Monday, July 26, 2021

सतीश कालसेकर

सतीश कालसेकर : 1942-2021


मराठी भाषा दे मशहूर कवि, लेखक, संपादक सतीश कालसेकर होरां 24 जुलाई 2021 जो गुजरी गै। 

तिन्हां दिया यादा च तिन्हां दियां दो कवितां कुशल कुमार होरां दयार ताईं 

हिंदिया ते पहाड़िया च अनुवाद कीतियां हन। 

मराठी ते हिंदिया दे अनुवाद संजय भिसे होरां दे हन। 

   


परिमार्जन

सैह् चले जांदे मौता दे सामणे

बेवग्‍त उमरा च

कनैं पैहले ते किछ दसदे भी नीं

 

फिह्री बच्या रही जांदा असां ताईं तिन्हां दा

महेशा ताईं मुक्की जाणां

 

तिन्हां पैह्लें कीत्तियां गल्लां

अंदर ही अंदर

छळ दियां रेह्न्दियां

मौता दे भेते ते बी जादा

 

तिन्हां दिया ल्हासा दे बक्खें होआ दी होंदियां

गांह-पचांह फुसफुस उआजां

हस्पताले दी मरियो रपोट

बीमा कम्पणिया दा समझाणा

पुळसा आळयां दा हत्‍थ मलाणा

 

पचांह् बची रैंह्दी है तिन्हां दिया छात्तिया पर

दुनियादारिया दी फिकर

जेह्ड़े गै तिन्हां दा

इसा दुनियादारिया च

कदी नीं लगया मन

 

तासा दे जोडू पतयां

जो रामें नें फैंटी

पसंदा देयां मितरां जो

अखीरी बार

 

उंगलियां दी उड़ान

ढोलकिया दे चमडे पर

खणखणाई आखिरी बार

 

आखरी पीड़ा जो  

नीं औणा दित्ता लबड़ां पर तिन्हां

जोरे ने दब्बी रक्खी

अपणिया छातिया च

ताकि भुली सकन

सारे जीणे पर कित्या प्यार

 

क्या सैह् दिखणा चांहदे थे मुड़ी नैं

इकदम आखरी मौके पर

फिह्री ते सारा किछ नौंए सिरे ते

मौता तिक जाई नै

फिह्री ते हटणे दी नजाकता ने भरोयो संयम दा

परिमार्जन.

 


वर्तमान

कवताँ च गलांदा कवि सच

कनैं देही कबता पढ़ दिया बारिया

डुग्गा दुख खिंजदा

मिंजो बड़ीया गैह्राइया च

 

कवता च गलांदा कवि झूठ

कनैं मिंजो आई नें घेरी लैंदा दुख

इसते भी किछ जादा डुग्गा

 

दुखे दी बेलगाम खिंज

क्या एही है असां दा वर्तमान

 

मैं सुणियां तुसां दिया कवतां

कनैं गल्‍लाया,

बड़ियाँ छैल हन एह् कवतां

 

कनैं गल्लाया,

बड़ा बुरा लगदा

कि असां जो लिखणा पौंदिया

ऐह् देहियां कवतां

 

कनै फिह्री सुन्न होई गै

असां दोह्यो किछ देरा ताईं

 

Sunday, July 18, 2021

गाह्यी छड्डी दुनिया सारी

 


शायर द्विजेंद्र द्विज होरां दी हिमाचली पहाड़ी ग़ज़लां दी कताब ऐब पुराणा सीह्स्‍से दा इसी साल छपी है। इसा कताबा दे बारे च कुशल कुमार होरां दी एह समीक्षा पेश है।

 

हुण एह् ऐब सीह्स्‍से दा होए या माह्णु ऐ दा, ऐब ता ऐब ही होंदा। असां दी आदत है, असां अपणयां ऐबां दुए दे सिरें मढ़दे। इस ताईं सीह्स्‍से बड़े कम्‍में ओंदे। एह् असां दे ही ऐब हन जेह्ड़े सीह्स्‍सयां दे सिरें हन। सीह्स्‍से दे भाह्ने द्विज होरां असां दे सारे ऐब गजलां च गाई नें गणाई भी दित्‍ते कनै सीह्स्‍से साही दस्‍सी भी दित्‍ते। पर ऐह माह्णू इतणा ऐबी है एह् कुसी सीह्स्‍से च नीं उतरदा। आखर टुटणा सीह्स्‍से दी तकदीर है ताईं ता द्विज जी जो गलाणा पिया। किह्तणां सोग मनाणा सीह्स्‍से दा।

एह् कताब द्विज जी दिया कला दा कमाल है। हिंदी च भी कई गजलां वाळे उड़दुए दे लफजां दा साह्रा लेंदे पर द्विज जी दियां इह्नां गजलां च प्‍हाड़ी भासा दी अपणयां निकड़यां फंगड़ुआं दी उच्‍ची उड़ान है। प्‍हाड़ी नदियां, छरूड़ुआं दी लय, होआ दे गीत- संगीत इक मिट्ठी लम्‍मी तान है। जिसा ताना पर इक बरी हत्‍थें लेया ता कताबा छडणे जो मन ही नीं करदा। द्विज होरां असां दे जीणे दी, दुखां-पीड़ां दी, हुश्‍यारियां-चलाकियां दी, भोळे होणे कनैं दौड़ा च प्‍चांह् छुटी जाणे दियां सब गलां चतेरियां। एह् जीणा सोचया जाए ता अपणे आपे नें इक लड़ाई ही है। द्विज जी पुछा दे।

