Friday, May 22, 2015

उपेक्षा दे फेरां च फसियो इक मातरी भासा : पहाड़ी

कुछ दिन पैहलें हिमाचल मित्र दे सच्‍चे कनै बड़े प्‍यारे मितर मधुकर भारती होरां दा चाणचक देहांत होई गिया। हिंदी साहित्‍य च अपणे जोगदान कनै हिमाचल दे लिखारीयां जो मंच बणाई ने देणे ताईं सैह हमेशा याद ओणे हन।
जाह्लू असां हिमाचल मित्र च प्‍हाड़ी भासा जो लई ने धेड़़-बुणा च थे। दुअे अंके च ही तिन्‍हां एह  लेख लीखी ने पहाड़ी भासा पर असां दे विमर्श दी नींव रखी थी। 

मूल हिन्‍दी लेख कनै प्‍हाड़ी अनुवाद पेश है।      


कई भासा शास्‍त्री मनदे कि हिमालय दी छाऊऑं वाळयां लाकयां च अरुणाचल प्रदेश ते अफगानीस्तान तिक्कर बोलियॉं जाणे वाळीयां उपभासां च उच्‍चारण लग लग होणे ते बावजूद कुछ सांझे लफ्ज्‍ कनै ईको देहे वाक्‍य मिलदे। जे ठेठ प्‍हाड़ीया दी गल कीती जाए ता मशहूर भासा-विद्वान डॉ ग्रिर्यसन भद्रवाही कनै जौनसारी जो भी पहाड़ीया च शामल करदे। जे एह देही गल है ता कश्‍मीर ते गढ़वाल तिकर इक पहाड़ी भासा बणी सकदी। पूरे हिमाचल च बोली कनै समझा ओणे वाळी इक भासा कडणा वैसे ता कठण ही लगदा। हिमाचल च दो भासा परिवार ता हन ही। इक आर्य परिवार दी भासा कनै दूई किन्‍नौर कनै लोह्-स्‍पीति दी तिब्‍बती-बर्मी परिवार। बाकी दसां जिल्‍यां च भी आर्य भासा च लग-लग जमीनी भूगोल कनै जाती संस्‍कारां दे कारण लग-लग बोलियां दे शब्‍द भंडार कनै बोलने दे ले‍हजे (उच्‍चारण भेद) लग-लग हन। कुछ अपवादां छडी देया ता तिब्‍बती-बर्मी दा आर्यभासा ने कुथी मेल बेठदा ही नी।
वैसे पहाड़ी संस्‍कृत-निष्‍ठ भासा है। इसा दे मूल च जेडि़या बोलियां हन जियां कांगड़ी, पंगवाली, महासूवी आदि च लौकिक, संस्‍कृ‍त दे लफ्ज ज्‍यों दे त्‍यों शामल हन कनै धड़ल्‍ले ने बोले जांदे हन। जियां महासूवी च ‘सै का निय’ (वह क्‍या ले जाता है) का संस्‍कृत में ‘’स: का नियति’।   
‘वह’ या ‘उस’ ताईं ‘स:’ (या ‘सैह’) लफ्ज ता  महासूवी च ही नी कांगड़ी बोलीया च भी है। थोड़ा देया स्‍वरे च अंतर है। अपणी कताब ‘कुलूत देश की कहानी’ च स्‍व लालचंद प्रार्थी होरां संस्‍कृत कनै कुल्‍लूवी च चलने वालयां लफजां दी इक लम्‍मी सूची भी दितीयो। ईयां ही कांगड़ी, चम्‍ब्‍याळी कनै मण्‍डयाळी च भी देह-देहयां लफ्जां दी भरमार है। जलंधर दूरदर्शन दिया इकी कवि-गोष्‍ठीया च महासूवी कवता ‘ खुम्‍बली दा आं’ सुणी ने कांगड़ी कवि डॉ प्रत्‍यूष गुलेरी बोलणा लगे। एह देही कवता सुणी ता लगदा नी कि महासूवी बोली समझा नी आई सके। (दुर्बाध है।) ए‍ह कवता ता पूरी समझा आई गई।
इन्‍हां गलां ता ते लगदा जे भासाविद कनै शोधार्थी चाहन ता इको देही इक पहाड़ी भासा  बणाई जाई सकदी। पर मेरा वचार है भासा दे बणने च खाली लफ्जां दा ही जोगदान नीं होंदा। लग-लग इलाकयां दी लोकसंस्‍कृति, जाती संस्‍कार कनै बोलणे दे लैहजयां-भाखां दा भी असर पोंदा होणा। सीमा ने लगयां जनजातीय जिलयां जो छडी भी हिमाचल च दो लग-लग संस्‍कृतियां मौजूद हन। कांगड़ा, ऊना, हमीरपुर, बिलासपुद कनै चम्‍बा जिलयां दी इक लग संस्‍कृति है। इन्‍हां दियां बोलीयां पर पंजाब कनै डोगरी दियां उपभासां दा असर है। इन्‍हां ते लग शिमला, मण्‍डी, कुल्‍लू, सिरमौर कनै सोलन जिलयां दी लग जीवन शैली है। एैत्‍थु ग्रामदेवता परंपरा है।  ओथु दा जनजीवन अपणे रोज के कम्‍मकार चलाणे ताई ग्रांये दे देऊ दे सीरवादे ते संजीवनी लेंदा। इन्‍हां दी बोलीयां पर जौनसारी दा बड़ा असर है। इनी साह्बें पहाड़ीया दियां कुल तिन भासां बणाईयां जाई सकदीयां। इक तिन्‍हां लाकयां दियां जित्‍थु ग्रां देऊ दी प्रथा नी है। दूए ग्रां देऊ दी प्रथा वाळे लाके कनै तरीये किन्‍नौर कनै लौहळ।

