Sunday, October 20, 2013

फोटू आळी गळी

रामस्‍वरूप होरां दे कैमरे च पत्‍तेयों दियां सीपियां पर ओसा दे मोती











Saturday, October 12, 2013

सुआल





मैह्ल ख्‍यालां दे
कनै रेह्या दे पलिया
सुआलां दे बुजकयां नै पल्‍ली भरोआ दी

इक धियाडा़ टपदा
इक्‍क जुआब मिलदा
खबरै कितणे क दिन बीते
कितणे क जुआब मिल्‍ले
पर पल्‍ली भरोंदी जा दी
सुआलो दे बुजके चकोंदे जा दे

रींगदी चींगदी रात बीतै
भ्‍यागा ही
सुआलां दा ढौर
पैरां जकड़दा
अड़जंग्‍घी लांदा
भई मुंहा भार
गढ़मेह्ली लग्‍गै
दुनिया अंगुळियां चक्‍कै
जितणियां खाखां ति‍तणियां भाखां लग्‍गण
औंदा जांदा कोई दुलत्‍ती मारै
मोटर हौर्नां दई दई चलदी बणै
सैह् मुंहा भार परतोंदा रैह
तियां ही सुआलां दा ढौर
कन्‍नो कन घमळोंदा रैह्

ताल्‍ही तिकर
न घरोऐ सूरज
न होऐ तिह्दी संझ

इक्‍की सुआला दा जुआब
मुहां भार घड़मेह्ली
दुए दिना दा सुआल
कंडयां नै छकोयो कपड़े
अंगैं अगैं पीड़
रात का बेला
दीए च तेल हई नी

साह्मणै चौथी दा चंद्रमा
फौह्किया दे हौके
भ्‍याग सारे दा सुपना
चलकोर हाली पार पहाडा़ पर ई

सुआल अजका त्‍यार
कुनकी छिकी तेया
ड्योडिया निकळदेयां
कौएं तिर्की तेया

अज ... क्‍या ... हुंगा ... ???

छंद तुसां पढ़े थे। एह नौइयां तर्जा दी कवता है। है पुराणी। 1977 च हिमभारती च छपी थी। तदूं मैं बीए च पढ़ा दा था।