां कुडि़यां बकाइयां
हिऊँआ रीया धारा ते………….

खेतरा च खड़ी ने जगीरदार बोलदा
देखयां मेरे खेतरा च तू हल्‍ल जोड़दा
नंगियां तलवारां लेई ने खेतरा च फि रदा
मुंडखरा खेतरां च मुंडियां रलौइयां
हिऊँआ रीया धारा ते लैणियॉं गवाईया ओ,
किने-किने खादीरियॉं लोकां री कमाइयां
 मुश्‍कल लफ्ज 1) हिऊँआ बर्फ से ढकी हुई। 2) मुंडखरा एक गांव।  

पहाड़ां रेया शेरा
पहाड़ां रेया शेरा,  दुख झल़ैया भतेरा।
सोची समझी चलणा द्वार एकता रा मल़णा।
तेरी कमाई खादी राजेयां ते राणेयां।
जैलुआं, जगीरूआं खसम खाणेयां।
उठी जा, जागी जा, फेरी नी पछताणेया।
पहाड़ां रेया शेरा दुख झल़ैया-भतेरा… … …

दिन रात करदा फेरी भुखा मरदा,
चुड़दियां टपरियां बुरा हाल चरदा।
गल्‍ल सुणा भोल्‍या जन्‍मा रे हालिया
अगले दी सोईल्‍यां पिछला तै गालया।
पहाड़ां रेया शेरा दुख झल़ैया-भतेरा… … …

रुखी सुकी खाई कने ठंडा पाणी पींदा रहया।
जिस्‍मां जो तोड़ी-तोड़ी जख्‍मां जो सींदा रहया।
बदहालियां, गरीबीयांरी कहानी नी मुकी तेरी।
नया भ्‍याग देखणे दी आशा च जींदा रहया।
पहाड़ां रेया शेरा दुख झल़ैया-भतेरा… … …

बहंदा नदियां रा पाणी तिज्‍जो बोली रहया।
कदी नीं तू बिछड़यां, सदा कोली-कोली रहंया।
तेरे दयार, कीलों, रई तोस सदा बोली रहे
तेरे स्‍वागता च पखुआ झोली रहे।
इक मुठ हुई ने लड़ंया लड़ाईयां
फांदी लैणियां तुझ समाणा री उचाईयां
पहाड़ां रेया शेरा दुख झल़ैया भतेरा

हुण सोची समझी चलणा
शोषणा रा राज कतई नी झलणा
द्वार एकता रा मलणा
पहाड़ां रेया शेरा दुख झल़ैया-भतेरा… … …

साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख
मांखा देख अड़या मांखा देख
नैणा मेरे हुण गल़ां करदे, उड़ी-उड़ी पैंदे केश
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख मांखा देख
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख।

मुखड़ा मेरा हुण लोए करदा, करदा चन्‍दा जो  मात।
राती जो निन्‍द नी आऊंदी छोड़े, लम्‍बी लगदी रात।
दिल धड़कदा तड़पदा मेरा, हिलदा छातिया समेत।
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख मांखा देख।
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख।

पैर मेरे हुण धरती नी पऊंदे, उड़ने जो करदा दिल।
फुलां साई हल्‍की हई हऊं, उड़ने जो करदा दिल।
बदना मेरे चार चफेरे पाए पके पल़ेस
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख मांखा देख।
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख।

अम्‍बरा जाई नच्‍चू गाऊं, एड़ा जे करदा दिल।
बदलां री फुहारां च नहाऊं, एड़ा जे करदा दिल।
हत्‍थ देखयां मेरे हाणियां, उघड़ी ब्‍याहरी रेख,
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख मांखा देख।
साल सोहल़ुआं चढ़या मांखा देख।
  
कुशल कुमार 



Wednesday, May 13, 2020

अनुवाद कार्यशाला : प्हाड़िया च काज़ी नज़रुल इस्लाम




काज़ी नज़रुल इस्लाम दिया कविता पर बहुभाषी अनुवाद दी राष्ट्रीय कार्यशाला

कवता दे अनुवाद पर होई इस कार्यशाला च हिमाचली भासा दे दो अनुवादक राजीव त्रिगर्ती कनै अशोक दर्द सामल होए। एह रपोट राजीव त्रिगर्ती होरां ई लिखी है। इन्हां नजरूल इस्लाम दिया विद्रोही कवता दे कुछ हिस्से अनुवाद भी कीत्यो। रपोटा कनै पहाड़िया च नजरूल इस्लाम जो भी पढ़ा।   


