Sunday, November 22, 2020

यादां फौजा दियां

 

मंडोत्रा होरां त्वांग च, 1989 


फौजियां दियां जिंदगियां दे बारे च असां जितणा जाणदे, तिसते जादा जाणने दी तांह्ग असां जो हमेसा रैंह्दी है। रिटैर फौजी भगत राम मंडोत्रा होरां फौजा दियां अपणियां यादां हिंदिया च लिखा दे थे। असां तिन्हां गैं अर्जी लाई भई अपणिया बोलिया च लिखा। तिन्हां स्हाड़ी अर्जी मन्नी लई। हुण असां यादां दी एह् लड़ी सुरू करा दे हन, दूंई जबानां च। पर एह् हिंदिया दा अनुवाद नीं है। लेखक अपणे लिक्खेयो जो दुबारा लिक्खा दा है। इस करी पहाड़ी कनै हिंदी दूंई दा अपणा मेल भाषा दा मजा है। पेश है इसा लड़िया दा पैह्ला मणका।  

.................................................................................. 

शहीदां दियां समाधियां दे प्रदेशे च  

ये गल्ल सन् 1989 दी है। जुलाई दा महीना था। मैं राजस्थान च तैनात इक्क तोपखाना ब्रिगेड हेडकुआटर ते बदली होई करी अरुणाचल प्रदेश च भारत-चीन बार्डर पर तैनात भारत दिया फ़ौजा दे तोपखाने दिया इक्क फील्ड रेजिमेंटा च जा करदा था।  अरुणाचल प्रदेश जो पहलें नेफा गलांदे थे। नेफा दी धरत 1962 दी भारत-चीन जंग च असां दे बहादुर फौजियां दियां कुर्बानियां दी गुआह है जिन्हां व्ह्ली न तां ढंगे दे कपड़े थे, न हथियार, न ही गोल़ा-बरूद। 

नई दिल्ली ते नार्थ ईस्ट एक्सप्रेस च बैठी करी मैं लम्मे सफरे परंत असम दे रंगिया रेलवे टेशने पर उतरेया। तित्थु ते मैं मिसामारी तांईं रेल गड्डी पकड़ी। एह् गड्डी तेजपुर तिकर जांदी थी।  मिसामारी तेजपुर ते पहलें पौंदा है। बाद च रंगिया-तेज़पुर रेल लैण उग्रवादियां दे हमलेयां दी बजह ते बंद करना पई गई थी। 

तिन्हां दिनां च मिसामारी च फौजा दा ट्रांजिट कैम्प होंदा था।  अरुणाचल प्रदेश दे तवांग दे पासें तैनात फौजा दियां यूनिटां देयां जुआनां दा औण-जाण इस कैम्पे दे थरू ही कंट्रोल होंदा था।  मिसामारी ट्रांजिट कैम्प च पूजदेयां ही मिजों पता लगेया कि जमीन खिसकणे दिया बजह ते अरुणाचल प्रदेश दा तवांग (कामेंग सेक्टर) पासें जाणे वाल़ा रस्ता कई हप्तेयां ते कटोया पिह्या था।  अरुणाचल प्रेदेश पासें फौजियां दा औण-जाण बंद था। ट्रांजिट कैम्प च देशे दे दूजे हिसेयां ते औणे वाल़े जुआनां, जिन्हां च छुट्टी कट्टी करी औणे वाल़े भी शामिल थे, दी भीड़ जो छांटणे तांईं तिन्हां जो असम च तैनात दूजियां यूनिटां कनैं अटैच कित्तेया जा:दा था।  मिजों तंईंयें ऑडर मिलेया भई कि मैं इक्क-दो दिन ट्रांजिट कैम्प ऑफिस च कम्म करां तिस ते परंत मिंजो तेजपुर च फ़ौज दी चौथी कोर दे हेडकुआटर च भेज्या जाई सकदा था। इसते मिजों बड़ी मायूसी होई। मैं तौल़े ते तौल़ा अपणी नोंईं यूनिटा च जाई मिलणा चांहदा था। 

