Sunday, July 18, 2021

गाह्यी छड्डी दुनिया सारी

 


शायर द्विजेंद्र द्विज होरां दी हिमाचली पहाड़ी ग़ज़लां दी कताब ऐब पुराणा सीह्स्‍से दा इसी साल छपी है। इसा कताबा दे बारे च कुशल कुमार होरां दी एह समीक्षा पेश है।

 

हुण एह् ऐब सीह्स्‍से दा होए या माह्णु ऐ दा, ऐब ता ऐब ही होंदा। असां दी आदत है, असां अपणयां ऐबां दुए दे सिरें मढ़दे। इस ताईं सीह्स्‍से बड़े कम्‍में ओंदे। एह् असां दे ही ऐब हन जेह्ड़े सीह्स्‍सयां दे सिरें हन। सीह्स्‍से दे भाह्ने द्विज होरां असां दे सारे ऐब गजलां च गाई नें गणाई भी दित्‍ते कनै सीह्स्‍से साही दस्‍सी भी दित्‍ते। पर ऐह माह्णू इतणा ऐबी है एह् कुसी सीह्स्‍से च नीं उतरदा। आखर टुटणा सीह्स्‍से दी तकदीर है ताईं ता द्विज जी जो गलाणा पिया। किह्तणां सोग मनाणा सीह्स्‍से दा।

एह् कताब द्विज जी दिया कला दा कमाल है। हिंदी च भी कई गजलां वाळे उड़दुए दे लफजां दा साह्रा लेंदे पर द्विज जी दियां इह्नां गजलां च प्‍हाड़ी भासा दी अपणयां निकड़यां फंगड़ुआं दी उच्‍ची उड़ान है। प्‍हाड़ी नदियां, छरूड़ुआं दी लय, होआ दे गीत- संगीत इक मिट्ठी लम्‍मी तान है। जिसा ताना पर इक बरी हत्‍थें लेया ता कताबा छडणे जो मन ही नीं करदा। द्विज होरां असां दे जीणे दी, दुखां-पीड़ां दी, हुश्‍यारियां-चलाकियां दी, भोळे होणे कनैं दौड़ा च प्‍चांह् छुटी जाणे दियां सब गलां चतेरियां। एह् जीणा सोचया जाए ता अपणे आपे नें इक लड़ाई ही है। द्विज जी पुछा दे।

दस्‍सैं कदी तैं जित्‍ती

अप्‍पूं ने जंग मितरा

 

हुण कोई भी जंग जे जितणी होऐ ता निस्‍चा ता चाही दा।  

 

निस्‍चे दा जे तिसा पर पक्‍का नसाण लग्‍गै

जाई पखेरुए दिया हाक्‍खी च बाण लग्‍गै

 

माह्णु ए व्‍हाल सब किछ है पर एह् निश्‍चा ही नीं है। एह् भी इक कजा ही है।

रोज अप्‍पूं नैं घुळकदा रैह्न्‍दा  

मेरी मिंजो नैं एह् कजा क्‍या ऐ

 

इसा कजाई बिच भी किछ परगड़ा होणे दिया मेद्दा पर जिंदगी ढैंदी-पौंदी रैह्न्‍दी।

किछ उमेद्दां दे परगड़े छड्डी

होर जीणे दा आसदा क्‍या है

 

समझा ता किछ औंदा नीं, इह्यां लगदा एह् जीणा इक स्‍वांग है कनैं माह्णू इक मनसुखा है। एह् मनसुखा काह्ली हसदा काह्ली रोंदा पर हासल किछ नीं होंदा।

रोई अंदरै जे बाह्र हस्‍सा दा

मिंजो अंदर एह् मनसुखा क्‍या ऐ

 

आखर च दुनिया दी इस चूहा दौड़ा च घसटोई-घसटोई माह्णूए जो एह् जीणा भी इक घसटोणा लगणा लगी पोंदा।

हसणा नीं बस रोणा इ था

जीणा था क्‍या घसटोणा इ था

 