5 कने 6 मार्च 2020 जो काज़ी नज़रुल इस्लाम दिया कविता दे बहुभाषी अनुवाद जो लई ने इक्क राष्ट्रीय कार्यशाला दा आयोजन दिल्ली विश्वविद्यालये दे आधुनिक भारतीय भाषा कने साहित्यिक अध्ययन विभागें कित्ता। इस कार्यशाला दा सौग्गी दा आयोजक था काज़ी नज़रुल विश्वविद्यालय, आसनसोल दा सामाजिक कने साँस्कृतिक अध्ययन दा नज़रुल केन्द्र। इसा कार्यशाला दे व्यवस्थापक थे डा स्वाति गुहा (निदेशक, सामाजिक कने साँस्कृतिक अध्ययन दा नज़रुल केन्द्र, काज़ी नज़रुल विश्वविद्यालय, आसनसोल), आधुनिक भारतीय भाषा कने साहित्यिक अध्ययन विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालये दे एसोसिएट प्रोफेसर डा अमिताव चक्रवर्ती कने इस विभागे दे ही सहायक आचार्य डा अग्निव घोष। बंगला भाषा दे क्रान्तिकारी कने कविता दे शीर्षके जो दिखदेआँ गलाया जाए ता इक्क विद्रोही कवि काज़ी नज़रुल इस्लाम होरां दिआ इसा कविता दे अनुवादे ताएँ भारते दिआँ मतिआँ अठवीं अनुसूची दिञा ता अठवीं अनुसूची ते बाह्रलिआँ भाषां देञा अनुवादकाँ हेस्सा लेआ कने अनुवादे दे कम्मे जो अग्गे बधाणे ताएँ मतिआँ म्हीन गल्लाँ दी जानकारी अप्पु चिएंं बंडी। 

असाँ दे देशे च बोल्ली जाणे वाळिआँ असमी, अवधी, बघेली, भोजपुरी, बिष्णुप्रिया, चम्बयाली, डोगरी, हरयाणवी, काँगड़ी, करबी, कन्नड़, कश्मीरी, मैथिली, मराठी, मलयाळम, मणिपुरी, उड़िया, पंजाबी, राजबंशी, सान्ताली, संस्कृत, सिंधी, सिरैकी, तमिल, तेलुगु कने उर्दू दे अनुवादक इसा कार्यशाला च उपस्थित थे। 

काज़ी नज़रुल विश्वविद्यालय, आसनसोल दा सामाजिक कने साँस्कृतिक अध्ययन दा नज़रुल केन्द्र नज़रुल इस्लाम देआँ सिद्धान्ताँ जो सामणे रखदेआँ होंया तिह्ना दे दार्शनिक पक्षे कने सामाजिक न्याय दे पक्षे जो तिह्ना दे साहित्यिक, कलात्मक कने सांस्कृतिक समझा दे माध्यमे ने सारेआँ दे सामणे रखणा है। इह्ना उद्देश्याँ जो ही अग्गें बधाणें ताएँ तिह्ना दिञा कविताँ दा पैह्लें देशे दिञा लाई-पाई सारिआँ भाषा च कने फिरी विदेशां दिञा मतिआँ सारिआँ भाषां च अनुवाद करी ने संसारे दिआ कूणा-कूणा बिच्च पजाणे दा इक्क तरीका है।

इस कार्यक्रमे दा उद्घाटन 5 मार्च, 2020 ध्याड़ी प्रो. साधन चक्रवर्ती, कुलपति, काज़ी नज़रुल विश्वविद्यालय, आसनसोल होराँ दे हत्थें होया। कने अपणे प्रेरणरदायी उद्बोधने ने तिह्ना सारेआँ जो अपणिआँ योजनां दे बारे च दस्सेआ कने अनुवादे दे इस कम्मे दे बदिया होणे दी म्मीद कित्ती। डा जी राजगोपाल, अध्यक्ष, आधुनिक भारतीय भाषा कने साहित्यिक अध्ययन विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय ने स्वागत भाषण दिंदेंआँ कवि नजरुल दे रूपे च कित्ती जाणे वाळिआ इसा पैह्ला जो होरनी भाषां ने जोड़ने दी भी गल्ल कित्ती जिसने भारते दी साहित्यिक विरासता जो भाषां दिआँ कंधां ते बाह्र कह्डेआ जाई सके। डा स्वाति गुहा कने डा अमिताव चक्रवर्ती होराँ इसा कार्यशाला दी रूपरेखा रक्खी। इस विभागे दे ही प्रो पी सी पटनायक दे धन्यवाद ज्ञापन ते परन्त एह् कार्यशाला शुरु होई।