दस्‍सैं कदी तैं जित्‍ती

अप्‍पूं ने जंग मितरा

 

हुण कोई भी जंग जे जितणी होऐ ता निस्‍चा ता चाही दा।  

 

निस्‍चे दा जे तिसा पर पक्‍का नसाण लग्‍गै

जाई पखेरुए दिया हाक्‍खी च बाण लग्‍गै

 

माह्णु ए व्‍हाल सब किछ है पर एह् निश्‍चा ही नीं है। एह् भी इक कजा ही है।

रोज अप्‍पूं नैं घुळकदा रैह्न्‍दा  

मेरी मिंजो नैं एह् कजा क्‍या ऐ

 

इसा कजाई बिच भी किछ परगड़ा होणे दिया मेद्दा पर जिंदगी ढैंदी-पौंदी रैह्न्‍दी।

किछ उमेद्दां दे परगड़े छड्डी

होर जीणे दा आसदा क्‍या है

 

समझा ता किछ औंदा नीं, इह्यां लगदा एह् जीणा इक स्‍वांग है कनैं माह्णू इक मनसुखा है। एह् मनसुखा काह्ली हसदा काह्ली रोंदा पर हासल किछ नीं होंदा।

रोई अंदरै जे बाह्र हस्‍सा दा

मिंजो अंदर एह् मनसुखा क्‍या ऐ

 

आखर च दुनिया दी इस चूहा दौड़ा च घसटोई-घसटोई माह्णूए जो एह् जीणा भी इक घसटोणा लगणा लगी पोंदा।

हसणा नीं बस रोणा इ था

जीणा था क्‍या घसटोणा इ था

 

ऊपरे ते जीणे दियां इतणियां खिंजा हन कि किछ भी करा धागे च पळेस पई ही जांदे फिह्री जितणा खोह्ड़ा उतणा होर गुत्थम-गुत्था होंदा जांदा।

तांह तुआंह कैंह् थे खिंजा दे

धाग्‍गें ता पळचोणा इ था

 

इसा इक पळचोईया जिंदगीया लेई नैं असां सारी दुनिया घुमदे रैंहन्‍दे।

गाह्यी छड्डी दुनिया सारी

अन्‍दरा जो भी मार उडारी

 

हुण करी भी क्‍या सकदे! माह्णु ऐ जो जमदे ही सुख दुख लगी पौंदे कनैं माह्णु इन्‍हां च कैद होई नें फंगा मारदा रही जांदा।

असां दे दुखां दी-सुखां दी जणेत

औन्‍दी ऐ जान्‍दी ऐ जान्‍नी समेत

  

असां उमर भर ईह्यां ही किछ करने दी कोशश करने दे  बजाए बैर बरोद्धां पाळी बैह्ल्‍या  जळवां च जळदे रैह्न्‍दे। 

किछ नीं मिलणां खून्‍नें जाळी

रड़कां बैर-बरोद्धां पाळी

 

जे टुट्टा दा तू तिस गठ्ठा नीं करदा

जे भज्‍जा दा तू तिस जोड़ा नीं करदा

 

दुनिया ते बाह्र तेरिया दुनिया इक होर है

खोह्ड़े जे तू कदी इन्‍हां भित्‍तां दुआरियां

 

गलाणा सौखा है। बाह्र निकला उप्पर उट्ठा कनैं उड़ा लेकन इन्‍हां दुआरियां दा खुड़ना इक रूहानी जातरा होंदी। मनें दा हिरण काबू नीं औंदा।

जिसा कस्‍तूरिया तोप्‍पा दा तू सैह् है तिज्‍जो अंदर

मना हिर्ना कजो ईह्यां बणो-बण दुड़कदा रैह्न्‍दा

 

एह् मने दा हिरण गलाणे जो ही हिरण होंदा असल च बब्‍बर शेरे ते भी बड्डा बब्‍बर शेर होंदा। इस शेरे जो लगदा कि एही सयाणा है।

होरनां सभनां वला अक्‍ला दा घाट्टा निकळया

सारिया दुनिया च बस इक मैंसियाणा निकळया

 

एह् सयाणा कुत्‍थी भी त‍लकोई पोंदा कनैं अपणी गलतियां-कमियां जो फोकियां सजावटां पचांह् लकादां रैहंदा।

बोल मनां। हर कुथकी

कैंह् लगदा तलकूणां

 

द्वाल्‍लां सजान्‍देआं कदी अन्‍दरां ल्‍ह्कान्‍देआं

निकळी गई इक उमर ऐ पर्दे इ पान्‍देआं

 

अपणे-अपणे सुपने होंदे कनैं तिन्‍हां ताईं अपणी-अपणी खिट होंदी। माह्णू ऐ दा जीण इक सुपनां ही ता होंदा पर न्‍ह्ठी नै भी कितणा कि न्‍ह्ठणा कनै कपाळिया ते गांह कतांह जाणा।

 

द्विज मैं न्‍ह्ठी-न्‍ह्ठी ने अप्‍पूं जो तोपा करदा

जीह्यां कुसी दा सुपनां कोई नभाळ होऐ

 

जाई कुथी भी रस्‍सां-बस्‍सां

अप्‍पूं ते मैं कुथियो नह्स्‍सां

 

