Friday, April 23, 2021

पवनेंद्र पवन दियां पंज ग़ज़लां

 


पवनेंद्र पवन होरां दियां पंज ग़ज़लां पेश हन। एह् ग़ज़लां मशहूर शायर द्विजेंद्र द्विज होरां चुणियां हन। मूह्रला धौळाधार दा फोटो भी द्विज होरां ही खिंजेया है।  


1

 देई पधाड़ी जीह् तईं दित्ता नि रोट था

तीह् तिक नि होया कम तिदा बाबे  दा खोट था

 

छैळाँ दे सैह्रे  आसकाँ दे चौण होई गै

अपणे दिले दे बक्से बिच इक भी नी वोट था

 

पाळे असाँ दिक्खी जिह्जो भत्ते दे गर्म खाब

चौक्के रखोह्या सै बस  खाल्ली चरोट था

 

मुण्डी करी ने भेड ताँ सीत्ते ने ठारी ’ती

बझिये वला पलोह्ड थी, उन्नी दा कोट था

 

पुजदे ही राजधानियां होया सै लखपती

जान्दी बरी नि जुगती दा जिस ’ला लंगोट था

 

तिस -तिस नचाया तिसयो  ही इत्थू बड़ा अरो

जिस-जिस दे हत्थे जिस कुसी दा भी रिमोट था

 

जाड़ाँ झँकाड़ाँ आया नी सांजों नजर  'पवन'

बसणे जो दिल तेरा नि ताँ बधिया पलोट था

 

2

चाट्टे गलास तोड़ी ने जेह्ड़े गराड़ी गै

पीणे ते अपणे गै असाँ दा क्या बगाड़ी गै

 

झंडे फटे नै भीड़ा च बिज्या नी छेल्लू भी

मँदरे च असाँ भी दोस्तो! देणा पधाड़ी गै

 

चिक्का बछाई पधरिया खेत्ताँ बनाणे जो

दरया कई प्हाड़ां दयां सैह्रां उजाड़ी गै

 

सिखदे रेह्यी गै दा असाँ रुक्खाँ जो गोह्णे दे

पत्थर थे जिह्नां वाह्ल सैह् अम्बाँ भी राड़ी गै

 

चाद्दर नौंईं नकोर  ही रखणे तियैं भी लोक

बिछियाँ थियाँ जे हेठ सै  खिह्न्दाँ ही साड़ी गै

 

होया 'पवनसुते’ दिया लीला दा एह् असर

बांदर बणी ने छोकरू बाग्गाँ उजाड़ी गै

                

3

दन्द पळेई पुच्छे आरी

कुस रुक्खे दी है कल  बारी

 

फस्लाँ पर पोणी है भारी

खेत्ताँ दी गिदड़ाँ ने यारी

 

चेह्रे चुक्का बाळ खलारी

थल्ले ला इस धौळाधारी

 

सबना हटणा है पैविलियन

खेली अपणी अपणी पारी

 

नी चाह्न्दैं भी झुमणा पो दा

राग है गोआ दा दरबारी

 

कोई नी इत्थू ओणा मतदा

दिल भी मदरसा है सरकारी

 

इक गैं पुट्टी साह् फुल्ला दा

जिन्दू दी पंड इतणी भारी

 

कदि डसदा, कदि आसक बणदा

माह्णू नाग है इच्छाधारी

 

हाख 'पवन' है मिल्ली तिसनै

रैह्णी है कई रोज खुमारी

 

          

टूरी लकोळुआँ इह्याँ सांजो सै  भाळदे

मिलदे  जे लोकां साह्मणे नजरीं जो टाळदे

 

करदे असां ने ढोंग ही प्यारे दा जे तुसां

ध॔गड़ाँ च बेह्यी नै असाँ जख्माँ ताँ ताळदे

 

दसदी कदी जे पीड़ तू अपणी असाँ कने

पलकाँ दे बाळे ने तेरे कंडे नकाळदे

 

आसक छळैपे दे असाँ छैळां ते रैंह्दे दूर

नाग्गाँ ताँ पूजदे अपर सर्पां नी पाळदे

 

