Sunday, March 31, 2013

कात्था



चीनी लिखारी मो यान  दे नोबेल पुरस्‍कार समारोह च दित्‍‍तयो नोबेल भाषणे  दा इक टुकड़ा:

मो यान  मतलब  मत बोल्ला


स्वीडिश अकादमी दे माननीय सदस्‍य कनै आद्दरजोग श्रोतागण,

टेलीवीजन कनै इंटरनेट दे जरीह्ये, मैं सोची सकदा कि इत्थु हाजर हर माह्णू दूर- दराज्जे दे उत्तर-पूर्बी गाओमी कस्‍बे दे बारे च थोड़ा-बोह्त जरूर जाणदा होणाँ। तुसाँ मेरे नब्बेयाँ साल्लाँ दे पिता,मेरे भाऊ, मेरियां भैणां, मेरी घरेवाळी, मेरी धी, मेरी पोतरी भी, जेह्ड़ी इक साल चौंही म्हीन्नेयाँ दी है, सभ दिक्खेओ हुन्गे अपण इस वक्‍त मिंजो जिस माह्णुयें दा सबते जादा ख्‍याल ओआ दा सैह है मेरी माँ, सैह तुसां कदी नी दिखणी है। इस इनाम्मे दे सम्मान्ने च मते भागीदार हन, इक सैह इ नीं है।

मेरी मॉ 1922 च जम्मी थी कनैं 1994 च गुजरी गई थी। असां तिसा जो ग्राँयें च नाशपातियाँ दे बगीचे च दब्बेया था। पिछले साल असां जो तिसा दी कबर ग्रांए ते बाहर नीणा पई कैंह जे तिसा जगहा पर रेल्‍ला दिया लेणी दा प्रस्‍ताव था। असां जाल्‍हू कबर खुणी ता दिखया कफण सड़ी चुकया था कनै माऊ दी ल्हास अपणे अखें-बखें मिटि्या च मिली गईयो थी। इस ताएं असां सैह मिट्टी ही खुणी, कनै नाएं तायें ही तिसा जो नौं‍ईया जगहा लई गै। होर जाह्ल्लू मैं धरती माता ने गल कीती थी ता असल च मैं अपणियाँ माऊ ने ही गल करा दा था।

मैं अपणिया माऊ दी सभनां ते छोटी संतान था। मेरी सारयां ते पैहली याद पाणी पीणे तांए अपणिया वैक्‍युम बोतला पब्लिक कंटीना जो नीणे दी है, मैं भुक्खा कने कमजोर था, मैं बोतल सटि ती कनै सैह टुटी गई, क्‍या करना, डरे दे मारें मैं सारा दिन भूए दे ढेरे च लुक्‍की रिह्या, मैं सुणया मा मिंजो बचपने दे नांए ने हक्‍कां पा दी थी, मैं अपणे लुकणे दिया जगहा ते निकली आया मार कनै डांट खाणे तांए तयार, पर माऊं मिंजो पर हत्‍थ नीं चुक्‍कया, मिंजो डांटया तक नी, मेरे सिरे पर हत्‍थ फेरया कने इक सस्कार भरया।

मेरियाँ सारयां ते दर्द भरियां यांदा च ‘कलेक्टिव’ दे खेतरां च माऊ कने जाणा शामल है जित्‍‍थु असां कणका देआँ रैह्न्द-खूँह्द सिल्ल्याँ चुगदे थे। कणका बीणने वाले जाल्‍हू भी चौकीदारे जो दिखदे थे, डरी जांदे थे, पर मा जिसा दे पैर मुड़यो तुड़यो थे (इक चीनी रुआज) दौड़ी नी सकदी थी, सैह पकड़ोई गई, चौकीदारें तिसा जो इतणे जोरे ने थप्‍पड़ मारया कि सैह धरती पर पई गई। चौकीदारें असां दी बीणियों कणक जब्‍त करी लई कनै सीटियाँ बजांदा निकली गिया। जमीना पर बैठिया माऊ दे लबड़ां ते खून बगा दा था कनै तिसादियां हाक्खीं च देह्यी नरासा भरोईयो थी जिसा जो मैं कदी नी भुली सकदा। साल्लाँ बाद, मैं बजारे च चौकीदारे ने मिला, सैह हुण चिट्यां बाळाँ वाळा जबरा था, मेरियें माऊं बदला लेणे ते रोकी ता।

