Thursday, August 14, 2014

फोहलणिया/ पहेलियाँ






अपणा इतिहास दिखिए ता पता लगदा भई जम्‍मू कश्मीर पाकिस्तान कनै पंजाब दे कुछ लाके कनै उतरांचल दे पहाड़ी लाके पहलें कट्ठे ई थे। इस करी नै इनां दी भाषा कनै संस्कृतिया दा हिमाचले दे जनजीवने पर गैह्रा असर है।
इयाँ ही फोहलणी सबदे पंजाबी सबद फ़ोलणा दी झलक साफ नजरी ओंदी। "फ़ोलणा" यानि तोपणा।

समाजे इकी दुए दी बुधि कनै ज्ञान परखने ताएँ भी फोलनिया पुछणे दी परंपरा चलदी औआ दी।

किन्‍नौर च इस ताएँ "फोहलणिया कनै बूझगे री कौथा"  सब्दां दा भी चलन मिलदा।
पहाड़ां च लोक फोहलणी जो मनोरंजन दा बड़ा बडा तरीका मनदे। राती पराले दियां बंदरियां  बही अग्‍गी तपदे या सर्दियां दियां लमियाँ रातीं कटणे ताएँ फोहलणियां दा खेल छोटे-बडे सारे खेली सकदे। फोहलणियां दा खेल  शास्त्रार्थ साही भी खेली सकदे। जे कोई फोहलणिया नी बुझी सकै ता पुछणे आला शर्ता कोई भी चीज मंग्‍गी सकदा। इस खेले याण्यां  दा मनोरंजन हुंदा कनै दिमाग बधदा।

ब्‍याहे च लाड़े जो छंद बोलणे दी बिनती करना तिसदिया बुधिया दी परखणे दा इक जरिया था।

जगह-जगह दी अपणी आवो हवा, रैह्ण-सैह्न, खेती बाड़ी, खानपान, वेशभूषा, भाषा कनै संस्कृति हुंदी कनै इन्‍हां सबनां दा असर  फोहलणिया पर पौंदा इस ताएँ फोहलणिया दे विषय लोकजीवन दी झांकी पेश करदे।

सिरमोर दे लाके एह इक  फोहलणी चलदी 
एक चिड़ी चडडगे दार ,
त्यों रे बच्चे नौ हज़ार 

एक चिड़िया के विरले दार ,
परन्तु बच्चे नौ हज़ार 

जवाब - फीमे दा डोडा 

इसा फोहलणिया पोस्ते दी फसला दा पूरा रुप पैदावार कनै नशे दी छमता दा हवाला मिलदा।
पहाड़ां च रस्‍ते बड़े दुरगम हुंदे कनै नदियां पर पुल बड़े घट थे। लोक किश्तियां कनै डंगरां दियां खल्‍लां दे सहारें नदियां पार करदे थे। किश्‍तया दे बारे च भी इक फोहलणी है।

वणे च बड्डी , वणे च टुक्की ,वणे च कित्ता हार संगार 
बारह बरहीयाँ जले च रेही , मुड़ी नी दिक्खे घर -वार

वन में काटी , वन में छांटी , वन में हुए हार श्रृंगार 
बारह वर्ष जल में काटे , मुड़ ना देखे घर -बार 

जवाब - बेड़ी , किश्ती , नौका 

पहाड़ां दा लोक जीवन खेती-वाड़ीया पर ही निरभर है तिस ताएं डंगरयां दे मदता ने फसलां बुआई बगैरा दे कम कित्‍ते जांदे थे छोटयां –छोटयां कनै पौड़ीयां साही खेतरां च बालदां दिया मदता ने हल बाहणे दा कम्म कीता जादां था