नजरीं ने नजरीं  मिलदयां  गै होस होई गुम

मिल्ला नी इतणा टैम जे जिगरे सँभाळदे

 

करदा नी कुसियो  गल कोई सोची ने एह् 'पवन'

सीसे दे मैह्ल्लाँ बाळे नी गिटुआँ उछाळदे ।

 

5

मीद्दाँ च उचियाँ कोठियाँ चिणदी चली गई

जिँद भौंऐं पैराँ  तेरेयाँ  खिणदी चली गई

 

भठिया च कुसियो  होस  थी, दिखदा गलासुआँ

हर हाख तेरा छैळपण मिणदी चली गई

 

गुस्से च चाट्टी झोळे दी तोड़ी थी मैं कदी

सारी उमर ही ठीकराँ बिणदी चली गई

 

इक जोगिए दे धूणे दा था ठेलकू ए दिल

छैणी बणी नजर तेरी छिणदी चली गई

 

कितणा सै बह्रगे तोंदिया बद्दळ भला ‘पवन’

भादों जिन्हाँ दी सौण भी किणदी चली गई


पवनेंद्र पवन 


Saturday, April 17, 2021

उंगळी पकड़ी नै गांह् चलाणे आळे गुरु

 


डॉ. पीयूष गुलेरी होरां जो अनूप सेठी याद करा दे। 


पीयूष गुलेरी होरां जो गेह्यो दो साल होई गै। अपर लगदा नीं। जदूं स्हाड़े भाभी होरां, तेज भाइयां दी जीवन साथी निशा जी, गुजरे थे, सन 2018 च तां असां धर्मसाळा गेह्यो थे। एह् मई म्हीने दी गल है। तदूं डॉ. पीयूष होरां बमार थे। इह्ते पैह्लें मुंबई ते मैं इक दिन फोन कीता, पर लग्गा नीं। फिरी तिन्हां दा फोन आया। बोल्ह्न, एह् बुखार ही होई जा दा हटी हटी नै। मैं गलाया कोई नीं तुसां ठीक होई जाणा छोड़।

डॉ. होरां नै मिलने दी इच्छा थी। पर हिम्मत न पौऐ। असां भी गमिया च थे। निशा भाभी होरां बमारिया नै बड़े लड़े पर ....। इक्की संझां मैं अपणिया मुनिया जो गलाया, चल तिज्जो चीलगाड़ी दे रस्ते दसदा। असां डीपू बजारे ते लंग्घी नै चीलगाड़िया आळिया सड़का पर पूजी गै। चाणचक फोन बजेया। एह् तां पीयूष होरां हन। मैं हैरान रह्यी गया। तिन्हां जो किञा पता लग्गा हुंगा, भई मैं एड्डी नेड़ैं है। मैं गलाया, डॉ. साहब मैं तुसां नै मिलणा हा। तिन्हां गलाया ता आई जाह्। असां दोह्यो धी प्यो अपर्णा श्रीपूजी गै। बाह्र लॉने च बैठे। मुनिया नै मिली नै बड़े खुस होए। मुन्नी है ता मुन्नी पर इतणी मुन्नी भी नीं है। तदूं एमए करी चुकियो थी। डॉ. होरां तिसा जो भगभती मन्नीं नै सौगन दित्ता।

तिन्हां तक खबर पूजी गइयो थी भई निशा भाभी हई नी रेह्यो। गलाणा लग्गे, फोन मैं तां कीता भई मिंजो व्हाल तेज होरां (मेरे बड्डे भ्रा) दा नंबर नीं है। मैं गल्ल करनी है। तिहाड़ी तिन्हां दी तबीत ठीक नीं थी पर चतनगी पूरी थी। पुराणियां गल्लां भी करदे रैह्। मठियाई खाई कनै चाह् पी नै न्हेरे होए ते असां विदा लई।

