Sunday, December 20, 2015

रामदयाल नीरज

रामदयाल नीरज
लिखारीयां कलांकारां दे मास्टर जी कनै गुरुजी।




हुड़के दिया ताला पर नीरजे दिया दाढ़ीया च
फडफडादें वग्‍ते दा ज़ख्मी मोनाल
ज़हन च पहाड़े दे बणदे बिगड़दे रंग
राजे गूंजदियां टंकारां च/अजादीया दी लड़ाई/ 
राणा़ंया दे शौक- 
प्रजामंडल विद्रोह दी ऊंची उआज़
नेहरूये दियां यात्रां ,परमारे दा ज़माना
जख्‍मां साही गईं गईं पर उघड़दे पहाड़
गीतां दिया लैं पर खणकदी चींड

-- मालरोड पर एक पीढी,- 


असां जो व्यक्तिवाचक कवतां लीखणे तार्इं प्रेरित करने वाळे रामदयाल नीरज किछ दिनं पैहलें 95 सालां दिया उमर पूरी करी असां सारयां ते विदा लई ने चली गै। तिन्‍हां दा जन्म 1 जून, 1920 जो रेणुका तसीला दे ग्रां ददाहू होया था। पंजमीं तक ताऊअें लुधियाणे पढ़ाये। 

इक रोज़ एह मुंडु नाहन नठणे ताईं रेला च बैठी गिया ,अपर गडी कराची जा दी थी। पता लग्‍गा ता दरयाए सिंध दे कनारे सखर उतरी गिया। किछ दिन इमलीया दे पत्‍तरां कनै पाणी पी गज़ारा कीता। फिरी साबणे दे कारखाने च नौकरीया ते बाद साधुआं दे भंडारे च मालपुए खाई सिर मंडाईनिरंजनी अखाड़ा अहमदाबादउज्जैन वगैरा च रही। दुनिया जो  ठगा- मजे ने,रोटी खा घयो-खंडा ने इस ज्ञान च माहर होई गै। 

नागा बाबा बणने दा डर कनै सिरमौरी खेशडी दी लाज बचाणे ताईं साधु वेशे च बम्बे पूजी रामलीला कम्पणीया च दाखल होर्इ गै। इसी दौरान गुजराती कनै मराठी सिखी। शास्त्रीय संगीत कनैं नाटकां च अभिनय करने दा  हुन्‍नर हासल कीता। साधू रूप च नां  रामचंद्र गिरि इस ताईं कलाकार दे रूप च नां रखोया राम मराठे। संत तुलसीदास फिल्मा च तुलसीदास दे बचपन दिया भूमिका च  ताऊअें  अपणा रामदयाल पछैणी लिया कनै बहुरूपिया पकड़ोई गिया।

बम्बे ते हटी ताऊ भाल दिल्लीया प्रभाकर, बी  ..दी  पढाईया कनै-कनै कवि सम्मेलनां सुणी कवि नीरज बणी गै। नाहन मास्टरी कीती, 1945 च  प्रजामंडल आंदोलन  शामल होई गै। डॉ परमार दे सहयोगी बणी सरकरी सूचना विभाग च आई गै। लगभग बीहां सालां तिकर हिमप्रस्थ पत्रिका दे सम्पादक रही ने उपनिदेशक दे पद ते सेवानिवृत होणे ते बाद  ट्रिब्‍यून दे हिंदी कनै पंजाबी सम्वाददाता रैह। साधु, अभिनेतागायकअध्यापक,आंदोलनकारीसम्पादककविअधिकारी  कनै पत्रकार इन्‍हां ऊंचार्इंया ते गुज़रयो नीरज जी इक स्वतंत्र लिखारी कनै सांस्कृतिक चिंतक थे। एह जनवादी लेखक संघ दे कमकाज च गांह बधी ने हिस्‍सा लेणे वाळे सदस्य थे।

संजौली दे श्मशान पर तिन्‍हां दे अंतिम संस्कार दे मौके पर तिन्‍हां दे पुत्‍तर अनिल जी जो असां एही गल्‍लाया--नीरज होरां इक शानदार अनुभवां दी पूरी जिंदगी जी ने गै! 
नीरज जी किछ म्‍हीनें  पेंहले तिकर जीन पैहनी माल रोड़ तिकर पैदल आई जांदे थे। गोष्ठियां च  खरे अध्यक्षीय भाषण देई  खूब मिठी चा पींदे थे।