ऊपरे ते जीणे दियां इतणियां खिंजा हन कि किछ भी करा धागे च पळेस पई ही जांदे फिह्री जितणा खोह्ड़ा उतणा होर गुत्थम-गुत्था होंदा जांदा।

तांह तुआंह कैंह् थे खिंजा दे

धाग्‍गें ता पळचोणा इ था

 

इसा इक पळचोईया जिंदगीया लेई नैं असां सारी दुनिया घुमदे रैंहन्‍दे।

गाह्यी छड्डी दुनिया सारी

अन्‍दरा जो भी मार उडारी

 

हुण करी भी क्‍या सकदे! माह्णु ऐ जो जमदे ही सुख दुख लगी पौंदे कनैं माह्णु इन्‍हां च कैद होई नें फंगा मारदा रही जांदा।

असां दे दुखां दी-सुखां दी जणेत

औन्‍दी ऐ जान्‍दी ऐ जान्‍नी समेत

  

असां उमर भर ईह्यां ही किछ करने दी कोशश करने दे  बजाए बैर बरोद्धां पाळी बैह्ल्‍या  जळवां च जळदे रैह्न्‍दे। 

किछ नीं मिलणां खून्‍नें जाळी

रड़कां बैर-बरोद्धां पाळी

 

जे टुट्टा दा तू तिस गठ्ठा नीं करदा

जे भज्‍जा दा तू तिस जोड़ा नीं करदा

 

दुनिया ते बाह्र तेरिया दुनिया इक होर है

खोह्ड़े जे तू कदी इन्‍हां भित्‍तां दुआरियां

 

गलाणा सौखा है। बाह्र निकला उप्पर उट्ठा कनैं उड़ा लेकन इन्‍हां दुआरियां दा खुड़ना इक रूहानी जातरा होंदी। मनें दा हिरण काबू नीं औंदा।

जिसा कस्‍तूरिया तोप्‍पा दा तू सैह् है तिज्‍जो अंदर

मना हिर्ना कजो ईह्यां बणो-बण दुड़कदा रैह्न्‍दा

 

एह् मने दा हिरण गलाणे जो ही हिरण होंदा असल च बब्‍बर शेरे ते भी बड्डा बब्‍बर शेर होंदा। इस शेरे जो लगदा कि एही सयाणा है।

होरनां सभनां वला अक्‍ला दा घाट्टा निकळया

सारिया दुनिया च बस इक मैंसियाणा निकळया

 

एह् सयाणा कुत्‍थी भी त‍लकोई पोंदा कनैं अपणी गलतियां-कमियां जो फोकियां सजावटां पचांह् लकादां रैहंदा।

बोल मनां। हर कुथकी

कैंह् लगदा तलकूणां

 

द्वाल्‍लां सजान्‍देआं कदी अन्‍दरां ल्‍ह्कान्‍देआं

निकळी गई इक उमर ऐ पर्दे इ पान्‍देआं

 

अपणे-अपणे सुपने होंदे कनैं तिन्‍हां ताईं अपणी-अपणी खिट होंदी। माह्णू ऐ दा जीण इक सुपनां ही ता होंदा पर न्‍ह्ठी नै भी कितणा कि न्‍ह्ठणा कनै कपाळिया ते गांह कतांह जाणा।

 

द्विज मैं न्‍ह्ठी-न्‍ह्ठी ने अप्‍पूं जो तोपा करदा

जीह्यां कुसी दा सुपनां कोई नभाळ होऐ

 

जाई कुथी भी रस्‍सां-बस्‍सां

अप्‍पूं ते मैं कुथियो नह्स्‍सां

 

देश आजाद होई गिया पर मजदूरां दे हालात नीं बदलोए। जीणे दी तौन्‍दीया दियां धुप्‍पां दे मसाफर अज भी इक माड़ी देईया छाऊआं जो तरसा दे।

 

कैंह् भला इक्‍की जह्गा मजदूर नीं बसदा कदी

बदली नैं दुनिया नीं तिसदा हाल बदळोन्‍दा कदी

 