देश आजाद होई गिया पर मजदूरां दे हालात नीं बदलोए। जीणे दी तौन्‍दीया दियां धुप्‍पां दे मसाफर अज भी इक माड़ी देईया छाऊआं जो तरसा दे।

 

कैंह् भला इक्‍की जह्गा मजदूर नीं बसदा कदी

बदली नैं दुनिया नीं तिसदा हाल बदळोन्‍दा कदी

 

सफर भी था चणाट्टां दा कने भखियो थी तौन्‍दी भी

बसोन्‍दे जा असां पल भी कुथी जे रुक्‍ख हरा मिलदा

 

मते सारे सुपने ढेर सारियां इच्‍छां। सोचां द बण कनैं मने दा न्‍हेरा मन भिंबळी जांदा। न्‍हेरें दिया भी वाळी नीं होंदा। मुश्‍कल रस्‍तयां संभळी-संभळी चली लेंदा। ओंदी पधरी ता ढई पोंदा। आखर मंजल किछ दूर ही रही जांदी।

 

इक बण था ख्‍वाहिशां दा भी मंजला ते किछ रुआंह

रस्‍ता जे भिंबळेया ता भिंबळदा रेह्या फिरी

 

द्विज था फह्ळियां, गोह्रां, कुआळां दा जातरू

पधरी जे बत्‍त मिल्‍ली जा फिसळदा रेह्या फिरी

 

इक आम माह्णुऐ ताईं गजला दा मतलब होंदा इश्‍क, मुश्‍क हुस्‍न पर द्विज जी एह् ता सुज्झा दा नीं सीह्स्‍से च। जे सच्‍चा प्‍यार होऐ ता सीह्स्‍से च नीं ओदा कनै जे ऐब ही होए ता ऐही ठीक है।

 

प्रेम्‍मे दिया बांई ईह्यां मत करें खारिया

रूह्यी दा खियाल कर खल्‍लां दे बपारिया        

 

मरदां दिया इसा दुनिया च कुड़ियां दा क्‍या होणा, ता क्‍या जीणा है। संग्रह दी शुरुआत च कुड़ियां लड़िया दियां अट्ठा गजंलां कनै 59 शेरां च इक भी देह्या नीं है जेह्ड़ा छडया जाए। कुड़ियां दियां हाक्‍खीं दे सीह्स्‍से ने नजरां मेळणे ताईं असां दे समाजे जो हाली भी मता वग्‍त लगणा है।


तुसां गलान्‍दे लाट्टां-जोतां

पेट्टां बिच्‍च बुझोइयां कुड़ियां

 

चुप-चुप, चुप, चुप, चुप सुणि नैं

चुप-चुप, गुम-गुम होईयां कुड़ियां

 

एह दुनिया क्‍या दुनिया रैंह्गी

एह्त्‍थू जे नी होईयां कुड़ियां?    

   

इक बडे शायर गला दे थे कि तकनीक सिक्‍खी मेहनत करी गजल कोई भी लीखी सकदा पर गजला च कमाल ओणा एह् कोई उपरे आळे दी कृपा दा ही मामला होंदा। मिंजो इस कताबा दिया गजलां पढ़ने बाद एह् लग्गा भई एह् गल पूरे सोळा आने सच है। द्विज पर माता सरस्‍वती दी कृपा है तांही गजलां च आत्‍मा दा सीह्स्‍सा झांका दा।

पवनेन्‍द्र पवनजी दा गलाणा है- 

                    ‘‘

एह् जिन्‍दू दे पेड़ुए च भरोईयां पीड़ां दियां गजलां हन। भाव पख, कला पख, शेरियत ने बैह्र, काफि़या, रदीफ़ दिया कसौटिया पर खरियां उतरदियां इन्‍हां गजलां दी एह् कताब पहाड़ी भाषा जो द्विज जी दा नायाब तोह्फा है। 
                                       ’’

 

नवनीत शर्मा जी दा मनणा है- 

‘‘

हिमाचली या पहाड़ी के मुहावरे बेहद खूबसूरती के साथ गजलों में सहेजे और सजाए गए हैं। यह गजल संग्रह‍ अपने हिमाचली भाषा के जारी सफर में ऐसा पड़ाव है जिसके बाद मंजिल पर ह‍क और साफ हो जाएगा। 

                                                                            ’’

      

इस पर अपणी तस्‍दीक दी मोह्र लगाई अनूप सेठी जी ने ठीक ही लिखया-  

‘‘ 
एह् कताब इक नौंआ चेप्‍टर शुरू करने आळी है। एह् गजलां कुसी भी हिंदुस्‍तानी भासा दियां कवतां दिया बराबरिया दियां हन। इन्‍हां च अपणी परंपरा, अपणे लोक दी डुग्‍घी छाप है। भासा च संगीत कनै लोच है। अजकिया दुनिया नै सिद्धी टकर है। 

                                                                 ’’


सच एह् कताब प्‍हाड़ी भासा दिया इसा कठण चढ़ाईया दे जातरूंआ तांई इक   सोठीया साही कम्‍में ओणी है। द्विज जी जो मतियां-मतियां बधाईयां कनै एही   शुभकामनां हन कि तिन्‍हां पर माता सरस्‍वती कृपा बह्रदी रैह्।

कुशल कुमार








द्विजेंद्र द्विज होरां दी ग़ज़लां यूट्यूब पर 

मितरो सच गलाणा चल्ले : स्वर पंडित सोमदम्म बट्टू 

ऐब पुराणा सीह्स्से दा : स्वर तेज कुमार सेठी 


द्विजेंद्र द्विज होरां दी कताब एमाज़ॉन पर

 

Tuesday, July 6, 2021

यादां फौजा दियां

 


फौजियां दियां जिंदगियां दे बारे च असां जितणा जाणदेतिसते जादा जाणने दी तांह्ग असां जो रैंह्दी है। रिटैर फौजी भगत राम मंडोत्रा होरां फौजा दियां अपणियां यादां हिंदिया च लिखा दे थे। असां तिन्हां गैं अर्जी लाई भई अपणिया बोलिया च लिखा। तिन्हां स्हाड़ी अर्जी मन्नी लई। हुण असां यादां दी एह् लड़ी सुरू कीती हैदूंई जबानां च। पेश है इसा लड़िया दा नौंमा मणका।


........................................................................

