Wednesday, July 29, 2015

मजदूर कवि नारायण सुर्वे


मित्‍तरो अज इक मजदूर  कवि नारायण सुर्वे जो  याद कीता जाये। एह 1926 दी गल है जाह्लु ईकी मज़दूर गंगाराम सुर्वे जो एह मैलयाँ कचेल्यां कपड़याँ   मुम्बई दे इकी फुटपाथे पर भटकदे मिले कनै इस नभाळ जागते सैह घरें लई आये। तिसजो पढाया- लिखाया कनै फिरी दसां  सालां दिया  उमरा   बेसहारा छडी ने चले गै। 

एह ऑइल मिला हमाली करदे-करदे, होटलां-ढाबयां कनै घरां च भांडयां मांजदे बडे होये, फिरी कम्युनिस्ट पार्टीया दे दफ्तरे च झाड़ू लगादें कनै पर्चियां कटदे-कटदे मार्क्सवाद पढ़या। मुम्बई दे आम आदमीयां दा कवि , मजदूरां दा कवि, गरीब-मुफलिसां दा कवि  , दलित-उत्पीड़ितां दा  कवि कनै अनाथ बेघरां दा कवि नारायण सुर्वे जिसजो सोवियत लैण्ड नेहरू पुरस्कार , मध्यप्रदेश दा  कबीर सम्मान .. क्या क्या नीं मिला अपर  सैह अखीर तिकर इक आम आदमी ही रैह , मजदूरां दे कवि  

नारायण सुर्वे दी चर्चित कवता शीगवाला दा  अनुवाद करने दी  कोसस कीती थी। अपर  हिन्दी मिळईयो इसा दी  मुम्बईया  मराठी कनै  झोपड़पट्टीया   बोली जाणे वाळी आम आदमीयां दी एह भासा , इसादा अनुवाद किंया करी सकदा था इस ताईं तुसां दी  सुविधा ताईं  लफ्जे  पर स्टार लगार्ई ने  बरेक्‍टां   अर्थ  दितया है कवता जदैही है तदेही मेद है तुसां  समझी जाणा.. एह  इक  मुसलमान कसाईये दा  बयान  है  कियां तिन्‍ही इकी हिन्दू जनाना   दी जान बचाणे   अपणे पैर गुआये  

कॉमरेड नारायण सुर्वे होरां जो  सादर नमन कनै तिन्‍हा  दी एह कवता शरद कोकास  

शीगवाला

 
क्या लीखादा ओ छोरू !
कुछ नी चाचा - - कुछ हरफां जोड़ा दा
गलांदा, गलांदा दाऊद चाचा कमरे च बड़ी गिया*         
गोंडेवाळीया  तुर्की टोपीया कडी ने                                    
गळे हेठला पसीना पूंजी सैह 'बीचबंद' पींदा
थलें बही जांदा
तिसदियां  जंघा पसारी पुठा होदां डंडा

पुत्‍तर इक गला दा  ध्यान रखणा                                         
हरफ  लीखणा बडा सोखा होंदा 
हरफां ताईं जीणा  मुश्कल है
दिख एह मेरा पैर 
तेरी माता काशीबाई गुआह है
'मैं कसाई * है  पुत्‍तर - मगर 
गभणी गाईं कदी नी कटदे.'

सैह - सुराज आया* गांधीए वाळा
रहम फरमाया अल्लाह
खूब जुलूस मनाया चालीवाळयां 
तेरे बापूएं - 
तेरा बापू चाली दा भोंपू

हां ता मैं  गलादा  था
इक दिन मैं बैठया था कसाईबाडे पर 
बकरा फाड़ी ने  रखया  था लटकाई  
इतणे च ही  सामणे रोळा पई गिया          
मैं दौड़या दिखया ता -                                                
भीड़ें घेरीयो  थी तेरी  माता
बडा बोलया 
अल्ला हू अकबरवाला 
खबरदार मैं बोलया
सब हसणा लगे, बोले,
एह त साळा  निकळया  पक्का हिंदूवाला 


"फिर काफिर को काटो !" 
अल्लाहुवाले दी उआज आई 
झगडा होई गिया।
साळयां मिंजा खूब कुट्टया 
मरदें मरदें पैर  गुआया  
सच है कि  नी काशिबाई* - ?


