Sunday, June 30, 2019

जाति व्यवस्थाः उदगम, विकास होर जाती रे अंता रा प्रश्न (मंडयाली लेख)-9




अपणिया भासा च समाज दे बारे चसमाज दे विकासा दे बारे च लेखां दे मार्फत जानकारी हासल करने दा अपणा ही मजा है। समीर कश्‍यप होरां इक लेखमाला जाति व्‍यवस्था दे विकास पर लिखा दे हन। इसा माळा दा पैह्ला मणका असां कुछ चिर पैह्लें पेश कीता था। फिरी पहाड़ी भाषा पर चर्चा चली पई। हुण एह लेखमाला फिरी सुरू कीती है। सत लेख तुसां पढ़ी लै, अज पढ़ा इसा लेखमाळा दा नौउआं मणका।

जाति उन्मूलना रा कार्यक्रमः कुछ शुरूआती प्रस्ताव


जाति रे उन्मूलना कठे आजा री जरूरत ही एक वर्ग आधारित जाति विरोध आंदोलन। क्या आसे जाति उन्मूलना री लड़ाई राज्यसत्ता रे सौगी बैरमोल लितिरे बिना लड़ी सकाहें? क्या भारता बिच राज्य सत्ता रा हमेशा ले हे जातिगत चरित्र नीं रैहिरा? क्या भारता बिच राज्य सत्ता रा पितृसतात्मक चरित्र नी रैहिरा? ये सोचणा आपणे आपा जो मूर्ख बनाणा नी हा भई राज्य सत्ता एक निष्पक्ष अभिकर्ता हुआईं, जेता रा केसी वर्गा रे सौगी कोई पक्ष नीं हुंदा होर जेता रे कोई जातिगत पूर्वाग्रह नीं हुंदे होर से वर्गा होर जातियां ले ऊपर कोई निष्पक्ष महान मध्यस्थ ही? क्या आसे उम्मीद करी सकाहें भई जाति रा उन्मूलन राज्य सत्ता रे अफर्मेटिव एक्शन यानि सामाजिक अनुशंसावादा रे जरिये हुई सकहां या सरकारी नौकरी मंझ दलित तबके ले लोक चली जाणे रे जरिये हुई सकहां, ये सोचदे हुए भई सरकारा रे सोचणे होर कार्यवाई करने जो आसे सरकारी नौकरियां बिच जाई के बदली सकाहें? क्या जाति उन्मूलना कठे कल्हा एक सामाजिक आंदोलन हुणा हे भतेरा हा? क्या जाति रा उन्मूलन पूरे सामाजिक आर्थिक ढांचे रे क्रान्तिकारी रूपान्तरणा रे बाझही संभव हा।? आसारा मनणा ये हा भई इन्हा सभी सवाला रा जबाब एक जोरदार नाह हा।

एतारा कारण ये हा भई सामाजिक अधिरचना हमेशा-हमेशा राजनैतिक अधिरचने संभाली री होर बचाई री हुआईं। सरकार होर राज्य सत्ता जातिगत उत्पीड़न या दमना रा समर्थन नीं करे ता से टिकिरी किहां रैही सकाहीं। डा. अंबेदकरा रे राजनैतिक प्रयोगा रा अनुभव दसहां भई ब्राह्मणवादा जो हमेशा ले राज्य सत्ता रा संरक्षण प्राप्त था चाहे से औपनिवेशिक राज्यसत्ता हो या चाहें मुस्लिम या हिंदू राज्य सत्ता रैहिरी हो। जाति रे खिलाफ लड़ना हो ता एस सारे राजनैतिक सत्ता रे ढ़ांचे रे खिलाफ जाणा पौणा। सामाजिक उत्पीड़न होर आर्थिक शोषण कधी बी अलग-अलग नीं हुंदे बल्कि स्यों अन्तर्गुन्थित रूपा के एजी दूजे के गुंथित हुआएं होर तिन्हा बिच द्वंद्वात्मक रिश्ता हुआं। राजनैतिक संरचना यानि सरकार जाति जो टिकाए रखणे रा मुख्य ढांचा हा। राज्य सत्ता रे बिना सामाजिक होर सांस्कृतिक अधिरचना टिकिरी नीं रैही सकदी। हालांकि ये बी सच हा भई सांस्कृतिक होर सामाजिक अधिरचना री एक सापेक्षित स्वायत्ता हुआईं होर से बी राजनैतिक अधिरचना जो प्रभावित करहाईं। कोई भी राजनैतिक अधिरचना एकी आर्थिक आधारा री सेवा करहाईं। एहड़ा कोई बी आर्थिक आधार जे शोषण होर दमना पर आधारित हो से विभिन्न प्रकारा रे सामाजिक उत्पीड़ना रे बगैर नीं चली सकदा, जेता बिच जाति उत्पीडन बी शामिल हुआं। पूँजीवादी शोषणा री सारी प्रक्रिया जातिवाद, ब्राह्मणवादी होर सामाजिक उत्पीड़ना रे सभी रूपा रा इस्तेमाल किते बगैर नीं चली सकदी। ये गल्ल बी सच ही भई जाति पूरी तरहा के अधिरचना रा हिस्सा नीं ही बल्कि ये आर्थिक आधारा रा हिस्सा बी बणहाईं। जाति चीजा रे वितरणा रे अनुपाता जो किथी ना किथी प्रभावित करहाईं। इधी कठे जाति उन्मूलना रा प्रश्न असलियता बिच समाजा रे क्रान्तिकारी रूपांतरणा रा प्रश्न हा। जाति रा अंत क्रान्ति रे बिना नी हुणा। आज क्रान्ति रा प्रश्न बी जाति रे प्रश्ना के तेहड़ा हे जुड़ीरा जेहड़ा जाति रा प्रश्न क्रान्ति के जुड़ीरा। क्रान्ति हुई हे नीं सकदी अगर आजा ले हे आसे वर्ग आधारित जाति विरोधा जो संगठित करने रा काम नीं करदे। वर्ग आधारित जाति विरोधी आंदोलना रे कामा बिच केसी किस्मा रे अस्मितावाद, व्यवहारवाद होर अर्जी या आवेदनवादा री जगह नीं हुणी। हालांकि मुद्दे इन्हारे बी स्यों हुई सकाहें पर वर्ग आधारित जाति विरोधी आंदोलना रा तरीका क्रान्तिकारी हुणा होर इन्हा ले अलग हुणा।

वर्ग आधारित जाति विरोधी आंदोलना ले आसारा मतलब क्या हा। एस आंदोलना रा चरित्र एतारी प्राथमिकता ले निर्धारित हुआं। अस्मितावादा री राजनीति प्रतीकात्मक मुद्देयां जो वास्तविक मुद्देयां ले ज्यादा तरजीह देहाईं। हालांकि जिग्नेशा रा आंदोलन भौतिक मुद्देयां जो तरजीह देही करहां जे अच्छी गल्ल ही। जे प्रश्न वर्ग आधारित जाति विरोधी आंदोलना उठाणे स्यों 89-90 प्रतिशत दलित आबादी जे मेहनतकश ही होर खेता खलियाना, कल-कारखानेयां बिच खट्टी करहाईं तिन्हा जो प्रभावित करने वाले हुणे। वर्ग आधारित मुद्देयां री पैहचाण किती जाणी चहिए। सभी थे बडा मुद्दा हा दलित विरोधी उत्पीड़ना री बधदी घटनावां रा। इन्हां मंझा 96-97 प्रतिशत घटना मजदूर वर्गा री दलित आबादी रे खिलाफ हुआईं। उत्पीड़ना रे माहौला रा सामना अस्मितावादी ढंगा के नीं हुई सकदा। क्योंकि एकी अस्मिता रे बड़े हुणे ले दुजी अस्मिता बी आपणे आप हे बडी हुंदी जाहीं। एतारा मुकाबला वर्ग आधारित आंदोलना के हे अस्मितावादी दुश्मणा रे खेमे मंझ काम करिके तिन्हा जो बेअसर या न्युट्रेलाइज करूआँ हे कितेया जाई सकहां। एता कठे सघन होर सतत जाति विरोधी प्रचार करना पौणा। खास करूआं मध्य जातियां बिच प्रचार कितेया जाणा चहिए। दुश्मणा री पैहचाण करवाई जाणी चहिए ज्यों कुलीन वर्गा रे रूपा बिच आपणी ही जाति मंझ मौजूद हुआएं। एक लंबी प्रक्रिया के ये मसला हल कितेया जाई सकहां होर अस्मितावादा होर मध्यम जातियां रे टकराव जो बेअसर या न्युट्रेलाइज कितेया जाई सकहां।