 

सहीदां दियां समाधियां दे परदेसे च (नौमीं कड़ी)

बोमडिला ते थल्लें उतरी करी असां दिरांग आई रैह् थे। दिरांग बोमडिला ते तकरीबन 42 किलोमीटर अग्गें पौंदा है।  तिसदे परंत सेंगे दी चढ़ाई लगी पोंदी है। दिरांग ते सेंगे तकरीबन 37 किलोमीटर दूर है।  इस दिरांग च, सन् 1962 दे भारत चीन जंग दे दौरान, चीनी फौज़ें सेला दे डिफेंस च लगेयो पिच्छें हटदे म्हारे इन्फेंट्री ब्रिगेड जो बड़ा भारी नुकसान पजाया था।  मैं दिलें ही दिलें  तिन्हां सहीदां जो मत्था टेक्केया था। 

मिंजो अपणी फौज़ी सर्विस दे दौरान अरुणाचल प्रदेश च तिन्न बरी जाणे दा मौका मिल्लेया था।  पहली बरी सन् 1989-1991 दे दौरान मैं तवांग ते अग्गें लुम्पो नां दिया जगह रिहा था जिसदा ज़िकर एत्थू होआ दा।  दूइया बारिया सन् 2002-2003 च मिंजो दूर पूर्वे पासें तेजू कनै वालोंग च रैह्णे दा मौका नसीब होया था कनै खीरी बारिया सन् 2003-2005 दा वक्त मैं दोहंग च कट्टेया था। तिन्न-तिन्न बारी अरुणाचल प्रदेश च जाणे दिया बजह ते मेरा जाण जम्मू-कश्मीर च नीं होई सक्केया था।  मिंजो सांहीं, देहा कोई ही जाई नै होंगा, जिन्नी 32 साल फौज़ी सर्विस कित्ती होए कनै कदी भी जम्मू-कश्मीर च नीं गया होए। 

थोड़ी कि देरा परंत सेंगे दी चढ़ाई लगी पई थी।  संझ ढळा दी थी। सर्पे सांहीं टेढ़िया-मेढ़िया चढ़ाइया चढ़दे वक्तें काह्ली-काह्ली पहाड़ां दियां चोटियां गास धुप नज़र आई जांदी थी।  ताह्ली चाणचक मौसमें ब्याट मारी ती थी कनै बरखा दा छैह्बर पईया था।  गड्डिया दे अग्गें हैड लाइटां जळियां थियां पर मिंजो सड़क नज़र नीं औआ दी थी। मैं हैरान था कि नायक याद राम यादव गड्डिया जो किंञा चलादे थे।  गड्डिया दे सीह्से दे अंदरले पासें जम्मेयो भाफे जो पूंह्जणे तांईं मैं खीह्से ते रुमाल कड्ढी करी इस्तेमाल कित्ता था पर तिसते भी कोई फैदा नीं होया था। बाहर किछ भी नीं सुज्झा दा था अपर नायक यादव गड्डिया जो चलांदे ही जा दे थे।  मिंजो डर लगा दा था कि कुतह्की गड्डी संगड़िया सड़का ते खिसकी करी थल्ले जो नीं चली जाए कनै असां दा सफ़र तित्थू ही नीं ख़त्म होई जाऐ।  जाह्लू मैं तिन्हां जो ग्लाया था कि सड़क तां सुज्झा दी  ही नीं, कैंह् नीं असां खड़ोई करी बरखा दे ठमकौणे जो निहागी लैंण तां तिन्हां जवाब दित्ता था, 'सर, तुसां रति भर भी फिकर मत करा, सड़का दे इक पासें ढाब है मैं तिसा दे सहारें सड़का दा अनुमान लगाई सकदा।  अज्ज मैं तुसां जो सेंगे पजाई नै ही छड़णा है।मैं चुपचाप हाखीं मिट्टी करी बैठह्या-बैठह्या भगुआने नै परारथना  करदा जा दा था कि नायक यादव होरां दा अंदाजा कुतह्की गलत नीं होई जाए। 