इस बारे च इक कांगड़ी फोहलणी

टिक टिक टैंजो , धरत पुट्टैन्ज़ो
तिन्न मुंडियां , दस पैर चलैन्जो

जवाब -हल जोतदा किरसाण

जियां – जियां वक़्त बदलोंदा गिया हिमाचले दे लोक सेना च भरती होए। जाह्लु फौजी छुट्टीया ओंदे थे तो जियां कि पहाड़ां च  अमूमन राती दे वक्‍त ठंड ही रैहंदी थी ता  रात के वक्‍त  ग्रां दे लोक अगि भाल बही ने कथां सुणदे-सुणादे या फौजीयां दे घरे वाळे जागरे (जगराते) करांदे ता फौजियां कनै फ़ौजा दे कम्बल भी पहाड़ां दे लोक जीवन च शामल होई गै कनै कुछ-कुछ घरां च पराले दियां बंदरीयां कनै खजूरे दियां पंदां दी जगह इना कम्बलां लई लयी।
इन कंबलां दे कारण बजूद च आई एह फोहलणी 
ईटक-मिटक ,बड़ी का सिटक,
धोबी भी धोये , अपर गोरा ना होए 

(बड़ी का सिटक यानि बड़ी दे रुखे दी छाल गलाणे दा मतलब एह है कि ए‍ह कम्बल बड़ी दे सिकड़ां बराबर मोटा होंदा) 

पहाड़ी लोक चिंतन कनै मनोरंजन रोजमर्रा दियां जरूरंता कनै कम्‍में ओणे वालीयां चीजां ने जुड़या है घराट (पनचक्की ) जिसदी कला कनै जोगता दा सबूत है

धारा बाहियाँ काकड़ियाँ , पछवाड़ें जम्मी बेल,
जब्बरुए दी दाढ़ी पुट्टी , अंदर पेई खेल 

जवाब - घराट (पनचक्की ) 



हिमाचली फोहलणीयां च ऐत्‍थु दा लोक-जीवन बोलदा, इना च ऐत्‍‍थु दे लोक चिंतन कनै व्‍यवहार दी झांकी मिलदी। इस तांए लोक संस्कृतिया जो ढंगे नै बरतणे ताएं इन्हां जो बरतणा भी जरूरी है। मूह्रलयां लेखकां लोक संस्कृति जो सहेजने दी कोशिश कीतिओ है पर अज के आधुनकि दौर च तिनां दे बेशकीमती कम्‍मे दी ब्रांडिंग करने दी ज़रुरत है तां जे तिन्‍हां दा कम्‍म आम जनता तक पूजी सकै। फोहलणिया पर डाक्टर गौतम शर्मा व्यथित होरां भी लीखया पर अज ज़रुरत है तिन्‍हां साही मतयां बड्डेयां लेखकां दे कम्‍मे जो आधुनिक तरीकयां ने आम जान मानस तक पजाणे दी।


Friday, August 8, 2014

सांभ गीत-संगीत दी (कुंजड़ी - मलहार , चम्बा )




पत्रकार कनै कार्टूनिस्‍ट अरविंद कनै मीडिया मास्‍टर विकास राणा होरां मिली नै पहाड़ी संस्‍कृति दी साज सम्‍हाळ करा दे। इह्दे बारे च हुण तुसां दयारे पर भी पढ़ी सकदे। अरविंद होरां कुंजड़ी मल्‍हार दे बारे च दस्‍सा दे हन।



सांभ गीत-संगीत दी
मते साल पैह्लें चम्बे दे राजयां अपणे स्‍तुतीगाण ताएँ लखनऊ ते अवधाल सद्दे कनै लगदे ग्रां मंगला च बसाये। इना अवधालां कुंजड़ी-मल्‍हार दी रचना कीती। कुंजड़ी-मल्‍हार च सौण रुत्‍ता दे बारे च गीत हन। जिन्हा च जनानां दी बिछोह बेदण भी सामल है। मतलब एह् भई नायिका बिछोह च कुछ इस तरीके नै कई भाव-भंगमाँ कनै अपणिया बेदणा जो कुंजड़ी-मल्‍हार दे गीतां च प्रगट कर दी भई तिसदी झांकी मिंजरा दे मेले च अज भी चम्बे दे कलाकारां ते एह सुणने कनै दिखणे जो मिली जांदी।

पैह्लें कलेले दे वक्त (संझ कनै राती दे बिचला गोधुली काल) एह गीत गाये जांदे थे। पर अजकल इक्‍की पासें नौजुआन अपणे लोक संगीत ते दूर हुंदे जा दे कनै दूए पासें मुफलिसिया दे हलातां च असां दे लोक कलाकारां ते जाह्लू मर्जी गाण गुवाई लैंदे। असल च हर राग रागणिया सुणने कनै गाणे दा इक वक्त हुंदा है।