एह लिखारीयां कलांकारां दे मास्टर जी कनै गुरुजी थे। अपर इन्‍हां दे अंतिम संस्कार च सूचना विभाग दे चार अफसर कनै लीखारीयां ते किह्ले डॉ सारस्‍वत थे। हालांकि इन्‍हां दे पुतरां दे मित्‍तर कनै निजी सम्बंधी लगभग सठ लोग इन्हां जो अ‍खीरी विदा देणा श्मशाने पर थे। हिमेश दे जाणे ते बाद मालरोड दी तिसा पीढ़ीया दा एह दूआ शख्स भी विदा लई ने चली गिया। जिन्हां आज़ादीया ते बाद इन्‍हां  पिछड़यां पहाड़ां च साहित्य कनै कला दा मोह्ल बणाया था।

पहाड़ां दे इस जुझारू बुद्धिजीवी नीरज जो सलाम-दर-सलाम !सलाम।

तुलसी रमण

तुलसी रमण जी दे फेसबुक पेज ते साभार।
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार                                                                              

Saturday, December 12, 2015

भगवाने दी तोप



रविंद्रनाथ टैगोर दी कहाणीया दा पहाड़ी अनुवाद।





जितणा की मिंजो याद ऐह् मैं कईंयाँ जिंदगियां ते, धरतीया पर जाह्लु जीवन शुरू ई होया था ताह्लु ते ही भगवाने जो तोपा दा ऐह्। तिसदे बारे च सबना ते पुछदा रैहन्दा।
कई बरि मैं तिसियो दूर इक्की तारे बहखें बैठया दिखया कने दिह्खि करि खुसिया च नच्चेया भी था की भई दूर ता ऐह् पर पुजणा कोई नामुमकिन भी नि।
फिरी मैं यात्रा भी किती तिस तारे पर पुज्ज्या, पर जाह्लु मैं तिहथु पुज्जा ता भगवान तिहथु ते जाई चुकया था कुसी दूजे तारे पर। एह सिलसिला कैइयां सदियाँ ते चलेया। एह कम ऐह् ही इतणा ओखा की मैं कोई आस नि होणे पर भी आस नि छड्डियो। मिंजो कुसी भी हालता च सैह तोपणा ऐह्, मैं तिदीया तोप्पा च पूरा रम्मी चुकेया।
एह तोप ऐह् ही इतणी दिलचस्प, रहस्यमयी कने लुभाव्णी की भगवान ता इक बॉह्ना बणी करि रेह्यी गया, तोप ही मकसद बणीयोह।
मेरिया रैह्निया जो इक दिन मैं दूर इक्की तारे पर इक्की घरे बह्खे पुज्ज्या जिस पर लिखेया था, "भगवाने दा घर"
मैं ता खुसिया ने पागल होइ गया, आखरकार मैं पुज्जि गया। मैं खिट लाई, तेज तेज तिस घरे बह्खे लप्पां मारियां। पर जिंयांह जियांह मैं  घरे दे नेड़े पुज्जा दा था, दिले च इक अजीब देया डर भरोई या। मैं जिंयांह ही दरवाजा खटकाणा लाया मिंजो इक्की अजीब दे डरैं लकवा मारी ता, इस डरे दे बारे मैं कदि सोचेया नि था, सुपने च भी नि।
कने डर एह था "अगर सच्ची च ही एह भगवाने दा घर ऐह् ता अगर मिंजो भगवान मिली या ता मैं तिसते बाद क्या करगा"
हुण भगवाने जो तोपणा मेरी जिंदगी बणी चुकियो थी, कने अगर भगवान मिंजो मिलिया ता एह आत्महत्या करने दे बराबर ऐह्। कने मैं तिदा करगा क्या। मैं एह सब चीजां पैह्ले कदि नि सोचियां थियां, एह सब मिंजो अपणियां तोप्पा दे पैह्ले सोचणा था, मैं तिदा करगा क्या?
मैं जुट्टे खोड़ी के हथे च पकड़े कने पीछे हटेया की कुथकी भगवाने छेड़ सुणी के दरवाजा खोलेया कने पुछ्या, "कतां चलया तू? मैं ऐहथु ही ऐह् अंदर उरया।
जिंहंया ही मैं पैड़ियां उतरया इतणी तेज नठया जितणा कदि नि नठया होणा।
तिस्ते बाद फिरि मैं अपणी तोप सुरु करि ति, फिरि मैं हर बह्खे भगवाने जो ही दिखदा फिरदा, बस जिस घरे च सैह रैहन्दा तिस्ते दूर टळी के रैहन्दा।
हुण मिंजो पता ऐह् की तिस घरे ते दूर रैहणा ऐह्।
मेरी तोप जारी ऐह्, यात्रा दा पूरा मजा लैह दा ऐह्, धार्मिक यात्रा।
मूल कहाणी: रविंद्रनाथ टैगोर  

