Sunday, February 24, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता


अंतर्राष्‍ट्रीय मात्रृभाषा दिन


पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। तिसते परंत पवनेंद्र पवन, कथाकार मैडम चंद्ररेखा ढडवाल, राजीव कुमार "त्रिगर्ती", भूपेंद्र भूपी कनै फिरी होरां नवीन शर्मा दे विचार तुसां पढ़े। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी कवि सुरेश भारद्वाज निराश होरां पेश करा दे। 


1 तुसां दे स्हावे नै स्हाड़ा लेखन असां दे मुल्के दियां दूईयां भाषां दे मुकाबले च कुथु खड़ोंदा?
सुरेश भारद्वाज निराश: मैं इस दे बारे एह समझदा जे स्हाड़ा लेखन उन्हां होर भाषां दे मुकावले बी पिच्छें नी यैं। इसा भाषा च असां सैह सब किछ लिखी सकदे जेहड़ा भी असां लिखणां चांहदे। लिखणे तांई भाव जरुरी होंदे। भाव होण तां भाषा तां कोई भी होई सकदी फिरी स्हाड़ी हिमाचली भाषा च क्या कमी यै। इहदे बास्ते स्हाड़े च लिखणे दी लगन होणी जरुरी यै कनै अपणियाँ भाषा नै प्यार होणा भी जरूरी है। जे असां बोली सकदे तां लिखी भी सकदे। अपण ए सही यै कि स्हाड़े लिखणे कनै बोलणे च बड़ी भरी घाट ऐ। स्हाड़े बच्चे अपणी माँ बोलिया च गल्ल नीं करदे। स्कूलां च स्हाड़ी माँ बोली कुसी भी स्त्तर तिकर पढा़ई नी जांदी। पढ़या लिख्या तबका भी अपणी बोली नी बोलणा चांहदा, न ही लिखणा चांहदा। लोक चिट्ठी तिक भी अपणी भाषा च नी लिखदे। एह होर भी दुखद ऐ जे असां अपणे घरां विच भी अप्पुं बिचें अपणी भाषा च गलबात नी करदे। जे बोलगे नी लिखगे नी तां अपणिया भाषा दी तरक्की कैस कनै होणी, किह्यां होणी, कुजो बास्तें होणी। इन्हां सारियां गल्लां जो मद्देनजर रखदे होए स्हांजो घरे च, घरे ते बाहर घट ते घट अपणे प्रदेश च कनै प्रदेश ते बाहर भी हिमाचली जाणने आलेयां नै अपणी भाषा च ही गलबात करनी चैहदी। हिमाचली जाणने आलेयां ने लिखित संबाद भी जी तिकर होई सकै अपणी भाषा च ही करना चैहदा। हिमाचली जाणने आल़ेयां नै जे असां अपणियां भाषा च संबाद करगे तां हर्ज भी क्या है? ईह्यां ई तां स्हाड़िया भाषा दा प्रचार प्रसार होणा।

2. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्‍या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्‍नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्‍हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है
सुरेश भारद्वाज निराश: पहली गल्ल तां एह जे स्हाड़िया भाषा दा नां पहाड़ी भाषा नी अपण हिमाचली भाषा यै। कश्मीर ते लेई करी आसाम तिकर सारियां भाषां पहाड़ी भाषां गणोदियां पर तिन्हां सारियां दे अपणे नां हन । जिह्यां भोजपुरी, असमी बगैरा। सै आपणी भाषा जो पहाड़ी भाषा नी बोलदे । सारे देशे च प्रदेशां दे नां मुताबिक भाषां दे नां हन जिह्यां पंजाबी, हरियाणवी, गुजराती, बंगला, उड़िया, मराठी बगैरा। सिर्फ असां अपणियां भाषा जो "हिमाचली" दी बजाये पहाड़ी बोलदे अपण कैंह? स्हाड़ियां अपणियां बोलियाँ चमव्याली, कांगड़ी, मंडियाली़, कुल्लबी बगैरा उस क्षेत्र दे नुसार गलोंदियां पर हिमाचल दिया भाषा जो गलांदे पहाड़ी भाषा। क्या तुसां जो अपणा एह विचार किछ अजीब नीं लगदा? पिछली बारी भी बिधान सभा ते हिआचली भाषा दा प्रस्ताव पारित होई चुकया। भाषा दे नां बारे तां हुण एह मतभेद मुकणा चैहदा कनै पहाड़ी दी बजाये "हिमाचली" भाषा दा इस्तेमाल होणा चैहदा।

