Tuesday, September 13, 2022

लोक-रीतियां च बरसाती दा मौसम


 पिछले म्हीनें बड़ी भारी बर्खा हुंदी रह्यी। नुकसान भी मता होया। बरसाती कर्ल-कुर्ली बैठणे दी गल सदा ते ई सुणदे आए। सोशल मीडिया पर हरि कृष्ण मुरारी होरां दा इस पर इक पैह्रा घुमणा लग्गा। असां सोचया इस विषय पर जरा तरीके नै पता लगणा चाहिदा। मुरारी होरां फोन नीं चुकदे। असां रमेश मस्ताना होरां ते पुच्छया ता पता लग्गा तिन्हां भी इक लेख इस पर लिख्या है, हिंदिया च। मस्ताना होरां असां दी अर्जी मन्नी नैं अपणा लेख पहाड़िया च लिखी नै असां जो भेजी ता। एह् लेख हुण दूंह्यीं भाषां च एत्थी पेश है। इस चर्चा च एह् पता लगदा भई किसानी कनै बर्खा कनै लोक जीवन किञा अप्पू ची जुड़ेयो हन। आस्था कनै ज्ञान दा मेल भी बड़ा मनमोहणा है। सारे फोटो भी रमेश कनै प्रियांकुर होरां खिंजयो हन।     


लोक-रीतियां च बरसाती दा मौसम

 इयां तां पूरा दा पूरा भारत देस पूरी दुनियां ते ही अपणेयां कुदरती नजारेयां कनैं बदलोंन्दे मौसमां दे मजाजां करी नैं सभनां ते न्यारा ही लगदा है। इस च केई नूट्ठियां कनैं नोक्खियां खासियतां हन, जिन्हां करी नैं एह पूरे संसारे ते बिल्कुल बखरा देया ही लगदा है। एत्थू दूंह्-चौंह् म्हीनेयां बाद ही मौसम अपणे रंग बदलना शुरू होई जांन्दा कनैं सारे दे सारे भारत बासी बखरे-बखरे मौसमीं सुआदां दा रस बड़े चाए नैं लैंन्दे, मौजां मनान्दे हन। म्हारा म्हाचल प्रदेस बी इक प्हाड़ी प्रदेस हुणे करी नैं कनैं मौसमां सौगी-सौगी कुदरती नजारेयां दे नोक्खेपनै करी नैं मतियां भारी खासियतां यो अपणे च समेटी नैं रखणे आल़ा प्रदेस है। एत्थू दियां केइयां ठाहरीं पर जित्थू तौन्दिया कड़ाके दी गर्मी पौन्दी, तित्थू स्याल़े दी रुत्ता च इतणी ठंड कनैं बरफ पौन्दी, जे सारे प्हाड़ ही बरफे दिया चांन्दिया दी चादर ओढ्ढी लैंन्दे। साले दे पूरे बारहां म्हीनेयां च मग्घैर, पौह् कनैं माघ म्हीनें कड़ाके दी ठंडू आले म्हीनें हुन्दे तां फौगण कनैं चैत्र बसन्ती रुत्ता कनैं ढोलरुआं दियां गाथां दे सुरे नैं सुर मलाई किछ-किछ गर्मी दा अहसास करुआंणा लगी पौंन्दे। बसाख-जेठ तां खूब तपदे, परसीना कड्डदे कनैं हाड़-सौण-भादों च तां अम्बरे च काल़े-काल़े बद्दल़ खूब गरजदे कनैं बरही-बरही नैं सारी जगतरी यो डरांन्दे बी कनैं जिमींदारां दे खेतरां च बाहियां धानां कनैं छल्लियां दियां फसलां यो बी खूब पांणी दिन्दे। सूज कनैं काति म्हीनें च जित्थू फसलां यो समेटणे कनैं नाजे यो घरें पुजाणे दा कम्म हुन्दा, तित्थू सारे ही दयाल़िया बगैरा दे त्याहरां जो मनांणे दी त्यारी बी करणा लगी पौंन्दे। 


