Sunday, April 19, 2020

अक्खर अक्खर जुगनूं



चंद्ररेखा ढडवाल होरां दे प्हाड़ी कवता संग्रह दे पैह्ले हिस्से पर पर मैं अपणे मने दी गल लिखी। एह भी ख्याल था भई गीतां गंजलां पर भी गल होणा चाहिदी। इस करी द्विजेंद्र द्विज होरां जो अरज कीती। तिन्हां खुसिया खुसिया लिखी नै भेजी ती। तां इसा कताबा पर असां दे लेखे दे दो हिस्से हन। पैह्ला ताजगी कनै तल्खी मेरा लिखेया कनै दूआ,  म्हीन-म्हीन कत्तेयाँ,  मिठा- मिठा बोलेयाँ द्विजेंद्र द्विज दा। एक इक प्रयोग ई है। रळी-मिळी लिखणे दे इस कम्मे च इक होर गल साम्हणै आई। सैह् असां दूंह्ई जो मसूस होई। कवता च हिंदिया दा डिक्शन आई जांदा। पता लग्गा भई चंद्ररेखां होरां इन्हां चा ते कई कवतां हिंदिया च लिखियां। पता नीं पैह्लें हिंदिया च लिखियां फिरी प्हाड़िया च लिखियां या प्हाड़िया ते हिंदिया च आइयां। एह् भी इक प्रयोग है। जे इस प्रयोगे दा जिक्र कताबा च कीत्या हुंदा ता पाठक कवतां जो तिस स्हाबे नै पढ़दा। जे कल कोई इन्हां कवतां पर शोध करै तां तिह्जो कवतां दी रचना प्रक्रिया दी कुछ खबर रैह्ंणा चाहिदी ही। इस लेखे दे आखिर च असां इक कवता बाजीगरी दूंह्ई भासां च देया दे। दिक्खन्यों भला प्हाड़ी कनै हिंदी आम्हणो – साम्हणिया किञा खड़ोह्तियां।
                                                                                                                                  
ताजगी कनै तलखी

करोना काल चलेया है। असां सारेयां जो अपणे अपणे घरां च होड़ी नै रखी तेया। मन भी टंगोयो ई हन। तिस पर डरे दी परत भी जमियो है। बिजी रैह्णे ताईं लोक किस्मां किस्मां दियां तरकीबां भी दस्सा दे। बस मना जां परचेळी रखणे दे जतन ई हन। इस कोरोना काले च लिखणे दी कोसस करना भी सौखा कम्म नीं है। फिरी भी कोसस करा दा है। मतेयां दिनां ते चंद्ररेखा ढडवाल होरां दा कवता संग्रह अक्खर-अक्खर जुगनूरक्खेया था। पढ़ी नै प्हाड़ी  (हिमाचली) भासा ते उमीद भी जग्गी थी। पर लिखणे दी हिम्मत नी होआ दी थी। हिम्मत ता हुण भी नीं है। पर सोच्या कोसस करी दिक्खां।

अक्खर-अक्खर जुगनू कवता संग्रहे दी पैह्लिया कवता च ई रेखा ढडवाल होरां अपणे लिखणे कनै सोचणे दी इक लकीर खिंजी दितियो है। एह् लिखणे जो जुगनू कठेरने साह्ई दिखदे।
अक्खर अक्खर जुगनू कठेरना
कनै सूरजे दी बराबरी करने दा
हौंसला पाई लैणा

जुगनू कठेरने दा बिंब छैळ ता है ही, गूढ़ा भी है। जुगनू न्हेरे च लोई दा प्रतीक भी बणदा कनै टिमटिम करदा खूबसूरत भी लगदा। जुगनुए कठेरने कनै सूरजे दी बराबरी करने दा संकल्प भी जबरदस्त है। छोटा जेह्या जुगनू कनै हौंसला सूरजे दी बराबरी करने दा। एह् बडिया सत्ता दे साम्ह्णै छोटे माह्णुआं दी हिम्मत है। इसा सुरुआता ते गांह् सारी कताब ई पढ़ने आळी है। सारियां कवतां पर गल करने दी बजाए कुसी कुसी कवता जो छूंह्दे चलदे हन।  

इक कवता है नी धुक्खणा। धुक्खणा लफ्ज ई दुखे जो साक्षात करने ताईं काफी है। इसा कवता च राजनैतिक चेतना भी चमका दी है।
बजारे दिया अग्गी च
नी धुक्खणा तिस गोह्टुए साही