भारता रे संबंधा बिच वर्ग होर जाति रे संबंधा जो एक वाक्यांश प्रतिबिंबित करहां। ये वाक्यांश हा भई हर दलित उत्पीड़ित हा पर मेहनतकश वर्गा रा दलित उत्पीड़ना रे बर्बरतम रूपा रा शिकार हा। दूजी गल्ल भई हर मजदूर शोषित हा पर दलित मजदूर आपणी सामाजिक रूपा के आरक्षित स्थिति रे करूआं अतिशोषित हा। इधी कठे इन्हा मसलेयां पर प्राथमिकता निर्धारित किती जाणी चहिए। दूजा प्रश्ना हा सजातीय ब्याह। ये सच्चाई ही भई सजातीय ब्याह जातियां जो पुनर्उत्पादित करदा रैहां। एता कठे कई सांस्कृतिक गतिविधियां किती जाणी चहिए। जिथी आसारी ताकत हो तिथी जाति तोड़ी के ब्याह करने वालेयां जो सुरक्षा देणी चहिए। जेता जो समाज प्रतिष्ठा रे खत्म हुणे होर अपमाना रा मुद्दा मनहां तेता जो आसे गरिमा के स्थापित हुणे होर सम्माना रा मुद्दा बनाई सकहाएं। एता री एक सांस्कृतिक लैहर बनायी जाणी चहिए। जाति तोड़ो सामूहिक भोज आयोजित किते जाणे चहिए। सामाजिक उत्पीड़ना रे विभिन्न रूपा रे खिलाफ जबरदस्त सांस्कृतिक आंदोलन खड़ा कितेया जाणा चहिए। आजा रे समकालीन समया री घटनावां रे बारे बिच वर्ग आधारित एकता रे गीत बणाये जाणे चहिए।

सभी थे महत्वपूर्ण मांग जे आसारी हुणी चहिए से ये ही भई जेहड़ा ग्रामीण बेरोजगारा कठे रोजगार देणा सरकारे संवैधानिक तौरा पर आपणी जिम्मेवारी मनी लितिरी। इधी कठे आसा जो सार्विक अधिकारा रे तौरा पर मांग करनी चहिए भई शिक्षा व्यवस्था बिच सभी कठे समान होर निःशुल्क शिक्षा हो। शिक्षा होर रोजगारा कठे संविधाना बिच संशोधन करूआं यों मूल अधिकार बिच लयाउणे चहिए। एता कठे आंदोलन करने जो बड़ा फ्रंट बनाणा चहिए सभी युवा-छात्र संगठना होर जाति विरोधा फोरमा रा। हालांकि कई पूँजीवादी देशा बिच यूनिफार्म स्कूल सिस्टम लागू हा। भारता बिच जेबे सभ समान हे ता 10 तरहा रे सरकारी स्कूल कि हे प्राइवेटा री ता गल्ल हे रैहण देयो। एक किस्मा रा सरकारी स्कूल देयो, एक हे पाठ्यक्रम देयो ताकि अमीर, गरीब, दलित, ब्राह्मणा रे बच्चे एकी स्तरा पर पढ़ी सको। एक स्तर आर्थिक होर अधिसंरचना रे तौरा पर बी हुणा चहिए। यानि केसी स्कूला ता बौहत बढ़िया टीचर हे, स्विमिंग पूल बी हा, बास्केटबाल कोर्ट बी हा यानि सब कुछ हा पर केसी स्कूला ब्लैकबोर्ड नीं हा, बाथरूम, पीणे रा पाणी नी हा जिथी गरीब होर दलित आबादी पढ़दे जाहीं। क्या ये सीधा-सीधा जाति विरोधी आंदोलना रा मुद्दा नीं बणदा। यूनिफार्म स्कूल सिस्टमा के निश्चित तौरा पर जाति व्यवस्था पर चोट हुणी। एता ले अलावा शहरी रोजगार गारंटी कानूना कठे अभियान शुरू कितेया जाणा चहिए। क्योंकि आजकाला रे मौजूदा दौरा बिच बेरोजगारी री दर बौहत ज्यादा बधदी जाई करहाईं। एक मांग होर किती जाणी चहिए स्टेट हाउसिंगा री। रिहायशी पार्थक्य एता के हे टुटणा। लोका जो मकाना रा मालिकाना नीं देयो पर तिन्हा री रिहायशी रा प्रबंध कितेया जाणा चहिए। हालांकि आसौ पता हा भई एस पूँजीवादी व्यवस्था बिच यों मांगा पूरी नीं हुणी पर आसे एहडी मांगा तेबे बी उठाहें क्योंकि आसे पूँजीवादी वायदेयां जो अति अभिज्ञान यानि ओवर आइडेंटिफिकेश देहाएं। आसे बोल्हाएं भई एभे तुसे इन वायदेयां रे बारे बिच बोली देतिरी इधी कठे आसारी मांगा जो पूरी करा। अगर आसा बाले ताकत हो ता आसे सड़का पर आंदोलना के इन्हां मांगा जो मनवाणे कठे सरकारा पर दबाब बनायी सकाहें। पर एस ताकता जो हासिल करने कठे संगठना जो विकसित करने री जरूरत हुआईं। स्टेट हाउसिंग, सभी कठे समान शिक्षा होर रोजगारा सरीखे यों मुद्दे उठघे ता जाति रा मुद्दा भौतिक रूपा ले बडा मुद्दा बणी जाणा। तेबे जाति रा मुद्दा सिर्फ मूर्ति टुटणे होर यूनिवर्सिटी रा नावं बदलणे तका रा मुद्दा हे नी रैहणा। दूजी गल्ल एता के आसा जो मौका मिलणा भई जनता री गैर दलित आबादी बिच जे जातिगत पूर्वाग्रह हे तिन्हारे खिलाफ संघर्ष कितेया जाई सको। हर आंदोलना बिच जाति रे प्रश्न एजेंडे बिच ल्याउणा चहिए। होर एता रे खिलाफ लगातार प्रचार करना चहिए। जातिगत मैटरीमोनियला रे खिलाफ बी लगातार आंदोलन, प्रचार होर चोट करनी चहिए। यों कुछ मुद्दे हे पर ये एक पूरी सूची नीं ही एता बिच होर भौतिक मुद्दे बी जुडी सकाहें।

इन्हा मुद्देयां पर वर्ग आधारित जाति विरोधी आंदोलन खड़ा कितेया जाए ता एहड़ी एकता पैदा करी सकाहीं जे क्रान्तिकारी गोलबंदी होर संगठना के आसा जो अग्गे क्रान्ति री मंजिला तका पौहंचायी सकहां होर बिना क्रान्ति के जाति उन्मूलन नीं हुई सकदा। क्रान्ति ले बाद बी एकदम जाति उन्मूलन नीं हुई जाणा। समाजवादी क्रान्ति हुई बी जाओ ता जाति पर सभी थे बड़ी चोट ये हुणी भई तुरंत हे राज्या रे अधीन सामूहिक किसानी हुई जाणी होर सारी जागीरा भंग हुई जाणी। सारे स्वर्ण बड़े भूस्वामी री जमीना छीनी लेती जाणी होर स्टेट फार्मिंग या सामूहिक फार्मिंगा बिच तब्दील हुई जाणी। स्टेट फार्मिंगा ले दलित, शुद्र होर गरीब जनता जो तिथी काम मिलणा। मजदूर खेता बिच छैह घंटे काम करघा, फेरी घरा जाईके बच्चेयां जो प्यार करघा, धूमदे-फिरदे जांघा, फिल्मा देखघा, सभ कुछ करघा। क्योंकि तेबे तेस बाले पूरा वक्त हुणा। भूमीहीनता होर आर्थिक असमानता जातिगत उत्पीड़ना जो टिकाई रखाहीं। जाति रे कुछ मामलेयां पर ता समाजवादी क्रान्ति तुरंत हे भयंकर चोट करी देणी। सारी जमीना, सारे कारखाने, खदाना होर निजी बैंका रा राष्ट्रीयकरण हुई जाणा। जेता के जातिगत विभेद जो चोट पौंहचणी। जातिगत मानसिकता री जमीन ही शारीरिक श्रम होर मानसिक श्रमा मंझ अंतर। एता रे अलावा गांव होर शैहरा रा अंतर होर उद्योग होर कृषि रे अंतरा के बी असमानता बणहाईं समाजा बिच। समाजवादी क्रान्ति ले बाद लंबे समया तक चलने वाले कई सांस्कृतिक आंदोलना रे जरिये ये असमानता होर अंतर खत्म हुणे। जाति जो जड़ ले खत्म करने कठे समाजवादी समाजा जो 100 साल बी लगी सकाहें तेबे जाई के ये खत्म हुणी। प्रसिद्ध इतिहासकार सुविरा जायसवाल बोल्हाईं जाति निजी संपति पितृसत्ता होर वर्गा के सौगी पैदा हुई थी होर जाति निजी संपति पितृसत्ता होर वर्गा रे सौगी हे खत्म हुई सकाहीं। पूरी तरह के जाति रा समाप्त हुणा एक समाजवादी समाजा मंझ हे संभव हा। पर क्रान्ति करने कठे एक वर्ग आधारित जाति विरोधी आंदोलन आजा ले ही खड़ा करना पौणा जे सड़का पर लड़ने री ताकत रखदा हो। सही दिशा ये ही।