जी तिकर हिमाचली भाषा दी समर्थ दी गल्ल यै तुहाड़े सबाले दे जबाब च मैं एह बोलगा जे हिमाचली भाषा च बड़ी समर्थ है कुछ भी लिखणे दी। एह सबाल सही नी यै जे क्या स्हाड़ी भाषा चील्हां दे डाल़ू झुलाणे जोगी यै। चील्हां दे डाल़ू झुलाणा स्हाड़ी संस्कृती यै। जिन्नी कवियें गीतकारें एह लैण लिखी सै हिमाचली भाषा दा मोहतवर पारखी होणे दिया गिणतिया च आऊँदा। तिस कनै एह गीत भी अमर होई गिया। एह सबाल चुक्की करी स्हांजो अपणी भाषा संस्कृति, कनै इस गीत जो लिखणे आल़े मोहतबर कवि, बिद्वान गीतकार दा कद छोटा नी करना चैहदा।

ऐसा कोई बिषे नी जिस पर असां हिमाचली भाषा च नीं लिखी सकदे जां अपणे विचार गलाई नी सकदे । अज स्हाड़े कवि, लेखक हरेक रस च कवितां गीत लेख, प्रसंग, ग़ज़ल संस्मरण लिखा दे। छंदबद्ध भी कनै अज्जे दी कबिता ( आधुनिक कबता) भी खूब लखोआ दी, कतावां भी छपा दियां। स्हाड़े अंदर लिखणे दी तड़प होणी जरुरी है। इसा भाषा च शव्दां दी भी कोई घाट नी ऐं। दूईयां भाषा दे शव्दां जो भी हिमाचली भाषा अपणे अंदर समाई लेंदी कनै भाषा दे अनुरुप शव्द जो अपणा रुप देई सकदी। एह स्हांजो चाहिदा जे असां इस करी के न रुकिये जे शव्द नी ऐं। दूईयां भाषा दे शव्द लेई करी तिन्हां जो अपणी भाषा च बदली करी असां गांह बधी सकदे। मैं एह भी मसूस कित्ता जे कई गल्लां जेह्ड़ियां हर कुसी भाषा च लिखणा आसान नीं लगदियां सैह हिमाचली भाषा च खूवसूरतिया नै लखोई जान्दियां।
असां दियां हिमाचली पहाड़ी वोलीयां दे हालात भी
किछ ठीक नीं हन। दैनिक जागरण दे संपादक 
नवनीत शर्मा होरां नौजवांना बिच सर्वे कराई
ने पहाड़ी भासा ताईं इस ध्‍याढ़े जो नूठे तरीके
ने मनाया। इस सर्वे ते पता लगया भई असां जो
अपणी मां बोली वोलणे च शरमा ओंदी। असां दियां 
गलवातां ते मां बोलीयां गैव होंदियां जा दियां। 
असां पहाड़ीया दे बजाए अंग्रेजी मलाई हिंदी बोला दे।
बिच थोड़ी बौत पहाड़ी लफज भी आई जांदे।
दुखे दी गल एह है कि पहाड़ी लखारीयां कनै
तिन्‍हां दियां लीखियां कताबां दी पोंह्च लोकां
तक नीं है। इक खरी गल एह है कि लोकगायक
कनै लोकगीत लोकां दियां जबानी कनै दिलां च हन।
चिंता वाळी गल ता है। असां जो अपणीयां
मातृ भासां जो बचाणे ताईं आंदोलन नीं ता घटा ते घट
अपुं च अपणीयां मां बोलीयां च ता बोलण ही चाही दा।

3. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्‍ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्‍या क्‍या करना चाहिदा
सुरेश भारद्वाज निराश: पाठकां कनै रिश्ता बणाणे तांई लेखकां कनै पाठकां दा अपणियां भाषा कनै प्यार होणा जरुरी यै। असां पहाड़ी बोलगे नी लिखगे नी तां पाठकां कनै रिश्ता कैह्दे जोरे पर बणना। कुसी होर दी लिखियो कताब जां कोई रचना असां पढ़ना ई नी चाहदेटैम नी देई सकदेरुची भी पैदा नी करदे अपणे अंदरकिह्यां बणना पाठकां कनै रिश्तालेखक, कबि होणे ते पहलां पाठक बणना जरुरी यै। खास कर हिमाचली भाषा दी कताव जा कोई रचना हिमाचली भाषा दे मोहतवर विद्वानां दी लिखियो भी असां नी पढ़दे। इसते बड्डी तिन्हां बिद्वाना कनै अपणी भाषा नै ना इन्साफी क्या होई सकदी। दूई सच्ची गल्ल एह भी है जेहड़ा कोई किछ लिखा दा सैह अपणे जोरे पर छपबा दा स्हांजो बाह्ल-सहित जो छपाणे दा कोई साधन नीयै जेह्ड़ा होणा बड़ा जरूरी यै। जेह्ड़ा कुसी भी तरीके नै छपदा तिसजो पढ़ने आल़ा कोई नी। छपया सहित बुक सैल्फां च बंद होई करी रेही जांदा। इक गल्ल होर असां च मते इस करी लिखदे जे कुथि सांठ गांठ करी नै मुफ्त छपी जाअकताब बिक्री भी होऐ, नां भी होए, रायल्टी भी मिल्लै। अपण सारेयां दी पहुँच इतणी तां नी यै न । बड़े घट लेखककवि हन जेहड़े पल्लों पैसे लाई करी कताबां छपबा दे कनै मुफ्त बंड्डा दे तां जे लोक पढ़न कनै समाज च अपणी भाषाअपणे सहित कनै संस्कृति बारे जागृति बणें। पाठक भी पैसे खर्च करी नी पढ़ना चाहंदे कैंह जे आदत नीं ऐं पढने दी। एह आदत सहितकार ही तिन्हां अंदर पैदा करी सकदे अच्छा सहित लिखी करी कनै लोकां जो भी अपणे कार्यक्रमां दा हिस्सेदार बणाई करीमान सम्मान देई करी। छपणे दा साधन तोपणा बड़ा जरूरी यै अपणी भाषा दी तरक्किया बास्ते।

कबि गोष्ठियाँ होंदियां तां हिमाचली भाषा दियां रचनाकबिता कहाणी बगैरा जो दाद नी मिलदी। असां ईह्यां सुणदे जंता मजबूर हन तीह तिकर सुणने जो जाह्लू तिकर अपणी बारी नीं आई जांदी। खरियां कबतां भी नज़र अंदाज होई जा दियां। आखिर तिक कोई नीं बैहणा चांहदा। दूई गल्ल एह जेह्ड़े कबता बोलणे आल़े सैई सुणने आल़े एह देईया हालता पाठकां कनै क्या रिश्ता बणना। सहित्यिक गोष्ठियाँ च आम लोकां दी साझ भी होणी चैहदी तां जे तिन्हां बिच भी सहित्य बारे रुची पैदा होए जिसते इक मजबूत श्रोता बर्ग तैयार होई सके। एह श्रोता बर्ग ही कल्ले दा पाठक बर्ग बणी सकदा।


4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात किञा पूजदी 
सुरेश भारद्वाज निराश: अगली पीढ़िया तिकर लिखित सहित्य ही पुज्जी सकदाकनै सैह ही जादा कारगर होणा। इस करी स्हांजो खूव लिखणा चैहदा छपबाणा चैहदा तां जे अगली पीढ़ी भी स्हाड़े विचारां जो पढ़ी सकै। गलबात हिमाचली भाषा च करने पर भी जोर दैणा चैहदा तां जे भाषा भी पीढ़ी दर पीढ़ी गाँह बदधी रैह। खूव प्रचार प्रसार होणा चैहदा। इन्टरनैट दा सहारा लैणा भी जरुरी यै। कोई भी भाषा कदी मरदी नी जे लिखणे पढ़ने आल़े सहित्य दे जरिये जिन्दा रैहण।

