Tuesday, January 29, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता


इक पुराणी चित्‍तरकारी - साभार विजय शर्मा



पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। तिसते परंत पवनेंद्र पवन कनै कथाकार मैडम चंद्ररेखा ढडवाल होरां दे विचार तुसां पढ़े। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी कवि राजीव कुमार "त्रिगर्ती" पेश करा दे।




1. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन असां दे मुल्के दियां दूइयां भासां दे मुकाबले च कुतू खड़ोंदा  
राजीव कुमार "त्रिगर्ती": पहाड़ी लेखन दुइआँ भाषा दे मुकाबले च कुथु खडोंदा, इसदा कोई विधिवत उत्तर नी होई सकदा। पहाड़ी साहित्य दा कितणा अनुवाद होआ दा...एह् दिखणा चाहिदा..। मेरे स्हाबें बड़ा घट्ट है हाल्ली। लेखन लगातार होआ दा पर लेखन इतणा होणा चाहिदा जे इक्क मानक रूप अपणा वजूद लई सके । जिस तकर एह् नी हुँदा तिस तिकर दुइआँ भाषा ने तुलना नी कित्ती जाई सकदी। पहाड़ी इक्क सुलझिओ साफ सुथरी भाषा है। भाषागत रूपे ने पहाड़ी बड़ी भारी समृद्ध है..। पहाड़िआ दे नेपाली कुमाऊँनी, गढ़वाली जिह्ञा स्वतन्त्र भाषा दा रूप अख्तियार करी चुकिआँ तिह्ञा ही पश्चिमी पहाड़ी सिरमौरी काँगड़ी महासुवी भी अपणे स्वतंत्र मानक स्थापित करी ने गाँह् बधी सकदिआँ...।
जरूरत है मता सारा स्तरीय लिखणे दी। तुलना दे स्तर पर खडोणे दी..।।

2. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्‍या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्‍नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्‍हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है 
राजीव कुमार "त्रिगर्ती": पहाड़िआ च बड़ी भारी समर्था है.... मेरे स्हाबें एह् अजकणिआँ सारिआँ भारतीय भाषा दे बराबर सामर्थ्य वाली है... 
एह् चील़ाँ देआँ डाल़ुआँ ही नी झुलान्दी, जहाज़ां भी उड़ान्दी कने समै पर चन्द्रमे च भी पुजाई सकदी... शब्द सम्पदा ता ही बधणी जे चील़ाँ देआँ डाल़ुआँ ते लई ने उच्ची उड़ारी मारी जाए। भाषा दे रूपे च पहाड़िआ दा अपणा स्थान है, पर सैह् बणेआ रैह् एह् असां दे उप्पर है।

3. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्‍ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्‍या क्‍या करना चाहिदा 
राजीव कुमार "त्रिगर्ती": जाह्ली भी लेखन इक्क बदिआ सकल लई ने ओंदा ता सैह् पाठकां जो बेचैन करदा। असाँ दे देशे च मतिआँ बड्डिआँ छोटिआँ भाषा दा लेखन पाठकाँ कने अपणेआँ रिश्तेआँ ताएँ जाणेआँ जाँदा। दुर्भाग्य पहाड़िआ च हाल्ली सैह् गल्ल नी। आम आदमिए च जेह्ड़ा जे समाजिक ने आर्थिक रूपे ने थोड़ा हटी ने खड़ोतेआ सैह् पता नी कैंह् पहाड़िआ ते भी हटी ने खड़ोणा चाह् दा ।  गल्ल भोंए कोड़ी होए पर है। सोशल मीडिये पर जेह्ड़ा छूछा लेखन है, सैह् ता शेयर होआ दा पर गम्भीर लेखन मिंजो कुथी नी सुझा दा...
कोई शेयर नी होआ दा....
लेखके कने चोंह् मित्तर लेखकाँ तक सीमित...। पाठक पहाड़िआ दे गम्भीर लेखन दे प्रति जागरुक ही नी है। बाकी लेखक ता अपणिआ समर्थानुसार लगेओ ही हन्।