हिमाचल प्रदेश च पहाड़ी भासा दी मूहीम प्रार्थी होरां शुरु करवायी थी। तिन्‍हा पहाड़ी च साहित्‍य सिरजण जो प्रौत्‍साहित ही नी कीता बल्कि गति भी पकड़ायी थी। इस करी ने पहाड़ीया च मता सारा लीखया गिया। हर जिले च भासाई कनै सांसकृतिक सर्वेक्षण कीते गै। तिन्‍हा दे अधारे पर कुछ गंभीर शोध पत्रवालियां भी प्रकाशित कितियां गईंयां। इन्‍हां पत्रावालियां च इक पहाड़ी भासा बणाणे ताईं कई महत्‍वपूर्ण तथ कनै बौधिक समग्री लोकां दे सामणे आई सकी। इस दी कड़ीया च हिमाचल कला भाषा संस्‍कृति अकादमीएं इक बड़ा पहाड़ी हिन्‍दी शब्‍दकोष दा प्रकाशन कीता जिसच दसया गया कि सर्वेक्षकां लगभग दस जहार देहे  लफ्ज तोपी कडयो जैड़े सारयां जिलयां च इकी रुपे च बापरे जांदे। ताह्लू इक मेद बणी थी इक पहाड़ी भासा दा बणना कनै सविंधान दी अठमीयां अनुसूची शामल होणे च कोई शक नी है। परंतु बाद च राजनीतिक चाळयां कनै नौकरीशाहां दियां लागर्जीयें सब कुछ सुआह करी ता। हुण पहाड़ी दी गल करने वाळयां पर नेता कनै नौकर शाह ता हसदे ही हन पर  कुछ स्‍वयंभू साहित्‍यकार भी तिसदी ख्ल्लिी उड़ाणे ते परहेज नीं करदे। पूरे हिमाचल प्रदेश दी इक पहाड़ी भासा दा वकास कनै तिसा दा संविधान दिया अठमीया अनुसूची या च दर्ज कराणे दा  अभियान असां दिया पीढ़ीया दे  तिहास निर्माण दी प्रक्रिया है। इस सांस्‍कृतिक अभियान दा एह  हश्र दु:खदायी है।

