Monday, June 29, 2015

अग्गी दा घेरा

विवेक प्रधान ज्यादातर इक खुश रैह्ने आळा माह्णु नि है। एथू तक की  शताब्दी एक्सप्रेस दे . सी कम्पार्टमेंट भी तिस्दिया दुख्दिया रगा सांत नि पोआ दी थी, क्योकि सैह सॉफ्टवेर कम्पनिया प्रोजेक्ट मनेजर था कने तीसियो हवाई जाह्जे सफ़र करने जो कम्पनी पैहे नि देह्या दी थी। गप एह नि थी की तीसियो बुड़क दस्णी थी लोकां जो अपर टैम बचाणा था।

तिस बचायो टैमे सै बड़ा कुछ करी सकदा था इक मनेजर होणे दे नाते। तिनि लैपटॉप खोड़ेया कने कुछ कम करना लगी पेया, विवेक इक मिंट भी ग्वाणा नि चाह दा था।

"क्या तुहाँ सॉफ्टवेर साइड ते हेन श्रीमान"? बखे बैठेयो इकी आदमीयें लैपटॉपे बह्खे दिख्देया कने तारीफा भरिया नजरा ने पुछेया।
विवेकैं माड़ी देयी तिरछी नजर दिति कने मुन्हे ही बुड़्केया "आं" कने लैपटॉप ओर कस्सी करी पकड़ी लेया।
" तुहाँ लोकां देशे बड़ी तरक्की लेई ओंदी श्रीमान, अजकल सब कुछ कंप्यूटराइज्ड ओई या" आदमियें गलाया।

धन्यबाद, विवेक ह्स्सेया कने मुड़ी करी आदमिये जो दिखेया, तिसते अपणि तारीफ़ नि सम्भळुन्दि थी। विवेकैं दिखया की सैह आदमी नौजुआन हट्टा कट्टा कुसी खलाड़ी ये साईं भ्जोया दा था, पर सैह शताब्दी एक्सप्रेस दे . सी कम्पार्टमेंट जचा दा नि था, इन्ह्या लगा दा था की कुसी ग्रांये दा जागत बड्डे अंग्रेजी स्कूल पूजीया होयैं। सैह शायद रेलवे दा ही स्पोर्ट्स कोटे दा मलाजम था कने अपणे फ्री पासे दे मजे लुट्टा दा था
(विवेकैं सोचेया)मैं तुसां लोकां ते बड़ा रैह्न हुंदा, तुसां अपणे कमरे बैठी करी कंप्यूटरे कुछ लैणी लिखदे जिसने बाहरतीया दुनिया मता किछ होई जांदा, आदमियें गलाया।

विवेक थोड़ा झनुई के ह्स्सेया कने बोलेया," भाऊ एह सुआल कुछ लैणि लिख्णे दा नि है, इदे पचां बड़ा ताम झाम ऐह, बड़ा कुछ करना पोंदा, इक्की मिंटा वास्ते विवेकैं सोचेया की इसजो सॉफ्टवेर बनाणे दी सारी काहणी सणाई दैंह पर एह ही गलाई स्केया " एह बड़ा ओखा कने कठण कम ऐह"
"एह कठण होणा भी चाहिदा मैं एह ही मेद करदा, तुहाँ जो पैहे भी ता बड़े जादा मिलदे" आदमियें गलाया।
विवेक जिन्ह्या सोचा दा था गप हुण तियां बिलकुल नि थी आदमी बैह्सणे दे मूड़े  था।

" तुहाँ लोकां जो पैहा ही दुस्दा, कुसी जो एह नि सुजदा की अहाँ जो कितणी मेहनत करना पोंदी, अहाँ . सी आळे कमरेयाँ बैन्दे इदा एह मतलब नि की अहाँ दियां भरमां परसिना नि पोंदा। तुहाँ शरीरे दी कसरत करदे अहाँ दमागे दी, फर्क इतणा है। विवेक ग्लान्दा चलेया।

मैं तीजो सम्झान्दा, इसा ट्रेना दा ही उदाहरण लेई लै, अहाँ कुसी भी दूँ स्टेशना दी टिकट ओल इंडिया कुसी भी स्टेशन ते लेइ सकदे, ऐट टैम लख माह्णु टिकट खरीददे लग लग बुकिंग ऑफिस ते कने एह सारी जानकारी इक ही सर्वर(मतलब बड्डा कंप्यूटर) संभाळदा। इस बास्ते बड़ी कठण कोडिंग करना पोंदी तीजो पता एह? एह सब बड़ा ओखा कम है। विवेक चुप होई गया।
आदमी सुणी के रैन्ह रेई गया। क्या तुहाँ एह सब डजैन करदे?
मैं करदा था, उण नि , उण मैं मनेजर बणी गेया। विवेक बोलेया।
हुह्ह्ह्ह मतलब उण जिन्दगी सान होई गियो, तफान गुजरी चुक्या। आदमी बोलेया।

विवेक उण बुरैं दोलैं झनुई गया " क्या बोला दा तू, क्या तीजो लगदा प्र्मोशना ने जिन्दगी सान होई जांदी? जिन्ह्या जिन्ह्या ओहदा बददा जिम्मेबारियां बदी जन्दियाँ। कोडिंग करना सान थी, उण मिजों होरना ते कम लैणा पोंन्दा, अपने उपर जुआव दैणा पोंदा. टैमे ते पैहले कम नप्टाई के देणा पोंदा छत्ती टैनसना। रगड़ा इतणा कइ इकी बह्खे गाक रोज डमांडा बदलदे . दुए बखैं साहब लोक सोचदे कले दा मुक्दा कम अज मुकैं।
विवेक रुकी गया कने सोचेया जेह्ड़ा तिन्नी गलाया सैह कुसी झूटे आदमिये दा कोंफ नि था अपर सच था, कने सच ग्लाणे वास्ते गुस्सा होणे दी जरूरत नि ओंदी।