'ता पुत्‍तर  -
हुण  माह्णु होई गिया सस्ता - बकरा मैंहंगा होई गिया 
जिंदगी मुन्‍नु, पूरा न्‍हेरा आई गिया, 
कनै* हरफां जो  
जीदां रखे  देह्या  कुण है दिलेवाळा 
सबना जो पैसयां खाई  छडया।'

       


शीगवाला

क्या लिखतो रे पोरा !
नाही चाचा - - काही हर्फ जुळवतो *                            ( जोड़ता हूँ )
म्हणता, म्हणता दाऊद चाचा खोलीत शिरतो*          ( खोली में घुसता है )
गोंडेवली तुर्की टोपी काढून*                                       ( निकालकर )
गळ्याखालचा घाम* पुसून तो 'बीचबंद' पितो( पसीना )
खाली बसतो
दंडा त्याचा तंगड्या पसरून उताणा* होतो.( उलटा )

एक ध्यानामदी ठेव* बेटा                                           ( रख )
सबद लिखना बडा सोपा* है ( आसान )
सब्दासाठी* जीना मुश्कील है( शब्दों के लिये )

देख ये मेरा पाय 
साक्षीको तेरी आई* काशीबाय( माँ )
'मी खाटीक* आहे बेटा - मगर ( कसाई )
गाभणवाली* गाय कभी नही काटते.'( गर्भवती गाय )

तो - सौराज आला* गांधीवाला( आया )
रहम फरमाया अल्ला
खूप जुलूस मनवला चालवालो ने 
तेरे बापूने - 
तेरा बापू चाल का भोंपू

हां तर मी सांगत होता* ( कह रहा था )
एक दिवस मी बसला* होता कसाईबाडे पर ( बैठा )
बकरा फाडून रख्खा होता सीगपर 
इतक्यामंदीसमोर* झाली  बोम          (इतने में सामने हुआ शोर  )
मी धावलादेखा -                                                  ( मैं दौड़ा और देखा )
गर्दीने* घेरा था तुझ्या अम्मीला ( भीड़ ने )
काटो बोला 
अल्ला हू अकबरवाला 
खबरदार मैं बोला
सब हसले, बोले,
ये तो साला निकला पक्का हिंदूवाला 


"फिर काफिर को काटो !" 
अल्लाहुवाला आवाज आला 
झगडा झाला
सालो ने खूब पिटवला* मला ( मुझे पीटा )
मरते मरते पाय गमवला  
सच की नाय काशिबाय* - ?( काशी बाई )


'तो बेटे -
आता आदमी झाला सस्ता - बकरा म्हाग* झाला ( महँगा )
जिंदगी मध्ये पोरा, पुरा अंधेर आला, 
आनि* सब्दाला( और ऐसा कौन है जो )
जगवेल* असा कोन हाये दिलवाला ( शब्दों को जीवित रखेगा )
सबको पैसेने खा डाला '

       कविता : नारायण सुर्वे

प्रस्तुति :शरद कोकास
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार

Wednesday, July 22, 2015

स्व्र्गीय देस राज डोगरा ‘दर्द’ धमेटवी


साहित्यकार,समाजसेवी,कुशल प्रशासक राजनेता काने लोकसंस्कृति दे सच्चे पुजारी स्वर्गवासी देस राज डोगरा `दर्द `धमेटवी अनेक मुखी प्रतिभा दे धनी थे।हिमाचल प्रदेस कने प्रदेस ते बाहर कइयाँ साहित्यिक  कने सामाजिक संस्था ने जुड़ेओ थे। "नूरां "कहाणी जिसदा उर्दू च अनुवाद सागर पालमपुरी ने कित्ता था बड़ी मसहूर होई। अथक लेखक थे कने नामी लेखक यशपाल होरां दे पक्के मित्तर थे। मुम्बई बिच कांगड़ा मित्र मंडल (हुण हिमाचल मित्र मंडल) दे संस्थापक सदस्य थे।हिंदी  उर्दू अंग्रेज़ी  कने हिमाचली दे कुशल लिखारी थे।

चाचू गिरधारी

हत्‍थें सोह्ठी ठुळ ठुळ करदा
कुचले घोड़े साह्यीं चलदा
पैरॉं बयाड़े हत्‍थॉं छाल्‍ले
पर्तणिया की कस्‍सी कस्‍सी
मड़यास्‍से जो फेरा करदा
मंगी छुंगी गैस्‍सण ढोई
चलया ऐ सै साह्ये भरदा
एह सारी ज्‍यादात कमाई
लई टपरुऍं रात्‍ती बड़दा
खिन्‍द खन्धोलू ओढण ओढी
किल्‍ही कळपी भ्‍याग ऐ करदा
जीणा होया जिसदा भारी
सैह मेरा चाचू गिरधारी 