5. तुसां दे स्‍हाबे नै अगली पीढ़ी पहाड़िया जो भासा बणाणे दा ख्‍यो करह्गी कि गीतां सुणदेयां गांह् बधी जांह्गी?  
सुरेश भारद्वाज निराश: स्हांजोस्हाड़िया पीढ़िया जो कुनी नी गलाया जे अपणी भाषा बारे किछ करा। एह तां अपणिया भाषा दा प्यार है कनै रुहानी जजवा यै जे स्हाड़ी भाषा फल़ै फुलै। सदियां तिक सारेयां दे दिलां च बस्दी रैह । इस करी नै सारे अपणे अपणे तरीके नै अपणिया भाषा दी पैरबी करा दे। अपणे अंदर अपणिया भाषा नै प्यार जिन्दा रैहणा चैहदा कनै भाषा जो गाँह ते गाँह लेई जाणे दी सोच जिन्दा रैहणी चैहदी।

6. तुसां दे स्‍हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्‍की भासा नै कम चली सकदा कि इक्‍की ते जादा भासां जरूरी हन ?  
सुरेश भारद्वाज निराश
सुरेश भारद्वाज निराश: इक भाषा दा तां कोई मतलव ई नी। अज्ज अपणे ग्रायें जां शहरे ते बाहर भी भाषा च बदलाब नज़र औंदा। इस करी जादा ते जादा भाषां दा ज्ञान होणा उतणाई जरूरी यै जितणा अपणी भाषा दा ज्ञान होणा। कुसी जो समझाणे ते जादा जरूरी यै कुसी जो समझणा इस करी होरना भाषा दा ज्ञान होणा भी लाजमी यै। बेशक अंतरराष्ट्रीय भाषा दा ज्ञान भी बड़ा जरूरी यै। ईह्यां ई हिमाचल दीसगरियां बोलियां भी स्हांजो समझणा चैहदियां तां जे सहाड़ी हिमाचली भाषा मजबूतिया नै गाँह ते गाँह बधी सकै कनै इहदे च बथेरा सहित लखोई सकै।

अज सारे हिमाचली भाषा जो अठबीं सूची च दर्ज कराणे तांई कोस्त करा दे। एह कोस्त उपले स्त्तर यानी भाषा बिभाग कनै प्रदेश सरकार दी तरफों भी होणी चैहदी स्हांजो सरकार जो एह अहसास दुआणा पौणासरकार जो मनाणा पौणा जे हिमाचली भाषा जो अठबीं सूची च दर्ज कराणे तांई बिधान सभा च प्रस्ताव पारित करण कनै अपणियां सिफारशां नै केद्र सरकार जो भेजणे दी व्यबस्था करण। किह्ला सहितकार बर्ग सहित दे जोरे पर इहदे बारे मता किछ नी करी सकदा।


Saturday, February 16, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता

कांगड़ा चित्रकला दे मशहूर चित्‍तरकार कनै कलापारखी
पद्मश्री विजय शर्मा  हाेेरां दी कताब



पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। तिसते परंत पवनेंद्र पवन, कथाकार मैडम चंद्ररेखा ढडवाल, राजीव कुमार "त्रिगर्ती" कनै फिरी भूपेंद्र भूपी होरां दे विचार तुसां पढ़े। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी कवि नवीन शर्मा होरां पेश करा दे।