कुंजड़ी-मल्‍हार च हर तिसा जनाना दी बेदण सामल है जिसा दा प्यारा (कंत या प्रेमी) या ता कुथी दूर परदेस नौकरी करना गिया या लामा च लड़ना गिया या भेडां चारना गिया या कुसी भी बजह नै गीते दिया नायिका ते दूर है, ऐह देही जनाना संझके वक़्त जाह्लू सबनां दे कंत घरें औंदे कनै इसा दा प्‍यारा दूर हुंदा ता इनां गीतां च सैह् जनाना अपणियां भावनां कनै बेदण  प्रगट करदी। 

 
सांभ गीत-संगीत की
बहुत पहले चम्बा के राजाओं ने अपने स्तुतिगान के लिए लखनऊ से अवधाल बुलाये जिनको कि साथ लगते गावं मंगला में बसाया गया , इन अवधालों ने कुंजड़ी - मलहार की रचना की , कुंजड़ी - मलहार में सावन ऋतु से संबधित गीत हैं जिनमें कि नारी की विरह वेदना का समावेश है 
यानि की नायिका विरह में कुछ इस तरह से विभिन्न भाव भंगिमाओं के साथ अपनी वेदना को कुंजड़ी - मलहार के गीतों के माध्यम से प्रकट करती है जिसका मंचन आज भी चम्बा के कलाकारों के ज़ानिब मिंजर के मेले में देखने और सुनने को मिलता है 
पहले कलेला के वक़्त (गोधूलि यानि शाम और रात के बीच का समय ) ये गीत गाये जाते रहे हैं लेकिन आज जब युवा वर्ग अपने लोक संगीत से विमुख हो रहा है तो ऐसे में मुफलिसी के दौर से गुजर रहे हमारे लोक कलाकारों से जब मर्जी परफॉर्म करवा लिया जाता है जबकि संगीत में हर राग रागिनी को सुनने और गाने का एक वक़्त होता है 
लॉजिक साफ़ है कुंजड़ी - मलहार में हर उस नारी की विरह वेदना का समावेश है जिसका प्रियतम (पति या महबूब ) या तो कहीं दूर परदेस में नौकरी करने गया है या युद्ध में गया है भेड़ें चराने गया है या किसी भी बजह से गीत की नायिका से दूर है , ऐसी नारी जब शाम के वक़्त जब सबके पति घर आते हैं और उसका उससे दूर होता है तो ऐसे में इन गीतों के माध्यम से वो नारी अपने इमोशंस को एक्सप्रेस करती है

कुंजड़ी - मलहार च मते सारे गीत हुंदे
जिञा कि
"गनिहर गरजे 
मेरा पिया परदेस "
(गनिहर-मेघ )

सुन्दरा बेदर्दिया 
अक्खी दा ना तू हेरया
कन्ना दा सुणया हो 
तू ताँ अधि राति मेरे सुपणे च आया 
(हेरया - देखा )

शब्द हन
उड़ - उड़ कुँजड़िए , वर्षा दे धियाड़े ओ 
मेरे रामा जींदेयां दे मेले हो

बे मना याणी मेरी जान , उड़ - उड़ कुँजड़िए
पर तेरे सुन्ने वो मडावां , रूपे दियां चूंजा हो 
बे मना याणी मेरी जान , उड़ - उड़ कुँजड़िए

चिकनी बूंदा मेघा बरसे , पर मेरे सिज्जे हो 
ओ मेरे रामा याणी मेरी जान , उड़ - उड़ कुँजड़िए

उच्चे पीपला पीहंगा पेइयां , रल-मिल सखियाँ झूटप गइयां हो 
झूटे लांदीआं सेइयाँ हो , ओ मेरे रामा मना याणी मेरी जान ,

जींदे रेहले फिरि मिलिले , मुआ मिलदा ना कोई 
बे मना याणी मेरी जान , उड़ - उड़ कुँजड़िए