पहाड़ी अनुवाद: सुमित भट्ट।

Sunday, November 29, 2015

चौहार घाटी दी लोककथा

भत्त कनैं बत्ता





इक था मुण्डुए दा बुढ़ा, इक था कुड़िया दा बुढ़ा। मुन्डुए कुड़िया दा होई गेया ब्याह कनैं तिन्हाँ दे बुढ़े बणी गै अप्पू च कुड़म। कुड़माँ- कुड़माँ दे घर ता खरे इ दरेड्डैं थे, अपण मुण्डुए दे बुढ़े दा घराट कुड़िया दे बुढ़े दे घरैं रैड्डैं इ था। बस इक छोटी देह्यी कुआळी लौह्यी नैं पौन्दा था कुड़िया दे बुढ़े दा घर। नौंआँ-नौंआँ नात्ता, नौंआँ -नौंआँ कुड़मचारा था।

 इक दिन सुख-सान्त्ते जो कुड़िया दा बुढ़ा अपणे कुड़में दे घराट्टे पुजी गेया। खूब सुख-साँद होया। सुख-सान्दे लई-दई नैं घराट्टे बाळें कुड़में गलाया,कुड़म जी, औआ, रोट्टी खाई लेआ, तुसाँ दिया धीया, अज छलियाँ दियाँ रोटियाँ बह्न्नी नै दिह्तियाँ, असाँ दूह्यीं इक-इक रोट्टी बण्डी खाणी।"  " नाँ कुड़म जी, धीया दे घरे दा कीह्याँ खाणाँ? मैं एह पाप कीह्याँ खटणा? हाँ, तुसाँ चला असाँ दे घरैं, तुसाँ दिया कुड़मणियाँ दाळ-भत्त कनैं चणेआँ दा खट्टा रिह्न्नेया होणा, तिह्त्थु खान्दे असाँ दोह्यो!" कुड़िया दे बापुएँ जुआब दित्ता।  घराट्टे आळा कुड़म खुस्स होई गेया। ओ कुड़म जी, गौं ता मेरा भी भत्ते जो इ करदा, अपण घर दूर, गर्म-गर्म भत्ते खाणा घराट्टे छड्डी जाणाँ भी कीह्याँ? कोई इक्क पीह्ण भी चुक्की लई जाये ता भत्त पक्कैं मुल्लैं पौणा। अपण तुसाँ गलाअ दे ता धनभाग, कुड़माँ देयाँ घराँ दा तत्ता भत्त मिली जायें ता होर चाह्यी दा भी क्या? चला चली पौन्दे, घराट्टे जँदरा इ सह्यी, इक कुआळी इ ता लौह्णी ऐं।"

दोह्यो कुड़म घरें जाई रेह । कुड़मणिया बधिया भत्त खुआया, बधिया खात्तर कित्ती, कुड़म परसन्न होई नैं घराट्टे जो हटी गेआ। अपण अगलैं इ रोज्जैं कुड़िया दा बाप्पू भत्ते दे टैम्मे  घराट्टे वाळे कुड़मे जो फिरि घरैं लई आया । चायैं- चायैं कुड़मणियाँ फिरि गर्म-गर्म भत्त खुआई दित्ता।
बस फिरी ता कुड़मैं खो पाई लई, सैह ता बिह्ड़ी पेया। तिन्नी ता कुड़माँ दे घरैं नाज्जे दियँ बोरियाँ पर पक्की इ मोह्र लाइत्ती । " भत्ते दे टैम्मे भत्त मिली जाए ता कुनी खाणे ठण्डे-सुक्के रोट! " रोज भत्ते दे टैम्मे सैह अपणे कुड़माँ दे घरैं नडरोणा लगी पेया। हँडुए दा मुँह  खुह्ल्ला था, अपण कुड़में जो सर्म नीं थी। कुड़में धड़ैं पुटि त्ती। तिस मची-मची, मछरी -मछरी खाणा, कई बरि ता कुड़मणियाँ तियैं भी नीं बचणाँ , तिसा जो अप्पुँ तियैं होर रिह्नणा पौणा । गलाणा बी क्या? धीया दा सौह्रा,जाई नै धीया जो ग कोई गल्ल इ नी करै! सर्म-सरमाइया, घ्यूए दा चिमचू भी कुड़में दिया थाळिया च पाणा पौणा ।