पैह्ले सत्रे दी मुख्यातिथि थी प्रो जयन्ती चट्टोपाध्याय। अमिटी युनीवर्सिटी हरयाणा दे कला संकाय दे डीन प्रो उदय नारायण सिंह होरां बहुभाषी अनुवाद दी विषयवस्तु कने ओणे वाळिआँ मुश्कलाँ दे बारे च अपणे विचार कने सुझाव रक्खे। अम्बेडकर विश्वविद्यालय दिल्ली दी प्रो राधा चक्रवर्ती विद्रोही कवि नज़रुल पर अपणे विचार रक्खे कने अनुवादे ताइएं सामणे रखिओ कविए दी कविता ‘‘विद्रोही’’ दा अनुवाद करदिआ बेल्ला ओणे वाळिआँ सामाजिक, सांस्कृतिक मुश्कलां दे बारे च दसदेआँ तिह्ना कविए दे समय दे सामाजिक कने भौगोलिक परिवेशे जो समझणे पर जोर दित्ता। बंगला ते अंग्रेेजिआ च अनुवाद करने वाळे कलकत्तें रैह्णे वाळे तमिलभाषी अनुवादक वी रामास्वामी होराँ अपणे अनुवाद दे अनुभव सारेआँ कने बंडे कने भरतीय परिवेश दा अंगेजिआ च अनुवाद करने पर ओणे वाळिआँ दिक्कताँ अनुवादकाँ ने बंडियां कने अपणे अनुवाद दे अनुभवां ने सारेआँ जो प्रेरित कित्ता।

भोजने परन्त चलणे वाळे दुए सत्रे च दिल्ली विश्वविद्यालये दे हिन्दी  विभाग ते डा सुधा सिंह ने हिन्दी अनुवादे दी समीक्षा करदेआँ भावानुवाद, शब्दानुवाद कने सन्दर्भानुवाद दे बारे द दसदेआँ सन्दर्भानुवाद जो अपनाणे पर जोर दित्ता। तिह्ना अपणे हिन्दी अनुवादे दे नमूने भी सामणे रक्खे। प्रो जयन्ती चट्टोपाध्याय अंग्रेजी अनुवाद दा विश्लेषण सामणे रक्खेआ। इस सत्र दी अध्यक्षता इस विभागे दे ही सेवानिवृत्त प्रो. टी एस सत्यनाथ होराँ कित्ती।

अशोक दर्द कनै राजीव त्रिगर्ती 
कार्यशाला दे दुएंं ध्याड़ें 6 मार्च, 2020 जो प्रो. पी सी पटनायक दिआ अध्यक्षता च इस विभागे दी ही सहायक प्राध्यापक डा रत्नोत्तमा दासें जेह्ड़ी इसा कविता दी असमिया अनुवादक भी हन, तिह्ना असमिया बंगला साम्य कने इह्ना दूंं भाषा पर संस्कृत दे प्रभावे जो प्रस्तुत करदिएंं अपणे अनुवादे दे नमूने भी कार्यशाला च रक्खे। बृजेश यादव (अवधी अनुवादक), स्रीपति तुडु (सान्ताली अनुवादक) कने डा जी राजगोपाल (तमिल अनुवादक) इह्ना भी अपणे विखर रखदेआँ अपणे अनुवादे दे नमूने भी सामणे रक्खे। दुए सत्रे च डोगरी अनुवादक मोहम्मद आरिफ़ कने कन्नड़ अनुवादक प्रो टी एस सत्यनाथ होराँ अपणे विचाराँ कने अनुवादे दे नमूने सारेआँ सामणे रक्खे।