उपेक्षा के भंवर में फंसी एक मातृभाषा : पहाड़ी  
  
 अनेक भाषा शास्‍त्री मानते हैं कि हिमालय की छाया वाले क्षेत्रों में अरुणाचल प्रदेश से अफगानिस्‍तान तक बोली जाने वाली उपभाषाओं में उच्‍चारण की विभिन्‍नताओं के बावजूद कुछ सांझा शब्‍द व समान वाक्‍यविन्‍यास पाए जाते हैं। अगर ठेठ पहाड़ी की ही बात की जाए जो प्रसिद्ध भाषा-विद्वानी डॉ ग्रियर्सन भद्रवाही और जौनसारी को भी पहाड़ी भाषा में ही सम्मिलित करते हैं। यदि ऐसी बात है तो कश्‍मीर से गढ़वाल तक की एक पहाड़ी भाषा बन सकती है। पूरे हिमाचल में बोली व समझी जाने वाली एक भाषा निकाल पाना वैसे कठिन लगता है। हिमाचल में दो भाषा-वर्ग तो हैं ही। एक आर्यपरिवार की भाषा तथा दूसरी किन्‍नौर तथा लाहौल-स्पिति की तिब्‍बत-बर्मी परिवार की। शेष दस जिलों में आर्यभाषा में भी भौगोलिक भिन्‍नताओं व जातीय संस्‍कारों के कारण अलग-अलग बोलियों के शब्‍दभण्‍डार व उच्‍चारण भेद भी अलग अलग हैं। तिब्‍बत बर्मी भाषा का सामंजस्‍य, कुछ अपवादों को छोड़कर, आर्यभाषा से कहीं बैठता ही नहीं।

हिमाचल मित्र अंक दो में भारती
वैस पहाड़ी एक संस्‍कृतनिष्‍ठ भाषा है। इसके मूल में जो बोलियां हैं जैसे कांगड़ी, पंगवाली महासुवी आदि, उनमें लौकिक, संस्‍कृत के शब्‍द ज्‍यों के त्‍यों समाहित हैं और धड़ल्‍ले से दैनिक वार्तालाप में प्रयुक्‍त किए जाते हैं। जैसे महासुवी में सै का निय’ (वह क्‍या ले जाता है) का संस्‍कृत में स: का नियतिवहया उसके लिए स:’ (या सैह्’) शब्‍द तो मात्र महासुवी में ही नहीं बल्कि कांगड़ी बोली में भी प्रयुक्‍त होता है। थोड़ा टोन का अंतर है। अपनी पुस्‍तक कुलूत देश की कहानीमें स्‍वर्गीय लालचंद प्रार्थी जी ने संस्‍कृत व कुल्‍लूवी में प्रचलित शब्‍दों की एक ल्रम्‍बी सूची भी दी है। इसी तरह कांगड़ी चम्‍बयाली व मण्‍डयाली में भी ऐसे शब्‍दों की भरमार है। दूरदर्शन जालन्‍धर में आयोजित एक कवि-गोष्‍ठी में महासुवी कविता खुम्‍बली दा आंसुनकर कांगड़ी-भाषी डॉ प्रत्‍यूष गुलेरी कह उठे थे, ‘इस तरह की कविता सुनकर तो लगता नहीं कि महासुवी बोली दुर्बोध है। यह कविता तो पूरी तरह समझ में आ गई।