(ये लेख मजदूर बिगूल अखबारा रे संपादक अभिनव सिन्हा रे यू टयूब लैक्चरा ले लितिरे नोटस पर आधारित हा।)

Sunday, June 23, 2019

जाति व्यवस्थाः उदगम, विकास होर जाती रे अंता रा प्रश्न (मंडयाली लेख)-8




अपणिया भासा च समाज दे बारे चसमाज दे विकासा दे बारे च लेखां दे मार्फत जानकारी हासल करने दा अपणा ही मजा है। समीर कश्‍यप होरां इक लेखमाला जाति व्‍यवस्था दे विकास पर लिखा दे हन। इसा माळा दा पैह्ला मणका असां कुछ चिर पैह्लें पेश कीता था। फिरी पहाड़ी भाषा पर चर्चा चली पई। हुण एह लेखमाला फिरी सुरू कीती है। सत लेख तुसां पढ़ी लै, अज पढ़ा इसा लेखमाळा दा अठुआं मणका।


भारतीय कम्यूनिस्ट आंदोलन होर जाति प्रश्नः एक संक्षिप्त टिप्पणी



कम्यूनिस्ट आंदोलना रा जाति रे अंता कठे क्या योगदान था एता रे बारे बिच आसारा ये मनणा हा भई कम्यूनिस्ट आंदोलने जाति रे प्रश्ना पर आनुभाविक तौर पर हमेशा काम कितिरा पर सैद्धांतिक तौर पर नीं कितिरा। आनुभाविकता बिच आक्सिमिकता रा पैहलू मौजूद रैहां। 1920, 30 होर 40 रे दशका बिच कम्यूनिस्ट पार्टिये कई आक्समिक आनुभाविक एक्शन किते। पर तिन्हें आपणी पैहला पर सकारात्मक रूपा के पढ़ी, देखी होर समझीके जाति व्यवस्था री कोई ऐतिहासिक समझदारी नीं बनाई होर एतारे समाधाना रा कोई वैज्ञानिक रस्ता नीं निकालेया। पर जेबे बी जरूरत पई पार्टीये जाति रे प्रश्ना रा बहादुरी के सामना कितेया होर लड़ी बी। पर सकारात्मक तौरा पर जाति रे प्रश्ना जो किहां समझया जाए होर किहां एतारा वैज्ञानिक क्रान्तिकारी समाधान या कार्यक्रम निकालेया जाए, कम्यूनिस्ट ये नीं करी पाए। एतारी वजह ले आपणे तमाम मोर्चेयां होर आपणे संघर्षा बिच जाति रे प्रश्ना पर आपणे पक्षा जो रेखांकित करिके एता जो मसला बनाई के पूरे मेहनतकश वर्गा रे आंदोलना मंझ चेतना रा स्तर उन्नत नीं करी सके। पर एतारा मतलब ये नीं निकालेया जाणा चहिए भई कम्यूनिस्ट ये नीं करी पाए ता स्यों ब्राह्मणवादी थे। कम्यूनिस्ट करी सब कुछ करहाएं थे पर जाति रे प्रश्ना जो नीं समझी सके। कम्यूनिस्टा पर इल्जाम लगाया जाहां बंच ऑफ ब्राह्मिन गॉयस। पर ये इल्जाम आधारहीन हा। कोई ये बोले भई कम्यूनिस्ट पार्टी बिच कितने दलित नेता हुए ता पलटी के ये बी पूछया जाई सकहां भई दलित संगठना बिच कितने दलित मजदूर नेता हुए। रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई), इंडियन लेबर पार्टी (आईएलपी), शैडल्यूड कास्ट फेडरेशना (एससीएफ) बिच कोई दलित मजदूर नेता नीं मिलदा। एतारा कारण ये हा भई केसी बी दलित शोषित आबादी रे आंदोलना बिच प्राथमिक तौरा पर मिडल क्लास इंटैलिजैंसिया (मध्यम वर्गा रे बुद्धिजिवियां) ले नेतृत्वा री आपूर्ती हुआईं। क्योंकि ये फुर्सता वाला वर्ग हा जेस बाले वक्त हुआं। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेसा रे सब नेता या होरी केसी आंदोलना रा कोई भी नेता पूँजीवादी वर्गा ले नीं आउंदा स्यों आंदोलना जो वित्‍तीय सहायता हे देहें। जिहां आजादी ले पैहले कांग्रेसा रा सभी थे ज्यादा वित्‍तीय पोषण बिडले कितेया था। आज बी सभी पार्टियां रे नेतृत्वा रा वर्गमूल मिडल क्लास ही। इधी कठे यों दोन्हो हे सवाल गल्त हे। भारता री कम्यूनिस्ट पार्टी सन 1925 ई. मंझ बणी। सन 1933 ई. बिच पैहली केन्द्रीय कमेटी रा कोर चुनया गया। फिर सन 1936 ई. मंझ पैहले महासचिव चुने गए पी सी जोशी। सन 1943 ई. मंझ पार्टी री पैहली कांफ्रेंस हुआईं। पार्टी रा कोई बोल्शेविक ढांचा नीं था। सन 1951 ई. तक भारता री कम्यूनिस्ट पार्टी बाले क्रान्ति रा कोई कार्यक्रम नीं था। ये पता नीं था भई क्रान्ति री मंजिल क्या हुणी। मित्र शक्तियां होर शत्रु शक्तियां कुण-कुण हुणी। क्रान्ति केस तरीके के करनी होर केस रस्ते के करनी। क्रान्ति री रणनीति होर रणकौशल क्या हुणा। पार्टी बिच भटकावा के बीटीआर रा लेफ्ट होर डांगे रा राइट दो धडे कायम हुई गए। जाति, क्रान्ति, पितृसत्ता उन्मूलन होर दमित राष्ट्रीयताओं रे प्रश्ना पर भारता री कम्यूनिस्ट पार्टिये कोई कार्यक्रम नीं दितेया। पार्टी री सैद्धांतिक कमजोरी रे करूआं एतारी बिग ब्रदर पार्टियां री विचारधारात्मकता पर निर्भरता थी। सन 1951 ई. बिच पार्टी रा एक डेलिगेशन रूसा जो गया। तिथी तिन्हें स्तालिन होर मोलोतोवा के बी मुलाकात किती। भारता री उत्पादना री पद्धति रा आपणे आप रचनात्मक रूपा के मार्क्सवादी लेनिनवादी वैज्ञानिक पद्धति के अध्ययन करने री बजाय रूसा ले मिल्हीरा सुझाव पत्र हे पार्टीये आपणा कार्यक्रम बनाई दितेया। भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी मानसिक तौर पर निर्भर पार्टी थी। नक्सलवाडी रे उतरवर्ती दशक एक सिंहावलोकन नांवां ले एक कताब लिखी जाहीं करहाईं। एसा कताबा ले भारता बिच कम्यूनिस्ट आंदोलना री समस्या स्पष्ट हुई जाणी। पर इतना ता स्पष्ट हे हा भई भारता री कम्यूनिस्ट पार्टी बिच सैद्धांतिक कमजोरी थी जेता करूआं पार्टी जाति समेत होरी सभी मसलेयां रे प्रश्ना जो प्रमुखता के रेखांकित नीं करी सकी। 

Sunday, June 16, 2019

जाति व्यवस्थाः उदगम, विकास होर जाती रे अंता रा प्रश्न (मंडयाली लेख)-7





अपणिया भासा च समाज दे बारे चसमाज दे विकासा दे बारे च लेखां दे मार्फत जानकारी हासल करने दा अपणा ही मजा है। समीर कश्‍यप होरां इक लेखमाला जाति व्‍यवस्था दे विकास पर लिखा दे हन। इसा माळा दा पैह्ला मणका असां कुछ चिर पैह्लें पेश कीता था। फिरी पहाड़ी भाषा पर चर्चा चली पई। हुण एह लेखमाला फिरी सुरू कीती है। छे लेख तुसां पढ़ी लै, अज पढ़ा इसा लेखमाळा दा सतुआं मणका।