मेरा ख्याल एह् 1975 दी गल्ल है। मैं धर्मसाळा कॉलेज बीए च दाखला लैणा था। मैं प्रभाकर पास करी लेया था। मैं समझदा था हिन्दी ता औन्दी है, हुण कोई होर विषय लैंदा। मेरे पिता होरां मिंजो पीयूष होरां व्हल भेज्या था। एह् चेतें नीं है, मैं तिन्हां नै घरैं जाई नै मिल्या था कि कॉलेज। डीपू बजार ता गया था, एह् चेतें है। पर पता नीं ओह्थी डॉ. अग्नि रैंह्दे थे कि पीयूष होरां। खैर! पीयूष होरां गलाया, प्रभाकर करी लइयो ता होर खरा। हिन्दी ही लैह्। नंबर खरे आई जाणे। मिंजो भी कविता दा चस्का लगी चुकेया था। मैं अर्थशास्त्र कनै हिन्दी ऑनर्स लई नै बीए कीता। तदूं एमए भी सुरू होई गई। असां दूए बैचे दे थे। डॉ. होरां व्हल पंज साल पढ़े।

जिन्हां दिनां भी पीयूष होरां दा बड़ा जलबा था। सैह् पहाड़िया दे बड्डे कवि थे। पहाड़ी भासा नै प्रेम करना तिन्हां ई सखाया। डॉ. गौतम होरां पहाड़िया दे प्यारे जो लोक आळे पासें मोड़या। ओम अवस्थी होरां नौएं हिन्दी साहित्य दी लो मेरे अंदर जगाई। पीयूष होरां दियां कुंडलियांबड़ियां छैळ लगदियां थियां। मैं भी रीस करने दी कोसस कीती। दो चार घसीटी भी दितियां। तिन्हां याण्यां साही अंगुळी पकड़ी नै गांह् गांह् चलाया। इक बरी धर्मसाळा कॉलेज च इक कवि सम्मेलन होया। तिस च लालचंद प्रार्थी होरां भी थे। मिंजो भी मौका दुआई ता। मैं भी स्टेजे पर खड़ोई कविता पढ़ी आया।

तिन्हां दिना पहाड़ी भासा दा आंदोलन जोरे नै चलेया था। इक बरी भासा अकादमी आळे धर्मसाळा आए। लाइब्रेरिया दे बाहर मदाने च बैठक होई। पीयूष होरां म्हातड़ जेह् चेलेयां जो भी बठयाह्ळी लेया। बैठका परंत असां पहाड़ी सब्द कठेरना लगे। डिक्शनरिया दा कम्म सुरू होणा था। मैं लफ्ज़ां तोपणे दी लूपी घरें भी लई ती। तेज भाई भी चिमड़ी पै। असां दे दादी होरां तदूं थे। दादी मतलब जिंदा जागदा, चलदा फिरदा शब्दां दा कनै कथा-क्हाणियां दा भंडार। कई सब्द असां सिमलें भेजी ते। पर राजधानियां च चीजां क्या म्हाणू तक गुआची जांदे। एह् ता लफ्ज़ ई थे। खबरै कुतू उड़ी गै। तदूं एह् पहाड़ी भासा ई थी। पता नीं बाह्द च कदूं हिमाचली होई गई। होई गई ता कोई गल नीं। पर खबरै चली कुतांह् गई।

सन 2015 च असां दे माता होरां नीं रैह्। मैं धर्मसाळाा गेह्या था। तदूं ही भासा विभाग ते घरें इक चिट्ठी आई। मैं कचैह्रियां भासा विभाग दे दफ्तर गया। तेज भाई भी सौगी ई थे। दफ्तरे च कवि गोष्ठी चलियो थी। असां बेवग्ते, अणसद्दे पूजे। पर असां जो क्या पता था। ओह्थी डॉ. पीयूष भी थे। जोर जबरदस्ती असां दूईं भाउआं जो भी बठह्याळी लेया। मैं अर्ज भी कीती भई असां दे घरें गमी है। पर मोबाइले पर तोपी तापी नै कवता सुणाणा पई। गोष्ठी खत्म होणा लग्गी ता पीयूष होरां गलाया। सारे ही दो मिनट खड़ोई नै माता होरां जो श्रद्धांजलि देया। कनै सारे ही खड़ोई गै। एह् थी गुरु होरां दी संवेदना।           