इन बातों से तो लगता है कि यदि भाषाविद् व शोधार्थी चाहें तो एक समान पहाड़ी भाषा विकसित की जा सकती है परन्‍तु मेरा विचार है कि किसी भी भाषा के विकास में मात्र शब्‍दों का योगदान नहीं होता। विभिन्‍न भौगोलिक क्षेत्रों की लोकसंस्‍कृति, जातीय संस्‍कारों व उच्‍चारण-शैलियों का भी समुचित प्रभाव पड़ता होगा। सीमान्‍त जनजातीय जिलों को छोड़कर हिमाचल में दो अलग अलग संस्‍कृतियां विद्यमान हैं। कांगड़ा ऊना, हमीरपुर, बिलासपुर व चम्‍बा जिलों में एक अलग संस्‍कृति है। इनकी बोलियों पर पंजाबी व डोगरी की उपभाषाओं को प्रभाव है। इनसे अलग शिमला, मण्‍डी, कुल्‍लू, सिरमौर व सोलन जिलों की जीवनशैली है। यहां ग्रामदेवता प्रथा है। पूरा जनजीवन अपने दैन‍न्दिन संचालन के लिए अपने- अपने ग्रामदेवता के आर्शीवाद की संजीवनी लेता है। इनकी बोलियों ने जौनसारी से कई प्रभाव ग्रहण किए हैं। इस तरह से पहाड़ी की कुल तीन भाषाएं विकसित की जा सकती हैं। एक उस क्षेत्र की जहां ग्रामदेवता प्रथा नहीं है। दूसरी उस क्षेत्र की जहां ग्रामदेवता प्रथा प्रचलन में है। तथा तीसरी किन्‍नौर लाहौल की।

हिमाचल मित्र अंक दो 
हिमाचल प्रदेश में पहाड़ी भाषा की मुहिम प्रार्थी जी ने शुरु करवायी थी। उन्‍होंने पहाड़ी में साहित्‍यसृजन को न केवल प्रोत्‍साहित किया बल्‍कि उसे गति भी दी। फलत: ढेर-सा पहाड़ी लेखन हुआ। प्रान्‍त के प्रत्‍येक जिले में भाषायी व सांस्‍कृतिक सर्वेक्षण किया गया। जिसके आधार पर कुछ गम्‍भीर शोध-पत्रावलियां प्रकाशित हुई थीं। इन पत्रावलियों में एक पहाड़ी भाषा के विकास के लिए अनेक महत्‍वपूर्ण तथ्‍य व अन्‍य बौद्धिक सामग्री जनता के सामने आ सकी थी। इस कड़ी में हिमाचल कला भाषा संस्‍कृति अकादमी ने एक बृहद् पहाड़ी-हिन्‍दी शब्‍दकोष का प्रकाशन किया था जिसमें बताया गया था कि सर्वेक्षकों ने लगभग दस हजार ऐसे शब्‍द खोज निकाले हैं जो सभी जिलों में समान रूप से प्रयुक्‍त होते हैं। तब एक उम्‍मीद बंधी थी कि एक पहाड़ी भाषा का बनना तथा भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में उसका दर्ज होना असंदिग्‍ध है। परन्‍तु बाद में राजनैतिक कुचेष्‍टाओं तथा नौकरशाही उदासीनता ने इस अभियान का स्‍वाहा कर दिया। अब पहाड़ी भाषा की बात करने वालों पर राजनेता व नौकरशाह तो हंसते ही हैं बल्कि कुछ स्‍वयंभू साहित्‍यकार उसकी ख्ल्लिी उड़ाने से भी परहेज नहीं करते। पूरे हिमाचल प्रदेश की एक पहाड़ी भाषा के विकास व उसे संविधान की आठवीं अनुसूची में दर्ज करवाने का अभियान हमारी पीढ़ी के इतिहास निर्माण की प्रक्रिया है। इस सांस्‍कृतिक अभियान का यह हश्र दु:खदायी है।

मधुकर भारती

पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार 
  


Saturday, May 16, 2015

पुराणा विंध्यवासिनी मन्दिर


 अजकला वट्स ऐप पर पहाड़ी पंची जोरदार चलियो है। भांत भांत दियां रचनां पढ़ने जो मिल्‍लां दियां। पंचिया दे इक्‍क पंच भूपी जमवाल पालमपुरे व्‍हाल विंध्‍यवासनी माता दे मंदर गेयो थे। मंदरे दे बारे च तिन्‍हां एह् जानकारी भेजियो है।   

