Sunday, September 12, 2021

राग पहाड़ी

 


पहाड़ी या हिमाचली भाषा पर असां अक्सर गलबात करदे रैंह्दे। गूगल आळयां कांगड़ी, मंडयाळी कनै महासुवी दे जुदे जुदे की बोर्ड बणाई तेयो। तिस पर एह्थी भूपिंदर भूपी कनै राजीव त्रिगर्ती होरां चर्चा भी कीती। बैह्स दुबारा चली पइयो भई हिमाचली ता कुण जेह्यी हिमाचली। इस बारे च आशुतोष गुलेरी नि:शब्द होरां दे विचार अज असां एह्थू देया दे हन। 


पिछले किच्छ दिनां-ते मौह्ल बड़ा गर्मोया। जगह-जगह चर्चा सुणने-च औआ करदी कि जेकर म्हाचली बोलिया जो भाषा बणाणे दी लड़ाई हुण नीं छेड़ी तां औणे वाळे टैमे-च असांरी बोली मुकिआणी।

इस वचारे की सुणी करी दुःख भी होया; कनैं पहाड़िया दे पुराणे सिरमौरां दी याद भी बड़ी आई। जिन्हां इस भाषा खातर पेह्लें-पैह्ल संघर्ष छेड़ेया था, तिन्हां बड़े कष्ट सैह्न कीत्ते; बोलिया जो लिखणे ताईं शब्द बणाए। लोकां कनैं सरकार-दे मीह्णे सुणे। अपर कदी भी निराशाजनक गल्ल अपणे मनें-च् नीं औणा दीत्ती।

लालचंद प्रार्थी होरां दी गल्ल करिए, या फिरी सागर पालमपुरी होरां दी कलमा-ते निकळियां गजलां पढ़िए - प्हाड़िया खातर तिन्हांदा प्रेम तिन्हां-रिया रचनां मंह्ज खिड़ी-ने चौह्देयां-दा चन्न होई जांदा; पीयूष होरां दे छंदा पढ़ी करी मनें दी कली खिड़ी करी गलाब होई जांदी।

चाचू गिरधारी ते लेई करी अज भगतराम मंडोत्रा, प्रत्यूष गुलेरी, नवीन हल्दूणवी, हरिकृष्ण मुरारी कनैं होर भी मते भारी लखारियां दी रचना मंह्ज प्हाड़ी भाषा रचा कनैं बसा करदी। पर भाषा जो अठवीं अनुसूचिया-च पुआणे खातर अपणी मां बोलिया जो मरने दी गाळ देणे ते बचणा चाहिए।

मैं कुसी दे गल्ल गलाणे कनैं वचार रखणे दे खलाफ नीं हैं, पर चिड़ियां सैंह्यी पैंची पाईने जेकर भाषा बणदी हुंदी, तां हर डाळा पर इक भाषा बैठियो सुजणी थी। पर सच्चाई म्हारिया पैंचिया ते कोःपर दूर है।

बोलिया दी राहें भाषा बणने दी लड़ाई इतणी भी लम्मी नीं है, जितणा कर लम्मा बछाण आसां लोकां पाई-ने रखेया। पर जेह्ड़ा तबका अपणी माँ बोली दे मरने दी मेद लाई-ने बैठेया होवे, तिसते कितणी-क् मेद रखणी चाहिए!

जिंह्यां जिंह्यां सभ्य समाज ने कठरोणे दी सुरुआत कीती, तिंह्यां तिंह्यां आपसी बोलचाल कनैं लोकाचार नभाणे खातर इशारेयां दी भाषा सुरु होई हुंगी। टैमे टैमे ने इशारेयां दा सवरूप बदलोया; कुछ शब्द बणे, किछ पाह्खां बणिआं, कनैं इस रस्ते बोलियां दी राह बणदी चली गेई। जेह्ड़ियां किछ भाषां अज्ज आसांरे साह्मणे ह्न, सै सारियां भाषां पैह्ले बोलियां-दे सवरूपे-च् संगरोई करी ही एत्थू तिकर आई पुजियां।

जिस संस्कृता जो अज्ज सारे बड़ी वैज्ञानिक भाषा गलाएं, तिसरा पैह्लकणा सवरूप इतणा सौह्णा-सुनख्खा नीं था। पर क्या अपणे भाषाई रूपे-च् औणे ते पैह्ले संस्कृत लखोंदी ही नीं हुंगी?!