भोजने ते परन्त चलणे वाळे त्रिए सत्रे च डा जी राजगोपाल होराँ दी अध्यक्षता च मलयालम अनुवादक प्रो ए जे थामस (अतिथि संपादक, भारतीय साहित्य, साहित्य अकादमी) होराँ भारतीय अनुवादां च संस्कृत भाषा दी महत्ता जो मनदेआँ संस्कृत दी भूमिका पर खरी चर्चा प्रस्तुत कित्ती कने अपणे मलयाळी अनुवाद दे नमूने भी प्रस्तुत कित्ते। इस सत्रे च ही गौरव पाण्डेय, जेह्ड़े बघेली अनुवादक थे, तिह्ना लुप्त होन्दिआ बघेलिआ जो बचाणे दी चिन्ता व्यक्त करदेआँ गलाया जे भारते च भाषा जो सैह् ही छड्डा दे जेह्ड़े पढ़ी-लिखी करी अपणे आप्पे जो आम माह्णुए ते लाह्दा समझणे दिआ गलत धारणा जो अपणें पल्लें बह्नी लेआ दे। मातृभाषा दा मूल रूप अज्ज भी किसानां-मजूराँ वाह्ली ही बचेआ जिस जो सम्हाळने दी जरूरत है। उड़िया अनुवादक प्रो. पी स पटनायक होराँ भी अपणा अनुवाद पढ़ेआ कने पश्चिमी बंगाल दे दार्जलिंग क्षेत्रे च नेपालिआ ते परन्त बोल्ली जाणे वाळी राजवंशी भाषा ने नृपेन बर्मन होरां अपने अनुवाद दे जरूरी पख सांझे कित्ते। उर्दू अनुवाद करने वाळी प्रो अंजुमन्द आरा अपणिआँ मुश्कलाँ दस्सिआँ कने अनुवादे जो मजेदार गलाया।

संझकणे कने अखीरले सत्रे च विभागे दे ही प्रोफेसर डा रवि प्रकाश टेकचंदानी होराँ अध्यक्षता कित्ती कने अपणे सिंधी अनुवाद दे नमूने कने अनुभव कार्यशाला च कठरोएआँ कने बंडे। दिल्ली दे रैहणे वाळे वरिष्ठ कवि श्री राजकुमार मल्लिक होराँ अपणी मातृभाषा सिरैकी च कित्तेओ अनुवाद दे नमूने प्रस्तुत कित्ते जेह्ड़ी अजकणे वेलें पाकिस्तान च बोल्ली जांदी है। बी एस राव होरां तेलुगु अनुवाद दे नमूने प्रस्तुत कित्ते।

समापन समारोह च अनुवादे पर साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त करने वाळे एच बालासुभ्रमण्यन होराँ अपणे अनुवाद लम्मे अनुवाद दे कम्मे दे अनुभव बंडे। मलयालम ते हिल्दिआ च कित्तेओ अनुवाद सारेआँ सामणे रक्खे कने प्रमाणपत्र देई अनुवादकाँ दा उत्साह बधाया। डा अमिताव चक्रवर्ती होरां सारेआँ विद्वान परोणेआँ कने अनुवादकाँ दा धन्यवाद ज्ञापन कित्ता।

दो दिन चलिआ इसा कार्यशाला च जिह्ना अनुवादकाँ अपणी हाजरी लगाई सैह् हन् असमिया अनुवादक डा रत्नोत्तमा दास, अवधी अनुवादक बृजेश यादव कने आशुतोष तिवारी,  बघेली दे गौरव पाण्डेय, भोजपुरी दे अतुल सिंह, बिष्णुप्रिया दे समरजीत सिन्हा, चम्बयाळी दे अशोक दर्द, डोगरी दे मोहम्मद आरिफ़, हरियाणवी दी पवित्रा कुमारी, काँगड़ी दे राजीव कुमार त्रिगर्ती, करबी दे लोंगबीर तेरंगा, कन्नड़ दे प्रो. टी एस सत्यनाथ, कश्मीरी दे आमिर क़यूम, मलयालम दे प्रो. ए जे थामस, मणिपुरी दे डा होमेन अहन्थम सिंह, उड़िया दे प्रो. पी सी पटनायक, पंजाबी दी अनुरूप कौर संधू, राजबंशी दे नृपेन बर्मन, सान्ताली दे स्रीपति तुड़ु, सिंधी दे डा. रवि प्रकाश टेकचंदानी, सिराइकी दे डा राजकुमार मलिक, तमिल दे प्रो. जी राजगोपाल, उर्द दी डा अंजुमन्द आरा, तेलुगु दे बी एस राव। इह्ना सारेआँ कार्यशाला च होणे वाळिआ चर्चा च हेस्सा लेआ कने अपणेआँ विचाराँ ने अपणा सहयोग भी दित्ता। कुल मलाई की दिक्खेआ जाए ता एह् कार्यशाला अपणेआँ मूल उद्देश्याँ जो पूरा करने च सफल होई।