उत्तर भारत, खासकरी के हिमाचल प्रदेश दे कांगड़ा 'लाक्के विच केई धार्मिक जगहाँ हैन। एहड़ी ही इक जगह पालमपुर ते   न्यूगल नदिया दे मुहाने दे पासे जो लगभग 14 किलोमीटर दूर माता विंध्यवासिनी दा मन्दर है।  लोक इस जो पुराणी विंध्यवासिनी भी ग्लांदे। इस मन्दर तिकर न्यूगल हाइड्रो प्रोजेक्ट दी सड़क हुणे दिया वजह ते लोक्कां दा इत्थू पुज्जणा 'सान होई गेया है । मन्दर बड़िया खतरनाक ढाँका पर बणेया है। मन्दरे दे कन्ने ही बाबे दी कुटिया भी है। बक्खे ही ठंडे मिट्ठे पाणिए वाला विंध्य नाळा बगदा है। मन्दरे विच पुज्जी के बड़ी ही सांत औंदी है। 

इक लोक कथा दे मुताबक़ इक्की गद्दिए जो माता साक्षात् दर्शन दित्तेयो थे। गद्दी रोज़ मन्दर पूजा करदा था । इक दिन गद्दिएं माता जो अपणी इच्छा दस्सी कि सैह माता जो अप्पू कन्ने ग्रां विच लेई जाणा चाहन्दा । माता मन्नी लेया पर शर्त रखी दित्ती कि जित्थू तू बसोणा बैठा मैं तित्थू ही स्थापत होई जाणा है। गद्दी जाहलू माता जो लेई के बन्दला ग्रां विच पुज्जा तां थकी गेया कने जिहियां ही माता दिया पिंडिया जो भुइयां रखेया माता ओत्थू ही डेरा लाई लेया। ताहलू ते माता दी पूजा करना लोक इसी ग्रांए च औणा लग्गी पे। 


अज्ज हाइड्रो प्रॉजेक्ट दिया सड़का दा फ़ायदा लेई के कोई भी मन्दरे दे फाटके तिकर गड्डी लेई के पुज्जी सकदा। रस्ते विच इतने मनमोहक नज़ारे दुसदे कि दिल करदा इत्थू ही बसी जाइए। उच्ची पहाड़ी , टेढी मेढी सड़क , पाणिए दे नाळ , ब्रांह दे रुक्ख इस 'लाक्के दे छैळपणे च चार चन्दरमे लगाई दिंदे। सिद्धी थल्लें बगदी न्यूगल खड्ड डरान्दी भी पर माता दे भगत मन्दर पुज्जी के ही दम लैंदे। मन्दरे दे फाटके बाहर प्रॉजेक्ट दी सुरंग है, जिस विच आम माह्णुआं दा जाणा मना है। असल विच सड़क सिद्धी सुरंगा विच बड़ी जांदी कने असां जो सड़क इत्थू ही छड्डी करी मन्दरे दे पासे जो जाणा हुँदा है।

मन्दर परिसर दे अंदर पैड़ियां चढ़ी के पहलें बाबे दी कुटिया कने फिरी मुख् मन्दर औंदा। मन्दर इतनिया पहाड़िया पर हुणे दे बावजूद भी छैळ बणेया। हॉल विच शीशे लग्गेयो। देवी देवतेयां दियां मूर्तियां कने सुंदर घैण्टियां मने जो मोही लैंदियां। मन्दरे दे परले बक्खे अपणिया ही मस्तिया विच विंध् नाळा बगेया। नाळे दा पाणी बहुत ही मिट्ठा कने सुआदला है। नाळे दे इक्की कनारे मन्दरे ते हेठ छोटी देही चौंतड़ानुमा जगह है जित्थू खड़ोई के पहाड़ां कने नदिया दा नज़ारा लेई सकदे, पर थल्ले पासे दिक्खणे दी हिम्मत नी पौंदी। जातरुआं दे ब्चा ताईं रेलिंग लग्गिओ पर कनारे पर खड़ोणा खतरें भरोया है। 

