Sunday, April 29, 2012

फोटू आली गली

रामस्‍वरूप शर्मा होरां दे कैमरे ते
1
 नर कोयल
2
मादा कोयल

रामस्‍वरूप शर्मा होरां दे कैमरे ते
1
 2
 3
 4

पालमपुर का दयार, द्विजेंद्र द्विज होरां भेजी

Friday, April 27, 2012

माणो अन्दरे ते माह्णुयें दा



एह है मुदित सेठी होरां दा पेंसला नै कागजा पर बणाह्या बणमाह्णू. कनै लिखी इक कवता. तेज सेठी होरां इसा दा हिंदिया कनै प्‍हाडि़या च अनुवाद करी करी ता. तसवीरा दिक्‍खा कनै कवता भी पढ़ा. पैह्लें पहाडी, फिरी हिंदी कनै आखर च मूल अंगरेजी.  



उज्जड्ड डरौणा जान्गली अजाद
जनौर अन्दरा दा, फरार होणा चाह्न्दा 
धेड़ी नै, जान्नी पेड़ी नै साक्सात होणा चा:ह्न्दा
माणो अन्दरे ते मा:ह्णुयें दा!


असंस्कृत घिनौना जंगली आजाद
जानवर भीतर का फरार होना चाहता
उधेड़ कर, मन तोड़ कर, प्रत्यक्ष होना चाह्ता
कपि आदमी के भीतर का!

 
uncultured ugly wild free
the beast within wants to flee
to unwind, to unman, to reveal
the APE in man!

Saturday, April 14, 2012

हिमाचल कन्‍ने गोआ

जीतेंद्र सिंह होरां दे कैमरे च ते शिमला 


पिछलें हफ्तें विवे‍क मोहन होरां बोल्‍या मुंबई मिरर अखबारा च गोआ दे बारे च इक लेख पढ़ा. तिन्‍हां दा मतलब था गोआ दे ब्हानें हिमाचले दे बारे च विचार करा. असां फेस बुका पर इस बारे च इक नोट लगाया. तुसां भी इस जो एत्‍थी पढ़ी सकदे. दुए पासें कुशल कुमार होरां इस लेखे दे ब्‍हानें हिमाचले पर अपणी गल रखी है. हुण तुसां इसा गल्‍ला जो गांह् बधाह् 
 
गोआ इक समुदरे कन्‍नारें बसया इक छोटा देह्या प्रदेश है। हिमाचल कन्‍ने गोआ दा भुगोल भासा, संस्‍कृति, समाजिक जीवन लग होणे दे बावजूद दूईं बिच मतियां सारियां समानतां हन। खास कर होणे-जीणे दियां समस्‍यां दी तसीर इक है। दूहीं दा अपणा नूठा पर्यावरण, संस्‍कृति कन्‍ने कुदरती पूंजी खतरे च है। मुंबई मिरर अखबारा च छपयो अंग्रेजी लेखि‍का युनीस डिसोजा  (Eunice de Souza) दा लेख फाईटिंग दि गुड फाईट असां दिया भी आखीं खोला दा हालांकि गल गोआ दी है।

गोआ दे डम्‍बलिन एयरपोर्टे ते इक बड़ी छेळ सड़क नदिया कन्‍ने चल दी-चल दी चाणचक मुड़ी जांदी। नजारा दहेया भई साह् रुकी जाएं कन्‍ने सामणे ताड़ बणे च चमचम करदा इक पराणा सफेद चर्च। हिमाचले च ता सड़कां कन्‍ने चलदियां, मुड़दिया-घुमदियां नदियां साथ छडदियां ही नी। गोआ-कोंकणी अकादमी दे पुरस्‍कार वितरण समारोह च डिसोजा ने एह महसूस कीता कि गोआ दे संस्‍कृतिक महौले दे बारे च लोकां च समझ कन्‍ने उत्‍साह उमड़ा दा। जित्‍थु तक हिमाचले दी गल है अपणी इक रजीयो-पुजीयो कला, संस्‍कृति कन्‍ने भासा होणे दे बावजूद लोकां जो इस बारे च उत्‍साह ता छडा भास तक नी है।   

