Sunday, July 26, 2020

हिंदुस्तानी फ़ौज : बहादर भी दिलदार भी


26 जुलाई कारगिल विजय दिवस 
दे मौके पर देसे ताईं शहीद होणे वाळे वीर जुआनां जो 
विनम्र श्रद्धांजलि कनै सादर नमन।



पेश है भूपेन्द्र जम्वाल 'भूपी' होरां दा इक लेख।      


हिंदुस्तानी फ़ौज : बहादर भी दिलदार भी

कारगिल दी लड़ाई दुनियां दियां बाकी लड़ाइयां ते 'लग्ग थी। इसा लड़ाइया विच दो ऐसे मुल्क लड़ा दे थे जिह्नां वल्ल परमाणु हथियार थे । जाहलू हिंदुस्तानी फ़ौजी सर्दियां विच अपणेयां बंकरां ते उतरी के वापस आए ताहलू ही पाकिस्तानी फौजियां तिह्नां मोर्चेयाँ पर कब्ज़ा करने दी साज़िश करी लेइओ थी। सन 1999 दे मई महीने दी तिन्न तारीख जो डंगरां चारने वालेयां दस्सेया तां फौजा जो पता लगा कि मोर्चेयाँ पर पाकिस्तान देयाँ फौजियां कने उग्रवादियां कब्ज़ा करी लेया है। त्रीएं दिनें जाहलू असां दे फ़ौजी ओत्थू गए तां तिह्नां पर पाकिस्तानियाँ दा हमला होया कने सैह शहीद करी दित्ते गए। नौ मई 1999 जो तिह्नां असां देयाँ हथियारां वगैरह जो भी उड़ाई दित्ता। हालात ऐसे थे कि सांजो एह भी पता नी था कि पाकिस्तान दे कितने सपाही तित्थू हैंन। 
  कारगिल दियां चोटियां दे नाँ नी हैंन ; बस नम्बर हैंन। जिञा पॉइंट 4875, पॉइंट 5140 वगैरह । 
 पर एह चूण्डियां सांजो ताईं बहुत ही ख़ास हैंन। इह्नां ते सिद्धे थल्ले श्रीनगर-लेह हाईवे है। इसी रस्ते ते लेह दे इलाके जो सामान कने राशन भेजेया जांदा है। हालांकि इक्क सड़क वाया मनाली भी है पर सैह ज़ादा लंबी है। दुश्मण उप्पर पहाड़ियां पर बैठेया था कने असां दे फ़ौजी थल्ले थे। जे सड़का जो नुक्सान हुंदा तां लेह तक पुज्जणा बड़ा औक्खा होई जाणा था। इसा वजह ते भी तिह्नां ते तौळी तौळी कब्ज़ा छडाणा ज़रूरी था। पर दुश्मणे दी पोज़िशन खरी थी , इस करी के असां दी फ़ौज ओत्थू पुज्जी नी पा दी थी । इसा लड़ाइया विच असां दे मते बहादुर अफ़सर कने फ़ौजी शहीद होई गए । एयरफोर्स जो दख़ल दैणा पेया , बड़िया मुश्कला कने हालात काबुए विच औणा लग्गे । कैप्टन सौरव कालिया,कैप्टन विक्रम बत्रामनोज पांडेय, शीशराम, विनोद , राजकुमार , गणपत सिंह  वगैरह केइयाँ इसा लड़ाइया विच शहादत लेई। लगभग दूंह महीनेयाँ बाद लड़ाई ख़त्म होई। 