सफर भी था चणाट्टां दा कने भखियो थी तौन्‍दी भी

बसोन्‍दे जा असां पल भी कुथी जे रुक्‍ख हरा मिलदा

 

मते सारे सुपने ढेर सारियां इच्‍छां। सोचां द बण कनैं मने दा न्‍हेरा मन भिंबळी जांदा। न्‍हेरें दिया भी वाळी नीं होंदा। मुश्‍कल रस्‍तयां संभळी-संभळी चली लेंदा। ओंदी पधरी ता ढई पोंदा। आखर मंजल किछ दूर ही रही जांदी।

 

इक बण था ख्‍वाहिशां दा भी मंजला ते किछ रुआंह

रस्‍ता जे भिंबळेया ता भिंबळदा रेह्या फिरी

 

द्विज था फह्ळियां, गोह्रां, कुआळां दा जातरू

पधरी जे बत्‍त मिल्‍ली जा फिसळदा रेह्या फिरी

 

इक आम माह्णुऐ ताईं गजला दा मतलब होंदा इश्‍क, मुश्‍क हुस्‍न पर द्विज जी एह् ता सुज्झा दा नीं सीह्स्‍से च। जे सच्‍चा प्‍यार होऐ ता सीह्स्‍से च नीं ओदा कनै जे ऐब ही होए ता ऐही ठीक है।

 

प्रेम्‍मे दिया बांई ईह्यां मत करें खारिया

रूह्यी दा खियाल कर खल्‍लां दे बपारिया        

 

मरदां दिया इसा दुनिया च कुड़ियां दा क्‍या होणा, ता क्‍या जीणा है। संग्रह दी शुरुआत च कुड़ियां लड़िया दियां अट्ठा गजंलां कनै 59 शेरां च इक भी देह्या नीं है जेह्ड़ा छडया जाए। कुड़ियां दियां हाक्‍खीं दे सीह्स्‍से ने नजरां मेळणे ताईं असां दे समाजे जो हाली भी मता वग्‍त लगणा है।


तुसां गलान्‍दे लाट्टां-जोतां

पेट्टां बिच्‍च बुझोइयां कुड़ियां

 

चुप-चुप, चुप, चुप, चुप सुणि नैं

चुप-चुप, गुम-गुम होईयां कुड़ियां

 

एह दुनिया क्‍या दुनिया रैंह्गी

एह्त्‍थू जे नी होईयां कुड़ियां?    

   

इक बडे शायर गला दे थे कि तकनीक सिक्‍खी मेहनत करी गजल कोई भी लीखी सकदा पर गजला च कमाल ओणा एह् कोई उपरे आळे दी कृपा दा ही मामला होंदा। मिंजो इस कताबा दिया गजलां पढ़ने बाद एह् लग्गा भई एह् गल पूरे सोळा आने सच है। द्विज पर माता सरस्‍वती दी कृपा है तांही गजलां च आत्‍मा दा सीह्स्‍सा झांका दा।

पवनेन्‍द्र पवनजी दा गलाणा है- 

                    ‘‘

एह् जिन्‍दू दे पेड़ुए च भरोईयां पीड़ां दियां गजलां हन। भाव पख, कला पख, शेरियत ने बैह्र, काफि़या, रदीफ़ दिया कसौटिया पर खरियां उतरदियां इन्‍हां गजलां दी एह् कताब पहाड़ी भाषा जो द्विज जी दा नायाब तोह्फा है। 
                                       ’’

 

नवनीत शर्मा जी दा मनणा है- 

‘‘

हिमाचली या पहाड़ी के मुहावरे बेहद खूबसूरती के साथ गजलों में सहेजे और सजाए गए हैं। यह गजल संग्रह‍ अपने हिमाचली भाषा के जारी सफर में ऐसा पड़ाव है जिसके बाद मंजिल पर ह‍क और साफ हो जाएगा। 

                                                                            ’’

      