विद्रोही 

बोल वीर
बोल उच्चा मेरा सिर !
मेरे सिरे दिक्खी हिमालये दी चूंड़ी होन्दी निह्ट्ठी
बोल वीर !
बोल महाविश्वे दा बड्ड़ा अम्बर फाड़ी
चन्द्रमे सूरजे ग्रह तारेआँ छड्ड़ी
भूलोक, द्युलोक दे गोलेआँ जो टप्पी,
रब्ब दे आसने आरसेच भोक्का पाई,
मैं उठी खड़ोता विश्व जणदिआ जो करी मता हैरान !
मेरे मत्थें चमकन रुद्र भगवान
जिह्ञा जित्ता दे टिक्के ने लिसके मेरा सिर !

बोल वीर
सदा उच्चा मेरा सिर!
मैं नी ओंदा कुसी दे काबू, हम्बेआ, डरौणा
महाप्रलय दा मैं नटराज, मैं झख-झाझां मैं नाश
मैं बड़ा डरौणा, मैं धरतिआ दा कलंक
मैं जकरिंड़ बड़ा
मैं भन्नी करां सब चूरा-भूरा
मैं तोड़ा नियमाँ अड़मन
मैं दरड़ा पैराँ हेठ सारे बह्नण सारेआँ नियमाँ-कनूनाँ दिआँ पालि़आँ
मैं नी मन्नाँ कुसी कनूने जो
मैं भरोइआँ किश्तिआँ पूरिआँ ड मैं तारपीड़ो, मैं बड्डी चमकदी पनडुब्बी 
मैं धूडू(धूर्जटि), मैं बेरित्ता बैशाख महीने दा झड़ है !
मैं विद्रोही, मैं विद्रोही पुत्तर जगजननिआ दा

बोल वीर !
सदा उच्चा मेरा सिर 
मैं झखराट, मैं घूमदी होआ
मेरिआ बत्ता जे भी ओए तिस्सेओ भन्ना-तोड़ां
मैं नचदा बेताल्ला छंद
मैं अपणिआ ताल्ला नचदा जान्दा, मैं मुक्त जीवने दा आनन्द !
मैं हम्वीर’, मैं छायानट, मैं झटारा
मैं चलायमान चंचल नचदा-कुददा 
बत्ता जांदा-जांदा अपणिआ चमका ने करदा हैरान
पीह्ंगा तिन्न झटारे दिंदा !
बिजलिआ दे लसाके साही झूटदा।
मैं सैह् ही करदा जेह्ड़ा चाह्न्दा मेरा मन
मैं अपणे विरोधिआँ जो पांदा झफ्फिआँ मौता ने मैं घळांदा पंजा
मैं उन्माद, मैं झखराट !
मैं महामारी मैं इसा धरतिआ दा डर 
मैं शासने जो कम्बान्दा, मैं खात्मा मैं तत्ता मैं सदा बकलोया 

बोल वीर
सदा उच्चा मेरा सिर !
मैं सदा लाह्दा, मैं अहंकारी 
मैं मैं नी दबोन्दा कुसी ते मेरे प्राणां दी प्याली हमेशा ही नशें भरोइओ
मैं होमे दी अग्नि, मैं अग्गी सोहेता जमदग्नि,
मैं यज्ञ, मैं परोह्त, मैं अग्ग,
मैं विधाता, मैं नाश, मैं बसदा घर, मैं समशान
मैं ही घरोणा, मैं ही सीरना
मैं इन्द्राणिआ दा पुत्तर चन्द्रमा हत्थें सूरज मत्थें
बांकी बैह्न्जे दी बंसरी मेरें इक्की हत्थें दुए हत्थें नरसिंगा
मैं नीलकंठ, मंथने दा विष पीत्तेआ, समुद्रे दी पीड़
मैं व्योमकेश, गंगोत्रिआ दिआ छुट्टिआ धारा जो धारण करदा