     जित्थू तिकर दुश्मणे दी गल्ल है पाकिस्तान एह भी मन्नणे जो त्यार नी था कि घुसपैठ करने वाळे पाकिस्तान दे फौजी थे। असां देयां फौजियां कने तिह्नां ऐसियां ऐसियां बेचिळस हरकतां कित्तियाँ थियाँ कि दिखणे वाळेयां दा काळजा कम्बी जाएं। कैप्टेन सौरभ कालिया दिया देह्इया दिक्खी के कुसी दा भी खून उबाळ खाई जाए , इतनी बुरी हालत कित्ती गेइयो थी। ऐसा घटिया कने राक्शां वाळा कम्म पाकिस्तान ही करी सकदा था।  दूजी तरफ़ असां देयाँ अफ़सरां जाहलू दिखेया कि तिह्नां दा इक्क कैप्टन बहुत ही बहादरिया ने लड़ा दा, तां तिह्नां बाकी पाकिस्तानी फौजियां साहीं तिसदा आखरी संस्कार करने ताईं तिसजो दबाया नी बल्कि तिस दे शरीरे जो बाक़ायदा सम्हाळी के रखेया कने दिल्ली पुजाई के पाकिस्तान हाई कमीशन दे हवाले कित्ता । सैह पाकिस्तान दा कैप्टन कर्नल शेरखान ( तिसदे दादुए तिसदा नाँ ही 'कर्नल' शेर ख़ान रखी दित्तेया था, पर तिसदा रैंक कैप्टन ही था ) था। हिंदुस्तानी अफ़सरां तिसदिया बहादरिया जो पछैणी के पाकिस्तान सरकार जो एह सन्देसा भजवाया कि इस अफसर जो ज़रूर कोई बड्डा सम्मान मिलणा चाहिदा है। पर पाकिस्तानियाँ तिस दिया देह्इया लैणे ते भी मना करी दित्ता। ख़ैर जाहलू तिस कप्ताने दे रिश्तेदार कने ग्राएँ दे बाकी लोक पाकिस्तान सरकार पर दबाव लग्गे पाणा तां पाकिस्ताने मन्नी लेया कने बादे विच कैप्टन कर्नल शेर खान जो पाकिस्तान दा सबते बड्डा फौजी सम्मान निशाने हैदर दित्ता। 
     असां दी फौज न सिर्फ़ बहादर है बल्कि बड्डे दिले वाळी भी है। असां देयाँ अफ़सरां पाकिस्तान वाळेयां साहीं बेचिळसां वाळियां हरकतां नी कित्तियाँ बल्कि दुश्मणे जो भी सम्मान दुआणे दी कोशिश कित्ती। कारगिल दिया लड़ाइया देयाँ चौंह बहादर लड़ाकेयां जो देशे दा सबते उच्चा सम्मान परमवीर चक्र मिल्ला, जिह्नां विच दो हिमाचल दे , कैप्टेन विक्रम बत्रा ( शहादत ते बाद )कने राइफलमैन संजय कुमार भी शामल हैंन। अज्ज कारगिल विजय दिहाड़े उप्पर हर हिंदुस्तानी दिले ते अपणिया फ़ौजा जो सलाम करादा है ; सैह जागा दे तां असां सौआ दे हैंन।
      --- भूपेन्द्र जम्वाल 'भूपी'