इस पर अपणी तस्‍दीक दी मोह्र लगाई अनूप सेठी जी ने ठीक ही लिखया-  

‘‘ 
एह् कताब इक नौंआ चेप्‍टर शुरू करने आळी है। एह् गजलां कुसी भी हिंदुस्‍तानी भासा दियां कवतां दिया बराबरिया दियां हन। इन्‍हां च अपणी परंपरा, अपणे लोक दी डुग्‍घी छाप है। भासा च संगीत कनै लोच है। अजकिया दुनिया नै सिद्धी टकर है। 

                                                                 ’’


सच एह् कताब प्‍हाड़ी भासा दिया इसा कठण चढ़ाईया दे जातरूंआ तांई इक   सोठीया साही कम्‍में ओणी है। द्विज जी जो मतियां-मतियां बधाईयां कनै एही   शुभकामनां हन कि तिन्‍हां पर माता सरस्‍वती कृपा बह्रदी रैह्।

कुशल कुमार








द्विजेंद्र द्विज होरां दी ग़ज़लां यूट्यूब पर 

मितरो सच गलाणा चल्ले : स्वर पंडित सोमदम्म बट्टू 

ऐब पुराणा सीह्स्से दा : स्वर तेज कुमार सेठी 


द्विजेंद्र द्विज होरां दी कताब एमाज़ॉन पर

 

11 comments:

  1. कुशल जी,
    सञ्झकणीयाँ बत्ता दी जै।
    द्विज होरां दीया इसा कताब्बा " ऐब पुराणा सीह्स्से दा" दीया घरोड़ुआँ समीक्षा पढ़ी नै रूह गदगद होई यैय्यी। तुसां कताब्बा दा नचोड़ कड्ढी नै ऐस-ऐसीयाँ लोईं पाई त्तीयाँ भई जिन्हां जो घड़-घड़ीयैं पढ़ने यों गौंS है करा दा। इसा कताब्बा प्हाड़ी भासा दा मत्था उच्चा करी त्ता। आम समाजिक , राजनैतिक अन्यांS कनै कमज़ोरीयाँ पर घणे दीयाँ चोट्टां हन ए ग़ज़लां।
    कुशल जी, तुहॉं झ्न्हाँ ग़ज़लां दा सह्यी बज़न तोल्या कनै अपणीयाँ क़लमां दीया कुशलता दा भी नमूना पेश करी नै रखी त्ता। मुन्जो मीद ही नी अपण पूरा वुसुसास है, कनै मेरा ब्रह्म बोल्ला क'दा भई तुहाँ दी कलमा दा चमकदार रस कनै जस्स होर बद्धदा जाणा है । असां जो खुसी हुन्दी। तुहाँ जो बधाई।
    द्विज होरां जो भी बधाई।
    प्हाड़ी भासा दी जै

    ReplyDelete
    Replies
    1. तेज सेठी जी तुसां दी पहाडि़या दा ता मैं मुरीद है। होसला बधाणे ताईं आभार।

      Delete
  2. वाह जी वाह! कमाल दी जाच-परख। द्विज होरां दिया कताब्बा 'ऐब पुराणा सीह्स्से दा' पर कुशल कुमार होरां देही लौ सट्टिह्यो कि सब्भ किच्छ आर-पार सुज्झदा। एह् कताब हिमाचली पहाड़ी दे रस्ते च मील पत्थर है। म्हातड़-भाईयाँ जो इसा जो पढ़ी-गुणी करी अपणी माँ बोली दी सियोआ करने च सहूलत होणी है। मिंजो लगदा असाँ दिया माँ बोलिया दे बाँके दिन ओणे हुण दूर नीं।