डा. अंबेदकरा रे योगदान, तिन्हारी राजनीतिक विचारधारा होर राजनीतिक प्रयोग

अंबेदकरा रा योगदान क्या हा जाति उन्मूलना रे आंदोलना बिच? ये समझी के हे आसे अग्गी बधी सकाहें। अंबेदकरा रे राजनैतिक दर्शना री भूमिका क्या थी, तिन्हा रे दर्शना री पृष्ठभूमि क्या थी होर तिन्हारी राजनैतिक रणनितियां क्या थी जाति उन्मूलना रे बारे बिच। आसौ लगहां भई अंबदकरा रे सभी थे बडे दो योगदान थे। पैहला था दलित आबादी बिच आत्मगरिमा रा बोध पैदा करना। हालांकि एता कठे फुले, पेरियार, अयंकाली समेत कम्युनिस्टां री भूमिका बी थी। पर अंबदकरा रा विशेष स्थान इधी कठे बणी गया क्योंकि स्यों पैहले दलित स्कॉलर थे ज्यों इतनी हदा तक शिक्षित थे। दूजा कारण ये था भई जाति रे प्रश्ना रे कई पहलुआं जो जेस जोरा के तिन्हें रेखांकित कितेया खास तौरा पर जेता रे बारे बिच आनंद तेलतुमडे बी ठीक लिखिहाएं से था दलिता रा सिविल होर डेमोक्रिटिक राइट यानि तिन्हारे नागरिक होर जनवादी अधिकारा रे प्रश्ना जो जेस तरीके के ऱेखांकित कितया होर एताजो विशिष्टता दिती। इधी कठे तिन्हा रा योगदान एकी रूपा के विशिष्ट बणहां। अंबेदकरा रा दूजा प्रमुख योगदान था राष्ट्रीय आंदोलना रे एजेंडे पर जाति रे प्रश्ना जो जोरा के स्थापित करना। हालांकि कम्युनिस्ट पार्टिये बी 1927-28 बिच इन्हा प्रश्ना रे बारे बिच प्रस्ताव पारित किते थे। पर अंबेदकर एते पैहले ले सक्रिय थे। सन 1919 ई. बिच स्यों साउथब्युरो कमेटी रे सामहणे आपणी टेस्टीमनी यानि ब्यान देहाएं। ये तिन्हारा भारता बिच पैहला राजनैतिक कदम था। इन्हां दोनों योगदाना के अंबेदकरा रा जाति उन्मूलना रे आंदोलना बिच एक बडा स्थान बणहां। तिन्हा रे जाति उन्मूलन आंदोलना रे प्रति सरोकार जीवन भर बणीरे रैहाएं। महाड जाति बिच पैदा हुणे रे करूआं तिन्हा जो भेदभावा रा शिकार हुणा पौहां। विदेशा बिच बडी-2 डिग्रियां लैणे रे बावजूद बी तिन्हा जो भेदभाव झेलणा पौहां। एता के तिन्हारे सरोकार होर चिंता ज्यादा मजबूत हुंदी जाहीं। स्यों अमेरिका री कोलंबिया युनिवर्सिटी पढ़े जे प्रैगमेटिसम यानि व्यवहारवादा रा गढ़ था। इथी जॉन ड्युई समेत बडे-2 प्रैगमैटिस्ट दार्शनिक थे। इथी व्यवहारवादा री एक अमिट छाप अंबेदकरा पर पई।

अंबेदकरा री आलोचना आसा जो कि नीं करनी चहिए? अंबेदकरा बिच बौहत सारे अंतर्विरोध हे। स्यों अतंर्विरोधी गल्ला करदे हुए चलहाएं। पर ये अंतर्विरोध निरंतर चलदा रैहां। एताजो आसे कंसिस्टेंट इनकंसिस्टेंसी ऑफ प्रैगमेटिसम बोल्हाएं। व्यवहारवादा री निरंतरतापुर्ण अनिरन्तरता। ये अनिरन्तरता रणकौशला रे कठे ता ठीक हुई सकहाईं पर विचारधारा रे मामले बिच ये गल्ल गल्त हुआईं। विचारधारा जो दांवपेचा रा मसला नीं बनाया जाई सकदा। दूजी गल्ल अंबेदकरा रे ईरादेयां पर कधी गल्ल या आलोचना नीं किती जाई सकदी। तिन्हारे इरादेयां बिच कोई खोट नीं था। तिन्हें कधी बी लेणदेणा कठे होर भौतिक लाभा कठे कोई पद नीं लितेया। तिन्हारा पद लेणे रा मकसद सिर्फ दलिता कठे योगदान करना हे हुआं था। इधी कठे तिन्हारी मंशा पर गल्ल नीं करनी चहिए। मंशा पर गल्ल करने री बजाय आसौ जो राजनैतिक व्यक्ति, संगठन होर आंदोलना री गल्ल करनी चहिए। आसौ गल्ल करनी चहिए भई अंबदकरा रा राजनैतिक होर विचारधारात्मक स्टैंड क्या था। अंबेदकरा री राजनैतिक होर विचारधारात्मक अवस्थिति रा मूल्यांकन करदे वक्त एक चीज ध्याना बिच रखी जाणी चहिए जे तिन्हें आपु बोली थी, तिन्हारे शिष्य के एम कदम बोली थी, तिन्हारी जीवनी लिखणे वाले खैरमोडे बोली थी होर तिन्हारी दूजी पत्नी सविता अंबेदकरे बोली थी। अंबेदकर उम्र भर एक निरंतर ड्युईवादी व्यवहारवादी थे। जॉन ड्युई तिन्हारे अध्यापक थे कोलंबिया विश्वविद्यालय बिच। जॉन ड्युई रे विचार होर तिन्हारी शिक्षा रा युवा अंबेदकरा पर बौहत डुग्घा असर पया। जॉन ड्युई री विचारधारा जो व्यवहारवादा रे नावां ले जाणेया जाहां। अंबेदकरे बोल्या था भई स्यों आपणे समस्त बौद्धिक जीवना कठे जॉन ड्युई रे ऋणी हे। तिन्हारे शिष्य के एम कदम बोल्हाएं भई अगर अंबदकरा जो समझणा हो ता तुसा जो ड्युई जो समझणा पौणा। खैरमोडे भी एहडाहे बोलहाएं। सविता अंबेदकर बोल्हाईं भई जॉन ड्युई री क्लासा मंझ बैठणे रे 30 साल बाद बी अंबेदकर आपणे भाषणा होर वक्तव्या बिच जॉन डयुई री क्लास रूमा रे मैनरिज्मा रा अनुसरण करहाएं थे। जॉन ड्युई री विचारधारा अंबदकरा रे राजनैतिक कार्यक्रमा, रणनितियां होर तिन्हारे राजनैतिक जीवना पर लागू हुआईं थी। अंबेदकरे आपणे दार्शनिक मूल्या, राजनैतिक विचारधारा होर राजनैतिक प्रयोग बिच डयुईवाद व्यवहारा बिच उतारेया।