बोल वीर
सदा उच्चा मेरा सिर !
मैं संन्यासी, मैं वीर सिपाही
मैं टिक्का, हल्का गेरुआँ मेरा राजवेश
मैं वेदूइन, मैं चंगेज़,
मैं अप्पू जो छड्डी नी टेकदा कुसी जो मत्था
मैं बज्जर, मैं सर्वव्यापी ओंकार,
मैं इस्राफिले दे नरसिंगे दा जोरे दा गर्नत्त
मैं डमरू-त्रिशूल पिनाकपाणिए दा, मैं दण्ड धर्मराजे दा
मैं चक्कर कने महाशंख मैं प्रणवनाद प्रचण्ड
मैं पगलायां दुर्वासे विश्वामित्रे दा शिष्य
मैं बणे दिआ अग्गी दा सेक, फूकणा मैं जगत
मैं प्राणां परचेती हसदा, मस्तदा मैं जगबैरी महाखतरनाक
मैं महाप्रलये देआँ बाराँ आदित्ययां जो ग्रसणे वाला राहु
मैं कदी मता ही शान्त, कदी अशान्त पूरा आपमुहारा
मैं पक्के लाल खूने वाला गबरु मैं विधाता दे अहंकारे जो मकाणे वाला
मैं प्रभंजने दा सोआह्रा, मैं समुद्रे दी जोरे दी छेड़
मैं उज्जळ, मैं पवित्तर
मैं उछळदा पाणी छळ-छळ, मैं चलदिआँ लहराँ दे ढोह्लणे च झूटदा
मैं खुल्लेओ पराँदुए वाळी कोआरिआ दी गुत्त, बांकड़ियां हाक्खीं दी अग्ग
मैं सोह्ळुएं चढदिआ दे मने दे कमले साही सुच्चा प्यार, मैं धन्य 
मैं उदासिआ दा बेगोंआँ मन
मैं विधवा दे कलेजे दा डाडां मारदा साह् , मैं निराश, मैं निराशा भरेआ
मैं रस्ते च रुळेआँ बेघर राहिआँ दी पीड़
मैं बेइज्जते दे कळेजे दी चीह्क मैं भखेआ विष
मैं प्रेमिए दे लांछणां ने छातिआ दा बधेआ धड़का
मैं अभिमानी सदा रुस्सिओ दिले दी कातरता
मैं व्याकुल पीड़ चितचुम्बन चोरदे दी कम्बणी
मैं थर-थर कंबदिआ कोआरिआ दा पैह्ला दर्शन
मैं गुप्त प्यारिआ दी बचतक चाहना लुक्की की दिखदी लगातार
मैं अल्हड़ छोकरिआ दा प्यार मैं तिसा देआँ बंगा-कड़ेआँ दी छणकौण
मैं सदा ही निकाछुका, मैं सदा ही जुआनड़ू
मैं जोआन होइआ ग्रांएं दिआ बिट्टिआ दिआ चोलिआ दी पचलोइओ कनारी
मैं उत्तरे दी पौण, मलये दी होआ पूरबे दी उदास होआ
मैं रस्ते जांदे कविए दी डूह्गी रागिनी, मैं बंसरिआ ते निकलिओ तान
मैं तप्पणे दी व्याकल त्र्याह्, मैं अग्ग बह्रदा सूरज
मैं मरुस्थली छरूड़ुए दी छण-छण, मैं सैल्ली छाऊॅं छैळ
मैं परमानन्दे च नचदा-कुददा, जे एह् पागलपन ता मैं पगलाया !
मैं चाणचक्क अप्पु जो ही पछैणा दा, मेरे खुली गेओ सारे डक्क !