‘पुत्‍तर’ तिने र्निविकार भाव ने गलाया, ‘ऐह सैह आदमी नी है जिनी मिंजो मारया था।‘

मेरे भाल सबते साफ याद चंदर उत्‍सव दे इकी दिने दी है। तिनां विरल्याँ मौक्‍कयां च इक दिन जाल्‍हू असां अपणे घरें गायोद्सा (इक चीनी पकवान-इकी तरीके दा मोमो) खा दे थे। हर कुसी जो इकी कटोरे च बस इक ही टुकड़ा मोमो मिह्ल्या था, ताल्‍हू इक जबरा भखारी असां दे दरवाजे पर आई खड़ोता। मैं तिस जो सुक्‍कयां चुकंदरां दा इक अद्धा कटोरू देई टरकाणा चाह्या, ता तिनी गुस्‍से ने गलाया, ‘मैं इक जबरा माह्णूँ आँ, तुसां लोक अप्‍पुं ता मोमो उड़ा दे कनै मिंजो चुकंदरा ने टाळा दे, कितणे निरदयी हन, तुसां लोक,’ मैं भी हटी ने गुस्‍से च गलाया, ‘असां खुशकिस्‍मत हन जेह्ड़े साल्ले च दो बरी इह् मोमो खाई लेंदे, इक छोट्टे कटोरे च इक टुकड़ा भर, सुआद भी मुश्‍कला ने लई हुन्दा, तिजो असां दा सुकर मनाणाँ चाही दा असां तिज्‍जो चुकंदर देआ दे, कनै तिज्‍जो नी चाही दा ता, ऐत्‍थु ते दफा होई जा।’ माऊं मिंजो खरा की डांटी-फटकारी अपणे हिस्‍से दा मोमो तिस जबरे माह्णुयें दे कटोर च पाई ता।

मेरी सभते जादा अफसोसे वाली याद माऊ कनै बजारे च बंदगोभी बेचणे दी है। मैं ग्रॉंयें दे इक्की जबरे ते इक चियाउ (चीन दिया करंसिया च, दस चियाउ दा इक युआन हुन्दा) जादा लई लिया था, जाणी-बुझी या, मिंजो पता नी । इसते बाद मैं स्‍कूले जो चली गिया। सैह बड़ी घट रोंदी थी, तिसा दपेहरा जो मैं स्‍कूले ते हटी ओणे पर माऊ जो रोंदे दिक्खेआ। मिंजो डाँटणे दे बजाए तिने मिंजो ने अपणाप्पे ने गलाया, ‘पुत्‍तर तैं अज अपणिया माऊ जो शरमिंदा करी ता।’