नाळे पार इक्की पींघा विच माता दी छैळ मूर्ति रखोइयो । अक्खें बक्खें घणा बण कने पाणिए दी छेड़ इक नोक्खा ही नज़ारा बणाई दिंदे। इक लग्ग देही सांत मने जो मिलदी। नाळे दे पाणिए ने हत्थां मुँहाँ धोई के कने दो घुट्ट पाणी पी के चतनगी आई जांदी। नाळे दा एह पाणी इत्थू ते सिद्धा छाळी मारी के ल्हाए लोह्ई जाँदा कने न्यूगल नदिया विच जाई मिलदा। एह इक लग्ग ही भाव मने विच औंदा । मन करदा कि दुनिया दिया न्हठ-भज्जा छड्डी के इक टपरू इत्थू पाइए कने 'राम्मे कने रेहिए। न डग्ग-पिट्ट न कोई हल्ला-रौळा;बस सांत,सांत कने सांत!
          

Sunday, May 10, 2015

पले दी पछैण पीड़ उमरी दी होई गई



हिमाचल दिया जमीना ने जुड़यो कवि मधुकर भारती होरां दा चाणचक्‍क देहांत होई गिया। तिन्‍हां लीखीया इकी चीठीया ने द्विज जी मधुकर होरां जो याद करा दे। 

हिमाचल मित्र दे सच्‍चे मित्‍तर जो पहाड़ी दयार दी श्रद्धांजली।   

 30 अप्रैल 1996 जो मेरे पिता श्री मनोहर साग़र पालमपुरी जी दे स्वर्गवासी होणे पर भाई मधुकर  भारती जी दा संवेदना संदेस                                   
                                   
 
30 अप्रैल 1996 को मेरे पिता जी स्वर्गवास्सी होये थे  अप्रैल-मई दे सैह दिन बुरे पुड़दे मिंजो। प्रकाश बादल भाईऐं ने 2 मई जो भाई मधुकर भारती दे बेमोक्के स्वर्गवास्सी होणे दी  बुरी खबर दित्ती . दुःखें दुखे ने गल कित्ती  ”पिता जी दा बैग ”  चाणचक्क  याद आया मधुकर भाई सम्वेदना सन्देसे कने तिस  बैग्गे   मिल्ले मिंजो इसा चिठिया कने दम दलास्सा दिँदै चिट्ठी बाहज्जी तरीक्का ते अपण मिंजोे यह चिठ्ठी मई महींने दे पहले हफ्ते मिल्ली थी .मिन्जो पक्की याद . ताहल्लू  असां दा सारा टब्बर  सोग्गे था . कने इबकिया  मई मई  "चोरिया चली " चले गए  भाई मधुकर भारती जी भी।
                                                                                          "पले दी पछैण पीड़ उमरी दी होई गई"

मई 1996

"सैह कितणा उच्चा माह्णू था
बेदाग जहान्ना ते निकळी गेया
साग़र इक कण था धर्ती पर
जेह्ड़ा तिक्खेयाँ तुफान्नाँ ते निकळी गेया"

प्रिय भाई द्विजेन्द्र और नवनीत,

अन्तत: मनोहरसागरब्रह्मण्डीय महासागर में लीन हो गए। समाचार पत्रों में खबर पढ़ते ही मेरे मस्तिष्क पर कुछ वर्षों पहले का दृश्य कौंध गया_ दूरदर्शन केन्द्र जालन्धर की कैंटीन का वह दृश्य जहाँ पहली और अंतिम मुलाकात उस शख़्स से हुई थी जिसने मुझे अन्दर तक प्रभावित कर लिया था. पहाड़ी साहित्य संसार में व्याप्त काँगड़ी- महासुवी तनाब के उन दिनों में जिस आत्मीयता से मेरी कविता सुनकर मुझे अपनी गर्मजोशी से बाहों में भर लिया था, मैं तो एकदम भावाकुल हो गया था.
जालन्धर की गर्मी और उस पर चाय- मेरे माथे पर पसीना झलक रहा था. उन्होंने झट से अपना एक शे दे मारा:

ज़र्द चेहरे पे क्यों पसीना है
ज़िन्दगी जेठ का महीना है!