घरैं आळा सरीफ था, कुड़मणी दुखी थी, जादा कमोन्दा भी नीं था। गोड्डेयाँ च अह्ड़ाँ दियाँ पीड़ाँ, अप्पूँ जो इ बचारी  घसटोई-घसटोई रसोअ बणान्दी थी। "इक रोज , दो रोज , ओ त्रैअ म्हीन्ने! एह ता खरा गिह्जेया कुड़म! इन्नी ता नाँह कराई दैणी! इद्दा ता केह्की लाज करना पौणा, उपरा ते लाड़ा मेरा डँगरा, सैह ता कुड़में दी  कस्सम खाई राजी नीं। भोळा खून! कुड़में जो किछ गलाई नीं सकदी , लाड़े जो किछ समझाई नी सकदी, तिन्नी गलाणा कमीन्नी ऐं। अपण कुड़में ते प्राण ता छड़काणाँ पौणे!" तिसा दमाग लगाया। सकीम लड़ाई।

इक दिन भत्ते दा टैम आई लग्गा ता तिसा अपणे लाड़े जो गलाया,"अड़ेओ मैं रात्ती धख देह्यी दाळ सेड़ी थी। सोच्चेया था, अज बचारे कुड़में जो माँह दिया दाळी दे पकौड़े खुआह्न्गी, अपण जळी गेया मेरा दमाक, कल तुसाँ ते तेल मँगाणा इ भुली गई। मैं दाळी पीह करदी तुसाँ जाई नैं थोह्ड़ा देह्या तेल ता लई औआ।" सैह भोळा बचारा तेल्ले लैणा चली गेया। दकानाँ  भी दरेड्डैं इ थियाँ , अपण सैह कु़ड़में दे चायैं खिट्टैं इ पई गेया।

सै अँगणे च बेह्यी नैं सिल्ला पर दाळी पीह्णा लगी पई। ठीक भत्ते दे टैम्मे घराट्टे वाळा कुड़म आई पूज्जा। " कुड़मणियें! कुथु ऐ मेरा कुड़म?" तिन्नी ओन्देयाँ इ कुड़मणी पुच्छी। झूण्डे पान्दी-पान्दी  सैह ढिल्ली देह्यी गलाई। क्या इ दस्साँ कुड़म जीअसाँ ने ता बुरी होई, कल्ला तियैं खरे भले थे, तुसाँ जो घराट्टे तियैं छड्डी ने आये, ओन्देयाँ इ एह बत्ता चुक्केया, कनैं मिंजो दड़ाई पै। लोक छडाणा लगे ता लोक्काँ जो दड़ाई पै।  घरैं जे भी औआ दा , तिसियो इस बत्ते लई ने दड़ाई पौआ दे। पता नीं क्या जड़ी लंघी लई! पता नीं क्या झपट -चपेट लगी , खबनीं कोई बत्त- बलाअ चिमड़ी गई ! पँवरे होई गेह्यो ! हर बेल्लैं इस बत्ते इ चुक्की छड्डा दे, मसैं छडाया, तुसाँ जो दाळी दे पकोड़ू खुआणे थे मैं । खबरैं कुथु नच्चा दे! भँडोराँ साह्यीं केह्की भुण-भुण- भीं भीं करी जा करदे , मारना हन पौआ दे । तुसाँ बैट्ठा । अपन सोह्घे इ रैह्न्नेओ, मैं पकोड़ुआँ तळदी, तुसाँ भी खा, कने मेरिया कुड़मणियाँ कने धीया तियैं भी लई जा । अपण मेरिया कुड़मणिया कने धीया जो मत दसदे जे एह पँवरे होई गैह्यो । तिन्हाँ जो दुख लगणा ।गलाई नैं  कुड़मणी अन्दर गई । घराट्टे वाळा कुड़म तिह्त्थु ते  हिर्न होई गेया / गोळी होई गेया, खड़ेयाँ पैराँ न्ह्ट्ठा। ओ पँवरे कुड़मे ते घँडैर खाणी? पूरे ग्रायें च बेजती होणी!" तिन्नी सोच्चेया।

कनो-कनियैं   भोळा कुड़म तेल्ले लेई ने आई रेह्या। " कुड़म नीं आया?" तिस अपणी घरेआळी पुच्छी। तिसा गलाया, आह्या था तुसाँ दा कुड़म , अपण नराज होई ने चली  भी गेया। मैं ता दाळी पीह्या दी थी तिस तियैं , सैह बत्ते इ मँगणा लगी पेआ।"  “ ता भलिये लोक्के, बत्ता  इ ता था, दई देणा था कुड़में जो, तैं दित्ता कैंह नीं?" सैह रह्ड़ेआ।  जी मैं कोई नाँह थोड़ी दित्तीमैं ता  इतणा इ गलाया था  ,दाळी पीह्णा देआ, मैं तुसाँ तियैं पकौड़ू बनाणाँ लाह्यो।, अपण सैह मन्नेआँ इ नीं, बत्ते  खोह्णा इ लगी पेआ, मैं गलाया ,धोणा ता देआ बत्ते!’ ता तिन्नी मिंजो धक्का  इ दई त्ता ।सैह बोल्ली।    भोळे कुड़में गलाया, "  अड़िये पत्थर इ ता  थादाळ तेरी फिरी प्हियोई जाणी थी, तिसियो पता नीं क्या जरूर्त फह्सिओ थी। इतना खरा म्हारा कुड़म, लखाँ दा म्हारा जुआई, तैं बत्ते तियैं नात्ता नराज करी लाया? फिटैं मुँह तेरा! देह बत्ते , मैं हुण देई ने औन्दा कुड़में जो बत्ता।"