मेरिया कशोरावस्‍था च ही माऊ जो फेफड़यां दी इक गंभीर बमारी होई गई थी। भुख, बमारी कनै बोह्त जादा कम्‍में असां दे टबरे जो झंझोड़ी ने रखी तिया था। अगला रस्‍ता धुँदला था। भविक्ख दे बारे च मिंजो बुरे ख्‍याल ओंदे थे। चिंता थी कि कुत्‍‍थी माऊ दी जान ही नीं चली जाए या सैह खुदकुशी नी करी लै। रोज कड़क मजूरिया ते हटणे ते बाद जाल्‍हू मैं घरें बड़दा ता माऊ जो हक पांदा, तिसा दिया अवाजा सुणी नै मेरे दिले जो बड़ी तसल्‍ली मिलदी थी, अपण जाल्‍हू तिसा दी अवाज नीं सुणोंदी थी ता मैं डरी जांदा था। मैं तिसा जो दिखणा बखले मकान्नें या कारखान्नें पुजि जांदा था। इक दिन तिसा जो सारियां जगहां तोप्पी ने नीं मिलणे पर, मैं अंगणे च आई ने बेह्यी गिया कनै रोणा लगी पिया। फिरी तिन्‍ने हीं मिंजो तोप्‍या, सैह् अ‍पणिया पिठी पर लकड़ुआं दा भारा लई ने अंगण च दाखल होई। सैह मिंजो ते बड़ी नराज थी, पर मैं तिसा जो नी दसी सकदा था कि मैं कजो डरया था। ‘पुत्‍तर’ तिने गलाया, ‘चिंता मत करें, मेरिया जिंदगीया च कोई खुशी बह्णीं नी होए अपण जाल्‍हू तिकर पताळे दा देवता मिंजो सद्दी नी लेंगा मैं तिजो छडी ने नी जांदी।’

मैं जमान्दरू बदसूरत था। ग्रांए आळे मेरा मखोल उड़ादें, कनै स्‍कूले दे मस्‍टंडे मिंजो इस ताएं ही कुट्टी चुकांदे। मैं रोंदा-रोंदा घरे ओंदा, तित्‍थु मेरी मॉ गलांदी, ‘तू बदसूरत नी है पुत्‍तर, तिजो भाल इक नक दो आखीं हन कनै तेरेयाँ दूह्यीं हत्‍थां पैरां च कोई खराबी नी है ता तू बदसूरत कियां होई सकदा?
‘अगर तुहां दा दिल खरा है कनै तुहाँ म्हेसा खरा कम करदे, इसते बाद भी जेह्ड़ा बुरा समझेआ जांदा सैह इ छैळ होई जान्दा। बाद च जाह्ल्लू मैं सैहरे च आया ता पढ़ेओ-लिखेओ लोक पिठ्ठी पचांह हसदे थे, किछ मेरे सामणे ही मेरा मोज्जू लान्दे थे, पर जाल्‍हू मैं अपणिया माऊ दियां ग्लाइह्याँ गल्लाँ याद करदा था, ता ठंडे मने ने माफी मंगी लेंदा था।

मेरी अणपढ़ मा पढ़ने-लिखणे वाळेया तियैं बड़ी इज्जत रखदी थी। असां लोक इतणे गरीब थे जे असां जो पता इ नी हुन्दा था‍ जे अगले डँगे दा खाण कीह्याँ कनै कुत्‍थु ते मिलणा है, फिरी भी कताब जाँ कलम खरीदणे दी मेरी अरदास तिने कदी नी ठुकराई। कैंह जे सैह् अप्पूँ जबरदस्त मिह्णती थी, तिसाजो आलसी बच्‍चे पसंद नीं थे, पर जे मैं कताबा च मगन हुन्दा था ता इ काह्ल्ली- कुत्‍थी मिंजो कम नी करने दी छूट हासल थी।

इक बरी बजारे च कथां सुणाणे वाला आया, मैं तिसजो सुणना निकली गिया। मैं कम नी निपटायी सकया इस ताएं सैह मिंजो पर बिगड़ी, पर राती जाल्‍हू सैह मिटि्या दे तेले दिया कमजोर लोई च असां दे कपड़यां सीया दी थी, मैं दिनैं सुणियाँ क्हाणियाँ तिसा जो सुणाणे ते अप्पूँ जो रोकी नी सकया, पैहलें ता सैह ओपरे मने ने सुणदी रही, कैंह् जे तिसा दियाँ नजरां च कात्थू मिठ्ठा गलाणे वाळे अपण गल्त धन्देयाँ वाळे लोक हुन्दे थे। तिनां दे मुंहे ते कोई खरी गल नी निकळ्दी थी, अपण हौळैं -हौळैं सैह मेरियां दुहराइयाँ क्हाणियाँ च डुबदी गई कनै तिस दिने ते, तिसा मिंजो कोई कम नी दित्ता। इह इक्की तरीके ने बाह्ज्जी गलाणे ही, बजारे च जाई ने नौंईंयां क्हाणियाँ सुणने दी इजाजत थी, अपणिया माऊ दिया करुणा कनै इकी तरीके ने अपणिया माऊ दी यादां जो जाह्र करने ताएं, मैं माऊ दिया खातर कहाणियां विस्‍तार च फिरी सुणाँह्गा।