जाह्लू असां सेंगे पुज्जे घुप नेह्रा होई गिह्या था।  तिन्हां दिनां च सेंगें फौज़ा दा इक ट्रांजिट कैम्प होआ करदा था।  जाह्लू असां कैम्प दे गेटे पर पुज्जे बरखा चुक्की गइयो थी।  मैं गड्डिया ते लोही करी संतरिए ते पुच्छेया था कि असां राती जो कुत्थू रैह्णा था। मेरी गल्ल अणसुणी करदे होयां संतरिएं उल्टा मिंजो ते सुआल कित्तेया था, 'क्या तुसां हौळदार भगत राम हन?'  मेरे हाँ बोळणे पर तिन्नी दस्सेया था, 'तुसां दे कर्नल साहब, जेह्डे एत्थू अफसर एकमोडेसन च ठहरेयो, घड़ियें-घड़ियें फोने करी नै तुसां दे औणे दे बारे च पुच्छा दे हन।  लिया, पैह्लें तिन्हां कन्नै गल्ल करा।एह् गलाई करी तिन्नी फोन मिलाई नै हैंड सेट मेरे हत्थें पकड़ाईता था।  उप-कमाण अफसर होरां असां दा हालचाल पुच्छेया था कनै अगलिया भ्यागा दे सत बजे अग्गें कूच करने हुक्म दित्ता था। 

सेंगे च होरती ते ठंड किछ जादा ही थी।  उप-कमाण अफसर होरां ग्लाह्या था कि तिन्हां ट्रांजिट वाळेयां जो असां दा खाणा गरम रखणे तांईं बोलह्या था पर असां जो तित्थू ठंडा खाणा ही मिल्लेया था।  एह् असां तांईं कोई नोंईं गल्ल नीं थी।  जादातर फौज़ियां जो देहियां गल्लां झेलणे दी आदत होंदी है।  फौज़ी जींण अपणे आपे च इक जोख़मा नै भरोया सफ़र होंदा है।  इस सफ़रे च फौज़िए दिया जिंदगिया दा सुनहरा वक्त गुज़री जांदा है।  जेह्ड़े लोक इस जोख़म भरे सफ़रे दा भरपूर नन्द लैंदे तिन्हां जो अपणी जिंदगी दा इक खास हिस्सा इस च गुज़ारने दा पछता कतई नीं होंदा है।

फ़ौजी बेसक इक मुस्कल जींण जींदे हन। सान जींण जीणे दी इच्छा रखणे वाळेयां जो फ़ौजी जीण कतई माफक नीं बैंह्दा।  अरामपरस्त लोक फ़ौजा च जाई करी सिस्टम ते मेह्सा नराज़ रैंह्दे हन कनै फ़ौजा तांईं नासूर बणी जांदे हन। तिन्हां दी इक मिसाल अज्जकल सैह् नोजुआन हन जेह्ड़े फ़ौजा दे खाणे कनै होर सहूलतां दा रोणा रोंदे वीडियो वायरल करदे रैंह्दे हन।  घरां च भी तां मती बरी खाणा खरा नीं बणदा पर तिसदा वीडियो वायरल नीं होंदा है।  फ़ौज दियां बैरकां सच्चे फ़ौजिये दा घर ही होंदियां हन।  मैं बत्ती साल फ़ौजा च कट्टे।  तिस जमानें फ़ौजियां जो अज्जकल्ला ते घट सहूलतां मिलदियां थियां।  मतियां मुस्कलां साह्मणे आइयां।  इक दो मौकेयां पर फ़ौज छड्डी देणे दी गल्ल भी दिले च आई।  अपर मैं फ़ौजा दिया नौकरिया जो इक एडवेंचर दे तौर पर लिया कनै इक गनर ते लई करी सूबेदार मेजर तिकर 32 बरहियां दा लम्मा सफर बड़े मजे कन्नै गाह्या।  अज्ज मैं जाह्लू फ़ौजी बर्दिया च अपणे पराणे फोटू दिक्खदा तां तिन्हां जो सलूट करने जो दिल करदा कनै दिल इक बरी फिरी एक्टिव फ़ौजी जिन्दगी जीणे तांई कुह्कां मारदा। 

अगले दिनै भ्यागा असां दत्तैलू करी ने दस्सिह्या ठाहरी जाई रैह् थे कनै फिरी लेफ्टिनेंट कर्नल होरां दिया जोंगा पिच्छें-पिच्छें चली पै थे।  थोड़ी कि देर गुआही चढ़णे दे परंत असां वैसाखी पोंह्ची गै थे।  वैसाखी सेंगे ते तकरीबन 12 किलोमीटर उपरले पासें पोंदी है।  तिन्हां दिनां च तित्थू तोपखाने दी इक फील्ड रेजिमेंट दा ठकाणा होंदा था।  असां तित्थू थोड़ी कि देर रुके थे।  तिन्हां असां जो चाह्यी कन्नै गर्मागर्म पकौड़े परोसे थे, जेह्ड़े असां मज़े नै सुआद लगाई करी खाह्दे थे।  वैसाखी ते सड़कें-सड़कें 14 किलोमीटर तिकर चढ़ाई चढ़नें परंत असां सेला दिया चूंडिया गास पोंह्चणा था।

तित्थू ते विदा लई करी असां अपणा सफ़र ज़ारी रक्खेया था।  मील पत्थर दसदे जा दे थे कि सेला दर्रे दी दूरी लगातार घटदी जा दी थी।  मिंजो सेला दर्रे पर पूजणे दी कनै तित्थू दा नज़ारा दिक्खणे दी काह्ळी लगियो थी।  उतणिया उच्चाइया गास होणे दा नन्द मैं जिंदगी च पहली बरी लैणे वाळा था। 