तरक्कियां दे तमासे आम आदमिए ताईं  नी हन। सैह् तुसांदे हन, ‘तुसांमतलब होर’, ‘असांनीं। पखले। बह्जिए (?)पखलेयांदे अर्थतंतरे दा अर्थ कनै जनतंतरे दा जन भी तिस नी होणा। इसा कवता च गांह् दो लफ्ज हन, ‘मनमथियां रीझांकनै अपणियां सरतां पर जीणा। कविए दी एह् सोच आम आदमिए दे अपणे होणे दा मतलब सिद्ध करा दी है।

इक होर कवता है, ‘नी पुच्छेया सुखसांद। इसा कवता च प्यारे दी हौळी कोमल टेर है। ऐसी भई तिसा च तबले कनैं सितारे दा संगीत पैदा हुंदा। पर प्यारे दे दुआर खोलणे सौखे नीं हुंदे। एत्थी भी नीं ही खुल्ले। दुआलां बणी रोकणे आळी लल्ह बड़ी उच्ची है। सैह् कुसी दी नीं सुणदी। मिह्नियां उवाजां दबोई जांदियां। कूळियां कोंपलां कुम्हलाई जांदियां।

बाजीगरीकवता च बेसणे च लप्टोहि्यो कनै तेले च तळोंदिया मछिया दा चित्तर बड़ा करड़ा है। कविएं तळणे आळे दी नुहार भी चतेरी तियो। बड़ी गुज्ही तकलीफ है। इस बिंबे (image) दी कल्पना करना कनै झेलणा असान नीं है। इस बिंबे कनै हिंसा दी लम्मी पल्न्घीर लिपटियो है। कविए दी नजर बड़ी पैनी कनै पीड़ बड़ी डुग्घी है।

रेखा ढडवाल होरां अपणियां कवतां च व्यक्ति कनै सत्ता दी गैर बराबरिया दी पड़ताल कीतियो है। सत्ता सिर्फ राजसत्ता ई नीं, समाजे च होर भी छोटियां-बडियां ताकतां पर तिन्हां दी नजर है। आदमी कनै औरता दी गैर बराबरी भी हटी हटी नै साम्हणै औंदी है। कविए दे मने च सुआल भी मते हन। इक्की बक्खैं करड़ी, कठोर, पत्थर किस्मा दी दुनिया है, दूए पासैं कोमल, सुकोमल भाव-भावनां, विचारां, बिंबां, तांह्गां, मनसूबेयां, संकल्पां दी छिंड भी दित्तियो है। एह् जणता कोई सिंम्फनी है। कई सप्तक कदी कट्ठे, कदी जुदे-जुदे बजदे। कविए जो जेह्ड़ी गल पसंद नीं है, तिसा गल्ला जो साफ-साफ गलाणे च झिझक भी नीं है। किस्मां-किस्मां दे जुद्धां च जितणा भौंएं असान नीं है, पर कवि मुकाबले च खड़ोई ता जांदा। कोमल सुर कनै श्रुतियां भी सौगी सौगी औादियां रैंह्दियां। एही ता है जिंदगिया दी रागदारी।

अनूप सेठी
इसा कताबा च चाळी ते उप्पर कवतां हन। तीहां ते उप्पर गीत- गजलां हन। गीत गजलां मिंजो जादा समझ नीं औंदियां। कवता दे पासें मेरा ध्यान जादा गेया। पहाड़िया च इन्हां जो रबड़ छंद बोली नै मजाक जेह्या उड़ाई नै कनारै करी दिंदे। जादातर कवि गीतां गजलां दे पंगूह्ड़ुआं च झूटदे रैंह्दे। नौंई गल कुसी कुसी गैं ई हुंदी। जिस वग्ते च असां दी बोली-भासा हफी-हफी जा दी होऐ, तिस वग्ते च कवता लिखणा इक जिद्द ई है। बड़ी खुसी है भई अक्खर अक्खर जुगनू संग्रहे दियां कवता दी वस्तुई फर्क है। रूपता फर्क है ही। इह्जो नभाणा असान नीं है। जिञा कव‍ि कवता च नौईं वस्तुल्यौंदा, पहाड़िया च हिन्दी भाषा झाती मारना लगी पौंदी। सोचणे पर भी लिखणे पर भी। मेरा ख्याल है देह् देह् कम होर हुंदे रैंह्गे तां हौळैं हौळैं इसा नौइंया पहाड़िया दा रूप सुरूप छैळ बणी जाणा है। इसा कताबा च भी ताजगी ता है। इसा ताजगिया कनै तलखिया दा सुआगत है। 