गोआ च रैहणे वाले कवि मनोहर शेट्टी होरां दा गलाणा था इक छोटा देह्या प्रदेश होणे दे बावजूद गोआ कला कन्‍ने संगीत दे कई चमकदे सितारे पैदा कित्‍तेयो। एफ एन सूजा, वीएस गायतोंडे, मारियो मिरांडा, किशोरी अमोणकर, जितेंद्र अभिषेकी, केसरबाई केरकर, लता मंगेशकर, आशा भोसले। गोआ दे संगीतकारां, कलाकारां, लोकसंगीत, शास्‍त्रीय संगीत, पुर्तगाली फेडो कन्‍ने अमरिकन जाज दी मुंबईया फिल्‍मी संगीत च हिस्‍सेदारी पर नरेश फर्नाडिंस ने इक कताब भी लीखियो। एह संस्‍कृति अजे दे बडयां-बडयां नां वालयां ही नी बणायी। छोटे-छोटे हल्‍कयां दियां छोटीयां-छोटीयां मंडलियां दियां कई कहाणियां हन। जिन्‍हां गाणे, बजाणे वाले कलांकारां जो गांह् बधाया। 

असां दी मजबूरी ऐह है कि मुंबई दे बॉलीबुड च जिनां जो असां हिमाचली गलादें सैह् अपणे आपे जो पंजाबी दसदे। फिल्‍मां पर हिमाचले दे प्‍हाड़, बंसरी, छंझोटियां, नाटियां कन्‍ने कूंजुऐ दे गीतां दा असर ता पराणा है पर पछेणदा कोई नी। पराणे साज, बाज, राग, ढोल-टमक सब गुआच दे जादे। जगराता मंडळियां हन सैह भजनां-भेटां दे नाएं पर हिन्‍दी फिल्‍मी गीतां दियां फूड़ कन्‍नफोड़ू परोडि़यां पता नी कुसा भासा च गाई जा दियां। 

जित्‍थु तिक कोंकणी दी गल है सन 1987 च कोंकणी गोआ दी राजभाषा बणी थी पर ऐह इतणा सोखा नी था। इसा पर प्रतिबंध लगे। मराठी दी उपबोली गलाई ने मरठिया च जब्‍त करने दी कोशिश कीती गई। नौकरां दी भाषा गलाया। पर अनगिणत गोआनियां कोंकणी लग भाषा तांए लड़ाई लड़ी कन्‍ने जिती। हिमाचले च ता असां अप्‍पुं च लड़ी जा दे। मील-दो मील पर ही बोलीयां भासां च थोड़ा-बोत फर्क पई जांदा। ऐह गल अंग्रेजिया समेत दुनिया दियां सारियां भासां पर लागू होंदी कन्‍ने ऐह फर्क लिखत भासां च भी मिलदा। इस मामले च हिमाचले च ता गदर है असां इक्‍की भासा दी बारा भासां बणाई बैठेयो। ऐह गल भी सच है कि हिमाचले लग-लग परिवारां दियां भासां भी हन। ता क्‍या होया इकी प्रदेशे दी इकी ते जादा भासां भी ता होई सकदियां। क्‍या हिमाचले दे लोग अपणियां भासां ताएं कठी लड़ाई नी लड़ी सकदे। जै असां बिहारी मजदूरे ते बिहारी कन्‍ने पंजाबियां ते पंजाबी सिखी सकदे ता कांगड़े वाले शिमले दी कन्‍ने भोटी-कन्‍नोरी नी सिखी सकदे। भासां लग होंगीयां प्रदेश ता इक है जेड़ा असां जो भासा ताएं ही मिलया नहीं ता अधे ते जादा हिमाचल ता पंजाबे च होणा था।  

कोंकणी जो बणाणे च सबते बडा नां वामन वर्दे वालावलीकर दा है। कोंकणी जो पुर्नजीवित करने दी इनां दी चाह नी होंदी ता कोंकणी गोआ जो ना ऐह महत्‍व मिलणा था ना ही इसा अज इसा जगहा होणा था। इना कोंकणी च अनगिणत जीवनियां, उपन्‍यास, कथां, इति‍हास, व्‍याकरणे दियां कताबां लीखियां। कोंकणी दे बारे च गल करने पर इना दा गलाणा था। असांजो भाषाई तौर पर ऊंचयां दी भासा, छोटियां जातिं दी भासा, विद्वाना दी भासा, किसानां दी भासा च नी ख्रिंडणा चाही दा। असां किसानां जो भी विद्वान बणाणा है। असां सारयां विद्वान बणना है कन्‍ने कोंकणी भासा दी पूरिया आजादीया दा मजा लेणा है।
 
अगें लेखिका लीखया कि एह देह्यां लेखां ते ऐह् साफ होई जांदा कि गोआ इक देही जगह नी है जित्‍थु पुराणियां धूसर हवेलियां कन्‍ने ली‍पेयो-पौतयो सफेद चर्चां दे साये च सुहावनयां कनारंयां पर रामदायक शराबखानयां च कमजोर बोहिमियाई रूढि़या ते अजाद जिंदगी  जीणे वाले लोग रैंहदे।