4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात किञा पूजदी  
राजीव कुमार "त्रिगर्ती": अगलिआ पीढ़िआ तक गल्ल बात पजाणे ताएँ अज्ज बड़ी मुश्किल सामणे ओआ दी... तुसाँ पहाड़िआ च पुच्छा दे, समझा दे, गला दे पर उत्तर पहाड़िआ च नी ओआ दा...। पहाड़िआ दी गल्ल करने वाल़ेआं जो चाहिदा जे अपणे घराँ च कने अपणे आप्पे च भी झाकन। कने अपणिआँ  कमिआँ जो सुधारण। अपणे घरां च भी पहाड़ी बोल्लण।
मैं मते सारे लेखक दिक्खे जेह्ड़े पहाड़ी पहाड़ी दा गीत गांदे पर अपणे बच्चेआँ ने हिंदी गलांदे। 
क्या पहाड़िआ च गल्ल बात पूरी नी होई सकदी...।
पहाड़ी बोलगे ता ही उत्तर पहाड़िआ च मिलणे। शर्म कैस दी......!!!

5. तुसां दे स्‍हाबे नै अगली पीढ़ी पहाड़िया जो भासा बणाणे दा ख्‍यो करह्गी कि गीतां सुणदेयां गांह् बधी जांह्गी?   
राजीव कुमार "त्रिगर्ती": एह् अगलिआ पीढ़िआ जो संस्कार देणे वालेआँ पर निर्भर करदा..। भाषा इक्क सबते प्यारी विरासत है जेह्ड़ी असाँ देआँ प्राणाँ च बसदी..।
हिब्रू साई कोमा च गइओ भाषा भिरी दौड़ना शुरु करी सकदी ता असाँ हसदिआ खेलदिआ अल्हड़ भाषा जो कुस कारने ने मारी सकदे...?
हिंदी बोली की कने अँग्रेज़ी बोली ने जे तुसाँ दे हित सधोंदे ता साधा..।
पर पहाड़िआ जो ता जीबा ते मत उतारा...। सोच्चा सोचणे च भी भाषा ही लगदी। सोच्चा दी भाषा अगलिआ पीढिआ च भी पहाड़ी ही रैह् ...
एह् जरूरी है।

6. तुसां दे स्‍हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्‍की भासा नै कम चली सकदा कि इक्‍की ते जादा भासां जरूरी हन  
राजीव कुमार "त्रिगर्ती": मतिआँ भाषां सिखणा माह्णुए दा इक्क बड़ा बड्डा गुण है। ता अपणिआ भाषा जो छडणे, भुलणे ते बड्डी मूर्खता होर क्या होई सकदी..
मतिआँ भाषा सिखणे वाला कदी भी अपणिआ भाषा जो नी छड्डी सकदा।
राजीव कुमार "त्रिगर्ती"





Sunday, January 13, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता

नैनसुख: जसरोटा दे मियां बलदेव सिंह दी तसवीर
(लहौर संग्रहालय) - साभार विजय शर्मा

पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। तिसते परंत पवनेंद्र पवन होरां दे विचार तुसां पढ़े। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी कवि कनै कथाकार मैडम चंद्ररेखा ढडवाल होरां पेश करा दे। कवि भूपेंद्र भूपी होरां रिकॉर्ड करने ते परंत टाइप करी नै भेजी है।  



1. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन असां दे मुल्के दियां दूइयां भासां दे मुकाबले च कुतू खड़ोंदा

चन्द्ररेखा ढडवाल:  मैं समझदी लेखन दी जेहड़ी मूल चीज़ हुंदी सैह हुंदी भावना कने दूजी चीज़ हुंदी कि असां ग्ला दे किह्यां यानि अभिव्यक्ति । जित्थू तिकर भावना दी गल्ल है असां दी भाषा जे दूइयां भाषां ते गांह नी है, तां कम से कम बराबर ज़रूर है । लेकिन असां ग्लाणा किह्यां है इस विषय पर सांजो थोड़ी होर मेहनत दी ज़रूरत है ।

2. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्‍या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्‍नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्‍हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है
 चन्द्ररेखा ढडवाल:  एह चीज़ मिंजो भी व्याकुल करदी; असां पहाड़ी जो सिर्फ हसी-मज़ाक लिखणे ताईं कने सुंदरता दा वर्णन करने ताईं ही इस्तेमाल करिए तां गल्ल नी बणदी। कैंहजे जाहलू अक्खे बक्खे जीवन विच इतनियाँ मुश्कलां हैंनइतने कष्ट हैंन, इतने दुख हैंन तां तिह्नां ते मुंह फेरी के किह्यां कोई लेखक बणी सकदा या कवि बणी सकदा। कने जित्थू तिकर समर्था दी गल्ल है, एह भाषा जीवन दियां विरूपतां, या जाळेयां जो दस्सी सकदी, बड़े खरे तरीक़े कने दसी सकदी सिर्फ़ सांजो इक्क सही दृष्टिकोण दी ज़रूरत है। सांजो एह समझणा चाहिदा कि खाली पहाड़ां दी, दरख़्तां दी कने माहणुआं दी सुंदरता दा वर्णन ही सबकुछ नी है; बेशक़ जीवन दा इक्क पहलू एह भी है। पर जीवन दा संघर्ष भी तां बड़ा चतेरना ज़रूरी है।

3. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्‍ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्‍या क्‍या करना चाहिदा
उप्‍पर दित्‍तिया तस्‍वीरा च टाकरी च लिखया है- सम्बत बिक्रमजीती 
अठारा सौ पंज था। जेठ महीना था। तिन्हे दिने एह तसवीर लिखी। 
तिन्हा दिना उमर बरहा चौबी थी।। महाराजा बलवंत सिंह जी दी। 
तां एह तस्वीर नेनसुखे जसरोते लिखी थी। तिन्हे दिने मीर मन्नू 
लाहौर आया था। पठाणां पर लड़ाई फतेह पाई के। 
रागे दी बंदिशा दे बोल - तोरी मनुहार आली री अब ना मानो।।
चन्द्ररेखा ढडवाल:  मिंजो थोड़ी चिंता हुंदी कि मंच पर जेहड़ी पहाड़ी कवता पढ़ोन्दी सैह तां सुणी भी जांदी, सराही भी जांदी ( हालांकि मैं एह दिखेया कि लोक एह सोचदे कि हासे-मनासे दी ही कवता हुंदी पहाड़ी विच कने गम्भीर कवता दी कुसी जो 'म्मीद ही नी हुंदी ) पर पढ़ने दी आदत लोकां जो बड़ी घट्ट है। इस विच जेहड़े इंटरनेट दे सहारे लग्ग-लग्ग ग्रुपां विच अज्ज लोक अपणियां कवतां या वचारां जो साझा करा दे, एह इक्क खरा प्रयास है। इस विच अपणियां कताबां दा भी परिचय दित्ता जाई सकदा कने होर भी वचार बंडोई सकदे। चर्चा परिचर्चा भी होई सकदी ।

4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात किञा पूजदी
चन्द्ररेखा ढडवाल:  मिंजो तां पहाड़ी विच लिखणे दी रुचि तां ही आई कि इतनी सुंदर भाषा है, इतने सुंदर मनिमुक्ता हैंन इसा भाषा विच इतने प्यारे शब्द हैंन, जेहड़े ऐसा ग्लाई दिंदे जेहड़ा होरसी कुसी भाषा विच ग्लाया जाई ही नी सकदा, पर मिंजो लग्गेया कि एह भाषा तां गुम होआ दी कने एह सब ज़िंदा रेह इसी करी के मैं पहाड़ी लेखन जो अपनाया कने जे तुसां लिखगे, इंटरनेट वगैरह विच पांगे तां नोईं पीढ़ी पढ़गी कने सबते अच्छा तरीका एही है कि लिखेया जाए पहाड़ी विच कने तिसजो प्रचारित प्रसारित कित्ता जाए । युवा पीढ़ी जो मद्देनजर रखी के इंटरनेट दे रोल जो नज़रंदाज़ नी कित्ता जाई सकदा । कताबां दी तरफ़ बच्चेयाँ जो रुचि जगाई के मोड़ने दी कोशिश कित्ती जाई सकदी ।