इन्हां मौसमीं रुत्तां च बरखा आल़े म्हीनेयां यो किछ खास खासियतां हुणे करी नैं लोकां बखरे-बखरे नांअ रखी नैं, केई रीतां-परम्परां दी बी पालना अज्जे तिकर कित्ती है। बरसाती दा शुरुआती म्हीनां जेठ-म्हीना भ्हौंएं भरपूर गर्मी दा म्हीनां हुन्दा पर इस म्हीनें ते ही सारे लोक इक तगड़ी बरखा दी निहाल़प करणा लगी पौंन्दे। इसा बरखा यो लोक-रीता मुताबिक "बतरे दी बरखा" बोल्या जांन्दा है। जेठ कनैं हाड़ म्हीनें दे शुरुआती दिनां च बतरे दी बरखा सौगी-सौगी खूब गर्मी दा होणा बी धानां कनैं छल्लियां बास्तैं बड़ी जरूरी हुन्दा है। इन्हां दूह्नीं म्हीनेयां दियां बरखां कनैं धुप्पां दा पूरा-पूरा ख्याल, बगैर कुसी लापरवाहिया ते जमींदारे यो करणा पौंन्दा है। जे सैह इस टैंमें यो नां सम्हाल़ै कनैं रत्ती भर बी खुंजी जाऐ तां तिसियो पूरा साल पछतांणा बी पौंन्दा कनैं तिसियो तिस दियां फसलां दी पूरी जिंणस बी पल्लैं नीं पौन्दी है। इस बास्तैं इक लोक-क्हावत बी बड़ी सच्ची कनैं खास एह है जे :

" राढ़े दा भुल्या बोटी

कनैं

हाड़े दा भुल्या कसान

कदीं बन्नैं नीं लगदे । "

गलांणे दा मतलब एह है जे कोई रसोइया-बोटी जेकर धाम बणान्दिया बारिया राहड़ा-तुड़का लगान्दें टैंमें लापरवाही करै जां भुल्लि जाए तां तिसदी बणाइयो रसोअ सुआदली नीं बणदी कनैं लोक तिसियो दबारा फिरी नीं सद्ददे-बुलान्दे हन। इयां ही जे किसान भी हाड़ महीने दिया बरखा दी पूरी सम्हाल़ नीं करदा है तां तिसदी बी बाहियो फसल खराब होई जांन्दी कनैं तिसियो बड़ा नुकसान हुन्दा है। जेठ म्हीने च ही बतरे दिया बरखा बास्तैं कनैं तपदिया तौन्दिया ते किछ अराम पाणें बास्तैं निक्के-न्याणे केई टूंणे-टेसे करी नैं इन्द्र देवता यो खुश करणे दी कोसत करदे हन तां जे किछ ठंड बी पेई जाऐ कनैं बतरे दी बरखा बी होई जाऐ। जिमींदारां दियां निक्कियां-निक्कियां कुड़ियां संझोकिया बतरा अंगणे दे गब्बें खड़ोई नैं, अम्बरे यो तकदियां होइयां गीत बी गांन्दियां कनैं अर्जां बी करदियां हन जे :

बरह्-बरह् झिज्जरुआ, पांणी दे - - - - - - ।

इयां ही ग्राएं दे छोटे-छोटे मुंडू बी किट्ठे होई, अपणे मुहां पर क्योलेयां दी काल़ख मल़ी नैं, हत्थां च लकड़ियां लेई सभनां दे घरां च जाई अंगणे बैठी नैं चिक्का-मिट्टिया पुट्टदे कनैं गीत गाई नैं बद्दल़ां ते बरह्ने दी अर्ज करदे हन  :