कुंजड़ी चातके साही इक्‍क पंछी है
ए कुंजड़ी तू उड़ 
वर्षा के दिन आ गए हैं 
मेरे प्रियतम को सन्देश दे , कि अब तो मिलने का समय आ गया 
देख तू उन्हें अपने साथ लेकर आना , मैं तेरे पंख सोने से मड़वा दूँगी 
चोंच चांदी से सजा दूँगी तू उड़ और मेरा काम करके आ 
वर्षा की ऋतु है , मेरे पंख भीग जाएंगे , मैं कैसे उड़ूँगी , 
सन्देश देकर आती अन्यथा मैं जरूर जाती ,
ऊंचे पीपल पर झूले पड़े हैं , मिल जुल कर सहेलियां झूला झूलने गयी 
परन्तु मुझे मेरे प्रीतम की याद , उदास बना देती है

कुंजड़ी उड़ और उड़ कर जा 
ज़िन्दगी रही तो फिर मिलेंगे , फिर कई बरसातें आएँगी 
ए कुंजड़ी तू उड़ कर जा , और मेरे प्रीतम को संदेसा दे कर आ

मलहार
मेरे लोभिया हो , आ घरे हो , मैं निक्की याणी हो 
मैं निक्की याणी ,

जीउ कियां लाणा हो कंथा , मेरेया लोभिया हो , आ घरे 
सेज रंगीली ना सेज रंगीली , मेरे जाया परदेस हो कंथा

मेरे लोभिया हो , आ घरे हो 
पाई के बसीले ना पाई के बसीले , ते याणी जिंद ठगी हो कंथा
मेरे लोभिया हो , आ घरे हो

मेरे लोभी पति घर आ , मैं अस्वस्थ हूँ 
मेरे प्रियतम मैं मन कैसे लगाऊँ 
मेरे लोभी प्रियतम घर आओ 
मैं चाव से सेज बिछाती हूँ , मेरे परदेसी कंत
मेरे लोभी प्रियतम घर आओ 
तूने मुझसे प्रेम जता कर , मेरा कोमल जीवन ठगा है

सबसे दुखद पहलू हमारी परम्पराओं को सहजने के काम को लेकर ये रहा है हम लोग अपनी रिवायतों से इस कदर विमुख हो बैठे हैं कि स्थानीय स्तर पर हम लोगों को अपनी संस्कृति की जानकारी नहीं है।
( अवधाल यानी कि संगीतज्ञ वैसे अवधाल फ़ारसी का शब्द है लेकिन उस वक़्त फ़ारसी , उर्दू आदि भाषाओँ का पहाड़ी रियासतों में प्रभाव रहा है )

Sunday, August 3, 2014

नामदेव लक्ष्मण ढसाल




मुंबई दिया चमका-दमका दे हेठ दबोईयां देहबाजार ताएं बदनाम गळियां कनै झोपड़पटिटयां दी सड़ैना दा मराठी साहित्‍य ने पछैण कराणे वाले मराठी साहित्‍य दे विद्रोही कवि, लेखक, मानवधिकार कार्यकर्ता, 1999 च पद्म श्री कनै 2004 च साहित्‍य अकादमी दे लाईफ टाईम , एचीवमेंट एवार्ड ने सम्‍मानित नामदेव लक्ष्‍मण ढसाल दा इस साले दी शुरूआत च 15 जनवरी 2014 जो देहांत होई गिया। इनां 70 दे दशक च अपणे पहले ही कवता संग्रह गोलपिठा ने हलचल मचाई ती थी। देहबाजार ताएं बदनाम बस्‍ती कमाठीपुरा पर तिना दी बोहत ही चर्चित कवता कमाठीपुरा दा पहाड़ी, हिन्‍दी, अंग्रेजी अनुवाद कनै मूल कवता पेश है।

कमाठीपुरा

कॅलेंडरे  छडी प्‍चांह
सदियां दे जख्‍मां जिस्‍मे पर ओह्डी नै
निशाचर सैह्ल एत्‍थु अराम करा दी
लुभावने सलेटी गुलदस्ते साही 
अपणयां ही सुपनयां  गुआचियो 