1. तुसां दे स्हाबे नै पहाड़ी लेखन असां दे मुल्के दियां दूइयां भासां दे मुकाबले च कुतू खड़ोंदा
नवीन शर्मा: पहाड़िया च मता कम्म होआ करदा, खूब लखोआ करदा, पर जिस साह्ज्झे या कट्ठपणे दी लोड़ ऐ तिस बिच कमी खळदी रई म्हेशा।
होर भाखां कन्ने तोलणां मैं इस करी खरा नी समझदा कैं: कि हर थाईं, रैह्ण सैह्ण दे तौर तरीकयां कने मिलियां सुवधां दे स्हाब्बे कन्ने भाखां दा प्रसार प्रचार होया। पर इतणी गल्ल ज़रूर ऐ भई पहाड़ी हमाचली समरिद्ध कने संस्कृता दे नेड़े दी भाखा ऐ। 
सैः कुथू गिया
सः कुत्र गतः, अगच्छत्
बगैरह जेह्ड़ा कि शोध दा विषे ऐ। 
अज पहाड़ी (हमाचली) अपणी जगह बणाणे वास्ते जरूर जदोजैह्द करा दी ऐ पर ऐ गल्ल बी सच ऐ कि पिछले किछ समे ते पहाड़ी हमाचलिया जेह्ड़ा कम्म होया ऐ तिसदी बदौलत बड्डयां सैहरां च रैह्णे ऑळ् पहाड़िये अपणी मां बोल्ली च गल्ल करना खरा समझा दे हन। पूरी मेद छोड़ैं ई ए अठियां सूचिया च जगह पाई लैंह्ग।

2. तुसां दे स्हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है
नवीन शर्मा: चील्हां देयां डाह्ळुआं झुलाणे कन्ने ए नित नौआं रूप धारण करने वास्ते होर भाखां देयां शब्दां जो अपणे च समाई लैंदी ऐ, station टेसन, mobile phone, मबैल फोन बगैरह भाषा विज्ञान दा विषे ऐ।
ए तय ऐ कि डोगरिया, मराठिया सांह्यें देवनागरी च लखोणे दे बावजूद अपणे आप च समरिद्ध भाखा ऐ, जिसा पर मता कम्म होआदा, कई डिक्सनरियां तैयार हनहोआ करदियां, ब्याकरण पर बी कम्म होआदा, हमाचली साहित्य दा इत्यास बी तैयार होऑ दा सुणया मैं। मते रचनाकार हन जेह्ड़े लगातार पहाड़िया बिच लिखा करदे, भाखा दा भविख उज्ज्वल ऐ बस किछ जोर लाणे दी लोड़ तां ऐ ई ऐ।

3. तुसां दे स्हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्या क्या करना चाहिदा
नवीन शर्मा: लगयो लेखक कवि गतार करा करदे अपणा कम्म, पर मता किछ करना बाकी ऐ, सरकार बी करा दी कोस्त पर काफी नी।
स्कूल, पंचैत कने सरकारी दफतरां ते गल्ल सुरु होऐ, घरां च बोलदे सब पर कुथी दुरखास्त नी दयोंदी, भगतां, जगराते, बोलियां, नाटियां, ढोलरू, हसणू खेलणू तहसील जिला या राज्य स्तर पर सण्मानत कित्ते जाणे चाईदे।
कवियां, लेखकां, गतारां दी हौसला अफ़जाई कित्ती जाए, तिन्हां दे कम्मे दी परदरसनी लग्गै हर साल ग्रीष्मोत्सव, मिंजर, दसैहरा बगैरा खास मौकयां पर
तां जे लोकां जो कन्नें लिया जाई सका।
मुहीम आम आदमी दी होणी चाइदी न कि छड़ी सरकार या लेखकां दी।
कनें ए तय ऐ कि हर आम आदमी अपणी मां बोल्ली कनें मता ई प्यार करदा ऐ। सबनां जिल्यां दे विद्वान रचनाकारां जो चाइदा कि किछ ऐसी कोस्त कित्ती जाए तां जे हमाचलिया दा ऐसा शब्दकोष तैयार होऐ जिस बिच इक अर्थ वाळे पूरे हमाचली शब्द कठरोई जाःन तां जे हर कुसी जो समझ आई सका। कांगड़ा, मंडयाळी, सिरमौरी, चंबियाळी बगैरा दी दूरी दूर कित्ती जाइ सकै।