तकरीबन 11 बजे असां दी वन टन गड्डी सेला दे टॉप पर थी।  मैं नायक यादव होरां जो गड्डी रोकणे तांईं ग्लाया था। गड्डिया रुकदिया ही मैं छाळ मारी नै थल्लें उतरी गिया था।  मनमोहणे वाळा बड़ा छैळ नज़ारा था।  देहा बझोआ था कि मैं हत्थ उप्पर करी बदळां जो छूई सकदा था।  उप-कमाण अफ़सर होरां दी जोंगा सेला दे दूजे पासे दिया टेढ़िया-मेढ़िया लुआह्इया उतरदी नूरानांग बक्खी जांदी साफ नज़र औआ दी थी।  सेला पर बर्फ दा नसाण तिकर नीं था।  चौंह् पासें मनमोह्णी रिहाली थी, जुलाई दा महीना जे था।  मैं खुस होई नै सैला उप्पर 20-25 मीटर सण्हूट लगाई दित्ती थी।  ऑक्सीजन दी घाट होणे दिया बजह नै मेरा साह फुल्ली गिया तां मैं लक्के पर अपणे दोयो हत्थ रक्खी करी खड़ोई नै चौंह पासें नज़र मारी थी।  तित्थू ही कुह्तकी 1962 दे भारत-चीन जंग च सहीद होयो ब्रिगेडियर होशियार सिंह होरां दा ब्रिगेड हैडकुआटर होंदा था। 

नायक यादव मेरियां तिन्हां हरकतां जो दिक्खी नै हैरान थे।  किछ देरा परंत मैं  अपणिया सीटा पर आई बैठेया था कनै नायक यादव होरां गड्डी गेअरा च पाई दित्ती थी। तिन्हां मिंजो खबरदार कित्ता था कि मिंजो तिसा उच्चाइया पर बगैर अक्लाइमटाइज़ेशन ते उतणी तेज दौड़ नीं लगाणी चाहिदी थी।  नायक यादव जो पता नीं था कि मैं इक पहाड़ी मुंडा था। 

अरुणाचल प्रदेश दे दो जिलेयां, पच्छमी कामेंग कनै तवांग दिया हद्दा पर सेला (Sela) दर्रा तवांग जाणे दे रस्ते च 13700 ते किछ ज्यादा उंच्चाइया पर पौंदा है।  तित्थू ते गजरने वाळी सड़क तवांग जो दिरांग कनै गुवाहाटी कन्नै जोड़दी है।  सेला गुवाहाटी ते 340 किलोमीटर दूर है कनै तवांग शहर सेला ते 78 किलोमीटर अग्गें है। 

सेला दिया चोटिया दे नेडें उत्तर दिशा च इक झील है। बौद्ध धर्म दे मुताबक एह झील तिस इलाके च पौणे वाळियां तकरीबन 101 पवित्र झीलां च इक है। तित्थू स्याळें बड़ी भारी बर्फबारी होंदी है।  जेकर बरसाती दे दिनां च ल्हाए पोणे दिया बजह ते रस्ते च रुकावट नीं पोए तां एह् दर्रा सारा साल खुल्ला रैंह्दा है। गर्मियां कनै बरसाती दे मौसमां च झील दे अक्खे-बक्खे दा हरा-भरा इलाका याकां दी चारागाह दे कम्में औंदा है। 


........................................................................


शहीदों की समाधियां के प्रदेश में (नौवीं कड़ी)

बोमडिला से नीचे उतर कर हम दिरांग पहुंचे थे। दिरांग बोमडिला से लगभग 42 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।  उसके बाद सेंगे की चढ़ाई प्रारम्भ हो जाती है। दिरांग से सेंगे की दूरी लगभग 37 किलोमीटर है।  इसी दिरांग में सन् 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान चीनियों ने सेला की रक्षा के लिये तैनात पीछे हटते हुए हमारे इन्फेंट्री ब्रिगेड को बहुत नुकसान पहुंचाया था।  मैंने दिल ही दिल में उन शहीदों को नमन किया था। 

मुझे अपने सैन्य सेवाकाल के दौरान अरुणाचल प्रदेश में तीन बार जाने का अवसर प्राप्त हुआ था।  पहली बार सन् 1989-1991 के दौरान मैं तवांग से आगे लुम्पो में रहा था जिसकी यात्रा का ज़िक्र यहां हो रहा है।  दूसरी बार सन् 2002-2003 में मुझे सुदूर पूर्व में तेजू और वालोंग में रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था और अंतिम बार सन् 2003-2005 का समय मैंने दोहंग में व्यतीत किया था। अरुणाचल प्रदेश में तीन-तीन बार जाने के कारण मेरा जम्मू और कश्मीर में जाना नहीं हो पाया था।  मेरी तरह बिरला ही कोई सैनिक होगा जिसने 32 वर्ष सैन्य सेवा की हो और कभी जम्मू और कश्मीर में न गया हो। 