माऊ दा था एह भी जाया
इस पर भी था जोबन छाया
पर उसदी बेअंत ऐ माया
बदली इसदी कदी नी काया
लौह्का था मजदूरी कित्‍ती
बडा होया ता बुचका भारी
किछ दिन पट्ट अखाड़ैं ठोरे
किछ दिन इन्‍नी खेत्‍तर बाह्या
किछ दिन  खर्ल खारोळे
भूत बदंगी दा था छाह्या
ठेठ जुआन्‍नी ईह्यां बीत्‍ती
मिल्‍ली इस जो कदी नी काया
रेह्यी जिसजो सदा लाचारी
सैह मेरा चाचू गिरधारी
कितड़ा इन्‍नी धन्‍न कमाया
कितड़ा इन्‍नी खाह्दा लाया
तिसदा दसना मैं हिसाब
धियान दई करि सुणो जनाब
सौ गज कपड़ा तेह्रा साफ्फे
बत्‍ती सुथणु तैत्‍ती जुट्टे
सौ मण छल्‍ली सठ मण धान
बारहा मंजे टुट्टे फुट्टे
पंज्‍झी मण तमाक्‍कू पीत्‍ता
दो हजार रुपइये कमाए
सैह भी पिण्‍ड पड़ोसें खाए
इसदा रेह्या एह इ हाल
इह्यां बीत्‍ते सत्‍तर साल
लोक्‍की बोल्‍लण मत्‍त ऐ मारी
सैह मेरा चाचू गिरधारी 

Tuesday, July 14, 2015

भाषा समळोहा दी नी

झूठ बिना कल्पना नि हुन्दी तां फिरी कुण देई कल्पना है जेहड़ी साकार हुन्दी। सोचदा विचारदा में जेठे दियां धुप्पा टपदां बारह  मासे च फंसी बैठा। कल्‍पतरुए पिच्छे ता सैह भी पेया ताईं दो मिण्ट नि लाये थे तिन्नी सारिया गल्ला जो समेटदे। चला मैं कम्म दित्ता दुसां लिक्खा। जित्थू रुकया था मैं शुरू होई गिया...

जेठ महीने धुप्प जै कड़कदी, सूरज अग्ग बरसांदा ए,
विरह दी अग्ग जलावै मैंनू, दिल मेरा घबरांदा ए।
मोहन मेरा कुब्जा सौंकण, दे घर खुशी मनांदा ए,
मैंनू तीर जुदाइयां वाळा, मार-मार मुकांदा ए।।


हुण इन्हां बारहमासेयां दे राग-भाव अर्थ मिलणा मुश्किल। घरुचार लोकाचार, टियाले ठीये रैह नि। भक्खां मुकियां कने हुणिया भी खत्म। हुण ता सारे एकलव्य बनयो मोबाइले पर गूठा ठचो-ठच चलया, अक्खरां दबा दा, तीर बजा दे पर कोई ऐसा नि दिक्खया जिसदा मुंह खुलै कने दस्से फलाणे मारे। बणगा क्या भाषा दा? रुकेगी कि चलदी-फिरदी ठुमकदी-रिड़कदी पौन्दी-उठदी ढैहन्दी टेई जाहंगी बददिया उमरा सौगी। सौगी ने याद आया ढोले बजाणे आले नि रैह। बजा वि करदे पर जेहड़ा बजा दा सैही बोल्दा मिन्जों चूंडिया चढ़ा। जड़ा कोई नि पकड़ना चाहंदा, जेकर कोई खड़ोई ने टिकी करी बोले जो जीभा(भाषा) दी शक्ति दिन व दिन ठंडी पौंदी जाड़दी जै कठरोई नै ढोल नि बजाया ता इतणे मुण्ड जां नुहारां खड़ोई जाणियां, भई पच्छैण मुश्किल होई जाणी।
चेहरे दी उर्जा है भाषा, समझा भई चलियो ता मशीन जां सोच विचार चलयो। चहरे दे रंग-ढंग, हाव-भव, नैण-नख सिख चलयो, रुपां बणादे छाप छड्डा दे पच्छैण बणादी-फलाणा ईयां फलाणा उईयां। जै भाषा गुआची ता महाणूएं दी पच्छैण गुआची। रिश्ता-नाता, भाईचार ताई जीन्दा रैहन्दा जै भाषा दी पच्छैण सामने औआ दी, कुण क्या गलान्दा, क्या खिक्खदा, कैह गलान्दा, कुसकर गलान्दा।
समस्या ऐह नि है जै भाषा लक्खोआ दी नि, ऐह भी नि जै पढ़ोअा दी नी। माहतड़ धमातड़ कई लग्गयो, बुड़ेयां ठेहड़या जो पढ़ा दे सुणा दे अपणया लेक्खां टेपा दे, मशकल ऐह है जै भाषा समलोहा दी नी, सखलोआ दी नी।  पराशरे खूब रोला पाया था, पड़ाडिया च सरकारी गैरसरकारी कार्ड छपोये, छंटोये, लखोये, पढ़ोये, गप्पो-गप्पी भी खूब चल्ली थी। अखवारां च कई करेक्‍टर (बड़का, घेलर, चाचू, ठगड़ा) आये पर समै ने गैब होई गै। भाषा बरता तोपदी कन्ने दुआ-दारु भी। अजकला न बरता फ्री न दुआ फ्री। कुण लिक्खे, कुण पढ़ै, कुण छापे, क्या बनगा भाषा दी। सोचदे विचारदे मैं ऐह पंज-सत अक्खर लिक्खी छड्डी। जेकर गलायां था तिन्नी तुसां हारमोनियम दे सुरां ता चला मैं तबला बजाई लैहगा। माहणू बसुआसी है इस करी सोची-विचारी मैं भी चिट्ठी सरकाई दित्ती। दिक्खदे न, इस पर कोई नजर टिकदी है कि नि, कोई गौर करदा है कि नी....?