4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात किञा पूजदी
नवीन शर्मा: इस सुआल दा सिद्धा मतलब ऐ भई मैं नयाणयां कन्नें कुसा भाखा च गल्ल करदा। मेरे नियाणे समझदे पहाड़ी, मैं जादातर पहाड़ी बोलदा, सैः बी मेरे कन्ने पहाड़िया च गल्ल करदे, पर होर मता किछ होणा चाइदा ऐ, छड़ी घरां च बोल्ली ने गप्प नी बणनी ऐ।
पर सुआल दा जवाब एई ऐ भई मेरा परुआर अड़ोस पड़ोस पहाड़िया च गलांदे कने बड़ा खरा लगदा।

5. तुसां दे स्हाबे नै अगली पीढ़ी पहाड़िया जो भासा बणाणे दा ख्यो करह्गी कि गीतां सुणदेयां गांह् बधी जांह्गी?  
नवीन शर्मा: जरूर जी, पूरी मेद ऐ, पर किछ होर करना पौंणा बुज़ुर्गां जो बी, तां जे अगले पाळे जो प्रेरना मुल्ला, हौसला अफजाई होऐ।

6. तुसां दे स्हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्की भासा नै कम चली सकदा कि इक्की ते जादा भासां जरूरी हन ?  
नवीन शर्मा: हिंदोस्तान जैसे देस च जीणे तांईं भाषां दी जितणी जानकारी होऐ सैः खरा, पर कम्म ज़रूर चली सकदा इक्का भाषा कन्नें बी। पैसे मेरे स्हाब्बे ने हर आदमी जो घट ते घट चार पंज भाखां दी जानकारी होणी ई चाईदी ऐ।

नवीन शर्मा


Saturday, February 9, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता

इक पुराणी चित्‍तरकारी - साभार विजय शर्मा
 

पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। तिसते परंत पवनेंद्र पवन, कथाकार मैडम चंद्ररेखा ढडवाल कनै फिरी राजीव कुमार "त्रिगर्ती" होरां दे विचार तुसां पढ़े। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी कवि भूपेंद्र भूपी होरां पेश करा दे।  


1. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन असां दे मुल्के दियां दूइयां भासां दे मुकाबले च कुतू खड़ोंदा
भूपेंद्र भूपी: पहाड़ी भाषा इक्क भाषा नी होई के लग्ग-लग्ग बोलियां या भाषां दा इक्क रळेया-मिळेया रूप है । फिरी भी इह्नां भाषां विच आपसी तालमेल इतना है कि समझणे ग्लाणे विच ज़ादा  मुश्कल नी औंदी । जित्थू तिकर लेखन दा सुआल है , लेखन मता सारा होया है पर होया लग्ग-लग्ग स्तर पर । मुल्के दियां केइयाँ भाषां दे मुक़ाबले पहाड़ी भाषा हल्ली भी पिच्छे है। पर कुछ भाषां ते एह गांह भी है जे सारियां बोलियां जो इक्को ही भाषा मन्नी लेया जाएं। 

2. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्‍या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्‍नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्‍हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है
उप्‍पर दित्‍तीयो चित्‍तरकारिया दे पिच्‍छें
टाकरी च लिखियो कविता
भूपेंद्र भूपी: पहाड़ी भाषा विच ही क्या कुसी भी भाषा विच एह समर्था ( जे सैह अन्ने बाह न्हसदिया ज़िंदगिया विच अपणी होंद बचाई के रखी सके ) तां ही आई सकदी जे सैह अज्जे दे ह्साबे कने बदली भी सके कने हाजमा भी खरा रखी सके । फ़िलहाल हालात ऐसे हैंन कि चीलां दे डाळू भी झुलदे रैहंगे तां भी घट ते घट एह भाषा ज़िंदा तां रेही सकदी । नी तां 'पढ़ेयां- लिखेयां' तां कोई कसर नी छड्डियो है इसा जो मारी देणे विच। कोई भी भाषा तां ही सिक्खी जांदी जे तिसा जो सिक्खणे विच कुसी जो कोई रस या फ़ायदा दुस्से । 
इक्क मसाल दिंदा कि मेरे घरे ते कुछ दूर इक्क गमलेयां बणाणे वाळा है । मिंजो कुछ ध्याड़े पहलें सैह मिली पेया; साहम्णे औन्दे ही तिन्नी बोलेया, " बड़का जी, न्हेरा लग्गेया होणा ! इस वक़्त कुथू चली पे ..? " एह गल्ल ख़ास इस ताईं थी कि पुछणे वाळा उत्तर प्रदेश दा रैहणे वाळा था । तिसजो असां दी भाषा कजो सिक्खणा पेई जे तिसजो एह भाषा रोज़गार देया 'दी है ।