जित्‍थु तिक हिमाचले दी गल है असां दी गिणती मेहनती-मानदार लोकां च होंदी पर असां डरदे बड़े भारी। असां अपणीया दरेळी पर भी अपणिया भासा डरदे-डरदे बोलदे कन्‍ने पंजाबी असां दे घरां च पंजबिया च जलेबीयां-पकोड़े कन्‍ने बिहारी बिहारीया च गोळ-गप्‍पयां बेची जांदे। असां दियां कोशशां च कुत्‍थु कमी रही गई। पहाड़ी गांधी बाबा, लालचंद प्रार्थी साही होर भी मत्‍तयां सारयां लोकां बडा कम कित्‍तया अज भी करा दे पर असां हल्‍कयां च खिंडी गियो। कोंकणी साही असां दिया भासा जो भी पंजाबी च मलाणे कोशशां होईंयां कन्‍ने अज भी जारी हन। दुखे दी गल ता ऐह है कि अपणे ही सिक्‍के खोटे हन। काश गोआ साही हिमाचले दियां बडियां प्रतिभां हिमाचले दियां भासा कन्‍ने संस्‍कृति तांए भी कुछ वक्‍त दिंदयां ता असां भाल घटे ते घट दो चार पद्मा सवदेव, वेदराही ता होणे ही थे। काश! गोआ साही हिमाचले च भी देह्या कुछ होई जाए सांस्‍कृतिक परिदृश्‍य दे बारे च असां दे लोकां च भी समझ कन्‍ने उत्‍साह उमड़ी जाए।


Sunday, April 1, 2012

पहाड़ी दोहे




मिलणा मिलणा करदेयां जाई आए पोआर
तैहड़ी ते ई मैहरमां नी गमदा संसार

साल्‍ले बिच इकध बरी आई प्रभू दी याद
थैले खोहते बांदरां क्‍या खाणा परसाद

नी गमणा नीं गम्‍मेया दुनिया दा एह खेल
अंदरैं मच्‍छ तरक्‍केयो बाहरैं इतर फलेल

हैहै हत हत कू तिकर, कितणी लाणी बाड़
माहणुए ते नीं डरा कदे, बांदर पाहन ज्‍वाड़

गायीं खुलियां छड्डा दे, सड़कां बणियों रेल
गड्रिडयां ठोरी देया कदे अपणे दीयां तेल

नीं सुणने नैं मुकी गए कितणे  अपणे साख
बापू बकबक लग करै, पुत्रे दी लग भाख

टिपड़ैं तिन्‍हां दैं लिखेया, लाणे जिन्‍हां रुआर
बस्‍सी गे तां हस्‍सी गे, नीं तां छोहंदी मार

नी गल करनी भीड़ा नैं बणै तिले दा ताड़
स्‍हाबे लांदा रेहई गेया, इतणी खाहद़ी घाड़

नां चाहई दा रक्‍खेया दारू बणी बपार
जिन्‍हां लघाइंया बोतलां सैह पुज्‍जे हरिद्वार

झुड़यां लुक्‍की भंगा दे जे सटराले लाहन
छड्डी पधरे गोहरे जो खड्डैं खड्डैं जाहन

बड़ी देर घुलकणे ते परंत जाह़लू मैं अप्‍पू इन्‍हां दोहेयां दयारे पर नीं टकाई सकेआ तां ई तुसां जो तकलीफ देणी पौआ दी। दोहेयां दा ताप किछ दिन देहया चढ़ेया भई खूब लिखी चकाए। कुतकी बांदर धूं देया दे कुतकी मिरग ई सैहरे जो चल्‍लेया। कुथी ब्‍याहां च सराबां घड़ोपी करी छोहरू बडोहरू सारे ई बिलटा दे, मार त्‍याड़ा मारा दे। जणेती जो जांदिया बरिया जेहड़े साफे दा तुरला लाड़े दे बापुए दे नक्‍के साहई चकोया था सैह पंज सत पैग सट्टी नैं राती जो गुच्‍छू बणी करी पट्टू बणी गेया। बसां जो हथ देया दे तां सराबड़ा समझी करी कोई डरैवर रिस्‍क नी लैंदा। तिन्‍हां जो बस्‍सा च बेहालणा कुनी माऊं दैं पुतरैं। बड़ा गौं कित्‍तेया भई तुसां इन्‍हां जो टकाई ई देहन दयारे पर।
नवनीत शर्मा