Wednesday, June 20, 2012

मेरी जून

6955342763_d7d3698874_z-1-3 

जाह्लू ते मैं होस सम्भाळी, गल्ळैं पईया”जूंगा’, 
                  
हळैं ही लग्गी रे:आ प्यारेया, मैं तां बौ:ळ्द गूंगा   
             .                      
इक्सी हत्थैं थम्मी हाळीयें धर्मे दी लक्क्ड़ ’ल्हाळी’,


दूयें हत्थें ’प्रैण’ पकड़ीयो उपदेसां दीयां हुज्जां.


मईयें भी मैं ही जतो:या, मैं ही खिन्जणी ’दंदाळी’.


जुआनैं धानैं भुक्खां मारनीयां मुं:ह्यें लग्गेया ’छिक्कड़ा’,


जे भी खाणा”खुण्डें’ ई मिलणा,घा:-पतरा:हे दा बूज्जा.


थाप्पी देई नै हळैं जोड़ना पटोई गिया मेरा छिक्कड़ा.


हाये वो जानी अपणे ताईं जीणे दा टैम नी लग्गा,


होईया रटैर हुण गोड्डे गैर लैः ब:हीया ’बैहड़ू बग्गा’.


 
जिन्‍हां जो ज्‍यादा पहाड़ी नीं औंदी तिन्‍हां ताई मुसकल सब्‍दां दे मतलब:
जूंगा      : हळे जो ब;हळदां दीया पिट्ठी नै जोड़ने आळा
ल्हाळी   : हळे जो सम्भाळने आळी लक्कड़े दी हत्थी
प्रैण        : ब:हळदां जो चुंग देणे वास्ते बै:न्जे दी सोठी या छिह्टी
मई        : लक्कड़े दा भारी फट्टा जिसने बीयां बाहणे ते बाद खेत्रां दी मिट्टी बराबर करदे
दंदाळी   : बै:न्जे दा कन्घीनुमा औजार जिसने खेतरे च ते घा-खरपात साफ करदे (दंदाल्टी)
छिक्कड़ा  : बै:न्जे दा जाळीदार छक्कू बैलां दे मुंहे चढ़ाई दिन्दे तां जे बौ:ळ्द तां तूं मुंहें नी मारन.
खुण्ड     : मजबूत बेळणनुमा लक्कड़ ( गोह्ड्डें गा:हर्नी जमीना च गड्डिया हुंदा जिसने डंगरेयां जो ब:ह्नदे)
बग्गा बैह्ड़ू  :गोरे रंगे दा ब:हळद


तेज सेठी


तस्‍वीर फिल्‍करा ते ऐथी ते 

Wednesday, June 13, 2012

जनाब मेहदी हसन होरां नी रैह

होई सकदा दयारे तिकर गोहणे ते पैहलैं इ तुसां जो एह उदास करने आली खबर मिली गेह्इयो होए भई गजला दे बादसाह मेहदी हसन होरां नी रैह। सैह मतेयां सालां ते बमार थे। तिन्‍हां गजल गायिकी जो जेहड़ा गास दस्‍सेया सैह मते लोकां दे बसे दी गल नीं हुंदी। मते शायरां जो तिन्‍हां महान बणाइत्‍ता। तिन्‍हां दियां गजलां लोकां तिकर पजाइयां जेहडि़यां उइयां होई सकदा भई उर्दुए जाणने वालेयां तिकर ई पुजणियां थियां। ऐसे महान कलाकार कनैं गजलां दे साधके जो सुरगे च ठीहया मिल्‍लै...औआ,  एह बिणती परमात्‍मे नै करिये। 

Tuesday, June 5, 2012

प’थराँ नैं क्या हाल सुणाणाँ सीह्स्से दा


मितरो ! मेरी इक ग़ज़ल पढ़ा. जे टैम लग्गै ता दस्सा कदेह्यी लग्गी

 ग़ज़ल




इक्क जमोरड़ ऐब पुराणाँ  सीह्स्से दा
छुटदा ई नी‍ सच्च गलाणाँ सीह्स्से दा

तोड़ी नैंभन्नी नैंप’थराँ मारी नैं ?
दस्सा कीह्याँ सच्च छडाणाँ सीह्स्से दा

अपणे चेहरे दा नीं झलणाँ सच्च मितराँ
प’थराँ ने थोब्बड़ छड़काणाँ सीह्स्से दा

किरचाँ दा एह ढेर तुसाँ जे दिक्खा दे
एह्त्थू इ था सै सैह्र पुराणाँ सीह्स्से दा

कदी ता मितरो मूँह्यें अपणे भी पूँह्ज्जा
घड़-घड़ियें भी क्या लसकाणाँ सीह्स्से दा

इट कुत्ते दा बैर ए सीह्स्से प’थरे दा
प’थराँ नैं क्या हाल सुणाणाँ सीह्स्से दा

इक्क स्याणाँ माह्णूँ एह समझान्दा था
प’थराँ बिच नीं सैह्र बसाणाँ सीह्स्से दा

भखियो तौन्दी अग्ग बर्हा दी पर अपणाँ
हर समियान्नाँठोह्र-ठकाणाँ सीह्स्से दा

जे घड़ेया सैह भजणाँ भी त्ता था इक दिन
द्विज’ जी किह्तणाँ सोग मनाणाँ सीह्स्से दा

 द्विजेन्द्र द्विज