मेरी नोंईं यूनिट, जिसा च मैं पैह्ली बरी चलेया था, बॉडर पर लुम्पो कनैं नीलिया दूंहीं ठाहरीं तैनात थी। यूनिट दी हैडकुआटर  बैटरी कन्नैं दो लड़ाकू बैटरियां  लुम्पो च थियां कनैं तीजी लड़ाकू बैटरी होर अग्गें जाई नैं नीलिया नां दी जगह पर थी। जिञा इन्फैंट्री यूनिटां च कम्पणियां होंदियां तिञा तोपखाना यूनिटां च बैटरियां होंदियां।  मेरी यूनिट दा कम्म तित्थु तैनात इक्क माउंटेन ब्रिगेड दी लड़ाईया च मदद करना था। उस जमाने च तिस बड़े मुश्कल दुर्गम  इलाके तिकर जाणे तांईं  तवांग ते अग्गें इक्क-डिढ दिन दा पैदल रस्ता हंडणा पौंदा था। मैं तित्थु जितणी जल्दी होई सकदा था जाई करी तित्थु रैह्णे दा मजा लैणा चांहदा था।  फौजी भागां वाल़े होंदे किञा कि तिन्हां जो उन्हां जगहां पर रैह्णे-हंडणे दा मौका मिलदा जित्थु जाणे जो होर लोक सिर्फ सुपने ही दिक्खी  सकदे। 

जाहलू मैं ट्रांजिट कैम्प ऑफिस च बैठी करी अपणा कम्म निपटा दा था चाणचक मेरे मनैं च ख्याल आया कि ज़रा दिक्खूं तां सही कि मेरी होणे वाल़ी नौईं यूनिट दे कितणे जुआन असम च तैनात वख-वख यूनिटां च बिखरेयो थे।  मैं कागजे पर तिन्हां दी जाणकारी लिखणा शुरू करी ती।  लिस्ट काफी लम्मी होंदी गई।  ऑफिस दा कम्म खत्म होणे पर मैं जुआनां दे ब्यौरेयां वाला कागज़ अपणे खीसे च पाई करी दोपहरां दा खाणा खाणे तांईं बाहरे जो आई गिया।  तिन्हां दिनां च ट्रांजिट कैम्पां च खाणा खरा नीं बणदा था। फिरी उस वक़्त तां अरुणाचल प्रदेश दा रस्ता बंद होणे दी बजह ते तिस ट्रांजिट कैम्पे च जितणे आई सकदे थे उसते मते फौजी ठहरेयो थे।  मिजों दाल़ी दिया जगहा प्यूल़ा पाणी ही नजर औआ दा था  इस करी नैं मैं दाल़ नीं लई।  मैं पंज-सत रोटियां चुक्कियां, वर्दिया दे खीसेयां च पाइयां कनैं कैम्प ते बाहर बणियो इक्क सिविल कैंटीन च चार अंडेयां दा ऑमलेट बणबाई करी अरामे नैं रोटियां दा नंद लिया।  जाहलू मैं खाणा खा दा था तां तित्थु दूजे जुआना नैं गल्ल-बात करी पता लगेया भई कि मेरी नौईं यूनिट दे किछ जुआन नेड़ें ही इक्क 'एयर ऑब्जरवेशन पोस्ट स्क्वाड्रन' च ठैह्रेयो थे।  सैह् थलसेना दी चीता हेलीकाप्टरां वाल़ी यूनिट थी। 

खाणा खाई करी मैं तित्थु तांईं पैदल चली पिया जित्थु मेरी नोंईं यूनिट दे जुआन ठैह्रेयो थे।  मैं ओत्थु जाई करी तिन्हां कन्नैं मिलेया कनैं तिन्हा जो दसेया भई कि मैं तिन्हां दिया यूनिटा च जा दा था कनैं कुसी अफसरे कन्नें गल्ल करना चांह्दा था।  मिंजो तिन्हां ते पता लगेया भई कि उस मौकें तित्थु यूनिट दा कोई अफसर नीं था पर अगले रोज इक्क लेफ्टिनेंट कर्नल, जेह्ड़े यूनिट दे सेकंड-इन-कमांड थे, अरुणाचल प्रदेश ते हैलीकॉप्टरे च औआ दे थे। मैं तिन्हां जो गलाई आया कि अगले दिनें आई करी मैं उन्हां कन्नैं मिलणा है उन्हां जो मेरे बारे च दस्सी दिन्नेंयों। 