डा. जेफरलोट क्रिस्टोबे री कताब डा. अंबेदकर एंड अनटचेबिलिटी बिच स्यों अंबेदकरा री चार राजनैतिक रणनीतियां रे बारे बिच दसहाएं। जेता मंझ पैहली रणनीति थी अस्मिता निर्माण। अंबेदकरे समाज बिच ग्रेडेड अनइक्वलिटी यानि संस्तरीकरणबद्ध असमानता रे लक्षणा री पैहचाण कीती। एस पहचाणा बाद स्यों अश्पृश्य होर शुद्रा जो एकी मंचा पर ल्याउणे री कोशीश करहाएं। तिन्हारे कोलंबिया युनिवर्सिटी रा पेपर था कास्टः मैकेनिसम, जेनेसिस, डिवेलपमेंट। एता बिच स्यों जाति व्यवस्था रे उदभवा रा सिद्धांत देहाएं। स्यों बोल्हाएं भई ब्राह्मणे आपणे बिच सजातिय ब्याह स्थापित कितेया। बाकी समाजा पर तिन्हें सजातिय ब्याह थोपेया नीं पर स्यों तिन्हे लंबी प्रक्रिया बिच सहमत करी लिते भई ब्राह्मणा रे मूल्य, परंपरा होरियां ले श्रेष्ठ ही। इधी करूआं होरी समूहे बी सजातिय ब्याह स्वीकार करी लितेया। एता के वर्ण व्यवस्था रा जन्म हुआ। पर तेबे ये सवाल पैदा हुआं भई ब्राह्मण किने पैदा किते। अगर ब्राह्मणा री उत्पति रा कोई सिद्धांत न देई पाओ तो आसे विरोधाभासा बिच पई जाहें। तिन्हारी कताब आवहाईं व्हू वर शुद्रास। तेता बिच स्यों सिद्धांत देहाएं भई शुद्र सुर्यवंशी क्षत्रिय थे। तिन्हारा ब्राह्मणा के अंतर्विरोध था। तेता करूआं ब्राह्मणे तिन्हा जो उपनयन संस्कार देणे ले इंकार करी दितेया। तेता री वजह के स्यों द्विज नीं बणी पाये होर शुद्र बणी गए। पर जाहिर जेह गल्ल ही भई ये सिद्धांत एतिहासिक शोद्धा रे मुताबिक ठीक नीं ठैहरदा। तरीजी रचना तिन्हारी आई, अनटचेबलः व्हू वर दे एंड हाउ दे बिकम अनटचेबल। एता बिच स्यों बोल्हाएं भई बौध धर्मा रे उदय हुणे ले कुछ जातियें बौद्ध धर्म अपनाया। यों जेबे अधीनस्थ हुई होर आर्यां जेबे यों जातियां आपणे राज्या ले बाहर धकेली दिती ता तिन्हा बिच विखंडन पैदा हुआ। अंबेदकर ब्रोकन मैन (जिथी ले दलित शब्द निकलेया) शब्दा रा प्रयोग करहाएं इन्हां कठे। यों ब्रोकन मैन 6वीं सदी ई.पू. बिच जेबे बुद्धे प्रवचन देणा शुरू किते थे ता ये सभी ते पैहले बौद्ध बणे होर तेबे तका बौद्ध रैहे जेबे तका बौद्ध धर्म कुचली नीं दितेया गया। पर यों तेबे बी मांस भक्षण करदे रैहे। एता के चिढ़ी के ब्राह्मणे तिन्हा पर अश्पृश्यता लगाई दिती। हालांकि प्रतिक्रिया बिच इन्हारी जातियें बी ब्राह्मण बहिष्कृत करी दिते। एता के अश्पृश्यता रा जन्म हुआ। पर अंबेदकरा री ये गल्ल बी एतिहासिक प्रमाणा री रोशनी बिच साबित नीं हुंदी। क्योंकि इतिहासिक स्रोता रे मुताबिक ब्राह्मण ता आपु बी 10वीं सदी ई. तका मांस भक्षण करी करहाएं थे। होर बौद्ध धर्मा मंझ ता मांस भक्षणा री साफ मनाही थी होर मांस भक्षणा वाले हीन दसीरे। दरअसल अंबेदकरा रा सारा इतिहास लेखन दरअसल इतिहास लेखन नीं हा बल्कि से राजनैतिक लेखन हा। अंबेदकरे एक एहडी पहचान दिती जेता बिच शुद्र होर दलित जातियां जो जोडी दितेया जाए ता भारता री जनता रा बहुमत बणी जाहां। ये अस्मिता निर्माणा कठे राजनैतिक कवायद थी जेता कठे स्यों एहड़ा इतिहास लेखन करहाएं। जेफरलोट होर गेल ओमवड्थ बोल्हाएं भई कुछ अपूर्ण रचना मंझ अंबेदकर लिखाहें भई ब्रिटिश प्रशासके जाति री उत्पति रे नस्लवादी सिद्धांत दिते थे। यों सिद्धांत अंबेदकरे सिरे ले खारिज किते थे। आपणे आखरी समया बिच अंबेदकर ग्रांड रेसियल थ्युरी ऑफ ओरिजन ऑफ कास्टा पर काम करी करहाएं थे। गेल ओमवड्थ बोल्हाएं भई अंबेदकर एसा थ्युरी बिच दसहाएं भई हिंदू भारता री मुस्लिम विजया या ब्रिटिश विजया ले काफी पैहले बौध भारता पर हिंदू विजय हुई थी। स्यों मौर्य राजेयां होर अशोका जो नागा राजा रे तौरा पर यानि मूल निवासी रे तौर पर रखहाएं होर अशोका रे विराट रूपा रा निर्माण करहाएं जे नागा राजा रे रूपा बिच बौद्ध धर्मा जो कायम रखणे वाला हा। अंबेदकर एसा थ्युरी जो विकसित करने री सोची करहाएं थे।

अंबेदकरा री दूजी रणनीति थी चुनावी होर संगठनात्मक। सन 1919 ई. बिच साऊथब्युरो कमेटी आवाहीं। ये कमेटी मौंटग्यु चेम्सफोर्ड सुधारा रे तहत गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट 1919 बिच चुनावी मताधिकार तय करने से मकसद ले आईरी थी। अलग-2 संगठना जो कमेटी सामहणे आपणे प्रस्ताव रखणे कठे बुलाया जाई करहां था। दलिता रा प्रतिनिधित्व करदे हुए अंबेदकर बी एसा कमेटी सामहणे गए होर तिन्हें दो गल्ला रखी कमेटी सामहणे। तिन्हें बोल्या भई हिंदू समाजा री विभाजक रेखा ही स्पर्श किते जाणे वाले लोक होर अश्पृष्य लोक। तिन्हें बोल्या भई एस लिहाजा ले अश्पृष्य अल्पसंख्यक हे इधी कठे चुनावा बिच या ता तिन्हा जो रिजर्व सीटा दिती जाए या फेरी अलग निर्वाचन क्षेत्र दितेया जाए। दूजा कदम था अंबेदकरा रा बहिष्कृत हितकारिणी सभा रा घोषणा पत्र। एस सभा रे गठना रा तिन्हारा मकसद था दलित आबादी मंझ शैक्षणिक होर सांस्कृतिक काम करना। सन 1927 बिच अंबेदकर साइमन कमीशना रे सामहणे प्रस्ताव रखहाएं भई तिन्हा जो अलग मतदान क्षेत्र दितेया जाए या फेरी रिजर्व सीटा दिती जाए जेता बिच सभी दलिता जो मताधिकारा रा अधिकार हो। साइमन कमीशने मनया भई रिजर्व सीटा देणी पर चुनावा बिच खड़ने कठे उम्मीदवारा जो तेस प्रांता रे गर्वनरा ले प्रमाण पत्र लैणा पौणा। सन 1930 होर 1931 ई. री राउंड टेबल कांफ्रेंसा बिच बी अंबेदकर भाग लैहाएं।

महाड़ा दलित जातियां री पैहली कांफ्रेंस हुआईं मार्च 1927 बिच होर दूजा सत्याग्रह हुआं 25 दिसंबर 1927 बिच। 24 साला रे आर बी मोरे 1924 बिच महाड़ दलिता जो संगठित करने रा काम शुरू करहाएं। दरअसल 1923 बिच तिथी री नगरपालिके एक प्रस्ताव पारित कितिरा था तेता जो बोले प्रस्ताव बी बोल्हाएं। एस प्रस्तावा रे अनुसार सारे सार्वजनिक कुएं, सडक, मंदिर बगैरा दलिता कठे खुले हुणे चहिए। पर ये प्रस्ताव लागू नीं हुई करदा था। एता जो लागू करने कठे तिथी बगावता हुई करहाईं थी। इधी आपणे अध्यक्षीय भाषणा बिच अंबेदकर बोल्हाएं भई अश्पृष्या जो सफेद कॉलर नौकरियां अपनाणी चहिए। 25 दिसंबरा जो मनु स्मृति रे दहन के स्यों निश्चित तौरा पर ब्राह्मणवादी सोचा पर हमला करहाएं। अंबेदकरे एतारी तुलना फ्रांसा री क्रान्ति बिच बास्तीय रे किले पर धावे के किती थी। आनंद तेलतुमडे एतारी आलोचना कितिरी होर बोलिरा भई ये एक प्रतीकात्मक कदम था जबकि बास्तीय किले पर धावा प्रतीकात्मक कदम नीं था। एता बिच जनता सडका पर आई थी होर जनते किले पर धावा बोली दितेया था। सन 1941-42 ई. मंझ अंबेदकरे शैडयुल्ड कास्ट फैडरेशना रे माध्यमा ले क्रिप्स मिशना रे सामहणे तीन प्रस्ताव रखे थे। यों प्रस्ताव थे अलग चुनाव क्षेत्र दितेया जाए, कार्यकारिणी बिच दलित प्रतिनिधित्व दितेया जाए होर अलग दलित गांव बसाये जाएं।

