Friday, April 23, 2021

पवनेंद्र पवन दियां पंज ग़ज़लां

 


पवनेंद्र पवन होरां दियां पंज ग़ज़लां पेश हन। एह् ग़ज़लां मशहूर शायर द्विजेंद्र द्विज होरां चुणियां हन। मूह्रला धौळाधार दा फोटो भी द्विज होरां ही खिंजेया है।  


1

 देई पधाड़ी जीह् तईं दित्ता नि रोट था

तीह् तिक नि होया कम तिदा बाबे  दा खोट था

 

छैळाँ दे सैह्रे  आसकाँ दे चौण होई गै

अपणे दिले दे बक्से बिच इक भी नी वोट था

 

पाळे असाँ दिक्खी जिह्जो भत्ते दे गर्म खाब

चौक्के रखोह्या सै बस  खाल्ली चरोट था

 

मुण्डी करी ने भेड ताँ सीत्ते ने ठारी ’ती

बझिये वला पलोह्ड थी, उन्नी दा कोट था

 

पुजदे ही राजधानियां होया सै लखपती

जान्दी बरी नि जुगती दा जिस ’ला लंगोट था

 

तिस -तिस नचाया तिसयो  ही इत्थू बड़ा अरो

जिस-जिस दे हत्थे जिस कुसी दा भी रिमोट था

 

जाड़ाँ झँकाड़ाँ आया नी सांजों नजर  'पवन'

बसणे जो दिल तेरा नि ताँ बधिया पलोट था

 

2

चाट्टे गलास तोड़ी ने जेह्ड़े गराड़ी गै

पीणे ते अपणे गै असाँ दा क्या बगाड़ी गै

 

झंडे फटे नै भीड़ा च बिज्या नी छेल्लू भी

मँदरे च असाँ भी दोस्तो! देणा पधाड़ी गै

 

चिक्का बछाई पधरिया खेत्ताँ बनाणे जो

दरया कई प्हाड़ां दयां सैह्रां उजाड़ी गै

 

सिखदे रेह्यी गै दा असाँ रुक्खाँ जो गोह्णे दे

पत्थर थे जिह्नां वाह्ल सैह् अम्बाँ भी राड़ी गै

 

चाद्दर नौंईं नकोर  ही रखणे तियैं भी लोक

बिछियाँ थियाँ जे हेठ सै  खिह्न्दाँ ही साड़ी गै

 

होया 'पवनसुते’ दिया लीला दा एह् असर

बांदर बणी ने छोकरू बाग्गाँ उजाड़ी गै

                

3

दन्द पळेई पुच्छे आरी

कुस रुक्खे दी है कल  बारी

 

फस्लाँ पर पोणी है भारी

खेत्ताँ दी गिदड़ाँ ने यारी

 

चेह्रे चुक्का बाळ खलारी

थल्ले ला इस धौळाधारी

 

सबना हटणा है पैविलियन

खेली अपणी अपणी पारी

 

नी चाह्न्दैं भी झुमणा पो दा

राग है गोआ दा दरबारी

 

कोई नी इत्थू ओणा मतदा

दिल भी मदरसा है सरकारी

 

इक गैं पुट्टी साह् फुल्ला दा

जिन्दू दी पंड इतणी भारी

 

कदि डसदा, कदि आसक बणदा

माह्णू नाग है इच्छाधारी

 

हाख 'पवन' है मिल्ली तिसनै

रैह्णी है कई रोज खुमारी

 

          

टूरी लकोळुआँ इह्याँ सांजो सै  भाळदे

मिलदे  जे लोकां साह्मणे नजरीं जो टाळदे

 

करदे असां ने ढोंग ही प्यारे दा जे तुसां

ध॔गड़ाँ च बेह्यी नै असाँ जख्माँ ताँ ताळदे

 

दसदी कदी जे पीड़ तू अपणी असाँ कने

पलकाँ दे बाळे ने तेरे कंडे नकाळदे

 

आसक छळैपे दे असाँ छैळां ते रैंह्दे दूर

नाग्गाँ ताँ पूजदे अपर सर्पां नी पाळदे

 

नजरीं ने नजरीं  मिलदयां  गै होस होई गुम

मिल्ला नी इतणा टैम जे जिगरे सँभाळदे

 

करदा नी कुसियो  गल कोई सोची ने एह् 'पवन'

सीसे दे मैह्ल्लाँ बाळे नी गिटुआँ उछाळदे ।

 

5

मीद्दाँ च उचियाँ कोठियाँ चिणदी चली गई

जिँद भौंऐं पैराँ  तेरेयाँ  खिणदी चली गई

 

भठिया च कुसियो  होस  थी, दिखदा गलासुआँ

हर हाख तेरा छैळपण मिणदी चली गई

 

गुस्से च चाट्टी झोळे दी तोड़ी थी मैं कदी

सारी उमर ही ठीकराँ बिणदी चली गई

 

इक जोगिए दे धूणे दा था ठेलकू ए दिल

छैणी बणी नजर तेरी छिणदी चली गई

 

कितणा सै बह्रगे तोंदिया बद्दळ भला ‘पवन’

भादों जिन्हाँ दी सौण भी किणदी चली गई


पवनेंद्र पवन 


No comments:

Post a Comment