जी-तिकर मेरा अपणा वचार है - नौएं भाषाई शरीरे-च् औणे ते पैह्लां ही संस्कृत बोलिया-च लिखणे दा कम्म सुरु होई चुकेया था। अपर बोलणे कने लिखणे मंह्ज दिनराती-दा अंतर हुंदा। तिस पर लिखी चुकणे ते बाद, जेह्ड़ा लिख्खेआ सै जणता दी समझा बौह्णे बिचकार अंतर होर बदी जांदा।

संस्कृता मंह्ज एही समस्या औआ करदी थी। ताह्लू पाणनी गुरुआं जो संस्कृत दा व्याकरण बणाणे दी सुझत आई। कैं-पई वेदां-दा लिखेआ अर्थ नीं समझो करदा था। गलाणे दी गल्ल इतणी कर है कि वेद लखोई पैह्ले गै थे, कनैं संस्कृता दा व्याकरण बाद विच बणेआ था।

रामकथा पढ़ने दा नचोड़ इतणा कर है कि जेह्ड़े एह् गला करदे कि पैह्ले प्हाड़िया-दा व्याकरण लै करी औआ, फेरी अनुसूचिया दी गल्ल करा - सैह लड़ेओ जरूर ह्न, पर तिन्हां जो पढ़ेओ गलाणा थोड़ा तकलीफदे बझो करदा।

इस बिचकार इकनी पखें बड़ी जद्दोजैह्द कीत्ती कनैं इक्क साफ्टवेयर बणाणे दा परयास कीत्ता। तिन्हां-रा गलाण है कि प्हाड़िया जो तिसारा सन्मान मिलणे कनैं म्हाचलिया-जो अठवीं अनुसूचिया-च् पुआणे खातर जरूरी जमीन तयार करने ताईं एह्यिओ कम्म बड़ा जरूरी है।

सच्ची गल्ल तां एह् है कि ट्रांसलिटरेटर टूल बणाई करी बोलियां जो भाषाई दर्जे नीं मिळदे। होर फिरी ट्रांसलिटरेटर टूल तिन्हां भाषां ताईं जरूरी हुंदा जेह्ड़ियां भाषां इस्तेमाल जैदा हुंदियां कनैं ज्यादा ते ज्यादा लोक जिन्हां भाषां दे लिखेयो जो अनुवाद करी पढ़ना चांह्दे। जेह्ड़ी अजे बणी नीं, तिसदा टूल बणी जाए, तां एह् वचार करने जोग है कि ऐसी काःळी कःजो? खैर, जो कम्म होई जाए, सैह्यी खरा। पर हास्से दा मणासा ताह्लू हुंदा जाह्लू गलाणे वाळे बेपढ़ेयां सैंई एह् गलाई देन कि पहाड़ी बणाणे ताईं सारे गला तां करदे, पर टूल बणाणे ताईं प्हाड़िया दे दस हजार शब्द नीं कठरो करदे। मतबल, लखोया किछ नीं?!

प्रार्थी, पीयूष, चंद्रशेखर बेवश, चाचू गिरधारी, सागर सा', प्रत्यूष गुलेरी, मंडोत्रा, हल्दूणवी, नवीन विस्मित, द्विजेन्द्र द्विज जैसे लखारियां दी कताबां जो ट्रांसलिटरेट कराई लैंदे, तां शब्द अणगिणत होई जाणे थे। हुण लेखक लिखन भी, कनैं ट्रांसलिटरेट भी करन - मौजां ही मौजां!

तां फिरी भाषा किंह्या बणो!? बणीं नी सकदी?

मैं पैह्लां-ही गलाया - जितणा आसां रंगाड़ पाया, एह् कम्म तितणा औक्खा नीं है। जरूरत केवल इच्छाशक्ति कनैं निष्काम भाषाई प्रेम संजोणे दी है। इन्हां दुईं गल्लां दी इस टैमे बड़ी भारी कमी बझो करदी। ज्ञाने दियां गप्पां बड़ियां हो करदियां, पर कम्म नीं होई सःकादा।

भाषा बणाणे दा रस्ता प्रशस्ति पत्तर कनैं सन्मान पाणे दी राहीं नीं जांदा। बल्कि सारे रळी-मिळी कठरोई करी इक रस्ते पर चःलन - काफला अपणे आप बणदा जाणा। अपर इस रस्ते पर रोड़े भी बड़े भारी ह्न।