दूजे दिन जाई करी मैं अपणे उप-कमाण अफसर होरां कन्नैं मिलेया। सैह् इक्क सिक्ख लेफ्टिनेंट कर्नल थे। तिन्हां जो अपणे बारे च  दसेया।  तिन्हां रस्मी तौर च हाल-चाल पुछणे ते बाद सुआल कित्ता, 'आपको तो जनवरी में आना चाहिए था, इतनी देरी क्यों की?'  मैं थोड़ी कि देर चुप रही नैं होल़ैं कि जवाब दित्ता, 'सर, मैं मूवमेंट आर्डर के अनुसार सही समय पर आया हूँ।मूवमेंट आडर दी इक्क कॉपी  मैं अपणे खीसे ते कढी नैं तिन्हां सामणे करी दित्ती पर तिन्हां तिस पासें नज़र नीं मारी।  सैह् सब किछ समझदे थे पर फिरी बि तिन्हां मिजों ते ये सुआल पुछेया था।                                                                          

जाहलू मैं अपणे खीसे ते मूवमेंट ऑर्डर दी कॉपी कड्ढा दा था तां मेरे हत्थें यूनिट दे जुआनां दे ब्यौरे वाल़ा कागद बि आई गिया जेहड़ा मैं पिच्छलें रोजें ट्रांजिट कैम्प दे दफ्तर च तियार कित्तेया था।  सोचेया कैंह् नीं तिस जो अफसर होरां जो दसी देयां।  मैं अपणे खीसे ते सैह् कागद कढेया कनैं तिन्हां सामणे करी दित्ता।  तिन्हां तिस जो अपणे हत्थें पकड़ी लिया।  किछ देर तिस जो पढ़ी करी उप-कमाण अफसर होरां मिंजो वक्खी बड़िया हैरानिया नैं दिक्खणा लगे।  मैं तिन्हां जो दस्सेया कि मिंजो ट्रांजिट कैम्प काह्लु भी कोर हेडकुआटर च भेजी सकदा था। जे मैं इक्क बरी तित्थु चली गिया तां मैं फिरी यूनिट दे कम्में नीं औणा।  मैं तिन्हां जो यूनिट कन्नैं तौल़े ते तौल़ा जाई मिलणे दी अपणी गल्ल भी सणाई ती।  तिन्हां मेरी गल्ल सुणी करी मिंजो गलाया कि मैं ट्रांजिट कैम्प वापस जाई करी तियार रिहां अगले दिन तिन्हां मिंजो लैणा औणा था। 

मिंजो बाद च पता लगेया कि यूनिट दे कमांडिंग अफसरें सड़क बंद होणे दी बजह ते चीन दे बॉडर पर तैनात अपणी यूनिट दी घटदी फौजी नफरी दे फिकरे करी नैं अपणे नंबर दो जो मिसामारी इस मकसदे नैं भेजया था भई कि अपणे बिखरे जुआनां दी जाणकारी मिल्लै कनैं अग्गे दी हर मुमकिन कारबाई कित्ती जाई सकै।  बिण बोलेयां मेरी जुटाईयो जाणकारी तिन्हां दे बड़े कम्में आई कनैं तिन्हां जो यूनिट च पूजणे दी मेरी काहल़ी बि पसिंद आई। बाद च सैह् यूनिट दे कमाण अफसर बणे कनैं यूनिट च तिन्हां दे सेवा समैं जो समाप्त होणे तिकर मैं तिन्हां दा चेहता बणी रिहा।  शैद तिन्हां मिंजो च किछ खास गल्ल दिक्खी लईयो थी।  दुनिया दिया भीड़ा च अपणे आपे जो लग्ग दसणे तांईं किछ खास गल्ल होणा जरूरी है।  कुसी भी माह्णुयें दे निक्के-निक्के ममूली लगणे वाल़े दूजेयां ते हटी करी नैं कित्तेयो कम्म उस दी दूजेयां दियां नजरां च इक्क खास तस्बीर बणाई लैंदे हन।

..................................................................................