अंबदकरा री तरीजी रणनीति थी राज्यसत्ता के सहयोग। अंबेदकर वार कौंसिला रा समर्थन करहाएं। वायसराय री कौंसिला बिच स्यों सदस्य बणहाएं। सरकारा के सहयोगा रे दौरान तिन्हारा मुख्य योगदान रैहां इंडियन ट्रेड यूनियन संशोधन बिल 1946। एस संशोधना बिच स्यों प्रावधान करहाएं भई हर नियोक्ता यानि मालिका जो आपणे कारखाने बिच एक ट्रेड यूनियना जो मान्यता देणे री बाध्यता हुणी। तिन्हें अंग्रेज सरकारा ले इंग्लैंडा रे टैक्नीकल संस्थाना बिच दलिता कठे कुछ सीटा आरक्षित करवाई। आजादी बाद स्यों संविधान सभा रे अध्यक्ष बणे। हालांकि एस संविधाना बिच ज्यादातर प्रावधान 1936 रे गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्टा रे हे लिते गए। जेता करूआँ कई कठोर कानून आसारे संविधान बिच शामिल रैहे होर यों कानून अझी तका मौजूद हे। अंबेदकर प्रगतिशील हिंदू कोड बिल ल्याउणा चाहें थे होर स्यों तेता कठे लडे बी थे। एसते अलावा स्यों श्रम मंत्रालय चाहें थे पर स्यों कानून मंत्री बनाई दिते गए। जेता करूआं तिन्हें 1955 बिच मंत्री पदा ले इस्तीफा देई दितेया था। बादा बिच तिन्हारा संविधाना ले मोहभंग हुई गईरा था होर तिन्हें बोल्या था भई एस संविधाना जो जलाणे वाले सभी थे पैहले स्यों हे हुणे। 

अंबेदकरा री चौथी रणनीति थी धर्मांतरण। एता रे बारे बिच पैहला उल्लेख मिल्हां 1929 री जलगांव दलित वर्गा री कांफ्रेसा बिच। एता ले बाद स्यों 18 जून 1936 बिच हिंदू महासभा रे मुंजे से मिल्हाएं। मुंजे तिन्हा जो सिक्ख बणने रा सुझाव देहाएं। पर जेबे सिक्ख धर्मा ले तिन्हा जो कोई खास तवज्जो नीं मिल्दी ता तिन्हारा झुकाव बौद्ध धर्मा बखौ हुई जाहां। स्यों बौद्ध धर्मा रा अध्ययन करहाएं। होर जीवना रे आखरी वक्ता बिच जेबे अंबेदकर बौद्ध बणहाएं तो तिन्हा सौगी करीब 6 लाख दलित बौद्ध बणी जाहें। पर नवबौद्धा रे रूपा बिच बौद्ध धर्मा बिच बी एक नौंवा वर्ग बणी जाहां। एता के बी जाति अंत नीं हुई पांदा। अंबेदकरा री कताब ही बुद्ध होर मार्क्स। कताबा बिच स्यों दसहाएं भई तिन्हें बौद्ध धर्मा रे त्रिपिटका रा अध्ययन कितिरा। पर स्यों ये नीं दसदे भई तिन्हें मार्क्सा रे बारे बिच क्या अध्ययन कितिरा। आनंद तेलतुमडे बोल्हाएं भई अंबेदकरे मार्क्सवादा री एक भी क्लासकीय कताबा रा अध्ययन नीं कितिरा था।

Sunday, June 9, 2019

जाति व्यवस्थाः उदगम, विकास होर जाती रे अंता रा प्रश्न (मंडयाली लेख)-6






अपणिया भासा च समाज दे बारे चसमाज दे विकासा दे बारे च लेखां दे मार्फत जानकारी हासल करने दा अपणा ही मजा है। समीर कश्‍यप होरां इक लेखमाला जाति व्‍यवस्था दे विकास पर लिखा दे हन। इसा माला दा पैह्ला मणका असां कुछ चिर पैह्लें पेश कीता था। फिरी पहाड़ी भाषा पर चर्चा चली पई। हुण एह लेखमाला फिरी सुरू कीती है अज पढ़ा इसा दा छेउआं मणका।



ड्यूईवादी व्यवहारवादा रे मूल होर एतारी विशिष्टता


व्यवहारवादी दर्शना (प्रैगमैटिक फिलॉसफी) रा जन्म अमेरिका बिच हुआ। अमेरिका री स्थापना एक पूँजीवादी देशा रे रूपा बिच हुई। अमेरिका रा कोई सामंती अतीत नीं हा। अमेरिका बिच सन 1776 ई. रे स्वतंत्रता युद्धा मंझ लड़ने वाले ज्यादातर लोक इंगलैंड, फ्रांस, जर्मनी, आयरिश प्रवासी थे। फ्रांसिसी क्रान्ति रे सिद्धांत तिन्हा जो प्रेरित करी करहाएं थे। थामस पेना रे विचार डिक्लेरेशन ऑफ राइटस ऑफ मैन, समानता, स्वतंत्रता होर भ्रातृत्वा रे उसूला ले प्रेरित थे। यों विचार सामंती जडत्वा रे खिलाफ भावना व्यक्त करी करहाएं थे। लगानजीवी या परजीवी बणने री जगहा उद्यमिता यानि एंटरप्रिनियरशीपा री गल्ल करी करहाएं थे। पूँजीवादा रे पैदा हुणे बिच सभी थे बडी भूमिका थी प्रोटेस्टैंट धर्मा रे पैदा हुणे री। उद्यमिता री भावना यानि स्पिरिट ऑफ एंटरप्रिनियरशीप पैदा हुआईं। मैक्स वैबरा रा भाववादी सिद्धांत सामहणे आवहां। उभरदे हुए पूँजीपती वर्गे हे अमेरिका बसाया। पैहली गल्ल, तिन्हा बाले कोई सामंती अतीत नीं था। दूजे अमेरिका शुरू ले हे पूँजीवादी होर साम्राज्यवादी देश था। तरीजे इथी रा पूँजीवाद इन्हा भाववादी विचारा रे विरोधाभासा बिच रेड इंडियना रे कत्लेआम होर काले लोका जो गुलाम बनाणे री ताकता पर खड़ही रा था। इथी बाह्य होर आंतरिक विस्तारा री अनंत संभावना थी। जेता के इथिरा विशिष्ट रूप बणया। इथी पूँजीवादा जो संतृप्त बिंदू तका पौंहचणे कठे लंबा वक्त लगया। यानि करीब 100 साल लगे होर 1860 तका एस लंबे वक्ता बिच एक नौंवें सामाजिक दर्शना रा जन्म हुआ। इथी लम्पट सर्वहारा वर्ग भी भग्गी के आई करहां था। लम्पट सर्वहारा बिच केसी बी किस्मा री सांगठनिक होर राजनैतिक चेतना बौहत कम मात्रा बिच हुआईं। एतारी वजहा के तेस बिच वर्ग चेतना नीं हुंदी। तेसरा एकी तरहा के विमानवीयकरण हुई गईरा हुआं होर से बौहत बिखरी रा हुआं। एहडा लम्पट सर्वहारा हर देशा बिच पाया जाहां। लम्पट टटपूँजिया वर्ग जे मिडल क्लास व्यापारियां रा वर्ग हुआं अमेरिका बिच लैंड ऑफ ओपोर्चुनिटी री गल्ला सुणुआं तिथी पौहंचा। चार्ली चैपलिन री फिल्म गोल्ड रश एस घटनाक्रमा जो दसहाईं।

अमेरिका रे सामाजिक दर्शना बिच दूजा मीला रा पात्थर हा अमेरिकन सिविल वार यानि द्वितीय अमेरिकी क्रान्ति। एस दौरा रा बडा दार्शनिक हुआ इमरसन। तिन्हारा ट्रांसिडेंटलिसमा रा सिद्धांत डिक्लेरेशन ऑफ इंडिपेंडेंस होर डिक्लेरेशन ऑफ मैना ले हे निकलहां। एता रे अनुसार भूतकाल वर्तमाना रा निर्माण नीं करदा। अतीता री वर्तमाना रे उत्पादना मंझ कोई भूमिका नीं हुंदी। पर वर्तमान किहां पैदा हुआं? समकालीन मनुष्या रे सामुहिक होर व्यक्तिगत प्रयासा रे समुच्चय होर अतीता रे प्रभावा रे मेलजोला के वर्तमान बणहां। इमरसन काण्टा ले प्रेरणा लैहां था होर आपणे तरीके के सामाजिक मनोविज्ञाना जो अभिव्यक्ति देहां था। बेंजामिन फ्रेंकलिना री कताब पुअर रिचर्डस अलमानैक अमेरिकी समाजा जो प्रभावित करहाईं। व्यक्तिवाद सामहणे आवहां। व्यक्ति हे सभ कुछ हा। सब कुछ तेसरे आपणे प्रयासा पर हे निर्भर करहां। सन 1860 ई. आउंदे-2 अमेरिका मंझ मुक्त व्यापारा पर आधारित पूँजीवाद खत्म हुंदा लगी जाहां। अवसर कम हुई करहाएं थे जबकि बडी कंपनियां होर बडे पूँजीपती पैदा हुई करहाएं थे। अमेरिका इजारेदारी होर पूँजी रे केन्द्रीयकरण होर सघनीकरणा री मंजिला बिच प्रवेश करी करहां था। छोटे पूँजीपती तबाह हुई के सर्वहारा री कतारा मंझ शामिल हुई करहाएं थे। तिन्हारे अमीर हुणे रे सुपने टुटणे शुरू हुई गईरे थे। एता री राजनैतिक अभिव्यक्ति पॉपोलिस्ट मुवमेंट (1880) होर पॉपुलिस्ट पार्टी (1880-1890) बिच देखणे जो मिली करहाईं थी। एस आंदोलना रे दिशा निर्देशक दर्शन देणे वाले थे चार्ल्स पियरे होर विलियम जोन्स। यों पैहले व्यवहारवादी दार्शनिक थे। इन्हारा दर्शन मुक्त व्यापारा यानि अतीता री यादा (नोस्टेलजिया) ले निकली करहां था। पॉपुलिस्ट पार्टी जेबे भंग हुई ता तेता बिच शामिल मजदूरा रा एक हिस्सा डेमोक्रेटिक पार्टी बिच चली गया जबकि दूजा हिस्सा अमेरिका री कम्यूनिस्ट पार्टी बिच चली गया। जॉन ड्युई एस विचारधारा रे हे दार्शनिक थे। इन्हारे विचारा जो ड्युईवादी व्यवहारवाद (प्रैगमैटिसम) या ऑपरेशनलिसम, इन्‍स्‍ट्रुमेंटलिस्म या प्रोग्रेसिव एक्सपेरीमेंटलिस्म बी बोल्हाएं।