Tuesday, July 21, 2020

करोना परोह्णे


मितरो अज सारी दुनिया कोरोना महामारी ने लड़ा दी। इस वग्‍त सारे सरबंध कनै रिश्‍ते कोरोना दे डरे नें संगड़ोंदे जा दे। पेश है गिरीराज दे 15 जुलाई 2020 दे अंक च छपईयो कुशल कुमार होरां लीखीयो इक कथा।




करोना परोह्णे


एह् कथा है पहाड़ी मुंडुआं दी जेह्ड़े मुंबई दे समुदरे च गुआची गै। इक दो नी हज़ारां आये हटी नैं कोई
बिरला ही गिया। इस समुदरे ता पाणी ता खारा है ना तिरयाह् बुझदी ना ठण्ड पौंदी ऊपरे ते एह् पाणी जख्‍मां पर लूण मल़दा। जख्म अपणे घरे दूर छड़ी ओणे दे, पख्लिया जमीना पर औक्‍खे जीणें दे. जख्म ही जख्म हन बस छेड़ने दी देर है।
अपर हुण इह्नां जख्‍मां कनैं जीणे वाळी पीढ़ी मुकदी चल्लियो। सैह् तारां जेह्डि़यां गांदियां थियां पीड़ां ढल्‍लरोई गेईयाँ। इयाँ ता तारां मतियाँ थियां पर हौळें-हौळें सारियाँ टुटदियाँ चलियाँ। जाह्लु मुंडु आये थे ता कठपुतलियां साही काठ आया था, पुतलियाँ आइयाँ थियां। डोरियाँ सब मुल्‍खें बज्झियाँ थियां। जरा की होआ चलदी थी, ता दिले च होक्‍का आई जांदा था। काह्ली काळजे च लुआंटा बळी जांदा था।
मुंडु ऐत्‍थु समुंदरे दे कनारें तिन्हां तारा दिया खिंजा पर नचदे, हसदे, कुंजू-चंचलो, रान्झु-फुलमू गांदे दिनां कटदे थे। होई बीतीयां ओ मेरी जान फुलमु गल्लां होई बीतीयां। ऐत्‍थु बम्बई रान्झु रोंदे थे ता ओत्‍थु फुलमू गांदी, कपड़यां धौएं कनै रोएँ कुंजुआ, गल्लां होई बीतीयां। पर वग्‍त अपणे टेमें लई ही बीतया। कुस्‍सी दा झट बीती गिया ता कुसी दा टैम लई बीतया। न्दे-औन्देयां तारां कस्‍सोईयाँ थियां, ता मुंडु बदलोंदे मौसमे साही झट हटी जांदे थे। हौळें-होळें धागे कमज़ोरे पई पतळे होई टुटणा भी लगी पे। एह् जख्‍म दूंई  लड़ाईयां दे हन अंग्रेजां दा राज था। क्या क्या गणाणा मुंडु जित्‍थु ते आये थे तित्‍थु तिकर पूजणे ताईं सूरजे जो भी कई रीडि़यां लोह्णा गोह्णा पौंदियां थियां। नज़र गास अम्बरे पर टिक दी थी कनै दो चार मील रिडियां ने टकरां मारी हटी औंदी थी। मैं भी इसा लड़िया दी ही इक कड़ी है। 
हुण मुंडु ता मरी मुक्‍की गे। मुंडुआं दे याणे पढ़ी लीखी बडे होई गे। तिन्हा दी भासा भी बदलोई गईयो। पैंह्लें अपणा कोई हिंदी भी बोलदा था तां भी पछणोई जांदा था। हुण कोई अपणा पहाड़ी भी बोल्दा ता लगदा तरफेन है। असां दे याणयां ते खरी पहाड़ी ता पड़ेसी पूरबिया बोली लैंदा। जेड़ा बचपने ते असां पहाड़ियां बिच्‍च रेह् दा। क्या दस्सिये जमीन ता बड़ी उपजाऊ थी पर असां ते बूटे सारी नीं होये। असां किछ करी नीं सके।
कुत्‍थु ते शुरू करें इसा कथा। इसा दे सारे कूंजु-चंचलो इसा दुनिया ते दूर जाई चुक्‍केयो। क्या वग्त था, क्या लोक थे। एह् कथा ता अमरो दे चाचे शंभुऐ ते शुरू होंदी। सैह् कराची ते सेठां सोगी तिह्ना दे महाराज बणी नें आये थे। एत्‍थु रसोइयो जो महाराज बोलदे। तिस जमाने च महाराज महाराज ही हौंदे थे। पेटे दे रस्‍तें सेठां दे टब्बरां दे दिलां पर राज करदे थे। चाचा छुट्टी जांदा कनै सारे ग्रांये जो बम्बइया दियां गप्पाँ सुणादां। हर बारिया इक ना इक मुंडु कताबां बेची। मीलां पैदल चली चाचे दे बुज्‍झके चक्‍की रेला चड़ी जांदा था।