शहीदों की समाधियों के प्रदेश में (पहली कड़ी)

 

बात सन् 1989 की है। जुलाई का महीना था। मैं राजस्थान में तैनात एक तोपखाना ब्रिगेड मुख्यालय से स्थानांतरित हो कर अरुणाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा पर तैनात भारतीय सेना के तोपखाने की एक फील्ड रेजिमेंट में जा रहा था।  अरुणाचल प्रदेश को पहले नेफा के नाम से जाना जाता था।  नेफा की धरती 1962 की भारत-चीन युद्ध में हमारे वीर सैनिकों के बलिदानों की साक्षी है जिनके पास न तो ढंग के कपड़े थे, न हथियार, न ही गोला-बारूद। 

नई दिल्ली से नार्थ ईस्ट एक्सप्रेस में बैठ कर मैं लम्बे सफर के बाद असम में स्थित रंगिया रेलवे स्टेशन पर उतरा। वहां से मैंने मिसामारी के लिए रेलगाड़ी पकड़ी। ये गाड़ी तेजपुर तक जाती थी। मिसामारी तेजपुर से पहले पड़ती है।  रंगिया-तेजपुर रेलवे लाइन कालांतर में उग्रवादियों के हमलों के कारण बंद करनी पड़ गई थी। 

उन दिनों मिसामारी में सेना का ट्रांजिट कैम्प हुआ करता था। अरुणाचल प्रदेश के तवांग की तरफ तैनात सेना की यूनिटों में सेवारत सैनिकों का आना-जाना इसी कैम्प के माध्यम से नियंत्रित होता था। जब मैं मिसामारी ट्रांजिट कैंप में पहुंचा तो पता चला कि ज़मीन खिसकने के कारण अरुणाचल प्रदेश का तवांग (कामेंग सेक्टर) की तरफ जाने वाला रास्ता कई सप्ताहों से कटा पड़ा था। अरुणाचल प्रदेश की तरफ सैनिकों की आवाजाही बंद हो गयी थी। ट्रांजिट कैंप में देश के दूसरे भागों से अरुणाचल प्रदेश में जाने वाले सैनिकों, जिनमें छूटी काट कर वापस आने वाले सैनिक भी शामिल थे, की भीड़ को कम करने के लिए  उन्हें असम में स्थित विभिन्न सैन्य यूनिटों के साथ अटैच किया जा रहा था। मुझे बताया गया कि मैं एक दो दिन ट्रांजिट कैंप ऑफ़िस में काम करूं उसके बाद मुझे तेजपुर स्थित सेना की चौथी कोर के  मुख्यालय में भेजा जा सकता था।  यह जान कर मुझे निराशा हुई क्योंकि मैं शीघ्रातिशीघ्र अपनी नई यूनिट में शामिल होना चाहता था। 

मेरी नई यूनिट, जिसमें मैं पहली बार जा रहा था, सीमा पर स्थित लुम्पो और नीलिया दो स्थानों में तैनात थी।  यूनिट की हैडक्वाटर बैटरी और दो लड़ाकू बैटरियां लुम्पो में थी और तीसरी लड़ाकू बैटरी उससे और आगे नीलिया नामक स्थान में थी।  जैसे इन्फेंट्री यूनिटों में कम्पनियां होती हैं उसी तरह तोपखाना यूनिटों में बैटरियां होती हैं।  मेरी यूनिट का मुख्य कार्य वहां तैनात एक माउंटेन ब्रिगेड की युद्ध में सहायता करना था। उस समय इस अति कठिन दुर्गम इलाके में पहुंचने के लिए तवांग से आगे एक-डेढ़ दिन का पैदल रास्ता तय करना पड़ता था। मैं वहां जितनी जल्दी हो सके, पहुंच कर उस स्थान में तैनाती के रोमांच को अनुभव करना चाहता था। सैनिक भाग्यशाली होते हैं क्योंकि उन्हें उन जगहों पर रहने-विचरने का अवसर मिलता है जहां जाने की दूसरे लोग मात्र कल्पना ही कर सकते हैं। 