तिन्नी तिसा ते बत्ता छडाया कने बत्ते चुक्की नैं कुड़में पचाँह नह्ट्ठेया । " लैह कुड़माँ, बत्ते लेई जाह मैं देआ दा तिज्जो बत्ता। लैह , लैह  नराज मत होंयें। " अपण घराट्टे वाळे कुड़में जो ता अपणा कुड़म जमराज दुह्स्सा दा था । सैह गाँह-गाँह नह्ट्ठेया । जाह्ल्लू बत्ते वाळा कुड़म न्ह्ठी -न्ह्ठी थकी गेया कने घराट्टे आळा कुड़म तिसदैं हत्थैं नीं आया ता तिन्नी सोच्चेआ , " खसमाँ खाह, नीं लैणा बता ता मत लैह, एड्डी भी क्या अक्कड़! एड्डी भी  कदेह्यी नराजगी! मैं भी ता कुड़म इ ऐं । कुड़िया दा बुढ़ा इ सह्यी, दर्जा ता बरोब्बर इ ऐ।"

कनै सैह भोळा कुड़म घरे जो हटी आया । घराट्टे वाळे कुड़में भी फिरी सैह कुड़माँ वाळी कुआळी लोह्यी नैं नीं दिक्खी। कुड़माँ दे भत्ते दा सुआद ता तिसिओ  याद औन्दा था अपण कुड़माँ दे बत्ते दा डर तिसिओ सुपनेआँ बिच भी कँबाई दिन्दा था।  


द्विजेन्द्र ‘द्विज’



Wednesday, November 11, 2015

मैं लकड़ी तेरे कम्मे दी

सारयां मितर-साथीयां जो दियाळीया दियां मबारकां-पहाड़ी दयार।


पेश है इक हिमाचली लोककथा 

मैं लकड़ी तेरे कम्मे दी               (हिमाचली लोक-कथा)   द्विजेन्द्र द्विज 


इक था तरखाण ।  तगड़ा कारीगर था । तिद्देयाँ हत्थाँ बनोणे कनैं घड़ोणे जो तर्सदी थी लकड़ी । तिद्दी खेब्बैं हत्थैं बणिह्यों चीज भी धुम्माँ पान्दी थी । मता कम्म था , अपण हत्थ ता दो इ थे । इक जागत भी था तिसदा, अपण तिस जागते जो नाँ ता अपणे पिता-पुर्खी कम्मे च कोई खास दिलचस्पी थी नाँ इ तरखाणे जो अपणे पुतरे ते कोई मेद थी । जागते दियाँ लापरवाइयाँ ते सै दुखी जरूर था । तिस जागते दे हत्थाँ च आई ने ता बहर्ल भी डोइयाँ बणी जान्दे थे । फिकरे च तरखाणे दी भुख, धर्या, नीन्दर, सब किछ सुकदा सुकदा सुकी गेया । फिकरैं इ तिद्दे सुआस भी लई सट्टे । अपण मरने ते पैह्ल्लैं सै जागते जो सिख-सलाह देई गेया : जे कदी काह्ल्ली अक्क्ल ओहँगी ताँ सीरदे बक्खे आळे बणें ते लकड़ी मंगी ने लेयाँ अपणे कम्मे तियैं । 

बुह्ड़े दे मरने दी सजरी चोट  पैह्ल्लैं ता घट्ट बझोई पुतरे जो अपण हौळें हौळैं ठण्डोह्यी नैं   मती कुड्डी एह पीड़ । मते कम्म पकड़े , मते धक्के खाह्द्दे , मती दुर-दुर सुणी, मते धोर-धन्धे , मते छछ्चे-छोह्ळे कित्ते , अपण पैर कुती लग्गे इ नीं । हारी-फरी बुह्ड़े दे लोह्ये, बुह्ड़े दे सँदर इ कम्में आये । इक दिन पता नीं क्या जुंग आया, कुहाड़िया चुक्की सैह बणें जो चली गेया । बुह्ड़े दी नसीत याद आई  “जे कदी काह्ल्ली अक्क्ल ओहँगी ताँ सीरदे बक्खे आळे बणें ते लकड़ी मंगी ने लेयाँ अपणे कम्मे तियैं । 