म्हीन-म्हीन कत्तेयाँ,  मिठा- मिठा बोलेयाँ
आदरजोग अनूप सेठी होराँ जो आदरजोग चन्द्ररेखा ढडवाल दे प्हाड़ी कवता संग्रह अक्खर-अक्खर जुगनू दियाँ कवताँ  रूपकने वस्तुदीताजगीकनेतल्खी  सुज्झा दी भाई अनूप सेठी होराँ बिल्कुल सच गला दे।  मिन्जो इस संग्रह दियाँ छोटियाँ-छोटियाँ कवता गजल दे शेराँ दा,  छळैप्पा सुज्झा दा। पढ़देयाँ ही जबानी याद होई जाणे दी खूब्बी दोह्याँ कनैं चोपाइयाँ साह्यीं गज़लाँ देयाँ शेराँ च भी हुन्दी ताँ सैह आम माह्णुएँ तिकर तिसदिया भाषा तुर्त-फुर्त पुज्जी भी जान्दे कने तिस वाह्ल रेह्यी भी जान्दे, तिसदे निह्यारेयाँ लोई दा कम भी करदे।
अक्खर-अक्खर जुगनू  संग्रह दा दूसरा हिस्सा छणकदे बोल  है सच्चैं एह  छणकदे   बोल गजलाँ, गीत्ताँ , कने नज्माँ दिया लोक भाषा दिया  मिठिया, सुरीलिया कने मन मूह्णिया खुश्बूदार मिटिया ते आयो। छणकदे ताँ भी जे इन्हाँ दा छणकाट्टा असाँ दे जीणे दा संगीत , फिरी एह संगीत लगातार अक्खै-बक्खैं गूँजदा भी रैह्न्दा। 
राजे जीन्दे जुगाँ  काँगड़े जिले देयाँ घरैं-घरैं गाइयाँ जाणे वाळियाँ लोककथाँ दे सूत्र-वाक्याँ जो  गीत्ते देयाँ बोल्लाँ परोई नै बुणियो जादुई रचना है।  मर्द पर्धान समाज दी छोट्टी सोच, सोह्रियाँ देयाँ घराँ नूहआँ  दी दसा जुगाँ-जुगाँ ते खराब   असाँ दे राजतान्त्रिक लोकतन्तरे,  जाँ लोकतान्त्रिक राजतन्तरे  आम माहणुए देआँ जळबाँ दी पँड अजैं भी गिरकी ही है। उपरा ते पीड़ा जो कालजैं लाई नैं हास्से बँडणे दी समाजी मजबूरी (लोकलाज) भी।  अंतरा पीड़ कालजैं लाणे दी चीज मिये हास्से बँडणे जोगेकने इस गीत्ते दा हर इक बंद दिले दमागे पर मती देर राज करी नै रुआई-रुआई नै नीरो-नीर करने वाळा है। 
काळजैं निरदी पीड़’, ‘असाँ चली जाणा’ (सुहाग गीत ) धीयाँ (बेटियाँ) दी प्योकियाँ दा घर छडणे दी बेद्दण  कनै माए सद्दी बुला  सोह्ररियाँ दे घरे ते पियोकियाँ दी बेद्दण काळजे छूह्यी लैन्दी। असाँ दिया अधिया दुनिया दी एह बेद्दण अमीर खुसरो दे गीत्ते  अम्मा मोरे बाबा को भेजो री कि सावन आयादी याद  भी करान्दी।  गीतबोल कबोलकने  मिटिया दे खेलणूमाह्णुए दे जीणे दा आखरी सच दार्शनिकाँ दिया बड़िया प्रतीकात्मक भाषा म्हेसा पढ़ने-सुणने आळे कने  रैह्णे दी सिफ्त रखदे।ज्यून्देयाँ दे मेळे’, ‘सच’, ‘हाकम’, ‘कम्मभी बाँकियाँ छन्दबद्ध नज्माँ हन, हटी-हटी नैं पढ़ने वाळियाँ। खरे उच्चे  भाव पक्खे वाळिया रचनाकुड़ियाँदा कला पखनार’ ‘पाणी’ , ‘सिक्खा’, ‘हाक्खीं, ‘न्याणेदे मुकाबले किछ कमजोर रेह्यी गेया।  
इक गल्ल मिंजो समझा नीं आई पता नीं  कैंह चन्द्ररेखा  ढडवाल होराँ अपणियाँ छैळ-बाँकियाँ गजलाँ जो गजल शीर्षक नीं  दित्ता!  कुसी इक्की शेरे  देयाँ लफ्जाँ चुकी ने शीर्षक लाई दित्तेया!  गजला मते शेर हुन्दे कने एह जरूरी नीं है जे कुसी इक्की शेरे  देदो लफ़्ज  सारिया गजला तियैं शीर्षक दा कम भी करी देह्न , हाँ एह कम गज़ल दी रदीफ जरूर करदी।  नार’,  पाणी’ , ‘सिक्खा’, ‘हाक्खीं, ‘न्याणेरदीफा वाळिया गज़लाँ इसा कसोटिया पर खरियाँ उतरा दियाँ।  