जॉन ड्युई रा व्यवहारवादा रा सिद्धांत पैहली गल्ल ये बोल्हां भई प्राकृतिक होर सामाजिक परिघटना रा कोई आम सिद्धांत नीं हुंदा। पर विज्ञान ता सिद्धांता पर हे चलहां। आम सिद्धांता री गल्ल नीं करी के जे सुझी करहां तेतारा सामान्यीकरण नी करने ले आसे तेतारी असलियता तक नीं पौहंची सकदे। केसी बी समस्या रे समाधाना कठे विज्ञाना रा काम हुआं सभी ते पैहले देखणा यानि प्रेक्षण करना, फेरी देखिरी चीजा पर एक मोटा मोटा विचार पैदा करना, फेरी तत्काल एक्शना कठे योजना बनाणा होर फेरी एस योजना पर काम शुरू करी देणा। एता के अगर समाधान हुई जाओ ता ठीक हा नीं ता केसी अंतिम नतीजे पर पौंहचुआं एता पर सोचणा बंद नीं करी देणा चहिए। दूजी गल्ल व्यवहारवाद बोल्हां भई कार्य-कारण संबंध स्थापित नीं कितेया जाई सकदा। यानि अतीता री कोई भूमिका नीं ही वर्तमाना बिच। ये तिन्हें इमरसना रे ट्रांसिडेंटलिसमा ले लितिरा था। ये अगस्ट कॉमटे, काण्ट, हयुमा रे प्रत्यक्षवाद यानि पाजिटिविसम होर अनुभाववाद यानि एक्सपेरियंशलिज्‍मा ले प्रभावित था। तरीजी गल्ल जॉन ड्युई समाजा री अवधारणा रे बारे बिच करहाएं। ड्युई रे मुताबिक समाज असंगत समुहा रा समुच्चय हा जेता बिच ट्रेड यूनियन, कर्मचारी यूनियना, बास्केटबाल क्लब बगैरा रे समुह आवहाएं। जबकि मार्क्सवादा रे अनुसार समाज परस्पर विरोधी वर्गा के बणीरा हुआं। से उत्पादना रे संबंधा रे कुल योगा रा समुच्चय हुआं। एतारी गति रा तर्क हुआं एतारा अंतर्विरोध। अंतर्विरोध होर परस्पर टकरावा के हे विकास हुआं। जबकि ड्युई रा व्यवहारवाद बोल्हां भई हकीकता बिच कोई अंतर्विरोध नीं हुंदा होर ये प्रतीतीगत अंतर्विरोध हुआं जेता रा समाधान सभी थे तार्किक अभिकर्ता यानि ग्रेट मिडिएटर (महान मध्यस्थ) यानि सरकार करहाईं। व्यवहारवादा रे अनुसार समाजा मंझ हर परिवर्तन सरकारा री कार्यवाई ले हुआं। स्यों रूसो होर लॉके री सोशल कंट्रैक्ट थ्युरी रे आधारा पर बोल्हाएं भई हिंसा बेकार ही होर सोशल एंडोसमोस री गल्ल करहाएं। व्यवहारवादा रे अनुसार अगर जनता थाल्हे ले परिवर्तन करहाईं ता हिंसा हुआंई। जनता जो लड़ना नीं चहिए बल्कि सरकारा जो प्रभावित करना चहिए। बौधिक वर्गा जो परिवर्तन ल्याउणे कठे सरकारा जो सुझाव देणे चहिए। व्यवहारवाद ये बी बोल्हां भई एक मानवतावादी समानतामूलक धर्म जरूरी हा जेता के सामाजिक आचार संहिता बणीरी रैही सको। सन 1897 ईं बिच जॉन ड्युई रा लेख छपया था कॉमन फेथ। जेता बिच स्यों धर्मा री जरूरता री गल्ल करहाएं भले हे तेस धर्मा रा कोई ईश्वर हो चाहे नीं हो।


Sunday, June 2, 2019

जाति व्यवस्थाः उदगम, विकास होर जाती रे अंता रा प्रश्न (मंडयाली लेख)-5




अयंकाली, फुले, पेरियारा रे आंदोलना रा मूल्यांकन

जाति विरोधी आंदोलना कठे सुधारक होर जुझारू योद्धा अयंकाली, ज्योति बा फुले, पेरियार, अंबेदकर समेत बौहत सारेयां रा योगदान रैहिरा। इन्हा बिच एकी लिहाजा ले कुछ मामलेयां मंझ सभी थे महत्वपुर्ण हे अयंकाली। अयंकाली जाति विरोधी आंदोलना री लड़ाई जो आर्थिक, सामाजिक होर राजनैतिक धरातला पर लेई गए। स्यों सुधारवादी नीं थे बल्कि प्राथमिक रूपा ले जुझारू, रैडिकल होर प्रगतिशील जाति विरोधी योद्धा थे। स्यों औपनिवेशिक राज्या री कानूनी सीमा री परवाह बी नीं करदे थे। एतारा उदाहरण हा चेरियार दंगा। सन 1900 ई. बिच केरला मंझ पुलयार जाति जो सड़का पर चलणे रा अधिकार नीं था। अयंकाली गंडासा लेई के कल्हे सड़का पर निकले। तिन्हा जो रोकणे री केसी जो हिम्मत नीं हुई। एता ले बाद चेरियार दंगा हुआ होर 2-3 दिना तक युद्धा साहीं माहौल बणीरा रैहा। जेता बिच दलिता भारी पई गए। मद्रास रेजिसेंडिए घटना रा संज्ञान लितया होर दलिता रा सड़का पर चलणे रा अधिकार बहाल हुआ। अयंकाली रे सड़का रे आंदोलना के सरकारा जो कानून बनाणे कठे मजबूर हुणा पया। सन 1907 ई. बिच तिन्हें आंदोलना के दलित बच्चेयां जो स्कूला मंझ दाखिला दिलवाणे रा हक हासिल कितेया। भारता री पैहली कृषक मजदूर ट्रेड यूनियन बी इन्हें बनाई थी। हालांकि ट्रेड यूनियन एक्ट सन 1926 ई. बिच आया था। अयंकाली रैडिकल तरीके के आंदोलन करहाएं थे होर स्यों जनता री ताकता पर भरोसा करहाएं थे। आनंद तेलतुमडे बोल्हाएं भई चेरियार दंगा भारता रा पैहला दलित सशस्त्र विद्रोह था। 