उण विवेक सांत होई के फिरि गलाया " तिजो नि पता अरा अग्गी दे घेरे खड़ूतेयो होन ता क्देया लगदा" विवेक चुप होई गया जिन्ह्या सैह बैह्स जित्ति गया होए।

सैह आदमी पिट्ठी सीधी करी के बैठी गया कने आखि बंद करी लियां जिन्ह्या कुसी सोचा डूबी गया।
तिसदा चेहरा इकदम सांत था जेह्ड़ा तिन्नी गलाया तिस सुणि के विवेक रैह्न होई गया।
" मिंजो पता है श्रीमान अग्गी दे घेरे खड़ूत्यो कियां लगदा" सैह इक टक घूरा दा था जिन्ह्या कोई ट्रेन कोई सवारी थी नि बस निर्वात था।

तिनि ग्ळाना जारी रखेया, " अहाँ तीह(30) जणे थे जाह्लू अहाँ जो पोस्ट नम्बर 4875 पर राती दे आड़े कब्जा करने दे हुक्म आये। दुश्मण चून्ड़िया पर ते गोळियां मारा दा था,  कुसी जो भी पता नि था अगली गोळी कुस पासे ते कने कुस वास्ते ओणि ऐह। भ्यागा ओंदे जाह्लू अहाँ तिरंगा फराया चून्ड़िया पर अहाँ बस चार थे बचेयो।

" तू इक......." विवेक ग्लान्दा इसते पैहले ही तिनि आदमियें गलाया।
" मैं सूबेदार शुशांत 13 j&k राइफल ते 4875 पोइंट कारगिल पर तैनात। तिना गलाया की उण मैं अपणा मिशन पूरा करी दितेया कने सैहरे पोस्टिंग लेई सकदा।
पर मिंजो दस्सा क्या कोई अपणि  ड्यूटी सिर्फ इस ताइन छड्डी सकदा की जिसने जिन्दगी सान होई जांदी होए।

तिसा भ्यागा घरुन्दिया मेरा साथी घायल बर्फे दुशमणे दे नसाने सामणे पेया था। अहाँ बंकर थे, एह मेरी ड्यूटी थी कइ तिस्सियो चुकी ने बंकरे लोंदा।
पर मेरे कैप्टने मिंजो हुक्म नि दित्ता कने अप्पू चली गे तिस्सियो आणना दुश्मणा दियां गोळियाँ दी परवाह कितेयो बगैर।

तिना गलाया की रंगरूटीया पैहली कसम एह खादियो मैं की सबते पैहले देशे दी हफाजत, फिरि मेरे थल्ले कम करने आळेयां दी हफाजत फिरि लास्ट अपणि हफाजत, हर बरिया। कैप्टन साह्बें सैह बंकर ता पुजाई ता पर अप्पू दुश्मण दी गोळियाँ ने शहीद होई गे। तिस दिने बाद हर भ्यागा मेरी आह्खी सामणे एह ही दुस्दा की कैप्टन साहब गोळियां खा दे जिना पर मेरा ऩा लखोया था।

हाँ मिंजो पता ऐह अग्गी दे घेरे खड़ूतयो कियां लगदा" एह गलाई के सैह चुप होई गया
विवेक सुन्न होई गया था, तिस्सियो समझ नि ओया दा था क्या जुआव दैंह। तिन्नी झटपट लैपटोप बंद करि दिता। ऐसे माह्णुये सामणे जिस वास्ते ड्यूटी जानी ते भी बदी के थी कने बहादरी रोजे दा कम था, इक कंप्यूटर दी फाइल बणाणि कुसी बेइजति ते घट नि था।

ट्रेन होलैं होई गियो थी, स्टेशन आई गया कने सुशांत ने अपणा बैग संभाळ्या कने उतरने जो तयार होणा लगा।
"तुहाँ ने गल करी के खरा लग्गा श्रीमान" शुशांत गलाया।

तिस ने हथ म्लान्दे विवेके दा हथ कम्बा दा था, एह सैह ही हथ था जिनी पाड़ चड़ेयो थे, बंदुका दा घोड़ा दबया था, कने चून्ड़िया पर तरंगा फहराया था। विवेके भी इकदम सावधान ख्ड़ोयी के सज्जे हथे ने सलूट मारी ता।
इक मनेजर होणे दे नाते सैह देशे दे वास्ते इतणा ता करी सकदा था।

एह जेड़ा तुहाँ पढ़या एह इक सची घटना ऐह। पोइंट 4875 पर कब्जा कारगिल दी लड़ाईया दी घटना ऐह।
कैप्टन विक्रम बतरा ने अपणि जान इकी साथिये जो बचाणे कुर्बान करी ति थी। तिना जो भारत सरकार ने मिलट्री दे सबते ऊचे पुरुस्कार परमवीर चक्र ने सम्मनित किता था।

हिमाचल वास्ते बड़ी गर्व दी गल ऐह। ऐसे वीर स्पूतां जो कने तिना जो पैदा करने आळियां माऊ जो मेरा सत सत नमन ऐह।

पहाड़ी अनुवाद: सुमित भट्ट
साभार: मूल अंग्रेजी लॉजिकल इंडियनस कनै राजीव महाजन दा ब्‍लौग