Saturday, April 17, 2021

उंगळी पकड़ी नै गांह् चलाणे आळे गुरु

 


डॉ. पीयूष गुलेरी होरां जो अनूप सेठी याद करा दे। 


पीयूष गुलेरी होरां जो गेह्यो दो साल होई गै। अपर लगदा नीं। जदूं स्हाड़े भाभी होरां, तेज भाइयां दी जीवन साथी निशा जी, गुजरे थे, सन 2018 च तां असां धर्मसाळा गेह्यो थे। एह् मई म्हीने दी गल है। तदूं डॉ. पीयूष होरां बमार थे। इह्ते पैह्लें मुंबई ते मैं इक दिन फोन कीता, पर लग्गा नीं। फिरी तिन्हां दा फोन आया। बोल्ह्न, एह् बुखार ही होई जा दा हटी हटी नै। मैं गलाया कोई नीं तुसां ठीक होई जाणा छोड़।

डॉ. होरां नै मिलने दी इच्छा थी। पर हिम्मत न पौऐ। असां भी गमिया च थे। निशा भाभी होरां बमारिया नै बड़े लड़े पर ....। इक्की संझां मैं अपणिया मुनिया जो गलाया, चल तिज्जो चीलगाड़ी दे रस्ते दसदा। असां डीपू बजारे ते लंग्घी नै चीलगाड़िया आळिया सड़का पर पूजी गै। चाणचक फोन बजेया। एह् तां पीयूष होरां हन। मैं हैरान रह्यी गया। तिन्हां जो किञा पता लग्गा हुंगा, भई मैं एड्डी नेड़ैं है। मैं गलाया, डॉ. साहब मैं तुसां नै मिलणा हा। तिन्हां गलाया ता आई जाह्। असां दोह्यो धी प्यो अपर्णा श्रीपूजी गै। बाह्र लॉने च बैठे। मुनिया नै मिली नै बड़े खुस होए। मुन्नी है ता मुन्नी पर इतणी मुन्नी भी नीं है। तदूं एमए करी चुकियो थी। डॉ. होरां तिसा जो भगभती मन्नीं नै सौगन दित्ता।

तिन्हां तक खबर पूजी गइयो थी भई निशा भाभी हई नी रेह्यो। गलाणा लग्गे, फोन मैं तां कीता भई मिंजो व्हाल तेज होरां (मेरे बड्डे भ्रा) दा नंबर नीं है। मैं गल्ल करनी है। तिहाड़ी तिन्हां दी तबीत ठीक नीं थी पर चतनगी पूरी थी। पुराणियां गल्लां भी करदे रैह्। मठियाई खाई कनै चाह् पी नै न्हेरे होए ते असां विदा लई।

मेरा ख्याल एह् 1975 दी गल्ल है। मैं धर्मसाळा कॉलेज बीए च दाखला लैणा था। मैं प्रभाकर पास करी लेया था। मैं समझदा था हिन्दी ता औन्दी है, हुण कोई होर विषय लैंदा। मेरे पिता होरां मिंजो पीयूष होरां व्हल भेज्या था। एह् चेतें नीं है, मैं तिन्हां नै घरैं जाई नै मिल्या था कि कॉलेज। डीपू बजार ता गया था, एह् चेतें है। पर पता नीं ओह्थी डॉ. अग्नि रैंह्दे थे कि पीयूष होरां। खैर! पीयूष होरां गलाया, प्रभाकर करी लइयो ता होर खरा। हिन्दी ही लैह्। नंबर खरे आई जाणे। मिंजो भी कविता दा चस्का लगी चुकेया था। मैं अर्थशास्त्र कनै हिन्दी ऑनर्स लई नै बीए कीता। तदूं एमए भी सुरू होई गई। असां दूए बैचे दे थे। डॉ. होरां व्हल पंज साल पढ़े।

जिन्हां दिनां भी पीयूष होरां दा बड़ा जलबा था। सैह् पहाड़िया दे बड्डे कवि थे। पहाड़ी भासा नै प्रेम करना तिन्हां ई सखाया। डॉ. गौतम होरां पहाड़िया दे प्यारे जो लोक आळे पासें मोड़या। ओम अवस्थी होरां नौएं हिन्दी साहित्य दी लो मेरे अंदर जगाई। पीयूष होरां दियां कुंडलियांबड़ियां छैळ लगदियां थियां। मैं भी रीस करने दी कोसस कीती। दो चार घसीटी भी दितियां। तिन्हां याण्यां साही अंगुळी पकड़ी नै गांह् गांह् चलाया। इक बरी धर्मसाळा कॉलेज च इक कवि सम्मेलन होया। तिस च लालचंद प्रार्थी होरां भी थे। मिंजो भी मौका दुआई ता। मैं भी स्टेजे पर खड़ोई कविता पढ़ी आया।

तिन्हां दिना पहाड़ी भासा दा आंदोलन जोरे नै चलेया था। इक बरी भासा अकादमी आळे धर्मसाळा आए। लाइब्रेरिया दे बाहर मदाने च बैठक होई। पीयूष होरां म्हातड़ जेह् चेलेयां जो भी बठयाह्ळी लेया। बैठका परंत असां पहाड़ी सब्द कठेरना लगे। डिक्शनरिया दा कम्म सुरू होणा था। मैं लफ्ज़ां तोपणे दी लूपी घरें भी लई ती। तेज भाई भी चिमड़ी पै। असां दे दादी होरां तदूं थे। दादी मतलब जिंदा जागदा, चलदा फिरदा शब्दां दा कनै कथा-क्हाणियां दा भंडार। कई सब्द असां सिमलें भेजी ते। पर राजधानियां च चीजां क्या म्हाणू तक गुआची जांदे। एह् ता लफ्ज़ ई थे। खबरै कुतू उड़ी गै। तदूं एह् पहाड़ी भासा ई थी। पता नीं बाह्द च कदूं हिमाचली होई गई। होई गई ता कोई गल नीं। पर खबरै चली कुतांह् गई।

सन 2015 च असां दे माता होरां नीं रैह्। मैं धर्मसाळाा गेह्या था। तदूं ही भासा विभाग ते घरें इक चिट्ठी आई। मैं कचैह्रियां भासा विभाग दे दफ्तर गया। तेज भाई भी सौगी ई थे। दफ्तरे च कवि गोष्ठी चलियो थी। असां बेवग्ते, अणसद्दे पूजे। पर असां जो क्या पता था। ओह्थी डॉ. पीयूष भी थे। जोर जबरदस्ती असां दूईं भाउआं जो भी बठह्याळी लेया। मैं अर्ज भी कीती भई असां दे घरें गमी है। पर मोबाइले पर तोपी तापी नै कवता सुणाणा पई। गोष्ठी खत्म होणा लग्गी ता पीयूष होरां गलाया। सारे ही दो मिनट खड़ोई नै माता होरां जो श्रद्धांजलि देया। कनै सारे ही खड़ोई गै। एह् थी गुरु होरां दी संवेदना।           



No comments:

Post a Comment