कोई मेरे कम्मे दी लकड़ी है?" ”कोई मेरे कम्मे दी लकड़ी है?" गलान्दा-गलान्दा, हक्काँ पान्दा-पान्दा सैह दिन भर बणें च हण्डदा रेह्या, अपण कुसी भी रुक्खैं उत्तर नीं लेया। मता हण्डेया,मता भट्केया, अपण खाल्ली हत्थाँ लई नैं घरे जो हटी आया । 


इक दिन तिस फिरी हिम्त बट्टी, कुहाड़िया चुक्की फिरी बणें च जाई रेह्या । कोई मेरे कम्मे दी लकड़ी है ?" ”कोई मेरे कम्मे दी लकड़ी है ? " गलान्दा-गलान्दा, हक्काँ पान्दा-पान्दा सैह बणें गब्भैं जाई रेह्या ता तिस इक बड़ी मिठी देह्यी उआज सुणी । तिद्दो बझोया जे कोई परी गीताँ गा दी । तिसा मिठिया उआज्जा पर कन्नाँ लाई सैह डोल-डोल चली रेह्या । घरोन्दैं बक्खैं टाह्लिया दा इक सुक्का लम्मा-उच्चा बड्डे लपेट्टे वाळा रुक्ख खड़ोह्तेया था। तिन्नी कन्नाँ लाई नैं सुणेयाँ। सुक्का रुख मिठिया उवाज्जा च गलाअ करदा था " मैं जे है तेरे कम्मे दी लकड़ी , मैं इ ता है तेरे कम्मे दी लकड़ी, मिंज्जों बह्ड कनैं अपणे घरे जो लई चल ।” ”ओ तू एड्डा बड्डा रुख, मैं कीह्याँ बढणाँ?” जागतैं गलाया । रुक्ख बोल्लेया, “अरा तू कुहाड़िया ता चलाह बढोई मैं अप्पुँ इ जाँह्ग्गा । 

जागतैं पैह्ल्ला फट्ट मारेया, दूआ मारेया, त्रीया मारेया, चौंह-पंजाँ फट्टाँ च इ सै रुक्ख बढोई भी गेया। मिंजो अपणे घरे जो लई चल।रुक्खैं गलाया । तरखाणें पुच्छेया , “ एड्डा बड्डा तू ! मैं कीह्याँ चुकणाँ ?” “अरा तू हत्थ ता पाह , चकोई मैं अप्पूँ इ जाँह्ग्गा ।रुक्खैं गलाया कनैं निक्के याँणें साह्यीं तिदिया गाद्दा भी चकोई गेया । घरैं आई जागतैं पुच्छेया, “ एड्डा बड्डा तू ! तिज्जो मैं रक्खाँ कुथू भ्यागा लोक्काँ पुछणाँ, एड्डा बड्डा रुक्ख एह्त्थू आया ता आया कीह्याँ ? मैं क्या गलांह्ग्गा ?” रुक्खैं उपा दस्सेआ, “अपणे बुह्ड़े वाळे कोठरुए च लई चल , मैं छोट्टा भी होई जाँह्ग्गा।रुक्खैं जीह्याँ गलाया तरखाणें कित्ता । सैह बड्डा रुक्ख छोटे देह्ये कोठरुए च आई भी गेया । 

अगलैं रोज्जें रुक्खैं तरखाण पुच्छेया,“ अरा तू मिंजो इह्याँ इ सट्टी छ्ह्ड्गा कि मेरा किछ बणाँह्ग्गा भी?” जागतैं फिरी गलाया, “ क्या बणाँअ? मिंजो किछ बणाणाँ भी ता नीं ओन्दा ।कनैं सैह डुस्की-डुस्की रोई पेआ । रुक्खैं तिद्दो दम-दलास्सा दित्ता, “अरा तू हत्थैं सन्दर ता पकड़, बणीं मैं अप्पूँ इ जाँह्ग्गा ।तरखाणें आरा पकड़ेया, मोच्छे पई गै, रन्द्दा पकड़ेया, लकड़ी रँदोई गई ।  त्रै चीज्जाँ बणीं नैं त्यार भी होई गइयाँ । इक पळँग , इक चर्खा, इक पीह्ड़ू । 

मिंजो बेचणाँ राजे बाल लई चल । दस ज्हार सिक्के मंगेयाँ सून्ने दे, गलायाँ, ‘अपणियाँ कछोंगळिया जो पछ लाई नैं सोह्न्नेओं इस पळँगे पर, भ्यागा उठ्ठी नैं तुसाँ अप्पुँ इ मिंजो दस ज्हार सिक्के देई देणें हन्न पलँग बोल्लेया, “राजा नीं लैंहग्गा त किछ होर सोह्चगे । 