Tuesday, April 6, 2021

यादां फौजा दियां


फौजियां दियां जिंदगियां दे बारे च असां जितणा जाणदेतिसते जादा जाणने दी तांह्ग असां जो रैंह्दी है। रिटैर फौजी भगत राम मंडोत्रा होरां फौजा दियां अपणियां यादां हिंदिया च लिखा दे थे। असां तिन्हां गैं अर्जी लाई भई अपणिया बोलिया च लिखा। तिन्हां स्हाड़ी अर्जी मन्नी लई। हुण असां यादां दी एह् लड़ी सुरू कीती हैदूंई जबानां च। पेश है इसा लड़िया दा छेमा मणका।

 


 सहीदां दियां समाधियां दे परदेसे (छेमी कड़ी)

 

तिस वक़्त मेरे दो बच्चेयां बड्डी बिट्टी (जेह्ड़ी इस वक़्त लड़ाकू फौजा लेफ्टिनेंट कर्नल है) सेंट्रल स्कूल दूसरिया जमाती पढ़दी थी कनै छोटा जागत (जेह्ड़ा इस वक़्त बायोटेक्नोलॉजी पीएचडी करी नै पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ कम्म करा दा) आर्मी स्कूल यूकेजी था।  मैं चांहदा था कि मैं अपणे मुन्नुयें जो सेंट्रल स्कूल दिया पहलिया क्लासा दाखल कराई नै ही तिसा जगह ते जां।  तिन्हां दिनां बच्चेयां जो सेंट्रल स्कूलां दाखल करुआणा मुस्कल कम्म होंदा था। दाखिला तां मिली जांदा था पर बड़ी दौड़-धुप्प करना पोंदी थी। मेरे बच्चेयां दी पढ़ाई अलवर, हमीरपुर, इलाहाबाद, भोपाल कनै देवलाली दे सेंट्रल स्कूलां होई थी।

 

मराठा कर्नल साहब होरां कन्नै उप्पर लिक्खियो गल्लबात होणे ते तकरीबन दो महीनें परंत ही मेरी बदळिया दे ऑर्डर आई गै थे।  संजोग देहा होया कि  मिंजो भी तिस सेक्टर इक तोपखाना रेजिमेंट जाणा था जिस मेरे जाणकार मराठा कर्नल साहब होरां दी रेजिमेंट गइयो थी।  मैं ओत्थू गिया पर अपणे बच्चेयां कनै परुआरे बक्खी अपणियां जिम्मेदारियां नभाणे ते परंत।  मिंजो जनवरी 1989 तिसा युनिटा रपोर्ट करनी थी पर बच्चेयां दा स्कूले दाखला मार्च-अप्रैल होणा था। मेरे भाग खरे थे कि ब्रिगेड हैडकुआटर दे बड्डे ओहदेदार मिंजो तौळा नीं भेजणा चांहदे थे। नोयीं युनिट कनै नोंयें  ब्रिगेड हैडकुआटरें मेरी बदली दे ऑर्डर पर अमल होणे तांईं बड़ा जोर लगाया था कनै मामला नई दिल्ली आर्मी हैडकुआटर दे तोपखाना डायरेक्टरेट जाई रिहा था। एह्  दिक्खी करी मैं अप्रैल नोइयां युनिटा जो अर्जी भेजी कि मिंजो सालाना छुट्टी कट्टी करी ओंणे दी इजाजत दित्ती जाए।  अर्जी तिन्हां मंजूर करी लई।  हुण मिंजो पराणिया जगहा ते छुटणे दे परंत दो महीने दी छुट्टी कट्टी करी नोइयां जगह जो जाणा था।  पहलें मैं अपणे जागते जो पराणिया जगहा दे सेंट्रल स्कूले दाखल कराया फिरी दूँहीं  बच्चेयाँ दा हमीरपुर सेंट्रल स्कूले तांईं ट्रांसफर सर्टिफिकेट लिया।  तिसा छुट्टिया घरेवाळिया सौगी बच्चेयां दा हमीरपुर ठहरने दा बन्दोबस्त करने दे परंत मैं नोईयां जगहा जो चलेया था।

 