अमरो बम्बई पूजी गिया। चाचें सेठां दे बंगलें रोटी खुआई कनै नोकरां दे कमरे च चटाईया पर सुआई ता। दो तिन क्या हफ्ता ही बीती गिया। इकी पास्‍सें कालबादेवी दियां तंग गळीयां थियाँ कनै दुएं पास्‍सें दुईं त्रीं मीलां पर लेह्रां च ठाठीयां मारदा समुदर। गेट वे ऑफ इंडिया। कालबादेवी दियां गळीयां च हत्‍्थ गड्डियां पर समाने ढोणे व्‍हाल्यां, सिरे पर बोझा चकी दौड़ने व्‍हालयां कनै बड़ियां बड़ियां बसां कारां  दे बिच्‍चे ते रस्ता कडी ने चलदे लोग। पटरिया पर सज्‍जईयाँ दकानां। चाई व्‍हाले दे बांकड़याँ पर बैट्ठयो डरेबर। ढोत्‍तयां भाड़यां दियां। खटियाँ मिठ्ठीयां गप्‍पां। भाड़ा यानी कराया देई टैक्सीया च बैठ्ठणे वाळा जातरी। अज इतणा धंधा होया, नीं होया। बस इह्नां दियां गपाँ सुणी सुणी। अमरो भी सोचे च कमाई दे पैसे कनै गाडिया बही घुमणे दे सुपन्यां दे झूटे लेणा लगी पिया। गड्डियां धोणे व्‍हाल्‍यां क्लींडरां दिया फ़ौजा च शामिल होई गिया। मैं भी मरगार्ड मरगार्ड सुणदा ही बडा होया। असल च मडगार्ड हौंदे। गाडिया कनै टेरां जो चिकड़े ते बचाणे व्‍हाले। बरसाती च सैह् धोणा बड़े कट्ठण होंदे। सैह् गलांदे थे। मरगार्ड धोणे च ही कईयां दी बीत्‍ती गई। तेह्ड़ी डरेवर बणना सोखा नीं था। इक ता स्कूले दिया टेरेनिगं नें टेस्ट पास नीं होंदा था। कोई ना कोई गडिया वाळा डरेवर गुरु जरूरी था। सैह् बगैर रिस्तेदारी मिलणा मुश्कल था। अमरो जो भी कई पापड़ बेलणा पैए थे। होर नोकरियां भी मिलदियाँ थियाँ पर डरेवर होणे दा रुतबा भारी था।
वग्त बीती गिया। अमरो दी सारी पीढ़ी हटी नें नीं जाई सकी। जेड़े गे सैह् याद करदे गै। अमरो दा मुन्‍नु देवु सोच दा ऐत्‍थु जम्‍मे कनैं रेह्ंदया जो उमर बीत दी आई। त्रिया पीढ़ीया दा भी ब्‍याह होणा लगया। पर एह् नीं गल्‍लाई सकदे कि भई एत्‍थु दे बसिंदे होई गियो। ऐत्‍थु ता घर भी बणाई नीं सके। जाह्लु जुआनी, जोर कनै कमाई थी ता मुल्‍खें बापूऐं जेड़ा कुर्स दित्‍या था तिस पर अठां कमरयां दा मकान बणाणे च सारी कमाई लाई ती। मुल्‍खें अठां कमरयां दा बंगला कनै ऐत्‍थु दस गुणा दस दी दुरुड। दुरुडी बाहर करोना कनै अंदर समिंटे दिया छत्‍ती हेठ दुरुड छल्लियां दिया भठ्ठीया साही भक्‍खियो। मन करे कियां भी सणें टब्‍बरें खिट लाई ही रिडि़या पर अपणे बंगलुऐं पूजी जाएं। बांईं दा ठंडा पाणी कनै खड्डा दा नोह्ण।
हर साल गरमियां च चली ही जांदे थे। देवुऐं इसा बह्रिया भी टिकट लेइ्यो थे करोना आई गिया। मते चले गै अपणियां गडियां लई। इक ता देवुऐ दी गडी पराणी कनै गडिया च तिसदा टब्‍बर भी नीं ओणा। हुण ईंह्या भी मन नीं लगदा। एह् टैक्‍सियां दा धंधा भी मुकदा आया। असां दियां गडियां कनै असां भी थक्‍की गियो। हाल ऐह् है कि गडिया दी कीमत सोसायटी-या दे करजे ते भी घट है। बेची नें भी किछ नी बटोणा। करोना च हिमाचले दी याद कनै रोणा ही ओआ दा। चाणचक रोळा पिया कि रेल चलणे वाल़ी है। देवुऐं भी मबाईले पर सारे टब्‍बरे दा नां पाई ता।