कुछ ही देर में सेंगे के लिए चढ़ाई शुरू हो गयी थी। शाम ढल रही थी। सर्पाकार सड़क को चढ़ते हुए कभी-कभी धूप पर्वत शिखरों पर दिख जाती थी। तभी अचानक मौसम ने अंगड़ाई ली थी और मूसलाधार बारिश शुरू हो गयी थी। गाड़ी के आगे हैड लाईटें जली होने के बावजूद मुझे सड़क नज़र नहीं आ रही थी।  मुझे ताज्जुब हो रहा था कि नायक यादव गाड़ी कैसे चला रहे थे। गाड़ी की विंड शील्ड के अंदर की ओर जमी भाप को साफ करने के लिए मैंने जेब से अपना रुमाल निकाल कर इस्तेमाल किया था पर उस से भी पारदर्शिता में कोई खास बढ़ोतरी नहीं हुई थी पर नायक यादव गाड़ी चलाते ही जा रहे थे। मुझे डर लग रहा था कि कहीं गाड़ी संकरी सड़क से फिसल कर नीचे न चली जाए और सफर वहीं न समाप्त हो जाए।  मैंने जब उन्हें बताया था कि सड़क तो दिख नहीं रही। क्यों न हम रुक कर बारिश थमने का इंतजार करें। तब उन का जवाब था, "सर, आप ज़रा भी फिक्र न करें मैं सड़क के एक तरफ जो पहाड़ है  उसका सहारा लेकर रोड का अंदाजा लगा सकता हूँ।  मैं आपको आज सेंगे ज़रूर पहुंचाऊंगा।"  मैं चुपचाप आँखें बंद करके बैठे-बैठे  भगवान से प्रार्थना करता जा रहा था कि नायक यादव का अंदाजा कहीं चूके न। 

जब हम सेंगे पहुँचे तो घुप अंधेरा हो चुका था। उन दिनों सेंगे में सेना का एक ट्रांजिट कैंप हुआ करता था। जब हम कैंप के गेट पर पहुंचे, बारिश थम गई थी। मैंने गाड़ी से उतर कर वहां तैनात संतरी से पूछा था कि हमें रात को कहां ठहरना था। संतरी ने मेरी बात  अनसुनी करते हुए उल्टा मुझ से प्रश्न किया था, "क्या आप हवलदार भगत राम हैं?"  मेरे हाँ कहने पर उसने बताया, "आपके कर्नल साहव, जो यहां  अफ़सर एकमोडेशन मैं ठहरे हैं, बार-बार फोन कर के आपके आने के  बारे में पूछ रहे हैं। पहले आप उनसे बात कीजिये।"  यह कह कर उसने फोन मिला कर हैंड सेट मेरे हाथ में थमा दिया था। उप-कमान अधिकारी ने हमारी कुशल क्षेम पूछी थी और अगली सुबह के सात बजे आगे कूच करने के निर्देश दिए थे। 

सेंगे में अपेक्षाकृत अधिक सर्दी थी। उप-कमान अधिकारी  ने  कहा था कि उन्होंने ट्रांजिट कैम्प वालों को हमारा खाना गर्म रखने के लिये बताया था पर हमें वहां ठंडा खाना ही मिला था।  ये हमारे लिए कोई नई बात नहीं थी।  सैनिक आमतौर पर  ऐसी बातें झेलने के आदी  होते हैं। सैनिक जीवन अपने आप में एक जोखिम भरी यात्रा होता है। इस यात्रा में सैनिक के जीवन का स्वर्णकाल गुज़र जाता है।  जो व्यक्ति इस जोखिम भरे सफर का भरपूर आनंद लेते है उन्हें अपनी जिंदगी के महत्वपूर्ण वर्ष इसमें गुजारने का कतई पछतावा नहीं होता है।  

सैनिक निःसन्देह एक कठिन जीवन जीते हैं।  सुगम जीवन जीने की चाह रखने वालों के लिए सैनिक जीवन कदापि उपयुक्त नहीं होता।  आरामपरस्त लोग सेना में  जाकर सिस्टम से हमेशा नाराज़ रहते हैं और सेना के लिए नासूर बन जाते हैं। इनका एक उदाहरण आजकल वे नोजवान हैं जो सेना के खाने और सुविधाओं का रोना रोते हुए वीडियो वायरल करते रहते हैं।  कई बार घर में भी तो खाना अच्छा नहीं बनता है पर उसका कोई वीडियो  वायरल  नहीं होता है।  सेना की बैरकें एक सच्चे सैनिक का दूसरा घर होती हैं।  मैंने 32 वर्ष सेना में गुज़ारे।  उस जमाने में सैनिकों को आज की तुलना में कम सुविधाएं उपलब्ध थीं।  कई कठिनाईयों से गुजरना पड़ा। एक दो मौकों पर फ़ौज छोड़ देने की बात भी मन में आई पर मैंने सैनिक जीवन को एडवेंचर के तौर पर लिया और गनर से लेकर सूबेदार मेजर तक का 32 वर्ष लम्बा सफर खुशी-खुशी तय कर लिया।  आज मैं जब वर्दी में अपने पुराने फ़ोटो देखता हूँ तो उन्हें सेल्यूट करने को मन करता है और हृदय में वो जीवन एक बार फिर से जीने की ललक उमड़ती है। 

अगले दिन सुबह  हम ब्रेकफास्ट करके  निर्धारित स्थान पर पहुँच गए थे और लेफ्टिनेंट कर्नल महोदय की जोंगा के पीछे-पीछे चल दिए थे। कुछ देर चढ़ाई चढ़ने के उपरांत हम वैसाखी पहुंच गए थे। वैसाखी सेंगे से लगभग 12 किलोमीटर ऊपर की ओर पड़ती है। उन दिनों वहां पर तोपखाने की एक फ़ील्ड रेजिमेंट का ठिकाना हुआ करता था। हम वहां कुछ देर रुके थे। उन्होंने हमें चाय के साथ गर्मागर्म पकौड़े खिलाए थे।  जिनका हमने भरपूर आनंद लिया था। वैसाखी से सड़क की 14 किलोमीटर तक और चढ़ाई तय कर के हमें सेला की चोटी पर पहुंचना था। 