तरखाण पळँगे  लई नैं राजे देयाँ  मैह्ल्लाँ च जाई रेह्या,पळँगैं जीह्या समझाया था , तीह्याँ तिस राजे नैं गलाई दित्ता। राजैं रात्ती सैह तरखाण मैह्ल्लाँ च ठराह्या । अपणियाँ कछोंगळिया जो पछ लाया । पळँगे पर लेट्टी गेया, कछोँगळी द्रक-द्रक करा दी थी। गूह्ड़ी नीन्दर हाक्खीं ते दूर थी, अपण रात ता कटणी थी, पळँग भी पर्खणाँ था। बक्खाँ बदलदा रेह्या। 

अजैं रात्ती दा पैह्ल्ला इ पैह्र था। पळँगे दा पैह्ल्ला पोआ उट्ठेया, पळँगे ते निकळेया कनैं बोल्लेया : पोयो भाइओ, राम -राम ! पळँगे सम्हाळ्नेओं,पळँगे बाळे जो सम्हाळ्नेओं, सोघे रैह्न्नेओं, मैं चल्लेया घुमणाँ-फिरनाँ, मैं दिन भर सई रेह्या, हुण रात्ती दा नजारा दिक्खी सुणीं औन्दा मैं । 

रात्ती दा पैह्ल्ला पैह्र मुकदेयाँ इ पैह्ल्ला पोआ हटी भी आया। पोयो भाइओ ! मैं हटी आया ," तिस गलाया । नौंई ताजी सुणाह,” 
त्रीँह पोयाँ पुच्छेया । अरो ! क्या सुणाँअ परियाँ अपणे बेस्मार कीमती कपड़्याँ, हीरेयाँ - ज्वाह्रात्ताँ नैं जड़यो गैह्णयाँ तुआरी करि तुआरी करी राजनौंणे पर न्होआ दियाँ, कोई हत्थाँ- पैराँ बाळा जे मेरी गल्ल सुणा-सम्झा दा होंऐं ता गैह्णयाँ घरैं भी आणीं सकदा।" 

राजैं गल्ल बसूल्ली , उठ्ठेया, नौणें पर पुज्जा । तिद्देयाँ पैराँ दी छेड़ सुणीं नैं परियाँ छपन होई गइयाँ । हीरेयाँ- ज्वाह्रात्ताँ नैं जड़यो गैह्णयाँ लई राजा मैह्ल्ले जो हटी आया कनैं फिरि पलँगे पर लेट्टी गेया । 

रात्ती दा दूआ पैह्र लगी पेह्या था । पलँगे दा दूआ पोआ उट्ठेया,पलँगे ते निकळया कनैं बोल्लेया: पोयो भाइओ, राम -राम ! पळँगे सम्हाळ्नेओं,पळँगे वाळे जो सम्हाळ्नेओं, सोघे रैह्न्नेओं , मैं चल्लेया घुमणाँ-फिरनाँ, मैं दिन भर सई रेह्या, हुण रात्ती दा नजारा दिक्खी सुणीं औन्दा मैं भी ।दूआ पोआ बाह्र गेया भी अपण फिर्द-पैरैं हटी भी आया । पोयो भाइओ ! मैं हटी भी आया ," तिस गलाया । अरा तू गेया भी था ? नौंई ताजी सुणाह,” त्रीँह पोयाँ पुच्छेया । दूआ पोआ बोल्लेया, “ राजे दे खजान्ने च चोराँ स्ह्न्न लाणाँ लाह्यिओ, पैहरेदार बेहोस हन्न, कोई हत्थाँ -पैराँ बाळा  , तीराँ -तलुआराँ बाळा सुणाँ दा होये ता खजान्ने बचाई लै।राजा गेआ, पैहरेदाराँ जगाई, चोराँ पकड़ाई ,खजान्ने बचाई सैह फिरी अपणे पलँगे पर लेट्टी गेया । 