मैं बड़े चाये कनै मराठा कर्नल साहब होरां दिया युनिटा देयां जुआंना ते पुच्छेया था, 'आपके सीओ साहब कहां हैंमैं उनसे मिलना चाहता हूँ (तुसां दे सीओ साहब कुत्थू हन ? मैं तिन्हां कनै मिलणा चांहदा)सारे जुआन चाणचक चुप होई करी मिंजो बक्खी दिक्खणा लगी पै थे जिंञा कि मैं कोई गलत गल्ल पुच्छी लई होये।  तिन्हां दा एह् रुख दिक्खी मिंजो किछ हरानी होई थी। थोड़ी कि देर परंत इक जुआनें बड़े संजीदा होई नै जवाब दित्ता था, 'अब सीओ साहब से आप कभी नहीं मिल सकते वो चार महीने पहले स्वर्ग सिधार  गए हैं (हुण तुसां सीओ साहब कन्नै कदी भी नीं मिली सकदे सैह् चार महीनें पहलें सुरग सधारी गैयो)जवाब सुणी करी मैं सन्न होई नै रही गिया था।  'क्या हुआ था (क्या होया था)?' मैं चींगी नै पुच्छेया था। 'सर, कर्नल साहब छुट्टी पर घर जा रहे थे। टेंगा से भालुकपोंग के रास्ते के बीच उनकी जीप गहरी खाई में गिर गयी। जीप में उनको मिला कर तीन आदमी सवार थे। कोई भी नहीं बचा था (सर, कर्नल साहब छुट्टिया पर घरे जो जाह्दे थे। टेंगा ते भालुकपोंग दे रस्ते बिच तिन्हां दी जीप इक डुग्घिया घळचुनीं (खाईया) पई गई थी।  जीप तिन्हां जो मिलाई करी तिन्न आदमी सुआर थे।  कोई भी नीं बचेया था।) मेरियां हाखीं दे साह्मणे फौजी वर्दी में सजे कर्नल साहब होरां दा हसमुख चेहरा तरना लगेया था।

 

तिस वक़्त तिकर अरुणाचल प्रदेश बरगे पहाड़ी इलाके  सड़कां दी हालत खरी नीं थी।  तदिया तिकर तित्थू खराब सड़़कां दिया बजह ते हादसेयां सैंकड़ेयां दे हसाबें  जुआंना दियां अणमुल जानीं जाई चुक्किह्यां थियां। इसदी बजह शैय्द असां दियां सरकारां दा ड़र था कि जे सड़कां बणाइयां तां कुतह्की 1962 सांहीं तिन्हां दा इस्तेमाल चीनी नीं करी लैण। 1962 चीनी फौज़ां बड़ी चतराइया कनै भारत दियां फौज़ां जो घेरनें तांईं असां दे इलाके दियां पकडंडियां कनै सड़कां दा इस्तेमाल कित्तेया था। 

 

तिन्हां जुआंना मिंजो दस्सेया था कि जित्थू ते कर्नल साहब होरां दी गड्डी थल्लें पई थी तिसा जगहा दा नां तैहड़िया ते कर्नल मोड़ पई गिया था कनै तित्थू ही तिन्हां दी समाधी भी थी।  तिसा बारिया मैं सैह् जगह हैलिकॉप्टरे पर बैठी करी पार करी लईह्यो थी।  मैं सोचेया था जाह्लू भी मौका मिलह्गा मैं कर्नल साहब जो सेल्यूट ज़रूर देणा है।

 

वीरपुर पोंह्चणे पर मिंजो स्लीपिंग बैग मिली गिया था। जुलाई महीनें भी तित्थू खरी ठंड थी।  बरसात जोरां पर थी।  असां दा झोंपड़ा वीरपुर दे उत्तरे बक्खी टेंगा चू (नदी) दे कंह्ड़े पर था।  टेंगा चू  दे पाणिये दी धार उफाणे पर थी।  दूंहीं बक्खें उच्चे-उच्चे पहाड़ कनै बिच सँगड़िया खाइया छाळां मारदी बगदी टेंगाचू। तिसा दे कंह्ड़े किछ गज दिया दरेड़ा पर असां थे। दिनें अम्बरे दा इक छोटा देहा टुकड़ू नज़र ओंदा था।  लगदा था मैं डुग्घे सुक्के खुए आई फसेया। सुंघड़ देहा लगदा था। खुले अम्बरे दा नज़ारा लैणे जो दिल तरसदा था। इसदा रोसा-लाह्मा कुसजो दिंदा। मैं फौजी वर्दी अपणिया मर्जिया नै जे पहनियो थी।  राती गड़कदे बद्दल, सरनांहदी हौआ, छाळां मारदी नदिया दा रौळा कनै घुप्प नेहरे लिसकदी बिजळी माहौल जो डरौणा कनै भूतिया बणादे थे। तिस वक़्त तित्थू बिजळिया दी सहूलत नीं थी। 