इह्नाँ गज़लाँ जो नज्मिया-गजलाँ जाँ गजलिया-नज्माँ , किछ भी बोल्ला, कमाल हन।हसियाँ बंगाँ,’ ’लोक्काँ पुछणा,’ ’आसाँ भी निक्कियाँ’, ’रज्जण सारे,‘  इन्हाँ ग्राँ’, इन्नी सराद्धैं, परोह्णेयाँ भी रजणा’, ‘चला सराहिए’ ‘खरियाँ नीत्ता’, ’उड़ना सिखणा‘, ‘पुठियाँ अड़ियाँ’, ‘दिखणाँ क्या’, ‘मोसमाँ मुड़ना नीं’ , ’डरना कैह्जोशीर्षकाँ वाळियाँ रचनाँ भी ठी-ठाक गजलाँ हन  कने छैळ भी अपण इन्हाँ दे एह शीर्षक भरमेर्ने  वाळे हन। कैंह जे पाठक सबते पैह्लैं शीर्षक वाळा शेर ही तोपदा रेह्यी यान्दा। एह सारे शीर्षक सारिया गज़ला दी अगुवाई नीं करदे। 
कुल मलाई नैं इन्हाँ  सारियाँ रचना दी जन्म-भूमि लोक संस्कृति , लोक परम्परा ऐ। अपण इसा परम्परा जो अपणे समें दे सच देयाँ अलग-अलग पर्छौण्टेयाँ देया रंगां कने हिमाचली कवता दी भावभूमि जो होर भी समृद्ध, होर भी सशक्त करने दिया कुशाग्र काव्य-प्रतिभा कने संवेदना तियैं चन्द्र रेखा होराँ  जो मती-मती बधाई।  इक्की लोक गीत्ते दी लैण याद औआ दीम्हीन-म्हीन कत्तेयाँ,  मिठा- मिठा बोलेयाँ।  चन्द्र रेखा ढडवाल होराँ दियाँ रचनाँ दी म्हीन-म्हीन छैळ कताई कने मिठी- मिठी भाषा सच्चैं गमणे वाळी है। 
द्विजेन्द्र द्विज
अक्खर-अक्खर जुगनूदियाँ  छन्दबद्ध रचनाँ छणकदे बोल  दी जबान (भाषा) लोक गीत्ताँ दे लोकधर्मी परगड़े दी जबान ऐ।  लोक संस्कृतिया दियाँ , धुप्पाँ , चान्नणियाँ , परगड़ेयाँ कने प्रार्थनाँ दे , टकोह्द्दे रंगाँ  कने ठाठे दी,  दिले ते निकळी नै दिलाँ तिकर पुजदी जबान है जिसा जो आम माह्णुएँ देयाँ  जळबाँ दी पाण कनै तजर्बेयाँ दी साण भी लगियो। संतोख , धीरज , होसला , हिम्मत , मेद , मठास , संगीत , लो , परगड़ा ,  कवियत्रिया दिया म्हीन कताइया दे ताणे-बाणे देयाँ छैळ बांकेयाँ कने मतेयाँ  गजब नमून्नेयाँ साफ-साफ झल्कदे सुझदे।
हाँ, कताबा दे पैह्ले हिस्से दियाँ किछ कवताँ दिया भाषा ते कुथी-कुथी, कदी-कदी एह भी लगदा जे सैह कवताँ ढकमकार प्हाड़िया नीं लखोइयाँ, हिंदिया ते अनुवाद होइयाँ। टाइप दियाँ गल्तियाँ भी मतियाँ जगहाँ पढ़ने दा सुआद बगाड़ा दियाँ।                                                                                                               

बाजीगरी
कुछ भी ग्लाई  कैं
कुछ भी करी नैं
घड़ियां-दुईं घड़ियां च
हस्सी पौणा न्याणेयां साईं
बड़ा सुखमां लगदा था मिंजो
अज दस्सां ! कदेया लगदा
सैह रूप तेरा
(कि सुआंग तेरा)
बेसणे बिच मंडोइयो
मछिया जो उबळदे तेले च पाई नै
बेफिकर बीड़ी पींदे
तलैये दिया नुहारा जेहा .....

बेसणे च लपटोयो
सरीरे सौगी-सौगी
कदी नीं सुक्कड़दा
कदी नीं फट्टदा सैह्
बाजीगिरी
कुछ भी कह कर
कुछ भी करके
पल दो पल में
हँस पड़ना निश्चिंत
भाता था मुझे बहुत
कहूँ ! कैसा लगता है
अब वह उपक्रम तुम्हारा
बेसन में लिपटी
मछली को
उबलते तेल में छोड़
बीड़ी पीते
तलैया का-सा
.  .  .
बेसन के भीतर छिपी
मछली के साथ
कब सिकुड़ता
कब फटता है वह