Thursday, March 29, 2018

गल सुणा

चेक कलाकार वेरोनिका रिश्‍त्रोवा Czech artist Veronika Richterová



गल एह् होई भई जिञा ई हवाई जहाजें लैंड कीता तां इञां लग्गा जणता जाहज कुनकी पचांह ते जोरा नै खिंजी लया। अपर फिरी भी घस्टोंदा ई चली गया कनै हवाई अड्डे दे कुतकी पुछाड़ें जाई नै रुकेया। सवारियां ताईं एह् रोजकी गल थी। जहाजे खड़ोंदे-खड़ोंदे सारियां सवारियां अपणिया-अपणिया सीटा पर खड़ोई गइयां। दुनिया दे सारे काह्ळे माह्णु हवाई जहाजां च ही औंदे जांदे। घट काह्ळे रेलां च चलदे। तिन्हां ते मट्ठे बसां च। जेहड़े होर भी टिकआउएं हुंदे सैह् टांगेयां, बैलगड़ियां, घोड़यां, खचरां वगैरा दे झूटे लैंदे। हां। सै: नां कुती औंदे न जांदे। बस झूटयां लैणे ताईं सवारी करदे। अज के जमाने च घरा ते बजार जाणा कोई जाणा थोड़ी होया। सफर करना होऐ तां कलकत्ता मद्रास जा, या दिल्ली बंगलौर जा। बौंबे बड़दा जा। जे फिरी भी लुक न हटै तां लंदन अमरीका जा। बाकी तां साह्ड़ा ग्रांह्जड़ भाई जांह्गा भी तां कुती तक जांह्गा। खैर छड्डा। गल सुणा।

होया एह् भई सारे ही काह्ळे खड़ोई पै कनै समाना चकदे-चकदे मौका ताड़ना लगे भई अगले ते गांह् किञा निकळिए। अज के जमाने दी सारी सरनूह्ट एही ता है। हर कोई एही सोचदा मैं गांह् आळे जो पचांह् छड्डी नै गांह् किञा बदहां। इस बतीरे जो ई तां रैट रेस गलांदे। चूहा दौड़।

तां होया एह् भई अपणे आप ही मेरे हत्थें पाणिए दा बोतलू आई गया। मिनरल वाटर। पा पक्के दा बोतलू। अजकला नौंआ फैसन चलेया। छोट-छोटेयां बोतलुआं पकड़ाई दिंदे। भौंऐ हवाई जहाजे च पीया भौंएं घरें जाई नै। गलासां दा जमाना बीती गया। मैं सै: बोतलू खीह्से पाया कनै बाह्र निकळणे ताईं अपणिया बारिया निहाळणा लगा।

मने च ख्याल आया भई एह् मेरे खीह्से च कया है? मरे खीह्से च पाणी है। पउआ नीं है। पाणी है। पीणे आळा पाणी। एह् पाणी नळके च हुंदा। एही खड्डां नाळुआं च। नदी दरिया इसी नै भरोयो। समुद्दर ठाठां मारदा। चौं पास्यां पाणो-पाणी। होर क्या है समुद्दर। बद्दळ भी पाणी ही तां हुंदे। सारा साल न्हाळदे रैंह्दे। मानसून औणी है तां बरखा होणी है। अंबरैं बह्रना है तां खेतरां च फसलां जमणियां। फसलां पकणा है तां चुह्लयां अग्ग बळणी है।

तां क्या इह्दा मतलब एह् होया भई मेरे खीसे च समुद्दर है? कि नदी दरिया हन? या बद्दळ कठरोई गयो? मैं कितणा खुसकिस्मत हुंगा? मेह्ते बड़ा भागसाली कुण हुंगा जिह्दे खीसे च पा कक्का पाणी है।

कुछ साल पैह्लें अद्धे किलो दियां बोतलां जादा चलदियां थियां। तिह्ते पैह्लें किलो आळियां। दफ्तरां दियां मीटिंगां च मेजां पर किलो किलो दियां बोतलां खरेड़ी दिंदे थे। माह्णू छोटे बोतलां बडियां। फिरी अधियां होइयां। हुण बच्चा बोतलां आई गइयां। छोट-छोटे बोतलू। जणता लोक पाणिए बचा दे। पर अक्ली दे दुस्मण एह नीं समझा करदे भई प्लास्टिक कितणा बर्बाद होआ दा। इह्दा क्या करगे? अपर मार्केटिंग आळयां होर थोड़ी सिक्खेया किच्छ? तिन्हां दा बस चलै तां अपणेयां मां बुढ़ेयां भी बेची औह्न। 

मिनरल वाटर अज्जे ते बीह् साल पैह्लें हई नीं मिलदा था। दिलिया पाणिए दियां रेह्ड़ियां हुदियां थियां। उप्पर छतरिया दे हैंडले साह्ई पाइप हुंदी थी कनै तिसा नै पंप जेह्या लगया हुंदा था। ग्लास भरी भरी नै बेचदे थे। इक बरी जे बमारी लग्गी तां चौं पासें बोतल-बंद पाणी बिकणा लगी पेया। माह्तड़ जेह् तां कदी बारें-तुहारें बोतल खरीददे फिरी घरें नळके ते भरदे कनै झोळे च पाई लैंदे। अजकल कम्मा पर जाणे आळे तकरीबन सारेयां ही लोकां अपणेयां बैगां च पाणिए दी बोतल रखियो हुंदी।