पैह्ला ता एही कि जेकर भाषा बणाणी, तां सैह् कुह्ण जेही बोली हुंगी जेह्ड़ी भाषा बणगी! उपलेयां जो चिंता इसा गल्ला दी है कि जेकर कांगड़ी बोली किती अठवीं अनुसूचिया-च् पई गई, तां कुलुई, म्हासवी, कह्लूरी, सराजी वगैरा पिच्छे रह्यी जाणियां। इन्हां बोलियां दी कोई पुच्छ गिच्छ नीं रैह्णी। इस इकसीं वचारें अज्ज तिकर लोकां-जो कठरोणा नीं दीत्ता। बल्कि चलदे घराटें गिट्टू पाणे दा कम्म जरूर होया।

जेह्ड़े भी इसा गल्ला पर बैह्स करा करदे, जां ता सेह चांह्दे ही नीं कि म्हाचली भाषा बणो, जां फिरी तिन्हां-जो एही नीं पता कि भाषाई अस्मिता दा जेह्ड़ा राग तिन्हां इस मौके छेड़ेया, तिस पैंची रागे पर केह्ड़ा जेहा छंद, सुर कनैं ताल बठाया जाए!

म्हाचली इक्क है। लखारियां बशक कने अपणे दमाके-च् बखरियां लीक्कां खिंजियां होन, पर इसा कलमा ते जेह्ड़ा बगा करदा, सैह् राग इक्कोई है - म्हाचली। फेरी सैह् कुलुई-च् बजो कि सराजी-च्, गलोणा म्हाचली ही है। कारण की भाषा केवल जोड़ने दा ही कम्म करदी। पर एह् मांह्णु तोड़ कुनीत विशुद्ध तौर पर संगड़ोयो मनें-री संगड़ोइयो सोच है। एह् सोच तिस कूणा ते निकळदी जिस कूणा पर किछ दो-चार क्षेत्तरवादी पूरे इलाके जो छड्डी करी, बस अपणा ही अपणा फायदा तोपदे रैंह्दे। नुकसान पूरे इलाके दा होई रैंह्दा।

पूरे म्हाचले-च अज्ज जिती किती म्हाचली लखो करदी, तिसरा लखाण देवनागरी लिपिया-च् ही हो करदा। इस कारण कुह्ण जेही म्हाचली सिर्फ कुतर्क है। जो जेह्ड़ी लिखा करदा, सैह्यी म्हाचली भाषा बणो, एही सबदा सुपना है।

हुण जेकर व्याकरणे दी गल्ल है, तां देवनागरिया दे व्याकरणे जो किछ सुधारां सौगी अपनाणे-च् कोई नुकसान है क्या!? डोगरिया भी तां एही किछ करी अपणी पणछाण कनैं अस्मिता, दोवां पख सम्हाळी लै थे।

किछ लोक कुतर्क दिंदे कि कांगड़िया-च् ठीक है, पर आस्सां-री बोलियां-च् पाःखां बड़ियां ह्न; तिन्हां जो शब्दां दा सवरूप देणे ताईं देवनागरिया मंह्ज वर्ण नीं मिळदे। बोलिया दा सवरूप बगड़ोई जाणा, कनैं होर मता किछ।

आसां लोक भुलिया करदे कि बोली कने भाषा मंह्ज 'परिष्कार' नांए दा इक फर्क हुंदा। बोलिया जो लिखणे ताईं वर्णां-दा संस्कार करना पौंदा; तिन्हां जो नौआ सवरूप देणा पौंदा, अभिव्यक्ति दी सैःजता संजोणी पौंदी, कनैं जेह्ड़ा किछ लिखेया, सैह् लोकां जो समझोई भी जाए - एही तां कम्म है लखारियां दा। होर कैस वास्ते सरसुतिया असां-दे हत्थे कलम पकड़ाई!

वैदिक संस्कृता दे कई ऐसे शब्द परिष्कृत संस्कृता-च् पढ़ने जो नीं मिलदे, इसदा मतलब एह् तां नीं कि संस्कृता दा सवरूप बदलोई गेया।

बड़ी गल्ल एह् है कि असां जो कुतर्कां ते बाह्र निकळी करी - अध्यैन, विचार, मंथन कनैं अपणी सिख्या दे राहीं औक्खे-तिक्खे शब्दां-जो घड़ने दा परयास करदे रैह्णा चाहिए। लगेयो हत्थ, जिती तिकर होई सकै, अपणी बोलिया जो समऋध करने ताईं लिखदे रैह्णा चाहिए। हुण रेह्यी गल्ल 'कुह्ण जेही म्हाचली'