उप्‍पर दित्‍तीयो टाकरी कविता देवनागरी च
- चित्‍तरकार विजय शर्मा होरां लिखी नै भेजी है
3. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्‍ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्‍या क्‍या करना चाहिदा
भूपेंद्र भूपी: पहाड़ी लेखन कने पाठकां दे रिश्ते दे बारे विच एही ग्लाया जाई सकदा कि जिस ह्साबे कने अज्ज पढ़ने पढ़ाणे दा रुआज घटा दा है , कुसी भी भाषा विच पाठक तोपणा 'सान नी रेही गेया है । पहाड़ी तां वैसे ही हालात दी मारियो है। इस ताईं ज़ादा निराश नी होणा चाहिदा है  । बस्स अज्जके महौले मताबक़ सांजो अपणिया भाषा जो भी 'अपडेट' कने 'वेब-फ़्रेंडली' बणाणा पौणा है। 

4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात किञा पूजदी
भूपेंद्र भूपी: अगलिया पीढ़िया तिकर अपणी गल्ल पुजाणे ताईं एह सबते ज़ादा ज़रूरी है कि असां निकियाँ-निकियाँ गल्लां जो भी लिखी के रखन । तिस विच लोक कथां , परम्परां , संस्कार , रीत रुआज सब लखोन। जाहलू ज्ञान लखोई जाएं तां तिसदा गांह बद्धणा पक्का होई जांदा । एह 'लाक्का ऐसा है जित्थू जम्मणे ते पहलें ते ही गीत ( स्हूड़ियां ) गाणा शुरू होंदे थे कने मरणे ते बादे (अळ्हैणियां ) तिकर चलदे थे । पर अज्ज असां मते सारे इह्नां दे बारे विच जाणदे तक नी । अगर एह सब लखोई जाएं या तकनीकी तरीक़े ने ऑडियो वीडियो दे रूप विच सहेजी दित्ता जाए तां गांह वाळी पीढ़ी इह्नां गल्लां जो बधिया करी के समझी सकदी ।

5. तुसां दे स्‍हाबे नै अगली पीढ़ी पहाड़िया जो भासा बणाणे दा ख्‍यो करह्गी कि गीतां सुणदेयां गांह् बधी जांह्गी?  
भूपेंद्र भूपी: एह ग्लाणा एड्डा 'सान नी है कि गांह वाळी पीढ़ी पहाड़ी जो भाषा बणाणे वास्ते कितनी कि गम्भीर होंदी है । इंकलाब ऐसा भी आई सकदा कि औणे वाळी पीढ़ी इस कम्मे जो  करने विच कामयाब होई जाए कने एह भी होई सकदा जे सैह कम्म चलाणे जोग्गी भाषा सिक्खी के ही गुजारा करी लें या अपणे आपे जो तसल्ली देई लें कि लेया जी असां भाषा जिंदा रखी लेई। इस वास्ते असां दिया पीढ़िया दी मेहनत भी ज़िम्मेदार होणी है कि असां गांह वाळेयां जो कितना कि समझाई पांदे हैंन।

6. तुसां दे स्‍हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्‍की भासा नै कम चली सकदा कि इक्‍की ते जादा भासां जरूरी हन ?  
भूपेंद्र भूपी: भाषां जितनियाँ सखोई जाह्न तितणियाँ खरियां । पर अपणिया माँ - बोलिया जो दरकिनार करी के अगर होरनां भाषां पचांह न्हसणा कतई अक्ला दा कम्म नी है । पहलें अपणा घर खरा होऐ तां ही ग्रांए दे सुधारे दे बारे विच सोचेया जाई सकदा ! 
भूपेंद्र भूपी