इह जाणने च देर नी लग्गी कि कुसी दुए दी क्हाणिया जो दोहराणा अटपटा होई सकदा इस करि मैं अपणा पाठ सँगारना शुरु करी ता। मैं देहियाँ चीज्जाँ गलाणा लग्गा जेह्ड़ियाँ, मिंजो पता था जे माऊ जो खरियाँ लगणिया हन, कई बरी ता अखीर भी बदली दिंदा था । फिरी मेरयां श्रौतयां च सैह इ किह्ल्ली नी थी, तिनां च मेरियां बडियाँ भैणां, मेरियां बूआं, मेरी नानी भी शामल होई। काह्ल्ली- काह्ल्ली ता मेरी कोई क्हाणी सुणी ने मेरी मा धीर-गंभीर अवाजा च पुछदी जियां अपणे आपे ते ही पुछा दी होए, ‘तू बडा होई ने क्‍या बणना है पुत्‍तर, रोजी-रोटी कमाणे ताएं तैं भी इक दिन इह्याँ ही बकबक करी कम चलाणा है?’

मिंजो पता था सैह चिंता च कजो है, असां दे ग्रांयें च गपौड़ बच्‍यां जो खरा नी समझया जांदा था। सैह अप्‍पुं ताएं कनै अपणया परिवारां ताएं मुसीबत खड़ेरी सकदे थे। ‘बुल्ज़’ कहाणिया च ग्रांए वालयां ने उलझणे वाळे गपौड़ मुँडुए च मेरा भी कुछ अक्‍स है। मा आदतन मिंजो जादा गलाणे ते रोकदी थी, चाहदीं थी कि मैं इक सैह्ज, ठहरया जवान बणाँ , इसते उळ्ट मैं इक खतरनाक जुगाड़ू सयाणा बणा दा था। बोलणे दियां नामी प्र‍तभां कनैं तिह्नाँ नें जुह्ड़ियाँ अणदब इच्छेयाँ क्हणी गलाणे दी मेरी ताकत माऊ जो खुशी दिन्दी थी , अपण तिसा जो खटका भी लगी रैंहदा था।

इक प्रचलित क्हावत है, ‘नदिया दा रुख बदलणा असान है, माह्णुए दी फितरत नीं।’ मेरे मॉ-बुढ़े  सखादें- सखादें थकी गै अपण बोलणे दी मेरी कुदरती इच्छेया कदी नी गई, कनै इस लफ्जे च मेरा नां था – मो यान मतलब मत बोल्ला – अपणा मजाक उड़ाने वाळिया बिडंबना ने भरोइयो अभिव्‍यक्ति।

पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार
पहाड़ी अनुवाद च सहयोग कनै सुधार  : द्विजेन्द्र द्विज
होवार्ड गोल्‍डब्‍लाट दे मूल चीनी ते अंगरेजी अनुवाद दे हिन्‍दी अनुवाद : शिवप्रसाद जोशी
ते साभार : कथादेश

Thursday, March 7, 2013

अजादिया दी ट्राई लई ने भी


विश्‍व महिला दिन दे मौके पर मराठी साहित्‍य च दलित लेखन आंदोलन दे तहत दलित महिलां दियां आत्‍मकथां दा इक दौर आया था। तिसा कड़ीया च अपणी आत्‍मकथा “बलूतं” ताएं चर्चित दया पवार दी पुत्री मराठी दी लोकप्रिय कवयित्री प्रज्ञा दया पवार दी कवता स्‍वातंत्रयाचं ट्रायल घेऊन सुद्धा दा पहाड़ी अनुवाद पेश है।



अजादिया दी ट्राई लई ने भी
ठीक बैठी ही नी जिंदगी
अपणे ही शरीरे कनै फिट..

