Saturday, December 28, 2013

जिँदगी भी ‘द्विज’ जी सह्चियो रूह्यी नैं झाण लग्गै


हिमाचली गजल

निस्चे दा जे तिसा पर पक्का नसाण लग्गै
जाई पखेरुए दिया हाक्खी च बाण लग्गै

पैह्ल्लैं ता जिन्दे ! तिज्जो जळबाँ  दी पाण लग्गै
ताँ ई तजर्बेयाँ दी तिज्जो भी   साण लग्गै

जादा कि तोड़ने जो एह खिंज -ताण लग्गै
मुस्कल बड़ा इ  हुण ताँ झल्लण -झलाण लग्गै

किछ लम्म-लेट अपणी किछ मार लारेयाँ दी
खँजड़ैं न खाण लग्गै, मँजड़ैं न बाण लग्गै

भुक्खा दा भूत तिद्दा
हुण क्या बगाड़ी लैहंग्गा
फाक्कैं रेह्यी ने मितरा माह्णू मसाण लग्गै

भरमें च ईह्याँ पाह्येआ जजमान तैं पुरोह्त्ता
पर्ने च ढकियों मच्छी तिसजो पुराण लग्गै

तेरा कसूर नीं ऐ ऐनक है होर तेरी
मूआ-मड़ा सै माह्णू तिज्जो पठाण लग्गै

कुसिओ एह ठीक कर्ह्गा ? कुसिओ दुआ एह दिहँग्गा
बैद्दे दा हुण ता अपणा भुन्जाँ बछाण लग्गै

लगदी नीं दूर जान्दी गास्सैं पतंग मितरा
बेढब अजीब टेह्डी जीह्याँ उठाण लग्गै

बसुआस जीह्याँ टुट्टे हण आस बी नीं कोई
खरियाँ भी होन नीताँ सांजो ता काण लग्गै

काह्ल्लू तिकर ऐ इन्नै हण होर भार चुकणाँ
मा धरतिया दी पिठ ता दूह्री कमाण लग्गै

हुजळैठियाँ ते ताँ ई औणा तैं बाज बैद्दा !
कदी जे मरीज्जाँ सौग्गी तेरा बछाण लग्गै

करतूत काळी-कौड़ी होणी तेरी ओ मितरा
मिठ्ठा बड़ा ई तेरा बोल्लण- गलाण लग्गै

चेह्रे पर होर चेह्रा तिस पर भी होर चेह्रा
फिरी माहणुए दी कीह्याँ असली पछाण लग्गै

खरकोई भी बह्दा दी खुर्क होर खसमाँ खाणी
जिँदगी भी ‘द्विज’ जी  सह्चियो रूह्यी  नैं झाण लग्गै


-द्विजेन्द्र द्विज

Saturday, December 14, 2013

क्या लिखेया,कयो लिखेया

युवा कवि विनोद भावुक होरां दियां कवतां दयार पर पेश हन। 

(साभार: फेसबुक)





क्या लिखेया,कयो लिखेया,अर्था तां समझांगा कुण।।
कांगडिय़ा विच मैं लिखदा मेरेयां गीतां गांगा कुण।।

मशरूमा दे मैरहम बणी बरसाती दा मजा गुआया।
खोल़ें पेइयां टटमोरां, पर सोगी बीणना जांगा कुण।।
(
अंतरराष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस के लिए)  

1 कुसने में दिले देयां गुदड़ां बखूरदा .






जख्मां ते हर कोई है लूणा बरुरदा।
कुसने मैं दिले देयां गुदड़ां बखूरदा।।

मुकणी नी गल एथू छंदेयां तरलेयां।
बटदा मचूचां सैह थपड़ां भी गूरदा।।

आखीं चैं कदकी उतरी आई बरसात। 
मैं रेहया पिछलेयां ही निंबला झूरदा।।

तडक़े दे लेग्गयो पट्टिया संज पेई गेई।
बीड़ां बनदा कि मैड़ी धरडां जो पूरदा।।

मिल्ला कुथी कदी जे अप्पू ने कल्हा।
अप्पू ते सैह डरी करी सीसे जो घूरदा ।।


2 चिड़ियां जो दाणा चाहिदा ……… 

मुंह ही नी फुलांणा चाहिदा।. 
कदी सिर भी झुकाणा चाहिदा।।

कुथी सुख दुःख लाणा चाहिदा।
कोई अपना बनाणा चाहिदा ।। 

बण ही नी कटाणा चाहिदा ।
कोई बूटा भी लाणा चाहिदा।।

हल्ला ही नी पाणा चाहिदा ।
कदी हथ भी बंडाणा चाहिदा।।

कोई रुसदा मनाणा चाहिदा ।
कोई रोंदा हंसाणा चाहिदा ।।

कुथी दिल भी लगाणा चाहिदा ।
कुथी मिटना मिटाणा चाहिदा ।।

खाना भी कुछ बचाणा चाहिदा।
दान पुन भी कमाणा चाहिदा।। 

नचणा भी कने नचाणा चाहिदा ।
पहलें तां गाणा बजाणा चाहिदा।।

कोई सपना भी सजाणा चाहिदा ।
कोई बंजर भी बसाणा चाहिदा ।।

कुत्ते जो भी मठुणी चाहीदी।
चिड़ियां जो भी दाणा चाहिदा ।। 

विनोद भावुक