 

जाह्लू मैं फौजी वर्दिया होंदा था, मिंजो कैसी दा भी डर नीं लगदा था।  जिंञा कपड़े दी वर्दी नीं कोई मज़बूत कवच पहनेया होए।  अग्गे बॉर्डर वाळियां ठाहरीं जुआन फौज़ी लिवास ही रैंह्दे हन। सिविल कपड़े पहनणे दी बारी तां छुट्टी जांदिया बेला रेलबे टेशन पर ही ओंदी है।  फौजी वेल्ट पहनीं करी किछ लग्ग ही बझोंदा है।  फ़ौजी वर्दिया टोपिया दा मान कनै दर्जा उच्चा होंदा है। टोपिया युनिट या रेजिमेंट दा नशाण (बैज) लगेया होंदा है कनै तिस पर इक आदर्श बाक्या लिक्खेया होंदा है। जिंञा कि तोपखाना रेजिमेंट दा आदर्श बाक्या है सर्वत्र इज्जत--इकबाल टोपिया वाह्जी सलूट नीं होंदा है।  टोपिया बगैर सलूट सिर्फ फिल्मा दे हीरो ही करदे हन।

 

इक राती किछ होर जेहियां वाजां सुणी करी मैं निंदरा ते जागी करी उठी बैठा था।  माचिस दी तीली जळाई करी दिक्खेया था, राती दे सोआ बारह बजा दे थे। बाहर झमाझम बारिश होआ दी थी।  घड़ियें-घड़ियें चमकदिया अम्बरे दिया बिजळिया दिया लोई मिजों अपणे झोंपड़े ते किछ ही गज दूर असां दे पासे दे उच्चे पहाड़े दे ऊपरा ते बड्डे-बड्डे पत्थर बड़िया सपीड़ा कन्नै रिड़कदे सुज्झे। मलबे कन्नै थल्लें ओंदे सैह् पत्थर जाह्लू अप्पु बड़जोंदे तां अग्गी दियां चिळगां निकळदियां थियां। नदिया दे कंह्डे-कंह्डे जांदिया सड़का मलबे दा इक ढेर चमकदिया बिजळिया दे झपाके साफ नजर ओआ दा था।  बड्डियां-बड्डियां चट्टानां कनै पत्थर पई नै नदिया दे बाह्ये रोक लगा दे थे।  जेकर नदिया दा बाह् पूरी तरह रुकी जांदा तां इक बन्ह बणी जाणा था कनै तिसदे टुटणे पर परलै होई जाणी थी। असां कुसी भी बचणा नीं था। उपरा ते ओंदियां चट्टानां असां पासें भी आई सकदियां थियां।  मैं दूजे साथियां जो ठोह्लू लाई नींदरा ते जगाईता था। काह्लू भी किछ भी होई सकदा था। सारे सहमी करी बैठयो थे।  कोई भी कुसी कन्नै किछ नीं गला दा था। बरसाती दी सैह् रात मतियां जिंदगियां पर भारी पई सकदी थी। ताह्लू तित्थू सारेयां अपणे-अपणे भगवानां जो याद जरूर कित्तेया होणा। मैं तां कित्ता था। बड़िया देरा तिकर चुपचाप बैठेयो असां काह्ली डुग्घिया नींदरा सई गै असां जो पता ही नीं चलेया था।

 

जाह्लू असां भयागा जागे तां खरा परगड़ा होई गिया था। असां दिक्खेया असां ते किछ गज दरेड्डें सड़का दा इक लम्मा हेस्सा मलबे दे इक बड्डे ढेरे कनै दबोई  गिया था। उपरा बक्खी जाणे दा रस्ता भारी मसीनां दिया  मदता कनै दपहरां तिकर ही खुली सकेया था।