ओ मिंहां ओ, काल़े मुंहें धो

नाल़ें-खोह्लें धान बाह्ये

सैह बी ओ मिंहां तैं ही गुआए।

बरह्-बरह् मिंहां काल़ेया,

गुड्डी-गुड्डा जाल़ेया ।

काल़ियां इट्टां काल़े रोड़,

मींह बरसा दे जोरों जोर - - - -।

बाल्द धिआऐ

हाली भुक्खे घरां जो आए,

बरह् बचारेयां बरह् - - - - - ॥

इन्हां मुंडुआं चैं इकनी मुंडुएं पराणेयां गुदड़ां दा इक गुड्डा बी बणाई नैं लिय्या हुन्दा है, जेह्ड़ा जे बद्दल़-मिहं दा प्रतीक हुन्दा है। सारे ग्राएं दे लोक तिन्हां यो रपैइए-पैसे जां कणक बगैरा दिन्दे कनैं सैह सारे ही संझा तरकाल़ां बेलें ग्राएं ते बाह्र जां कुसी तलाऐ बगैरा दे कण्डैं जाई नैं तिस गुड्डे यो जाल़दे कनैं कट्ठेरयो पैसयां दा कड़ाह-प्रसाद बणाई नैं कुसी मन्दरे च चढ़ाणे ते परन्त रल़ी-मिली नैं खाई-बंडी लैंन्दे। इस ते अलावा केई बरी ग्राएं दे लोक बरखा नीं हुणे पर अपणे घरे ते घड़ा लेई नैं, नंगेयां पैरां दरयाऐ जां बौड़िया ते भरी नैं कुसी मन्दरे-शिवदुआले दा दुरुआजा थोड़ा-ब्हौत रोकी नैं अन्दर रखियो मूरता जां शिवलिंगे यो तिस पांणिएं नैं डुबाई दिन्दे। एह पक्की कनैं सच्ची गल्ल है जे लोकां-न्यांणेयां दी आस्था इन्हां रीतां दे नभांणे परन्त जरूर फलीभूत हुन्दी कनैं इन्द्र देवता तदैड़ी ही राती यो जां दूंए दिनैं ही खुश होई नैं बरखा जरूर करी दिन्दे हन। बरसाती दे मौसमें दे एह चार म्हीने  - - - -  जेठ, हाड़, सौंण कनैं भादों जिमींदारां बास्तैं कनैं तिन्हां दियां फसलां, धानां कनैं छल्लियां बास्तैं बड़े खास हुन्दे हन कनैं इन्हां चौंह्नी म्हीनेयां यो स्यांणेयां इक्की-इक्की पक्खे च बंडी नैं लोक-रीतियां मुताबिक किछ इस तरीके नैं बंडेया है : 

1. मिरग-सनाइयां

जेठ म्हीनें दे मुकदे अठ्ठ दिन कनैं हाड़ म्हीनें दे शुरुआती अठ्ठ दिन, मतलब हाड़ म्हीनें दे अठ्ठां प्रविष्टेयां तिकर दे सोलहां दिनां यो मिरग-सनाइयां दे नांएं नैं जांणेया जांन्दा है। जेठ म्हीने दियां मिरग-सनाइयां यो जेठियां (बड्डियां) मिरग-सनाइयां कनैं हाड़ म्हीनें दियां मिरग-सनाइयां यो कन्हिया (कनिष्ठ) मिरग-सनाइयां बोल्या जांन्दा है। इन्हां दिनां च खूब लू बी चलदी, तौंन्दी बी पटकदी कनैं सारेयां ही नाल़ुआं-खोल़ुआं च सकोई बी पेई जांन्दी है। इन्हां दिनां च जमींदार अपणियां जमीनां च धानां कनैं छल्लियां बाह्णे बास्तैं घुआर कनैं तुहाड़ करणा बी शुरू करी दिन्दे कनैं बतरे दिया बरखा दी बी निहाल़प करणा लगी पौंन्दे हन। गर्मी कनै लू पटकणे नैं खेतरां च जेह्ड़ा बी घाअ-खरपतवार लगेया हुन्दा, सैह पटोई नैं जल़ी-फकोई जांन्दा है। जियां ही बतरे दी बरखा हुन्दी है, जमींदार टैंमें मुताबिक धानां कनैं छल्लियां यो रांह्णे-बांह्णे दा कम्म शुरू करी दिन्दे हन। 

2. तीर         

जेठ म्हीनें दे अठ्ठां दिनां जां मिरग-सनाइयां ते परन्त अगलेयां सोलहां दिनां यो तीरां दे नांएं ते जांणेया जांन्दा है। इन्हां दिनां च धान कनैं छल्लियां बड्डोणा शुरू होई जांन्दे हन। इन्हां तीरां दे मतलक इक लोक-विश्वास स्याणें गलांन्दे रेह हन जे  :-