मैं गोह्न्दा, मैं लोह्न्दा, मैं अचेतन मने च चेतन
मैं दुनिया दे दरोआज्जे दी जित्ता दा सम्मानचिह्न, मैं माह्णुए दिआ जित्ता दा झंड़ा
मैं जान्दे पतझड़े साही स्वर्गे-धरतिआ दिआँ थ्याळियां ने चाटियां बजदा
बोरवाक् कने उच्चैश्रवा साही
अपणिआँ सवारिआँ जो छड़दा हिम्मता कन्ने नट्ठदा
मैं धरतिआ दिआ हिक्का पर अग्गी दा पहाड़
मैं बणे दी अग्ग, परलै मचांदी अग्ग
मैं पताळे दिआ अणबुझ अग्गी दे भळैंबे दी छेड़
मैं बिज्जा पर चढ़ी चलदा जोर ने चुटकियां बजान्दा
मैं संसारे दे दुखां बधान्दा चाणचक्क करांदा हिल्लण
नपदा वासुकिनागे दे फणे जो पाई ने झफ्फा
स्वर्गे दे जिव्राइले दे अग्ग बुळकदे सर्पे जो पकड़दा
मैं देवपुत्तर, मैं गाजळा
मैं डींगर, मैं दंदा ने फाड़दा धरती माता दी बुक्कळ
मैं ओर्फिउसे दी बंसरी
महासागरे दी परतोंदी ओंदी डोळ
निन्दरा च पुक्कु लई दिंदा पूरी दुनिया जो शान्ति
मेरिआ बंसरिआ दी तान जांदी दूरे तिकर
मैं श्यामे दे हत्थे दी बंसरी
मैं क्रोधे च उठदा जाह्लु नह्ठदा महा-अम्बरे ते परे
डरोणेआँ सत्तां अम्बरां जो छड्ड़ी ताह्लु नरक भी जान्दे कम्बी
मैं सत्तां बक्खां पजान्दा विद्रोह
मैं सौण म्हीने दी ढै-डोळ रढाह्न्दा वणा
कदी धरती जो करदा रंग-बरंगी कदी पूरिआँ ही मकान्दा फसलां
मैं खोई अणदा विष्णुए दिआ हिक्का उपरे ते दूंह् कन्यां
मैं अन्याय, मैं उल्का, मैं शनिच्चर
मैं धूमकेतुए दी ज्वाला, खड़पे दा काळा फण
मैं छिन्नमस्तका चण्डी, मैं युद्धे च करदी सर्वनाश
मैं नरके दिआ अग्गी पर बैट्ठी हसदा फुल्लां साही !
मैं मृत्युरूप, मैं चित्तरूप
मैं अजर-अमर अविनाशी, मैं नी घटदा
मैं माह्णुआँ दानवां देवतेआँ दा भय,
दुनिया च मैं नी जतोआँ कुसी ते,
मैं जगदीश्वर ईश्वर, मैं पुरूषोत्तमे दा सच्च
मैं ता-थैया ता-थैया नचदा फिरदा स्वर्ग नरक मत्र्यलोक
मैं उन्माद, हांं मैं उन्माद
मैं पछैणदा अप्पु जो, अज्ज खुली गेओ मेरे सारे कस्स
मैं परशुरामे दा निग्गर कोहाडू
संसार करदा क्षत्रिआँ ते खाल्ली, शान्ति अणनी संठुंई
मैं बलरामे दे मुह्न्ड़े पर रखेआ हळ
मैं घोआरी सटणा गुलामिआ दा संसार नोइआँ सृष्टिआ दिआ अतिखुशिआ च ।
महाविद्रोही, लड़ाइआ दा थकेआ
मैं होणा शान्त तधैड़ी ही,
जाह्लु दब्बेओ-चिह्ल्लेओ दी डाड़ अम्बरे च होआ च नी सुमगी
निर्दयिये दी खड्ग-करपाणा दी छेड़ रणभूमिआ च नी होंगी
विद्रोही लड़ाइआ च थकेआ
मैं होणा शान्त तधैड़ी ही
मैं विद्रोही भृगु भगवाने दिआ हिक्का पर पैरां दे नशाण बणान्दा
मैं स्रष्टे जो मकाणे वाला दुख तकलीफ मकाई , बैह्मे दे परमात्मे दिआ हिक्का भनदा
मैं विद्रोही भृगु भगवाने दिआ हिक्का पर पैरां दे नशाण बणान्दा
मैं बैह्मे दे परमात्मे दिआ हिक्का भनदा !

मैं सदा ते ही विद्रोही वीर
पूरे संसारे जो थल्लें छड्ड़ी किह्ला ही चुकदा सदा उच्चा सिर!