रेल चल्‍ली ता तिन्‍नी मुंबई दी धरत बंदी। सरकार कनै माता महाराणियां दी किरपा नैं सैह् सरकारी रेला च सरकारी परोह्णा बणी टब्‍बरे समेत हिमाचल पूजी गिया। ओत्‍थु इक्‍की स्‍कूले च टैस्‍ट होए। तिन्‍नां चौंह् दिनां बाद रपोटां आईयां ता घरे दे दर्शन होये। घरें पूजी बी देवुऐं धरत बंदी। केम्‍पे च भी त‍कलीफां ता थियां पर दिन ही माड़े हन फिह्री भी तिसा दुरुडा कनै भट्ठीया ते ठीक था। पर जेह्ड़े जेह्ड़े सुखां ते थे आयो। तिह्नां ताईं मुश्‍कल था।
बड़ी लम्‍मी थी एह् मसाफरी। रिड़की-रिड़की ठोकरां खांदे घरें पूजे ता ठंड पई। देवू सोचे च पई ईया। बापुऐं कमाई ता टब्‍बरे ताईं लगाई ती थी। मैं बी अपणिया कमाईया जोड़ी एह घर ही बणाई सकया। इस ग्रांए दे इक्‍की-इक्‍की पत्‍थरे कनै झुड़े च पराण बस दे मेरे कनै मेरे टब्‍बरे दे। भले इसा धरती पर पंजाहं सालां दिया उमरा च गिणुआं दिन ही कटणा नसीब होये होन। पर पूजी गै हुण जै मरजी होंदा रैह्। देवुएं ठंडी साह् लई।  
एत्‍थु ग्रांए च क्‍या सारें ही लोक इसा बमारीया ते डरा दे। कोई कुस्‍सी दे नेड़े नीं ओआ दा। देवुऐ जो इस गल्‍ला च किछ भी माड़ा नीं महसूस होया। बमारी देह्ई है डरना ही चाही दा अपर रतनुऐं ऐह् क्‍या गल्‍लाया। आई गे करोना परोह्णे-टूरिस्‍ट परोह्ड़े लई। रतनू ता दूरे ते गल्‍लाई नें पारें-पारें चली गिया। देवुऐ जो सारी रात निंदर नीं आई। अपणे ग्रांए कनै घरे च मैं टूरिस्‍ट। मेरे बापुएं कनै मैं सारी उमर लाई ती। घरे दे, क्‍हरेंता-सरिकां दा कोई कारज बड़ी-छोटी होई ता दोड़ी नैं आये। मंदर होये, मस्‍साणें पर छत कनै टियाळा होऐ। जितणा होई सकया दिता कनैं अज पैहली बरी दुक्‍खी होई आया ता मैं टूरिस्‍ट होई गिया।
सोचदयां-सोचदयां कनै पळसेटयां खाद्ंया-खाद्ंया भ्‍याग होई गई। दमागे ते एह् करोना-परोह्णे दा भूत उतरने जो तयार नीं था। देवुऐ दा मन करे जाई ने तिस्‍स रतनूऐ दी खोपड़ी तोड़ी दें। मन थोड़ा सांत होया ता सोच आई। अरा। तू इतणा कजो दुक्‍खी-परेशान होआ दा। इत माह्णु माह्णुऐ ते डरा दा। मैं भी ता बंबई ते न्‍ह्ट्ठी नैं आया।
असां ते लावा डाक्‍टर-नरसां, होर स्‍टाफ पुल़सा व्‍हाले, डरेवर, रसौईये। कितणे लोक सेवा करा दे। तिह्ना जो अपणी फिकर भी नीं है। दिन-रात लगयो। मेरी रेल भी ता राती दो बजे पूजी थी ऊनें। कितणे लोक थे ओत्‍थु हिमाचले दे मिंजो ताईं जाग्‍गा दे। इन्‍हां रतनुआं सतनुआं साही छोटिया सोचा व्‍हाल्‍यां जो गोळी मार। जै सोचणा है, फिकर करनीं है ता देवभूमी दे तिह्नां देवतयां दी कर। जेह्ड़े इस्‍सा विप्‍पता च भी अपणा कम्‍म करी जा दे। देवुऐं धोलाधार जो इक जोर दार सलामी दित्‍ती कनै माता राणी व्‍हाल अरदास किती की करोना दे सपाहियां दी रक्‍सा करयां। रतनु ऐ दिया सोचा जो अपणा पैंरा हेठ्ठ पईयो पतरेना साही थुक्‍की मरोड़ी ने इक जोरे दी लत मारी। फिह्री तिह्नी मतयां दिनां दी पेईयो पतरेन कठेरी नीं पछवाड़ें बाह्रले चुह्ल्‍ले च फूकी ती।                                      

कुशल कुमार