रात्ती दे त्रीये पैहरे च त्रीया पोआ उठ्ठेया,“पोयो भाइओ, राम -राम ! पळँगे सम्हाळ्नेओं,पळँगे वाळे जो सम्हाळ्नेओं, सोघे रैह्न्नेओं , मैं चल्लेया घुमणाँ-फिरनाँ, मैं दिन भर सई रेह्या, सैर-स्पट्टा करि औन्दा मैं भी ।त्रीया पोआ हटी आया ता  त्रीँह पोयाँ पुच्छेया ,“हाँ भाई! सुणाह नौंई-ताजी ...क्या-क्या दिक्खेया तैं?" “जेह्ड़ा मैं दिक्खेया सै भी कुसी-कुसी जो इइ सुझदा”, त्रीऐँ पोंयें गलाया, “खड्डा कनारैं,डाकुआँ घ्यान्ना बाह्ळेया, सराबड़ा घढोप्पा दे, नच्चा- गा दे, कुळकाँ पा दे । कुह्स्की राजे दिया राजकुमारिया चुक्की नैं लई आह्येओ कुसी राजे दा खजानाँ भी लुट्टी ल्यन्द्या तिन्हाँ। ओ खजान्नाँ ता खायैं खस्में, अपण दिखणे बाळी चीज ता सैह राजकुमारी है। सैह घड़ियैं हस्सा दी , घड़ियैं रोआ दी, डाकुआँ दियाँ हरकताँ दिक्खी-दिक्खी, अपण इसा गल्ला भी छ्ड्डा । राजकुमारी रोआ दी ता मोत्ती टिरा दे , हस्सा दी ता फुल्ल खिड़ा दे। जे कोई हाक्खीं बाळा, कोई दिले दा मालक, कोई हत्थाँ-पैराँ बाळा सुणाँ दा होंयैं ता राजकुमारिया जो डाकुआँ ते छडाई करि अपणी राणी भी बणाई सकदा । राजा गेआ कनैं समेत खजान्नैं  राजकुमारिया जो डाकुआँ ते छडाई लई आया। फिरि पळँगे पर आई लेट्टेया। 

राती दे चौत्थे पैहरैं , चौत्था पोआ भी निकळेया। पोयो भाइओ, राम -राम ! पळँगे सम्हाळ्नेओं, पळँगे वाळे जो सम्हाळ्नेओं, सोघे रैह्न्नेओं , मैं चल्लेया घुमणाँ-फिरनाँ, मैं दिन भर सई रेह्या, मैं भी दिक्खी औन्दा मैह्ल्लाँ ते बाह्रा दी दुनिया।”  तिस गलाया कनैं बाह्र चली गेया। हटेया ता सैह पोआ किछ डरेया-डरेया था । त्रीँह पोयाँ पुच्छेया ,“हाँ भाई! सुणाह नौंई-ताजी ...क्या-क्या दिक्खेया तैं?" “अरो! दिक्खेया ता मैं भी मता किछ , अपण मैह्ल्ले दे इस कमरे च आई नैं जे किच मैं हुणें इ दिक्खेया, तिस ता मिंजो सब किछ भुलाई दित्ता। राजे दे जुट्टे बाल खड़पैं तरेड़ा लाह्या। राजैं भ्यागा उट्ठी जुट्टा पाणाँ लगणाँ ऐं ता एह खड़पा राजे जो सच्ची भी सकदा । जे कोई हत्थाँ-पैराँ बाळा, हथियाराँ बाळा दिक्खै-सुणैं ता राजे जो बचाए। राजैं उट्ठी नैं खड़पा मारी दित्ता । भ्याग सीरी पइओ थी। तिन्नी तरखाणें जो दस ज्हार सून्ने दे सिक्के दई दित्ते। 

इक दिन चर्खैं कनैं पीहड़ुएँ भी तरखाणे जो गलाया, “असाँ जो भी लई चल्लैं राजे देयाँ मैह्ल्लाँ च ! राजे जो गलायाँ----मैह्ल्ले दे बड्डे ते बड्डे कमरे च चर्खैं कनैं पीहड़ुए जो रखुआई देआ, कमरे जो कपाह्यी नैं भरी देया, पीणे जो पाणिए दा घड़ा कनैं गलास रखुआई देआ, कमरे जो  बाह्रा ते जँदरा लगुआई देया’---दस ज्हार सिक्केयाँ ते घट मत मँगदा । राजा नाँह दिहंग्गा ता किछकी होर सोह्चगे। 

चर्खैं कनैं पीहड़ुए लइ करि तरखाण राजे ला गेया तिस तीह्याँ इ गलाया जीह्याँ चर्खैं कनैं पीहड़ुए गलाया था। राजैं भी गल्ला पर्खणे जो तीह्याँ इ कित्ता जीह्याँ तरखाणें गलाया । भ्यागा कमरा खोह्ड़ी नैं दिक्खेया ता कमरे च कपाह्यी दिया जगा बुणेयाँ कपड़ा था, पाणिए दा घड़ा खाल्ली था। चर्खा था, पीह्ड़ू था , होर किछ नीं , होर कोई नीं था तिह्त्थु । 

हुण सैह तरखाण भी अपणे बुह्ड़े साह्यीं मस्हूर होई गेह्या था।

द्विजेन्द्र द्विज
विभागाध्यक्ष अनुप्रयुक्त विज्ञान एवं मानविकी, राजकीय पॉलीटेक्निक, काँगड़ा-176001 (ज़िला काँगड़ा)