    द्विज होराँ जो बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मंडोत्ररा जी, जै हिन्द।
      तुँहा जेह्ड़ी गल्ल लिखी,सैः पत्थरे पर लीह्क है।
      एह् कताब प्हाड़ी भासा दे मत्थे पर लोई दा टिक्का है। भासा दीया खिचड़ीया प्राह्ल्लैं देसीये घियोये दी लार है। आ तां इन्हियां बोल्ला भईप्हाड़ी भासा दे सिरे पर ठाठदार पगड़ीया दा कुल्ला है। जितणे वी प्हाड़ीया च कुछ रचा दे तिन्हाँ तईंयें च्यवनप्राशै दी खुराक़ है।
      कन्नो-कानियाँ एह् वी मैं ग्लाह्नगा, भई औणे आळे वगत्रे बदलोन्दे दा पता वी नी चलदा, लिखणे आळे खरै, होर वी उच्चैड़िया जाई पूह्जन। असाँ खरै हड़ुमानै सांह्यी बङ्डा ही छुत्तू मारी पाह्न।
      तुहाँ भी खरे डःटेयो। डटी रेह्या। बड्डी छाळ भरा। जाह्लु तिक हड्ड-गोड्डे चलेःयो, देयी छड्डा खिट्ट।

      Delete
  3. ऐब पुराणा सीहस्से दा द्विज होरां दा गजल संग्रह ताँ हाली मैं पढ़या नी पर आदरजोग कुशल कुमार होरां दी समीक्षा इह्दे बारे मता किछ गला दी। निह्गी सोच कनें कित्तियो एह समीक्षा सारियाँ ग़ज़ला दा अहसास करा कर दी। कुशल होरा दी सौगी द्विज होरां जो मती बधाईः

    ReplyDelete
  4. बड़ी बढ़िया समीक्षा लिखी कुशल जी होरां। शायर ता ग़ज़ला लिखी करी बख्खे होई जांदा। एह समीक्षक होरां करी के हुंदा जे इक्की शेरे दे सैह नेक बनेके मतलब बयान करदा। कुशल भाई जी जो भी बधाई कने द्विज भाई जी जो भी।

    ReplyDelete
  5. कुशल कुमार होरां ने द्विज साहब दी हल्ली हल्ली छप्पियो पहाड़ी गज़लां दिया कताबा, "ऐव पुराणा सीहस्से दा" जो बड़िया तस्सलिया कन्नें पढ़ेया। फिरि बिच्चैं बिच्चैं लाईना चुणी चुणी करी द्विज साहब दिया लिखणे दिया माहरता जो दस्सेया। कुशल होरां बड़े खुली करी दस्सेया कि एह गजलां कुथि न कुथी साड़िया जिन्दगिया कन्ने जुड़ियाँ ।
    द्विजेन्द्र द्विज साहिब सहितेय दी इक बड़ी बडी माहर हस्ति हन। तिहना दियां रचना दे उपर कुछ लिखणा मिन्जो साहिं छोटे दे मांहणुएं दे बसे दी गल नीं है। इहनां जो जे असां चलदा फिरदा पहाड़िया दा शब्दकोष बोलिए तां कुछ गलत नीं हुंगा। द्विज साहब पहाड़िया दे ही माहर नीं हन। ऐह हिन्दिया, उर्दूये कन्ने अंगरेजिया दे भी माहर हन । हल्ली हल्ली इहनां ने वॉव डिलन, अमरीका दे कवि कन्नें गायक, जिहनां जो 2016 दा नोवल इनाम मिलेया, दिया कवता दा पहाड़िया कन्नें हिन्दिया विच तर्जुमा कित्या।
    द्विज साहब होरां लड़कियां जो जिन्दगी भर जिहनां तकलीफां विच रहणा पौंदा जो मसूस किता कन्रें सच्चाईया जो सीहस्से साईयाँ साड़े साहमणे रखी दिता।
    "सैर-सपट्टे मुण्डुआं ताईं, हर कम्में नतड़ोईयाँ कुड़ियाँ"।
    -----मदन लाल सुमन

    ReplyDelete
  6. द्विज होरां दिया कताबा पर कुशल होरां दी समीक्षा सारेयां जो पसंद औआ दी। कुशल होरां ग़ज़लां देयां कइयां पक्खां दे पासें असां दा ध्यान मोड़या है। मेरा ख्याल एह् कताबा दी ही ताकत है जेह्ड़ी कवता दा नंद लैणे कनै लग-लग पक्खां दी व्याख्या ताईं असां जो सददी है। इसा कताबा पर हाली ता गल सुरू होई है। एह् लम्मी चलणी हैै। संभावना मतियां हन।