जब मैं ट्रांजिट कैम्प ऑफ़िस में बैठा अपना काम निपटा रहा था तो अचानक मेरे मन में विचार आया कि ज़रा देखूं तो मेरी होने वाली नई यूनिट के कितने सैनिक असम स्थित विभिन्न यूनिटों में बिखरे पड़े हैं। मैंने कागज पर उनके बारे में ज़रूरी जानकारी लिखना शुरू कर दी। सूची काफी लंबी होती गयी। ऑफिस का काम समाप्त हो जाने पर मैंने सैनिकों के ब्यौरों वाला कागज़ जेब में रखा और दोपहर का खाना खाने के लिए ऑफ़िस से बाहर निकल आया। उन दिनों ट्रांजिट कम्पों में खाना अच्छा नहीं बनता था। फिर उस समय तो उस ट्रांजिट कैम्प में अरुणाचल प्रदेश का रास्ता बंद हो जाने के कारण क्षमता से अधिक सैनिक ठहरे हुए थे। मैंने दाल नहीं ली क्योंकि दाल की जगह पीला सा पानी ही नज़र आ रहा था। मैंने 5-7 रोटियाँ उठायीं, वर्दी की जेब में रखीं और कैम्प के बाहर स्थित सिविल कैंटीन में चार अंडों का आमलेट बनवा कर आराम से रोटियों का आनंद लिया। जब मैं खाना खा रहा था तो वहां दूसरे सैनिकों से बातचीत के दौरान पता चला कि मेरी नई यूनिट के कुछ जवान नजदीक स्थित 'एयर ऑब्जरवेशन पोस्ट स्क्वाड्रन' में ठहरे हुए थे। ये थलसेना की चीता हेलिकॉप्टरों से सज्जित यूनिट थी। 

खाना समाप्त करके मैं उस जगह के लिए पैदल चल दिया जहां मेरी नई यूनिट के सैनिक ठहरे हुए थे। मैं वहां जा कर उनसे मिला और उन्हें बताया की मैं उनकी यूनिट में जा रहा था और किसी अफ़सर से बात करना चाहता था मुझे उनसे पता चला कि वहां उस समय यूनिट का कोई अफ़सर नहीं था पर अगले दिन यूनिट के एक लेफ्टिनेंट कर्नल जो उप-कमान अधिकारी थे हेलीकॉप्टर द्वारा अरुणाचल प्रदेश से आ रहे थे। मैंने उन्हें बताया कि मैं अगले दिन आकर उनसे मिलूंगा जब वह आएं उनसे मेरा जिक्र किया जाए। 

 दूसरे दिन मैं अपने उप-कमान अफ़सर से मिला। वो एक सिक्ख लेफ्टिनेंट कर्नल थे। मैंने अपना परिचय दिया। उन्होंने कुशलक्षेम की औपचारिकता के बाद मुझ से पूछा, “आपको तो जनवरी में आना चाहिए था इतनी देरी क्यों की?”  मैंने थोड़ी देर चुप रह कर धीरे से जवाब दिया, “सर, मैं मूवमेंट आर्डर के अनुसार  सही समय पर आया हूँ।मैंने संचालन आदेश की एक प्रति जो मेरी जेब में पड़ी थी निकाल कर उनकी और बढ़ा दी पर उन्होंने उसे नहीं देखा। वो सब कुछ समझते थे पर फिर भी उन्होंने मुझ से यह सवाल किया था। 