खरियां तणोई नें ता खड़ोतियां थियां असां


ना मूंडयां सट्टी,
ना कुबड़ कड्डी,
ना छातिया अंदर खिंजी,
ना नजरां हेठ पाई,
ना पैरे दे गूठे नें
तिसा ही मिट्टिया खुणदियां

फिरी कैं नी लिया
असां दा ठीक नाप?
कुड़ियां पुच्‍छा दियां बजह
माऊं ते
बुढ़यां ते
सारयां घरे वाळयां ते

माऊं
बुढ़े
सारा घर
इकदम चुप्‍प

कुड़ियां सुणा दियां ही नीं
घुळदियां ही रैंह्दियां
तमतमाईयां

सैह क्‍या है ना कुड़ियो
कोई इक गूढ़ा राज दसणे साही
गलां दियां माऊं

कन्‍नां च खिसर‍ फिसर करा दियां
जियां इक्‍की तोते च हुंदे हन
कुसी राजे दे या
राक्षसे दे प्राण

तियां तुसां दे भी हन संभाळी नै
सीतेयो
संस्‍कृतिया दे सुए नै

नाप कैसदा देणा कुड़ियो?
धेड़ने बुणने दे जंजाळे सधेरने बगैर
तुसां जो बुणाई ही नी सुझणी
कपड़यां दी
जिस्‍मे दी
ना इस सारे संसारे दी.

गला दियां माऊं
कन्‍नै गूढ़िया गैह्रिया निंदरा सई जांदियां
कुड़िया दे प्रांणा जो चिंता लाई
प्राणा दी बैरी
अजादिया दी! 


प्रज्ञा दया पवार

अनुवाद : कुशल कुमार





प्रज्ञा दया पवार
स्‍वातंत्रयाचं ट्रायल घेऊन सुद्धा
नीट बसलीच नाहीं आयुष्‍य
आपच्‍या शरीराभोवती फिट्ट..

चांगल्‍या ताठ तर उभ्‍या होतो आम्‍ही
ना खांदे पाडून,
ना पोक काढून
ना छातर आत ओढून,
ना नजर खाली झुकवून
ना पायाच्‍या अंगठ्यानं
तीच ती माती कोरून

मग का नही घेतली
नीट मांप आमची?
पोरी विचारताहेत जाब
आयांना
बापांना
अख्‍ख्‍या घरदारांना

आया
बाप
अख्‍खं घरदार
चिडीचुप्‍प

पोरी ऐकतच नाहीत
भांडत राहतात
ताबातावाने

त्‍याचं काय आहे पोरींनो
मग आया सांगतात
एखादं रहस्‍य सांगितल्‍या सारखं

कानात कुजबुजत
एखाद्या पोपटान असतो ना
राजा चा अथवा
राक्षसाचा पंचप्राण

तसे तुमचेही आहेत सुरक्षित
शिवलेले
संस्‍कृतीच्‍या दाभणाने

मापं कसली देता पोरी नो?
उसवाउसवीचा गांधळ मांडल्‍याशिवाय
तुम्‍हाला दिसायचा नाही पोत
कपडयांचा
शरीराचा
नि अवध्‍या अस्तित्‍वाचा.

सांगतात आया
आणि झोपून जातात बिनघोर
पोरींच्‍या जिवाला घोर लावून
जीवघेणा
स्‍वातंत्रयाचा!

प्रज्ञा दया पवार