इस दुविधा जो मुकाणे ताईं सारे मंह्ज्यो लखारियां जो इक्क मंचे पर आई करी 'म्हाचली पहाड़ी' दी इक व्याख्या तय करनी चाहिए - “देवनागरी लिपिया-च् लखोइयो, क्षेत्रीय बोलियां कनैं सभ्याचारे-ने संगरोइयो - कुलुई, कह्लूरी, सराजी, भोटी, गदियाळी, चंबियाळी, लाहुली, बघाटी, म्हासवी, किन्नौर, कांगड़ी इत्यादि प्रचलित बोलियां दी शाब्दिक बणतर 'म्हाचली पहाड़ी' भाषा कुआई जांःगी।” ऐसा होणे पर बड़ी सारी शंकां दा समाधान मिळी सकदा।

औक्खी बोलियां दे लखारियां जो पैह्ले पैह्ल औक्खे शब्दां दा सरलार्थ भी देणा पौआ करना, जिसते कि मते लोक तिन्हां-रे लिखेयो जो समझी सकन। इसते क्षेत्रिय बोलिया दा परचार कनैं परसार अप्पू आप होई जाणा। टैमें सोग्गी भाषा भी मजबूत हुंदी जाणी। इन्हां बोलियां मंह्ज विदेशी भाषां दे जेह्ड़े शब्द प्रकृत तौर पर रची बसी गेयो, तिन्हां शब्दां-जो यथारूप सवीकार करी-नैं क्षेत्रीय भाषा दे मूलरूपे जो भी संजोई के रखेया जाई सकदा।

पर एह् सब होणे ताईं मानसिक एक्का बड़ा जरूरी है। क्योंकि खिंजी त्रीड़ी गोछा लम्मा नीं हुंदा, फटी जरूर सकदा। कनैं जेह्ड़ी सुरते हाल सुज्जा करदी, तिसा दिखी करी तां एही बझो करदा कि रस्साकशी गोछा फाड़ने दी है। भाषा बणाणे दा जिकर सिर्फ गप्पां तिकर सिफर होई गेया।

आखरी किंतु, कि म्हाचली पहाड़ी बोली कदी भाषा बणगी भी? तां जवाब कोरा है - 'जी हाँ। भाषा बणनी तां है।' कारण कि एह् केवल साहित्य जां लोक ने जुड़ियो मंग नीं है। बल्कि पहाड़ी भाषा म्हाचले दे अस्तित्व ने जुड़ियो अस्मिता कनैं म्हारे वजूदा-री देह्ळ है। इसा देह्ळा जो लंगी करी, भाषाई नोखपणे दे कुरसे पर म्हाचले दा रच्चेया कनैं सज्जेया मैह्ल बणाया गेया था। जिस शर्ता पर असां बखरा परदेस बणाया था, जे सेह्यी शर्त असां पूरी नीं करगे, तां लाजमी है कि नेड़-पड़ेसी आसां-रे अस्तित्वे जो इक बरी फेरी चुनौती देःन, कनैं विलय दी मंग सर्पे-रे फणे सैंई सिर चुकणा लगै।

आशुतोष गुलेरी नि:शब्द
दर्शन, साहित्य, संस्कृति, हिमाचली
भाषा कनै साहित्य च गूह्ड़ी रुचि 
दूजे पास्सें, नौई शिक्षा नीति दे साह्बें क्षेत्रीय भाषा-च् सिख्या दा अलख जगाणे ताईं आसां वह्ल अपणी क्षेत्रीय भाषा होणी भी तां चाहिए!

इन्हां कारणां खातर लोक, साहित्य, अस्मिता, वजूद, विरसा कनैं सामजिक जरूरता सौगी राजनीतिक नजरिए ते भी आसां जो अपणी भाषा दी बड़ी जरूरत है। पर एह् होणे ताईं असांजो अपणा नजरिया बदलना पौणा; नजारा अपणे आप बदलोई जाणा। प्रत्यूष होरां लिखेया भी है - “औआ इकमिक होई करी देसे जो सम्हाळिए…”।

सबनी बोलियां दा सन्मान इक जेहा, सब्बी बोलियां मिळीजुळी म्हाचले जो  सौणां कनैं रूप सुनख्खा देस
बणांदियां
; सबनी बोलियां दी मिठड़ी जबान है - हुण सब्बी बोलियां इक होई नैं इक भाषा बणाणे दा सुपणा पूरा कःरन, मेद पूरी है। इस खातर अपणे विचारिक वरोधां जो आसां दूर करिए, कनैं इक होई करी अपणी मंग रखिये - इतणी-क जरूरत है।

मूह्रली तस्वीर : द्विजेंद्र द्विज 


No comments:

Post a Comment