अज्जा ते पच्चीक साल पैह्लें, जदूं एह् बोतलां नीं थियां तां लोक दो-दो घंटे लोकल ट्रेनां कनैं बसां च धरयाए किञा रही लैंदे थे। कुती उतरी नै पाणी पीणे दा रुआज भी नीं था। अपणे ठौर-ठकाणे पर जाई नै ही गळें घुट उतारदे थे। तां क्या तदूं पाणिए दी खपत घट थी? हुण असां पाणी मता पीणा लगी पैओ? पैह्लें जादा बमार रैंह्दे थे कि हुण? बोलदे मता पाणी पीया तां तंदरुस्त रैंह्दे। तां हुण तंदरुस्ती बधी गइयो? क्या पता? कुनी कोई सर्वे नी कीता। बोतलां दे औणे परंत प्लास्टिक कितणा बधेया, इह्दा भी सर्वे कुनी नीं कीता।

पते दी गल एह् है भई पाणिए नै साह्ड़े सैह्रियां दा रिस्ता बोतलां दी मार्फत ही है। या नळके या फुहारे या फिरी खुल्ले गटर कनै गंदे नाळे।

हुण तां ग्रां च भी नळके लगी गेयो। बाईं कनै खूह् सुकी गेयो। नौण भी नां जो ही समझा। मतलब अगलियां पीढ़ियां दी पाणिए दी स्मृति बोतलां नळकेयां आळी ही होणी। असां तां बाईं दिक्खियां। सांजो नौंणा पर नौह्णे दे मौके भी मिल्ले। मेरे ताऊ गांदे थे लौंग ते लाइची नौह्यण लग्गे। लाइचिएं मारी चुब्बी। लौंग बचारा रोणा लग्गा, हाए बो मेरी लाइची डुब्बी। साह्ड़े ग्राएं दरवैलिया जेह्ड़ी बां थी, जिसा च छोट-छोटियां मछियां हुदियां थियां। इक खास किस्मा दिया मछिया जो डौंह्का बोलदे थे। बेबकूफ मुंडुआं जो भी डौंह्का गलांदे थे। साह्ढ़े मामेयां नै नरेळिया स्कूल था। बक्खें ही नौण था। तिस च पैड़ियां बणियां थियां। चकोर। अंदरे जो घटदियां जांदियां थियां। गब्भें जाई नै छोटा जेहा कुंड रही जांदा था। नौणे दे त्रींह् पासें उचियां दुआलां थियां। तफरिया च मुंडू तिन्हां पर बह्ई नै रोटी खांदे थे। तुआं: झनियारिया बक्खें सलासिया जेह्ड़ा स्कूल था, ओह्थी भी इक बां थी। सारे मुंडू तित्थी पटियां धोंदे थे। गाह्चणी मळदे कनै गाई-गाई नै झुलाई-झुलाई नै पटियां सुकांदे थे ... सुक सुक पटिए... । हुण तां हमीरपुर सैह्रें अपणे पंजे सलासिया तक फलाई तेयो। जिञा पुराणी मंडिया दी बां सैह्रे दियां गळियां बिच लुकी गइयो।

पाणिए दा रूं तां कुल्लू कनै सिमलैं मिलदा। स्याळें बद्दळ पाणिए दे बजाए बर्फ दिंदे। नर्म  नर्म रुंए दे फाहां साह्ई। कनै जे तुसां पाणिए दियां सलाइयां कनै फुट्टे लैणे होन तां होर उच्चेयां पहाड़ां पर चढ़णा पौणा। लौह्ळ स्पीति चले जा। ठंढ इतणी भई बगदा पाणी जम्मी जांदा कनै सलाइयां, लीह्कड़ियां साह्ई खड़ोई जांदा। चमकीला, पारदर्शी, ठंडा। सख्त पर हत्थ ला तां मुलायम। झीलां जम्मी जांदियां। उप्पर पैर रखा तां सीसे साह्ई तिड़की जांदियां।

मेरे अंदर पाणी हजारां रूप लई नै उमगदा। हजारां लक्खां साल पुराणा साथ है। पाणी नीं हुंदा तां सभ्यता नीं बसणियां थियां। सिंधु नदिया दे कंडैं साह्ड़े पुरखे रैंह्दे थे। नील नदिया पर भी लोक बसे। टिगरिस नदिएं मानुस जात गांह् बधाई। मैसोपोटामिया होऐ भौंएं मोहन जोदाड़ो, नदियां दा पाणी बगदा रेह्या कनै सभ्यता कनै संस्कृति चलदी रही। गंगा यमुना नर्मदा साढ़ियां मातां साह्ई साढ़े अंग-संग रहियां। अपर अपणियां नदियां जो जितणा दुख असां दित्ता हुंगा, तितणा कुनी पुतरां अपणियां माऊं जो नीं दित्ता होणा। 

बोतलुए खोली नै मैं आचमन करदा। अपणे सिरे उप्पर छिट्टे मारी ने पिंडे जो पवित्तर करदा। वरुण महाराज होरां जो नमस्कार करदा। प्रार्थना करदा, पाणिया-परमेसरा तू साढ़ियां बेवकूफियां माफ करेयां कनै साढ़ियां जिंदगियां कदी निर्जलियां मत करदा। कदी साढ़ा साथ मत छडदा।