वहां से रुखसत हो कर हमने आगे की यात्रा जारी रखी थी।  मील पत्थर बताते जा रहे थे कि सेला दर्रे  की दूरी निरंतर कम होती जा रही थी।  सेला दर्रे पर पहुंचने और वहां का नज़ारा देखने की मेरी उत्सुकता बढ़ती जा रही थी।  उतनी ऊंचाई पर होने का आनंद मैं जीवन में पहली बार लेने वाला था। 

लगभग 11 बजे हमारी वन टन गाड़ी सेला के शिखर पर थी।  मैंने नायक यादव को गाड़ी रोकने के लिए कहा था।  गाड़ी रुकते ही मैं नीचे उतरा था। अदभुत मनोरम दृश्य था।  ऐसा लग रहा था कि मैं चहलकदमी करते बादलों को हाथ उठा कर छू सकता था। उप-कमान अधिकारी महोदय की जोंगा सेला के दूसरी और टेढ़ी-मेढ़ी सड़क से  नीचे की ओर स्थित नूरानांग की ओर उतरती साफ-साफ नज़र आ रही थी। सेला पर बर्फ का निशान तक नहीं था। चारों और मनमोहक हरियाली थी, जुलाई का महीना जो था। मैंने सेला पर हर्षोन्माद में लगभग 20-25 मीटर की दौड़ लगाई थी।  ऑक्सीजन की कमी के कारण सांस फूल गया तो दोनों हाथों से अपनी कमर पकड़ कर खड़े-खड़े चारों ओर नज़र दौड़ाई थी। यहीं कहीं 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान, सेला की रक्षा के लिये तैनात, शहीद ब्रिगेडियर होशियार सिंह का ब्रिगेड हेड-क्वार्टर हुआ करता था। 

नायक यादव मेरी उन हरकतों को देख कर आश्चर्य चकित मुद्रा में थे। कुछ क्षणों के बाद मैं वापस आकर अपनी सीट पर बैठ गया था और नायक यादव ने गाड़ी गियर में डाल दी थी।  उन्होंने मुझे सावधान किया था कि मुझे उस ऊंचाई पर, बिना अक्लाइमटाइज़ेशन के उतनी तेज दौड़ नहीं लगानी चाहिए थी।  नायक यादव को पता नहीं था कि मैं एक पहाड़ी मुंडा था। 

अरुणाचल प्रदेश के दो जिलों, पश्चिमी कामेंग और तवांग, की सीमा पर स्थित सेला (Sela) दर्रा 13700 फुट से अधिक ऊँचा है और तवांग जाने के रास्ते में पड़ता है। यहां से गुजरने वाला मार्ग तवांग को दिरांग और गुवाहाटी से जोड़ता है। सेला गुवाहाटी से 340 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और तवांग शहर सेला से 78 किलोमीटर आगे है। 

सेला के शिखर के समीप उत्तर दिशा में एक झील स्थित है। बौद्ध धर्म के अनुसार यह झील इस क्षेत्र में पड़ने वाली लगभग 101 पवित्र झीलों में से  एक है। यहां सर्दियों में बहुत बर्फबारी होती है। अगर बरसात में भूस्खलन से मार्ग में बाधाएं न आएं तो यह दर्रा वर्ष भर खुला रहता है। ग्रीष्म और वर्षा ऋतुओं में  झील के आसपास का हरा-भरा क्षेत्र याकों की चारागाह के तौर पर इस्तेमाल होता है। (सेला दर्रे का चित्र इंटरनेट से साभार)

     भगत राम मंडोत्रा हिमाचल प्रदेश दे जिला कांगड़ा दी तहसील जयसिंहपुर दे गरां चंबी दे रैहणे वाल़े फौज दे तोपखाने दे रटैर तोपची हन।  फौज च रही नैं बत्ती साल देश दी सियोआ करी सूबेदार मेजर (ऑनरेरी लेफ्टिनेंट) दे औद्धे ते घरे जो आए। फौजी सर्विस दे दौरान तकरीबन तरताल़ी साल दिया उम्रा च एम.. (अंग्रेजी साहित्य) दी डिग्री हासिल कित्ती। इस ते परंत सठ साल दी उम्र होणे तिकर तकरीबन पंज साल आई.बी. , 'असिस्टेन्ट सेंट्रल इंटेलिजेंस अफसर' दी जिम्मेबारी निभाई।

      लिखणे दी सणक कालेज दे टैमें ते ही थी। फौज च ये लौ दबोई रही पर अंदरें-अंदरें अग्ग सिंजरदी रही।  आखिर च घरें आई सोशल मीडिया दे थ्रू ये लावा बाहर निकल़ेया।

     हाली तिकर हिमाचली पहाड़ी च चार कवता संग्रह- जुड़दे पुल, रिहड़ू खोळू, चिह्ड़ू-मिह्ड़ू, फुल्ल खटनाळुये दे, छपी चुक्केयो। इक्क हिंदी काव्य कथा "परमवीर गाथा सेकंड लेफ्टिनेंट अरुण खेतरपाल - परमवीर चक्र विजेता" जो सर्वभाषा ट्रस्ट, नई दिल्ली ते 'सूर्यकांत त्रिपाठी निराला साहित्य सम्मान 2018' मिली चुकेया।

     हुण फेस बुक दे ज़रिये 'ज़रा सुनिए तो' करी नैं कदी-कदी किछ न किछ सुणादे रैंहदे हन।