 

सैह् दिन भी गुजरी गिया था।  अगली भयाग आई। तैह्ड़ी असां तवांग तांईं चलणा था।  नदिया दे दोनीं पासेयां उच्चे पहाड़ां दियां चोटियां गास सूरजें धुप्पा दी उजळी चादर उढ़ाई दित्तियो थी। खुसनुमा महौल था। मैं अपणा समान कठेरी करी अगले सफरे दे ख्यालां डुब्बेया था। ताह्लू निचले पासे ते इक वन-टन गड्ड़ी  आई कनै मैं तिसा पर सुआर होई उस पुळे पासें चली पिया जित्थू उप-कमाण अफ़सर होरां दिया जोंगा कन्ने मलाप होणा था।

 

भगत राम मंडोत्रा

  

शहीदों की समाधियों के प्रदेश में (छठी कड़ी)

 

उस समय मेरे दो बच्चों में बड़ी बेटी (जो इस समय लड़ाकू सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल है) केंद्रीय विद्यालय में दूसरी कक्षा में पढ़ती थी और छोटा बेटा (जो इस समय बायोटेक्नोलॉजी में पीएचडी करके पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ में सेवारत है) आर्मी स्कूल में यूकेजी में था। मैंने बेटे को केंद्रीय विद्यालय की पहली कक्षा में प्रवेश दिलाने के बाद ही उस जगह से जाने की सोच रखी थी। उन दिनों बच्चों को सेंट्रल स्कूलों में प्रवेश दिलाना एक कठिन कार्य होता था। प्रवेश मिल तो जाता था पर काफी दौड़-धूप करनी पड़ती थी।  मेरे बच्चों की शिक्षा अलवर, हमीरपुर, इलाहाबाद, भोपाल और देवलाली स्थित केन्द्रीय विद्यालयों में हुई थी।

 

मराठा कर्नल साहब से हुए उपरोक्त वार्तालाप के दो महीने के अंदर ही मेरे स्थानांतरण के आदेश गए थे। संयोगवश मुझे उसी सेक्टर में एक तोपखाना युनिट में जाना था जिस सेक्टर में उन मराठा कर्नल की युनिट गई थी। मैं वहां गया था पर अपने बच्चों और परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारियां  निभाने के बाद। मुझे जनवरी 1989 में इस नई युनिट में पहुंचना था पर बच्चों का स्कूल में दाख़िला मार्च-अप्रैल में होना था। मेरा सौभाग्य था कि ब्रिगेड मुख्यालय के उच्चाधिकारी मुझे जल्दी नहीं भेजना चाहते थे। नई युनिट और नए ब्रिगेड मुख्यालय ने मेरे स्थानांतरण के क्रियान्वयन के लिए दवाब बढ़ाया था और मामला दिल्ली स्थित सेना मुख्यालय के तोपखाना निदेशालय तक पहुंच गया था। यह देख कर मैंने अप्रैल में नई युनिट से वार्षिक अवकाश के साथ स्थानांतरित होने की प्रार्थना की थी जो उन्होंने स्वीकार कर ली थी। अब मुझे पुरानी जगह से मुक्त होने के उपरांत दो महीने की छूटी काट कर नई जगह को जाना था। पहले मैंने अपने बेटे को पुरानी जगह के केंद्रीय विद्यालय में प्रवेश दिलाया था और फिर दोनों बच्चों का हमीरपुर केंद्रीय विद्यालय के लिए ट्रांसफर सर्टिफिकेट लिया था। छूटी के दौरान हमीरपुर में पत्नी सहित बच्चों के ठहरने का प्रबंध करने के बाद ही मैं नई युनिट में शामिल होने के लिए चला था। 

 

