Monday, January 25, 2016

ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी 

अज श्री मनोहर शर्मा सागर पालमपुरी होरां दी जयंती है। तिन्‍हां दी इक नजम पेस है: 




जीह्याँ कुसी बसदे ग्रायें पर उत्तरदी ऐ संझ सुहाणी 

ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी 

लम्मे काळे केस तिसा दे, जीह्याँ रात उआंसी काळी 
मत्थे पर भिंबळी ने प:इयो, सर्पे साह्यीं लट घुँगराळी 
इसदे रूप छळैप्पे दिक्खी, मुग्ध होई जान्दे हाल मुहाळी 
इसदे तेज्जे दिक्खी कन्ने चानणी भी होई जाएँ पाणी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(१) 
साक्षात ऐ रूप इसा दा, एह नीं ऐ तस्वीर ख्याल्ली 
जोबने दे भारे ने झुकियो, सेब्बाँ कन्ने लदियो डाळी 
मोरनिआँ दिया चाल्ली कन्ने जाह्ल्लू रखदी कदम उछाळी 
मूह्यें औंगळ पाई लैन्दा सृष्टि दे बाग्गे दा माल्ली 
एह कोई घड़ियो गप्प नईं ऐं, बेद्दाँ दी ऐ कथा पुराणी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(२) 
एह सैह कोमल डाळ जिसा पर खिड़दे फु्ल्ल रँगील्ले सुच्चे 
सिद्धा सरल सुभाब इसा द, एह जुगतण नीं कदी बगुच्चे 
बर्फे साह्यीं मन उजला ऐ, ताँ इ एसा दे भाग भी उच्चे 
एह भरियो गम्भीर नदी ऐ एह नीं एइ कुह्ल्ला दा पाणी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(३) 
सैल्लियाँ रिढ़ियाँ उप्पर जाह्ल्लू संझा दे पर्छौयें ढळदे 
बाल-गुआळू डँगरेआँ हिक्की अप-अपणेयाँ घराँ जो चलदे 
सूरज पच्छम जाई घरोन्दा, झोंप्पडु़आँ हन दीये बळदे 
ताँ एह आई रसोइआ बोह्न्दी, इसदिया हिमती चुह्ल्ले बळदे 
साक्काँ- अंग्गाँ बिच एह मन्नियो, घरे देयाँ काज्जाँ जो भी स्याणी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(४) 
चायें-चायें घरे अपणे दे एह ऐ अंगण-द्वार सजांदी 
तीज-तिह्याराँ, दिन बाराँ जो माता दी एह जोत जगान्दी 
हर नौंइयाँ फसला औणें पर गुग्गैं जाई औरा लान्दी 
कन्ते ताएँ ब्रत एह करदी, भाउआँ जो एह टिक्का लान्दी 
एह सीता-सावित्री भी ऐ, एह ऐ मीराँ प्रेम-दीवाणीं 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(५) 
लाह्ड़ुआँ-सुआडु़आँ पुट्टी-खुट्टी कदी इसा दे अँग नीं थकदे 
इसदे लोहुए दे सेक्के नें बर्फा बिच भी घैन्ने मखदे 
एह दुख पीड़ा जरदी आई, उमरीं होइयाँ सांजो दिखदे 
इसदे रूप छळैप्पे काम्मी हाख पुट्टी नीं दिक्खी सकदे 
एह पःआड़ाँ दी आन ऐ भाउओ, असाँ इसा दी आन निभाणी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(६) 
मुलखे पर बिपता औए ता ह सूरमी नीं घट्ट गुजारै 
हसदी-हसदी देस्से पर एह भाउआँ, पुतराँ कन्ताँ बारै 
अपणे सीन्ने सळा भखाई, एह कौम्मा दिया हिक्का ठारै 
रूप कालिया दा धारी नै, एह सतबन्ती दुष्टाँ मारै 
एह रण-चण्डी भी बणी जान्दी जीह्याँ झांसी दी महाराणी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(७) 
लम्मियाँ बत्ताँ हण्डी-हण्डी कदी इसा दे पैर नीं दुखदे 
इद्दे दधूनुएँ दुद्ध निं सुकदा, इसादैं कण्ठैं गीत नी मुकदे 
एह प्हाड़ाँ दी प्यारी बेटी, इसा साह्म्णे अम्बर झुकदे 
एह ऐ म्हारी लाज परूठ्ठी, असाँ इसा दी सौंह नीं चुकदे 
“साग़र” एह ऐ रुत फुल्लाँ दी इस पर रैह्णी सदा जुआन्नी 
ओह आई प्हाड़ाँ दी राणी(८) 
मनोहर शर्मा ‘साग़र‘ पालमपुरी 
(२५ जनवरी १९२९-३० अप्रैल १९९६)

Wednesday, January 13, 2016

हेतराम तनवर






राष्ट्रपति  अब्दुल कलाम दे हत्थां राष्ट्रपति सम्मान ने सम्मानित हिमाचल दी लोक कनै शास्त्रीय गायकी दी पछेण 84 सालां दे  हेत राम तनवर होरां दा किछ दिन पेहलें  गुजरी गै। सैह बमार रेहा दे थे। 