ज्योति बा फुले री सभी ले प्रसिद्ध रचना ही गुलामगिरी। स्यों माली जाति बिच पैदा हुआएं। क्रिश्चन मिशनरी स्कूला बिच दाखिल हुआएं। इथी स्यों पाश्चात्य आधुनिकता, तर्कपरकता होर वैज्ञानिक दृष्टिकोण कठे ब्रिटिशरा ले प्रभावित हुआएं। गुलामगिरी बिच स्यों व्यंग्यात्मक ढंगा के ब्राह्मणवादा रा खंडन करहाएं होर ब्रिटिशरा जो मुक्तिदाता रे रूपा बिच देखाहें। पर सुले-सुले तिन्हारा अंग्रेजा रे प्रति मोह भंग हुंदा जाहां। 1879 ई. बिच हंटर कमीशना सामहणे आपणी गवाही बिच स्यों सुझाव होर प्रस्ताव सौंपाहें। स्यों बोल्हाएं भई जेबे ब्रिटिशर तर्कपरकता पर यकीन करहाएं ता हर जगह ब्राह्मणा जो हे वरीयता की दिती जाहीं। ये ठीक कितेया जाणा चहिए। 1881 बिच ज्योति बा फुले किसान का कोडा कताबा बिच लिखाहें भई ब्राह्मणा होर अंग्रेजा री चमड़ी उखाड़ी जाए ता एक हे खून निकलणा। तिन्हें टैक्स प्रशासना री आलोचना किती होर दसया भई किसान किहां टैक्सा के दभदा जाहां। स्यों बोल्हाएं भई अंग्रेजे ब्राह्मण आपणे मित्र बनाई लितिरे। लोहखंडे जो ज्योति बा फूले ये कताब छापणे कठे दिती थी पर तिन्हे आखरी 3 अध्याय छापे हे नीं थे क्योंकि तिन्हारा मनणा था भई ये सरकारा री ज्यादा हे आलोचना करी दितिरी। जेता कठे फुले नाराज हुए थे पर बाद बिच इन्हा अध्याया समेत छापी दिती थी। ज्योति बा फुले मजदूरा रा एक अलग मंच बी बनाया था जेता रा नांव था मिल हैंड एसोसिएशन। ज्योति बा फुले एहडे जाति विरोधी सुधारक थे जिन्हारा रवैया बधलदे वक्ता के ब्रिटिशर समर्थका ले ब्रिटिशर विरोधी हुंदा गया। शिक्षा रे क्षेत्रा बिच तिन्हें सरकारा ले हटी कने सावित्री बा फुले सौगी काम कितेया होर जनता पर भरोसा कितेया। सत्यशोधक समाजा री स्थापना किती धार्मिक कर्मकांडा रे मुकाबले ब्याह री नौंवी संस्था बनाणे कठे योगदान कितेया।

ई.वी.रामास्वामी पेरियार निरिश्वरवादी होर जझारू भौतिकवादी थे। तिन्हारा मनणा था भई तार्किकता रा प्रचार हे जाति अंता बखौ लेई जाई सकहां। स्यों बोल्हाएं थे भई धर्मा रा सरकार, राज्यसत्ता होर सामाजिक जीवन के कोई लेणा देणा नीं हुणा चहिए होर ये निजी मसला हुणा चहिए। केसी बी तरहा री पारलौकिक सत्ता बिच यकीन केसी ना केसी किस्मा रे सामाजिक संस्तरीकरण होर सामाजिक उत्पीडना जो जन्म देई सकहां। पेरियार ब्रिटिशरा रा विरोध नीं करदे थे पर स्यों मन्हाएं थे भई ब्रिटिश सत्ता धर्मनिरपेक्ष नीं ही। इधी कठे से सांप्रदाया रा जातिगत विभेदीकरण करहाईं। पेरियार सोवियत संघा री बौहत प्रशंसा करहाएं थे होर आपु बी जाई आइरे थे रूसा। स्यों बोल्हाएं थे तिथिरी राज्यसत्ता धर्मनिरपेक्ष ही। धर्मनिरपेक्षा रे दो मतलब लिते जाहें एक ता हा सर्वधर्म समान हे होर दूजा हा धर्मा रा राज्यसत्ता या सामाजिक जीवना के लेणा देणा नीं हुणा।

आजा रे जमाने बिच धर्म केता पर टिकिरा? धर्म पैदा हुआ था मनुष्या रे अज्ञाना ले। अज्ञाना रा महाद्वीप घटदा गया होर ज्ञाना रा महाद्वीप बधदा गया। पर तेबे बी धर्म ज्युंदा हा। कि? एतारा कारण हा एक एहड़ी व्यवस्था नीं हुणा जेता बिच मनुष्य दुनिया भरा रा सब कुछ पैदा करी लैणे रे बावजूद, टैक्नोलोजी रा अभूतपूर्व विकास करी लेणे रे बाद, आज इन्सानियत रोज सिर्फ दो-अढ़ाई घंटे रा हे काम करे ता व्यक्तिगत जरूरता री हर चीज पैदा किती जाई सकहाईं होर बाकि 22 घंटे मंझ आठ घंटे सोणे जो होर बाकि 12 घंटे सांस्कृतिक वैज्ञानिक उत्पादना बिच लगाई सकहाएं जेता जो मार्क्से बोल्या था भई ये से वक्त हुणा जेबे सही मायने बिच आसा जरूरता रे साम्राज्य ले स्वतंत्रता रे साम्राज्य बिच चली जाणा। जेबे रोटी, कपडा होर मकान ता कोई मुद्दा हे नीं रैही जाणा। आज भी ये मुद्दा नहीं हुणा चहिए। लोक भूखा के इधी कठे नीं मरदे भई अनाजा री कमी ही। बल्कि ठीक उल्टा लोक इधी कठे भूखा ले मरहाएं क्योंकि अनाज ज्यादा हा। ये जे अतार्किक, अवैज्ञानिक व्यवस्था ही जे हर चीजा जो अधिकता बिच पैदा करहाईं पर तेबे बी जेस जगहा पर आक्सीजना री कमी के 63 बच्चे मरी जाहें होर तेबे बी जेस जगहा पर 9000 बच्चे हर रोज भूख होर कुपोषण के मरी जाहें। एक एहडे देशा बिच 21वीं सदी मंझ जे उभरदी हुई अर्थव्यवस्था हुणे रा दावा करहां होर दुनिया री सभी थे उन्नत श्रम शक्ति 10 साला बिच पैदा करने रा दावा करहां जेता बिच नौजवाना री आबादी प्रतिशता बिच दुनिया भरा मंझा सभी थे ज्यादा ही यानि एक युवा देशा बिच एहडा हुई करहां ता सोचणा ता पौणा हे हा भई एसा अर्थव्यवस्था रे सौगी कोई भयंकर गड़बड़ी ही। एहडी व्यवस्था मंझ अनिश्चितता होर असुरक्षा पैदा हुआईं। आसौ बोल्या जाहां भई हर कोई आपणा आपु देखे। ये शासनकारी दर्शन हा। सामाजिक डार्विनवादा री विचारधारा काम करहाईं भई जेस काबिल हुणा तेस करी लैणा। आसारी शिक्षा व्यवस्था होर मीडिया बी एहडा हे दसहां। जबकि 86 प्रतिशत दलित छात्र 12वीं ले पैहले स्कूल छाडी देहाएं। एस व्यवस्था री अनिश्चितता होर असुरक्षा धर्मा बिच, ढकोसले होर बाबेयां बिच भरोसा पैदा करवाहीं। अच्छे खासे पढे लिखे वैज्ञानिक लोक पीएसएलवी बनाई लैहें पर लाँच करने ले पैहले बाला जी लेई जाहें टिक्का लगाणे कठे। एहडा हा आसारा देश। आसारा हे देश नीं बल्कि दुनिया रे होर मुल्का बिच बी ढकोसला बधी करहां। हॉलीवुड होर बॉलीवुडा मंझ हॉरर फिल्मा बणने री रफ्तार बधी गइरी। पिछले आर्थिक संकटा ले बाद शैतानी सत्ता होर पारलौकिक सत्ता रा टकराव दसया जाई करहां। अमेरिका होर भारता रा मुकाबला हो ता अमेरिका री अच्छी खासी पढी लिखी आबादी भूतप्रेता बिच ज्यादा विश्वास करहाईं। अमेरिका अंधविश्वास, ढकोसलेबाजी, कट्टरता होर घरेलू हिंसा बिच भारता के मुकाबला करी सकहां। ये तेस देशा रे हाल हे जेता जो आसारे देशा बिच स्वर्गा रे मॉडला रा रूप मनया जाहां। पूँजीवाद जेस तरीके के 80 प्रतिशत लोका री जिन्दगियां जो असुरक्षा होर अनिश्चितता रे गर्ता बिच धकेली करहां। तेता के देश होर दुनिया मंझ अंधविश्वास, ढकोसले, तरहा-2 रे पंथ, बाबेयाँ रा केन्द्र बणया करहां। धर्म अपनाणे रा कारण आदमी री जिंदगी रे दुख हे। इधी कठे से धार्मिक बणहां। धार्मिक आदमी जो गाली देणे री कोई जरूरत नीं ही। अगर एहडा करो तो साफ तौरा पर दूजी तरफा ले बी प्रतिक्रिया आउणी। लेनिने बोल्या था भई धर्मा रे खिलाफ प्रचार हमेशा धर्मा जो मजबूत करहां। इधी कठे धर्मा री जड़ खोदो। ये समाजवादा बिच हे हुई सकहां। अगर धर्म खत्म करना हो ता समाजवादा कठे लड़ो।