5. तुसां दे स्‍हाबे नै अगली पीढ़ी पहाड़िया जो भासा बणाणे दा ख्‍यो करह्गी कि गीतां सुणदेयां गांह् बधी जांह्गी?  
चन्द्ररेखा ढडवाल:  पहाड़ी जो भाषा दा दर्जा दुआणे ताईं मते सारे बड्डे लोक कोशिश करदे रेह । जाहलू भाषा दा दर्जा मिली जाए तां मता कुछ अप्पू ही ठीक होई जाणा। अज्ज भी मते सारे लेखक एह कोशिश करा दे हैंन कने जे क़ामयाबी मिली जाए, एह भाषा पाठ्यक्रम विच शामिल होई जाए कने इसा भाषा दिया वजह ने नौकरी-चाकरी, रोज़गार मिलणा लगी पौए तां युवा वर्ग दी रुचि अपणे आप बद्धणी । जेहड़ी भाषा रोज़ी-रोटी कने जुड़ी जांदी सैह अप्पू ही गांह बधी जांदी ।


चंद्ररेखा ढडवाल
6. तुसां दे स्‍हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्‍की भासा नै कम चली सकदा कि इक्‍की ते जादा भासां जरूरी हन ?  
चन्द्ररेखा ढडवाल:  नहीं, इक्क भाषा ने जीवन नी चली सकदा। इक्क भाषा ही सिखणा मतलब अपणे आपे जो बन्द करने वाळी गल्ल होई जांदी। भाषां दा झगड़ा भी कोई नी । अपणे मने दी गल्ल ग्लाणे ताईं जितनियाँ भाषां होण उतना ही खरा, कैंहजे भाषा तां माध्यम है अपणियां गल्लां ग्लाणे दा । जितनियाँ ज़ादा भाषां सिखगे उतना ही असां दे स्व दा विस्तार होणा। अपणी अभिव्यक्ति जो होर ज़ादा सार्थक करने ताईं पहाड़ी ते अलावा हिंदी, अंग्रेजी या होर कोई भाषा सिखणा फ़ायदे दी गल्ल है  !

Friday, January 4, 2019

पहाड़ी भासा दे बारे चर्चा – अज के हलात कनै गांह् दी चिंता


कालजयी चितेरा नैनसुख -साभार विजय शर्मा

पहाड़ी भासा दे बारे च चर्चा करने ताईं असां मतेयां लखारियां जो छे सुआल भेजयो थे। जुआब औणा सुरू होई गै  तां असां एह चर्चा गजलकार, लेखक कनै अनुवादक द्विजेंद्र द्विज होरां दे विचारां नै सुरू कीती। तिस पर ठियोग देयां लेखकां भी चर्चा कीती कनै मुंशी शर्मा होरां सुआलां पर अपणे वचार भी रखे। अज इस चर्चा दी अगली कड़ी मशहूर गजलकार पवनेंद्र पवन होरां पेश करा दे।


1. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन असां दे मुल्के दियां दूइयां भासां दे मुकाबले च कुतू खड़ोंदा

पवनेन्द्र 'पवन': हां रेत्ता दे ढेरे छाणी जितणा कि सोन्ना पल्ले पोंदा उतणा कि पहाड़ी साहित्य तां सिर कढ्ढी मुकाबले च खड़ोई सकदा. मसला ए है जे लेखक बाह्जी मेहनता रातों रात महान होणे दे सुपने दिखदे रैंहदे. किन्ने उतणा ही लेखकां जो बगाड़ने दा कम अखबारां नै होर पत्रिकां, तिनां दे लेखां (खास करी कवितां, गज़लां) जो बाह्जी तिन्हां दे स्तर जो दिक्खी छापी ने करा दियां. ठीक है जे लिखणे आळयां जो प्रोत्साहन मिलणा चाहीदा अपर 1966 ते लिखोंदा साहित्य अज भी प्रोत्साहन ही मंगगा तां खरा काह्लु लखोंह्गा?
एही दया हाल समीक्षां दी भी है. तिन्हां दियां टिपणियां पढ़ी इयां लगदा जणी इस बारिया दा ज्ञानपीठ पुरस्कार इन्हां जो ही मिलणा है. शौकिया नाटक लिखणे बाळे तां इक्का दुक्का ही सुझदे. कवियां दी गिनती परमात्मा दिया दया ने बधेरी है.

2. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी भासा च इतनी समर्थ्‍या है भई अजकिया जिंदगिया दी अन्‍नोह्-बाह् दौड़ कनै सारे ढक-पळेस लखोई सकदे? कि एह् चील्‍हां दे डाळुआं झुलाणे जोगी ई है

पवनेन्द्र 'पवन': पहाड़ी भाषा बह्ल जोरदार लफ्जां दी दौलत ने मुहावरयां दा खजाना है. इस करी इस बह्ल सब कुछ लिखणे दी कने सशक्त लिखणे दी ताकत है. पहाड़या च जेकर जौह्डा दया उपन्यास लखोई सकदा या संसार चन्द प्रभाकर दा खण्ड काव्य लखोई सकदा, द्विज होरां गज़लां लिखी  गज़ल विधा नै पूरा इन्साफ करी सकदे तां इन्हां दे मुकाबले दा या होर खरा कैंह नी लखोई सकदा. अपर लेखके दा उट पटांग लिखया ही छपदा रैंह्गा तां तिन्नी तां ए ही समझणा जे मैं ता भाऊ बधिया लिक्खा दा. तिन्नी अपणे लेखे च कमी ताईं तोपणी जाह्लु तिदिया रचना च कमियां गणाई नी छापगे. इस कने पत्रिकां दा भी अपणा स्तर बनणा. 
तस्‍वीरा च टांकरी लिपि च लिखिया -  मलोहतड़ कांगड़ा 

3. तुसां दे स्‍हाबे नै पहाड़ी लेखन कनै पाठकां दे रिस्‍ते दी कदेई सकल बणदी है ?   इस ताईं होर क्‍या क्‍या करना चाहिदा

पवनेन्द्र 'पवन': सारयां ते बड्डी मुसीबत एह ही है जे पहाड़िया ने पाठक नी जुड़ी सकया. पहाड़िया दे लेखकां दा रिस्ता श्रोतयां तिक्कर ही जुड़ी सकया है. पाठक तां लगभग नदारद ही है. इक लेखक ही दुए लखारिए दे लिखयो जो डुगिया नजरां ने नी पढ़दा तां होरना दी गल भी क्या करनी. इसदी इक बजह लोकां तिकर पहाड़ी कताबां दा नी पुजणा भी होई सकदा.
अखबारां, मैगजीना च पहाड़िया दे लेख छापी करी, स्कूलां च Wall magzine चलाई उऩ्हां पर पहाड़ी कहाणियां, कवितां, लेख लग्गण कने स्कूल्लां च पहाड़िया च लिखयो नाटकां दा मंचन करुआणे ताईं मास्टरां जो प्रेरित कित्ता जाए तां पाठक त्यार होई सकदे. इक सुझाव ए बी है जे स्कूल्लां च पहाड़िया च कथां कवतां लिखणे दे कम्पीटीशन करवाए जाण. ए Competition लोक कथां, लोक गीतां लिखणे पर या कुसी लेखक दियां पहाड़ी कवतां बोलणे पर भी होई सकदा. दो, तिन नाटककारां दियां कताबां बंडी नै नाटक खेलणे दे मुकाबले भी करुआए जाई सकदे. अब्बल रैह्णे वाळयां जो बधिया इनाम देई बच्चयां जो प्रेरित कित्ता जाई सकदा.

4. अगलिया पीढ़िया तक तुसां दी गल-बात कि
ञा पूजदी

पवनेन्द्र 'पवन': अगलिया पीढ़िया ताईं पहाड़िया जो लेई अग्गे बधणा जे असां इसयो पहाड़िया ने जोड़ी सकगे.

6. तुसां दे स्‍हाबे नै अज आम जिंदगी जीणे ताईं सिर्फ इक्‍की भासा नै कम चली सकदा कि इक्‍की ते जादा भासां जरूरी हन ?  

पवनेंद्र पवन
पवनेन्द्र 'पवन': आम जिन्दगी जीणें ताईं भी अज इक भासा नाकाफी है.. घट ते घट अंग्रेजी कने हिन्दिया दी जानकारी होणा बड़ा जरूरी है.