मैंने बड़ी उत्सुकता के साथ उन मराठा कर्नल की युनिट के जवानों से पूछा था, 'आपके सीओ साहब कहां हैं मैं उनसे मिलना चाहता हूँ।' सभी जवान एकाएक चुप होकर मेरे ओर देखने लगे थे जैसे कि मैंने कोई गलत बात पूछ ली हो। उनका ये व्यवहार देख कर मुझे कुछ हैरानी हुई थी तभी एक जवान ने बड़ी गंभीरता से उत्तर दिया था, "अब सीओ साहब से आप कभी नहीं मिल सकते वो चार महीने पहले स्वर्ग सिधार  गए हैं" उत्तर सुन कर मैं सन्न रह गया था। "क्या हुआ था?" मैंने लगभग चीखते हुए पूछा था। "सर, कर्नल साहब छुट्टी पर घर जा रहे थे। टेंगा से भालुकपोंग के रास्ते के बीच उनकी जीप गहरी खाई में गिर गयी थी। जीप में उनको मिला कर तीन आदमी सवार थे। कोई भी नहीं बचा था।" मेरी आखों के सामने सैनिक वर्दी में सजे कर्नल साहब का हंसमुख चेहरा तैरने लगा था।

 

उस समय तक अरुणाचल प्रदेश जैसे पर्वतीय क्षेत्र में सड़कों  की हालत अच्छी नहीं थी। तब तक वहां खराब सड़कों के कारण सड़क दुर्घटनाओं में सैकड़ों जवानों की अनमोल जानें जा चुकीं थीं।  इसका मुख्य कारण सम्भवतः हमारी सरकारों का डर था कि कहीं 1962 की तरह हमारी बनाई गई सड़कों का प्रयोग चीनी सेना कर ले। 1962 में चीनी सेना ने बड़ी चतुराई के साथ हमारे क्षेत्र की पगडंडियों और सड़कों का प्रयोग हमारी सेना को  घेरने के लिए किया था।

 

उन जवानों ने मुझे बताया गया कि जहां से कर्नल साहब की जीप नीचे गिरी थी उस जगह को अब "कर्नल मोड़" के नाम से जाना जाता है और वहीं पर उनकी समाधी भी है। इस बार वो जगह मैंने हैलीकॉप्टर पर सवार हो कर पार कर ली थी। सोचा जब मौका मिलेगा 'कर्नल मोड़' पर कर्नल साहब को सेल्यूट ज़रूर करूंगा।

 

वीरपुर पहुंचते ही मुझे स्लीपिंग वैग मिल गया था। जुलाई महीने में भी वहां अच्छी ख़ासी ठंड थी। बरसात जोरों पर थी। हमारा झोंपड़ा वीरपुर के उत्तरी छोर पर टेंगा चू (नदी) के किनारे स्थित था। टेंगाचू  की धारा उफान पर थी। दोनों तरफ विशाल पर्वत और बीच में संकरी खाई में उछालें मारती टेंगाचू।  उसके किनारे कुछ ही गज की दुरी पर हम। दिन में आकाश का मात्र छोटा सा टुकड़ा दिखाई देता था। ऐसा लग रहा था कि मैं गहरे खाली कुएं में फंसा। घुटन सी हो रही थी। खुले आकाश का नज़ारा लेने को दिल तरसता था। गिला-शिकवा किससे करता? मैंने सैनिक वर्दी स्वेच्छा से धारण जो की थी। रात को बादलों की गर्जन, सनसनाती हवाएँ, कुलांचें मारती नदी का शोर और घुप अंधेरे में चमकती बिजली वातावरण को डरावना और भूतिया बनाते थे। उस समय उस इलाके में बिजली की सुविधा नहीं थी।

 

जब में सैनिक वर्दी में होता था, मुझे किसी भी चीज से ड़र नहीं लगता था। जैसे कपड़े की वर्दी हो कर कोई अभेद्य कवच पहन रखा हो। अग्रिम क्षेत्रों में सैनिक हमेशा सैनिक वेश-भूषा में ही रहते हैं। सिविल कपड़े पहनने की बारी तो छूटी जाते समय रेलवे स्टेशन पर  ही आती है। फौजी बेल्ट पहन कर कुछ अलग सी अनुभूति होती है। सैनिक बर्दी में टोपी की गरिमा और महत्व कुछ अलग ही होता है। टोपी पर युनिट अथवा रेजीमेंट बिशेष का निशान (बैज) लगा होता है और उस