जम्बा होई गिया है माण्‍हू 
तिसदा परमेसर नकम्‍मा 
एह पंजर क्‍या गीत गांह्गा 

चाही दा ता सख्‍त आंखीं दा पैह्रा लार्इदेया
तिन्‍हां दे अत्‍थुरआं भी कठेरी ने रखीलेया  
पर लोभी रूपे दिखी टुटी जादें सारे सौंगळ
सैह्ल  बजळोई नै जागी जांदी
कंडयां वाले फणे ने खुरची-खुरची   
जखमां करी दिंदी आरपार
रात होदीं मिलणिया ताएं तयार,
तियां तियां जख्‍मां  खिड़णा लगदेफुल
फुल्‍लां दे समुदरे ने ढकोई जांदा अंबर  
अंबरे  मोरनीया कनै नचदा मोर

एह नरक
एह चक्‍करांदे नदिया दे पलैस,
एह बदसूरत टोचदी पीड़
एह घुंगरुआं पैह्नी नचदी वेदण

छिलअपणिया  चमड़ीया इक बरी जड़ांते छिली दे
नचोड़ी लै अपणे आपे जो,
सदा दे जैह्रे भरोइया इसा कुक्‍खा जो होईजाणा दे निरजीव
इस सख्‍त मासे दे गोळे  
पौणा नी चाही दा अंगा दा कोई कुर
एह लै पोटाशियम सायनाईड         
चक्‍खी लै इसदा सुआद
पले दे कितणुऐ  हिस्‍से  मरदी बारी
लि‍खी जा मनता वाला छोटा ‘एस’

मिठा कि खारा
जैह्रे दा स्‍वाद चखणे ताएं इत लंघीरांलगियां
सबदां साही मौत भी भरोई-भरोई बगादी
बसथोड़ी ही देरा  ऐत्‍थु बह्रना लग्‍गीपोणा है

कामाठीपुरा
दब्‍बी ने सारयां मौसमां कच्‍छा 
बैठया तू चिकड़े  पळाठा मारी
इन्‍हां सतखसमयां सुखदु:खां ते परे जाईने
मैं दिखा दा वाट तेरे कमल होणे दी
- चिकड़े दा कमल

अनुवाद:  कुशल कुमार


कामाठीपुरा 

कैलेंडर को पीछे छोड़
सदियों के जख्म देह पर मढ़े
निशाचर साही यहाँ आराम फरमा रहा है
लुभावने धूसर गुलदस्‍ते की भांति
अपने ही सपनों में गुम

गूंगा हो गया है इन्सान
और उसका ईश्वर जनखा
यह ठठरी क्या  गाएगी

लगे तो  सख्त आँखों का पहरा लगा दो
उनके आंसुओं को भी सहेज कर रख लो
उसका मोहना रूप देख टूट जाते हैं सारे ताले संयम के
वह हडबडा कर जागता है
काँटों वाले अपने फन से खुरच खुरच
जख्मों को आर पार कर देता है
रात होती है तेयार अभिसार को
वैसे वैसे जख्मों में खिलने लगते हैं फूल
बहुत बहुत दूर तक फैल जाता है फूलोंका समुंदर
इसमें में मोरनी के साथ नाचता है‍ रतिमोर

यह नरक
यह चक्कराते भवंर
यह चुभती पीड़ा
यह घुंगरू पहन नाचती वेदना

छील अपनी चमड़ी को एकदम जड़ सेछील दे
निचोड़ ले अपने आप को
सनातन जहर भरे इस गर्भाशय को होजाने दे निर्जीव
इस सख्त मांस के गोले में
नहीं उमगना चाहीये अंगों का कोई अंकुर
यह ले पोटेशियम साइनाइड
चख ले इसका स्वाद
क्षण के कितनवें तो हिस्से में मरती बार
लिख रख जा अभिप्रेत होता जा रहाछोटा  ‘एस

मीठा या खारा
विष का अस्वाद लेने के लिए यहाँ कतारेंलगी हैं
शब्दों की तरह यहां मौत भी भर भरआती है
बस थोड़ी ही देर में यहाँ बरसने लगेगा