1 जनवरी 1932 जो कुनिहार हरकोट च संगीत दी परम्परा वाळे परिवारे च इन्हां दा जन्म होया था। इन्हां पेहलें अपणे पिता गुड्डू राम ते कनै उसते बाद चाचा लच्छी राम ते सुगम संगीत सिखया। राष्ट्रपति सम्मान ते अलावा संगीत नाटक अकादमी दिल्ली कनै हिमाचल कला,संस्कृति कनै भासा सम्मान ने सम्मानित हेतराम जी दी उआज  आकाशवाणी शिमला पर 1955 च इस दी स्थापना ते ही सारे हिमाचले च गूंजदी ओआ दी। 

इन्हां देस-वदेस तिकर हिमाचली लोक संगीत जो ख्याति दुआई। इन्हां दी  गाईयो गंगी, शंकरी, मोहणा व बामणा रा छोहरूवा अज भी हर कुसी दी  जुआनी पर गाणा लगी पोन्दी।
इन्हां  अपणी माता दे गुज़रने  ते  बाद शिमले दे माहूंनाग मंदिर च शरण लई। इसते बाद इन्हां पिछें हटी की नीं दिखया । इन्हां दिया लोक गायकीया जो इन्हां दे परुआरें भी संभाळी ने रखया। आकाशवाणी शिमला पर इन्हां दे नुंहां, पुत्रां कनै पोतरुआं दी उआजा च लोकगीत बजदे रेहंदे।


इंडियन आइडल ते परसिद्ध कृतिका तनवर इन्हां दी पौतरी है।

हेतराम तनवर 
...............
कुनिहार ते ओन्दीयाँ होआं दसया
अज धौलाधार जो 
गीतां दा ईक संत नीं रिहया
जिसदयां गीतां गूंजदी थी 
असां सारयां दी  हार 
असां सारयां दी जित 
हरकतां कनै मुर्किंयां देहियां 
कि कोई पूजी जाए धौलाधार ते कुनिहार 
या हंडे सांडू दे मदाना
जित्थु बेकसूर मोहणा जो फांसीया दा रस्सा
अज भी घुटी-घुटी जांदा 
कनै  हेतराम दी उआज गान्दी
मोहणा दे गलें उपड़यो रस्से देया नशाणां
हेतराम दी याद आणे दा  कोई ईक मौसम नीं होणा है
पीछा करना है असां तिन्हां दियाँ यादां दा
असां ते रोकी नीं होणा है
समिंटें ने लदोई गाहं चलदा अर्की दे नंबरे वाळा ट्रक 
नम्‍होल दी चढ़ाइयां या मोड़ 
इस घाटे  या तिस घाटे दे तिखे मोड़
हेतरामे जाह्लु भी गाया, तार कसया था
तिसदे साफे साही 
साफ कनै चिट्टा  तिन्हां दिया दाढ़ीया साही
हेतरामें हुण  भी गाणे  हन असां दे बछोह 
असां सारयां दे मिलण
म्हारियां खुशियां 
बाईं-खुहां दे नखरे
पहाडाँ दे छाले 
रूख़ाँ दे ठूंठाँ दी व्‍यथा 
पहाड़े दियाँ खाकां पर उपड़ीयाँ लूचां दी कथा 
देणे गंभरीया दे  बोलां जो सुर 
देणी लंम्मिया टेरा च 'बामणा रा छोहरूआ' जो  उआज 
हेतराम कुत्थी नीं गे
हेतराम कुत्थी नीं जान्दे
इस वग्त जाह्लु 
लोक ते विरत है लोक 
कनै पछेणा ताईं दौड़ा दे 'फोक 
विधां तोपा दियाँ राज्‍याश्रय 
नीं झुकणे वाळा ईक ऊंचा दयार जरूरी है  
जेड़ा गल्लाइ सके 
'
आऊं कसी कौ डरूं थोड़ी भी.....'
जेड़ा गाई  सके लोक दे अंदरला  लोक 
अण डरे 
अण रुके 
अण थके 
इस करी
हेतरामें गान्दे रेहणा है
हेतरामें  याद ओन्दे रेहणा है
-नवनीत शर्मा

(लोक संगीत दे  विख्‍यात बुजुर्ग हस्‍ताक्षर हेतराम तनवर जी दी स्‍मृति जो समर्पित। तिन्हां दे बारे च  ईक किस्‍सा एह भी है कि जाह्लु सैह राष्‍ट्रपति होरां ते  सम्‍मान लेणा गे ता सुरक्षा कर्मियाँ तिन्हां दी तलाशी लेणा लगे ता इन्हां तिन्हां जो बुरे हालें  झिड़की ता। ‘एह क्‍या करा दे।‘ इन्हां ते जाह्लु पुच्छया गिया कि तुसां जो  डर नही लगा ता इन्हां दा जवाब था, मैं कुसी ते डरदा थोड़ी)