    इक गल होर भी भई समीक्षा दा मतलब सिर्फ कसीदे कढणा ई नीं हुंदा। कोई कूणा गुणिए ते बाह्र जाऐ ता तिस पर उंगळी रखणा भी जरूरी हुंदा। हर इक पाठक अपणे स्हाबें नै कवता पढ़दा। असां नवाचार दा सुआगत करिए।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय भाई अनूप सेठी साह्ब

      पते दी गल ता एह् गलाई।
      गुणिए ते बाह्र वालियाँ कूणा दा पता लखारिए जो भी लगणा चाह्यी दा कने पढ़ने वाले जो भी। ए
      एह तुसां दे आशीर्वाद दा परताप है, कताब मतेयां गुणी पाठकां जो भेज्जी कने, मतियाँ खरियाँ प्रतिक्रियां भी आइयाँ। कुशल भाई साह्ब ने जितने शे'र समीक्षा च शामल कित्तेयो, मेरिया पसंदा दे हन। भाई कुशल जी दा मता मता धनबाद। इह्नां ग़ज़लां जो भाई तेज सेठी जी दा भी मता सारा पियार मिल्ला। मेरा लिखणा सफल होया, कोशिश करगा, अगली कताब इसते भी खरी होये।

      इक होर खुशखबरी होर भी है। पटियाला घराने दे शास्त्रीय संगीत दी जगत प्रसिद्ध विभूति हिमाचल गौरव पंडित प्रोफेसर सोमदत्त बट्टू साह्ब ने भी इह्नां ग़ज़लां जो आपणा आशीर्वाद दित्ता, अपणा मंत्रमुग्ध करने वाले संगीत कने जादुई स्वर देइ ने,

      https://youtu.be/klTVtqT5H-o


      मैं आभारी आँ।

      Delete
    2. समीक्षा दे श्रेय दियां हकदार द्विज जी दियां गजलां हन। मैं ता इह्नां जो पढ़ने दा नंद तुसां कनैं बंडया। इस लेखे जो तुसां साही गुणीं मितरां दा प्‍यार मिला। मन गद्-गद् होई गिया।
      तेज सेठी जी, भगतराम मंडोत्रा जी, सुरेश भारद्वाज निराश जी, मदन लाल सुमन जी, नवतीत शर्मा जी, अनूप सेठी जी,द्विज जी तुसां सारयां दा मैं आभारी है। तुसां ते सिक्‍खणे कनैं लिखणे दी प्रेरणा मिलदी रैंहदी।

      Delete
    3. मंडोत्ररा जी, जै हिन्द।
      तुँहा जेह्ड़ी गल्ल लिखी,सैः पत्थरे पर लीह्क है।
      एह् कताब प्हाड़ी भासा दे मत्थे पर लोई दा टिक्का है। भासा दीया खिचड़ीया प्राह्ल्लैं देसीये घियोये दी लार है। आ तां इन्हियां बोल्ला भईप्हाड़ी भासा दे सिरे पर ठाठदार पगड़ीया दा कुल्ला है। जितणे वी प्हाड़ीया च कुछ रचा दे तिन्हाँ तईंयें च्यवनप्राशै दी खुराक़ है।
      कन्नो-कानियाँ एह् वी मैं ग्लाह्नगा, भई औणे आळे वगत्रे बदलोन्दे दा पता वी नी चलदा, लिखणे आळे खरै, होर वी उच्चैड़िया जाई पूह्जन। असाँ खरै हड़ुमानै सांह्यी बङ्डा ही छुत्तू मारी पाह्न।
      तुहाँ भी खरे डःटेयो। डटी रेह्या। बड्डी छाळ भरा। जाह्लु तिक हड्ड-गोड्डे चलेःयो, देयी छड्डा खिट्ट।

      Delete