कमाठीपुरा
सभी मोसमों को बगल में दबाये
तू कीचड़ में पलाथा मार बैठा है
इन छिनाल सुखों दुखों के आगे जाकर
में तेरे कमल होने की राह देख रहा हूँ
कीचड़ का कमल

अनुवाद:  कुशल कुमार

Kamatipura”
(translation: Dilip Chitre)
The nocturnal porcupine reclines here
Like an alluring grey bouquet
Wearing the syphilitic sores of centuries
Pushing the calendar away
Forever lost in its own dreams
Man’s lost his speech
His god’s a shitting skeleton
Will this void ever find a voice, become a voice?
If you wish, keep an iron eye on it to watch
If there’s a tear in it, freeze it and save it too
Just looking at its alluring form, one goes berserk
The porcupine wakes up with a start
Attacks you with its sharp aroused bristles
Wounds you all over, through and through
As the night gets ready for its bridegroom, wounds begin to blossom
Unending oceans of flowers roll out
Peacocks continually dance and mate
This is hell
This is a swirling vortex
This is an ugly agony
This is pain wearing a dancer’s anklets
Shed your skin, shed your skin from its very roots
Skin yourself
Let these poisoned everlasting wombs become disembodied.
Let not this numbed ball of flesh sprout limbs
Taste this
Potassium cyanide!
As you die at the infinitesimal fraction of a second,
Write down the small ‘s’ that’s being forever lowered.
Here queue up they who want to taste
Poison’s sweet or salt flavour
Death gathers here, as do words,
In just a minute, it will start pouring here.
O Kamatipura,
Tucking all seasons under your armpit
You squat in the mud here
I go beyond all the pleasures and pains of whoring and wait
For your lotus to bloom.
— A lotus in the mud.

कामाठीपुरा                               

कॅलेंडरला हेपलून                      
कित्‍येक शतकांचा उपदंश देहावर मढवून                      
निशाचर साळिंदर पहुडलंय इथं                         
दिसतं कसं लोभस करड्या गुच्‍छासारंख            
स्‍वप्‍नातच अविरत दंग दंग                              

मनुष्‍य झालाय मुका                                        
त्‍याचा परमेश्‍वर बुळगा                                     
या पोकळीला कंठ फुटेल काय                          

हवं तर लोखंडी डोळा निगराणीवर ठेव              
असेल, तर त्‍यातलाही अश्रू गोठवून ठेव             
त्याचं छकड़ रुपडं पाहून सुटतो ताळतंत्र संयमाचा
ते खडवडून होतं जागं                                       
बोचकारत काटेरी फण्‍यानं जिव्‍हारी                  
ते जखमा करून सोडतं आरपार                      
रात्र होते उपवर,तसतशी जखमांना फुटतात फुळे          
फुलांचे पसरतात समुद्र नितांत                         
नितांताचे नाचत राहतात मैथुनमोर                   

हा नरक                                                                       
हा गरगरणारा भोवरा,                                       
हे ठणकणारे कुरूप                                           
ही घुंगरणारी वेदना                                           
ढाळ,ढाळ,अंगावरली कात एकदा मुळापासून      
सोलून घे स्‍वत:ला,                                           
हे विषाक्‍त सनातन गर्भाशय होऊन जाऊ दे निर्देही
या ढिम्‍म मांसाच्‍या गोळयाला                         
फुटायला नकोत अवयवांचे धुमारे                                  
हे पोटॅशियम सायनाईड                                                 
घे, चे चव याची                                                
क्षणाच्‍या कितीव्‍या तरी भागावर मरताना                      
लिहून ठेवं अभिग्रेत होत जाणारा निम एस     

गोड किवां खारट                                             
विषाची चव घेण्‍यास जुंपल्‍यायत इथं रांगा       
शब्‍दांसारखे इथे मरण देखील आले आहे भरून            
बस्‍स, थोडया वेळात इथे सरी कोसळू लागतील            

कामाठीपुरा                                                       
सर्व मौसमांना बगलेत मारुन                             
तू फतकलास चिखलात                                                 
या छिनाल सुखदु:खाच्‍या पलीकडे जाऊन                      
मी पाहतो वाट तुझी कमळ होण्‍याची              
-चिखलातलं कमळ