-दुर्गेश नंदन।

Monday, July 6, 2015

बीन्डे


पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी दे वंशज, कवि ,कहाणीकार, अनुवादक, समीक्षक, संपादक   डॉ. पीयूष गुलेरी हिमाचली प्हाड़ी भाषा जो इज्जत मान दुआणे कने तिसा दिया सेवा च अणथक कम्म्म करने आळे जोधेयाँ देयां सरताज्जा च इक हन । धौलाधार दे छलैप्पे कने छटा जो छंद च बह्नणे दी कामजाबी दा मुक्ट भी इन्हा बाह्ल ऐ। गोर्की दे उपन्यास ';मदर';जो पहाड़ी च अनुवाद करने दा पुन्न भी इन्हां इ कमाह्या।
हिंदिया दे प्रोफेस्सर कने डिग्री कॉलेज ते रिटायर्ड प्रिंसिपल डॉ पीयूष गुलेरी दी रचना "बींडे" च ग़ज़ल दी सोह्गमान्नी कने नज्म दी रवान्नी दोह्यो हन।
 




ठक ठकैं ठक चलै कुहाड़ी, देह्ये- देह्ये जैल्ले पाए बींडे 
रुख रोआ दा तेसा घड़िया लक्कड़ देई घड़ुआए बींडे 


पलाँ छिनाँ बिच दिन बदलोए, दुसमण जीन्दे जीन्दे मोए 
बि:गड़यो कम सिद्धे भाऊ जिन्हाँ दे हत्थैं आए बींडे 

 

नाँ सोन्दे नाँ सोणा दिन्दे, एह चैन्नी नीं बोह्णा दिन्दे 
नौंई फाह्यी पाई रखदे हाई बो मेरिये माए बींडे 

पिरथी फेरा पाई लैन्दे ,दिने जो रात बणाई लैन्दे 
गल-कथ अँबरैं छींडा पाणा बींडे होन्दे आए बींडे 


हरिया भरिया लाम्बू लाणा, अप्पूं लाई आप बुझाणा 
कम्म बणाणा रट्टा पाई देह्या करदे आए बींडे 

 
सिद्धा साद्दा माह्णू रोए, धाड़- धाड़ सैह खड़ा पटोए 
इक्को इ बींडा मान नईं था हण कठरोई आए बींडे 

 
किछ भी करने तैं नी झकदे, सतुएँ गास्सैं पुज्जी ढुकदे 
छुट्ट-भलाइया गुणी बड़े एह एह माऊ दे जाए बींडे 
 
सतजुग द्वाप्पर कळजुग त्रेता, एह पीयूषाबड्डे नेता 
बींडेयाँ दी म्हेसा पुछ रेह्यी जुगाँ ते होन्दे आए बींडे 

डॉ. पीयूष गुलेरी