मुझे थोड़ा हतप्रभ-सा देख कर दूसरा शे जड़ दिया:

एक अँगूठी है दिल मेरा जिसमें
आपकी याद इक नगीना है!
इसके बाद उनसे मिलने का कभी जोग नहीं बना पर उनकी रचनाओं को पढ़ने की उत्सुक्ता जगी. कई ग़ज़लें कभी आकाशवाणी से सुन लेता था. लेकिन पहाड़ी कविताएँ और ग़ज़लों की हमेशा तलाश रही. उनकी कोई पुस्तक मेरी नज़रों से नहीं गुज़री. फिर भी कुछ रचनाएँ यत्र-तत्र मैं देख ही लेता . उनकी दो कविताएँ: ”हौळें-हौळें बगदिए ब्यासेतथा "प्हाड़ाँ दी राणी" मुझे बहुत अच्छी लगीं.

पहाड़ी भाषा में अंतर-निहित लय और गेयता के गुणों से भरपूर रचनाएँ हैं. दोनों ही कविताओं में केवल भौगोलिक परिवेश स्पष्ट दिखता है बल्कि पहाड़ी मानस का अंतरमन भी अपना मोहक और प्यारा रूप दर्शाता है. सम्भवत: उस क्षेत्र का अकेला रचनाकारसाग़रही है जिसने यौवन के भार को सेब की झुकी डाली से उपमित किया है! मुझे यह कहने में संकोच नहीं कि नारी-सम्मान की अभिव्यक्ति की सशक्तता निम्नलिखित जैसे टुकड़ों में पूरी रचनात्मकता से उभर कर सामने आई है:

लाह्ड़़-सुआड़ाँ पुट्टी- खुट्टी कदी इसादे अंग नी दुखदे
इसदे लौहुए दे सेक्के ने बर्फ़्हा बिच भी घियान्ने भखदे
एह दुख पीड़ाँ जरदी आई उमरीं  होएयाँ सांजो दिखदे
लम्मियाँ बत्ताँ हण्डी- हण्डी  कदि इसा दे पैर नीं दुखदे
इद्दे दुधूनुएँ दुध नीं सुअकदा, इसा दे कण्ठे गीत नी मुकदे
एह प्हाड़ाँ री प्यारी बेटी, इसा साह्म्णे अम्बर झुकदे
                           (प्हाड़ाँ दी राणी)

आपके पिछले पत्र में साग़र साहब की बीमारी का ज़िक्र था पर मैणे यह नहीं सोचा था कि वे इतनी जल्दी विदा ले लेण्गे.उनकी उम्र अभी इतने अधिक नहीं थी. सारी उम्र काम करने के बादब धूप सेंकने की बारी थी उनकी. नवनीत भाई अभी पढ़ ही रहे हैं: संभवत: आपको भी उनकी आवश्यक्ता थी. हो सकता है अपनी अगली पीढ़ी के लिए लिए उनके जो स्वप्न थेउन्हें यथार्थ में बदलने के लिए वे काम करना चाह रहे हों परन्तु वे सपने अब आपके हवाले कर गए हैं. आप दोनों तथा अन्य बच्चों में अपना लहू उछालें मारता देखकर उन्हें कितना सुकून मिलता होगा, पर उन्हीं के शब्दों में:दैनिक भास्कार

समें दिया धूड़ी इक मिली जाणाँ सबनीं
चलदेयाँ सुआस्साँ खरे कम्म कमाई दिखिए

पूरी करने तियें हर आस अधूरीसाग़र
ल्हुए ने निश्चे दी इक जोत जगाई दिखिए

" सर्जक परिवार आपके इस दु:  में सम्वेदना प्रकट करता है. हम आशा करते हैं कि आप सब इस दु: से जल्दी ही उबर कर रचनात्मकाता में व्यस्त हो जाएँ. उनके प्रति यही सच्ची श्रद्धान्जलि होगी. उनकी आत्मा को तभी चैन मिलेगा.

द्विज भाई अब तो यही कह सकता हूँ कि:

"पल भर बणे थे जे अपणे गुआच्ची गए
पले दी पछैण पीड़ उमरी दी होई गई"


आपका
मधुकर भारती