जब मैं अपनी जेब से संचालन आदेश की प्रति निकाल रहा था तो मेरे हाथ में यूनिट के सैनिकों के विवरण वाला वह कागज भी आ गया जो पिछले दिन मैंने ट्रांजिट कैम्प के कार्यालय में तैयार किया था। सोचा क्यों न उसे अधिकारी महोदय को दिखा दिया जाए।  मैंने अपनी जेब से वह कागज भी निकाल कर उनकी ओर बढ़ा दिया। उन्होंने उसे अपने हाथ में थाम लिया। उस कागज को कुछ क्षण देखने के उपरांत उप-कमान अधिकारी महोदय मेरी तरफ आश्चर्य से देखने लगे। मैंने उन्हें बताया कि मुझे ट्रांजिट कैम्प से कभी भी कोर हेडक्वार्टर्स में भेजा जा सकता था अगर मैं एक बार वहां चला गया तो फिर यूनिट को अपनी सेवायें नहीं दे पाउँगा। मैंने उन्हें यूनिट में जल्दी से जल्दी शामिल होने की अपनी मंशा से अवगत कराया। उन्होंने मुझे बताया कि मैं ट्रांजिट कैंप में वापस जाकर तैयार रहूं वो मुझे अगले दिन सुबह लेने आएंगे। 

मुझे बाद में पता चला कि यूनिट के कमान अधिकारी ने चीन की सीमा पर तैनात अपनी यूनिट की सड़क मार्ग बंद होने के  कारण घटती सैनिक संख्या से चिंतित हो कर अपने नंबर दो को मिसामारी इस मकसद से भेजा था कि वो अपने बिखरे हुए सैनिकों के बारे में जानकारी जुटा कर आगे की हर संभव कार्यवाही करें। बिना बताए मेरे द्बारा एकत्रित की गयी जानकारी उनके बहुत काम आई और उन्हें यूनिट में शीघ्र शामिल होने की मेरी उत्सुकता भी भा गयी। कालांतर में वह यूनिट के कमान अधिकारी बने और यूनिट में उनके सेवाकाल पर्यंत मैं उनका चेहता बना रहा। शायद उन्हें मुझ में कुछ  खास बात नज़र आई थी। दुनिया की भीड़ में अपने आप को अलग दिखाने के लिये व्यक्ति में कोई खास बात होना ज़रूरी है।  किसी भी व्यक्ति के द्वारा छोटे-छोटे  मामूली से लगने वाले दूसरों से हट कर किये गए काम उसका दूसरों की नज़र में एक बिशेष स्थान बना देते हैं।



भगत राम मंडोत्रा हिमाचल प्रदेश दे जिला कांगड़ा दी तहसील जयसिंहपुर दे गरां चंबी दे रैहणे वाल़े फौज दे तोपखाने दे रटैर तोपची हन।  फौज च रही नैं बत्ती साल देश दी सियोआ करी सूबेदार मेजर (ऑनरेरी लेफ्टिनेंट) दे औद्धे ते घरे जो आए। फौजी सर्विस दे दौरान तकरीबन तरताल़ी साल दिया उम्रा च एम.. (अंग्रेजी साहित्य) दी डिग्री हासिल कित्ती। इस ते परंत सठ साल दी उम्र होणे तिकर तकरीबन पंज साल आई.बी. , 'असिस्टेन्ट सेंट्रल इंटेलिजेंस अफसर' दी जिम्मेबारी निभाई।

कालेज दे टैमें ते ही लिखणे च दिलचस्पी थी। फौजाा च ये लौ दबोई रही पर अंदरें-अंदरें अग्ग सिंजरदी रही।  आखिर च घरें आई सोशल मीडिया दे थ्रू ये लावा बाहर निकल़ेया।

हिमाचली पहाड़ी च चार कवता संग्रह- जुड़दे पुल, रिहड़ू खोळू, चिह्ड़ू-मिह्ड़ू, फुल्ल खटनाळुये दे, छपयो। इक्क हिंदी काव्य कथा "परमवीर गाथा सेकंड लेफ्टिनेंट अरुण खेतरपाल - परमवीर चक्र विजेता" जो सर्वभाषा ट्रस्ट, नई दिल्ली ते 'सूर्यकांत त्रिपाठी निराला साहित्य सम्मान 2018' मिलेेया।

हुण फेस बुक दे ज़रिये 'ज़रा सुनिए तो' करी नैं कदी-कदी किछ न किछ सुणादे रैंहदे हन।