"तपन तीर तां होए अमीर

कनैं

बरह्न तीर तां होए फकीर।"  

दिक्खणे यो एह गल्ल उयां किछ उल्टी देई बझोन्दी है पर है एह पूरी सच्चों-सच्च। तीरां च जे खूब गर्मी पौऐ तां धानां कनैं छल्लियां च जेह्ड़ा बी घाअ जम्मदा सैह नन्दाइया-गुड्डाइया नैं पटोणे पर धुप्पां नैं जल़ी-फकोई जांन्दा कनैं धान-छल्लियां फटाफट बद्धणा शुरू होई जांन्दे हन। इस ते उल्ट जे इन्हां तीरां च बरखा पेई जाह्न तां नां तां नन्दाई-गुड्डाई ही ढंगे नैं हुन्दी है कनैं नां ही खेतरां दा घाअ ही जल़दा-फकोन्दा है। उल्टा सैह बरखा दे तरेल़ेयां नैं खूब भल़ठोन्दा है। नतीजा एह हुन्दा जे खेतरां च घाअ ही घाअ बद्धदा जांन्दा कनैं फसल घाऐ च दबोई जांन्दी। इस करी नैं जमींदारे यो नुकसान बी हुन्दा, फसला दी जिणस बी बड़ी घट्ट हुन्दी कनैं सैह बचारा मिह्णत करी बी फकीर होई जांन्दा है। तीरां दियां बरखां फसला यो फायदा पुजाणे दी बजाय नुकसान ही पुजान्दियां हन। तीरां दे तपणे नैं जमींदार एह बी मनदे जे धानां कनैं छल्लियां दिया नन्दाइया कनैं गुड्डाइया करदिया बारिया जितणा पसीना बग्गै, सैह फसल उतणी ही जिआदा हुन्दी है। खास करी नैं छल्लियां दे टण्डे तां दिनैं धुप्पा नैं जितणे बठ्ठोई जाह्न कनैं राति यो जेह्ड़ा पाल़ा तिन्हां दे डंठल़े च पौंन्दा है, सैह तां छल्लियां बास्तैं अमरत सिद्ध हुन्दा है। 

3. दक्खणैण

हाड़ म्हीनें दे मुकदे अठ्ठ दिन कनैं सौंण म्हीनें दे पहले अठ्ठ दिन सोलह-दक्खणैण दे नाएं ते जांणे जांन्दे हन। इन्हां दिनां च खूब बरखां हुन्दियां हन कनै खेतरां च फसलां दी हरियाली बद्धणा लगदी है। बतरे च जां मच्च करी नैं लाय्यां धानां यो मर्द हौड करदे कनैं जणासां ढिम्ब करी नैं धानां यो बरेल़दियां कनैं आल़े-डीले जां घाऐ यो बाह्र कड्डी, मुछ्छी नैं डंगरां यो खांणे बास्तैं लेई औंन्दिया जां फिरी तोड़ी-मरोड़ी नैं खेतरे च ही दबी दिन्दियां हन। इन्हां दिनां दियां बरखां नैं चौंह्नीं पास्सें ही चिक्कड़-चाह्ड़ा कनैं चफरोल़ होई जांन्दी है कनैं डिगणे-पौंणें दा बी बड़ा डर रैहन्दा है। प्हाड़ी इलाकेयां च लाह्णी बी पौन्दियां कनैं खड्डां-नाल़ां च बाढ़ा दा बी खूब पाणी औन्दा है। 

4. जल-बिम्बियां


दक्खणैणा ते परन्त अगले सोलहां दिनां तिकर दे टैंमे यो जल-बिम्बियां दे नांएं ते जांणेया जांन्दा है। इन्हां दिनां च बी खूब बरखां पौन्दियां कनैं खड्डां-नाल़ुआं च तां बाढ़ां औन्दियां ही औन्दियां सारी धरत बी पाणिएं नैं लबालब भरोई जांन्दी है। इन्हां दिनां दा नांअ बी जल-बिम्बियां इस ही बास्तैं पेया है जे खड़ोतेयो पाणिएं उपर जाहलू अम्बरे ते होर ठपाकड़ा पौंन्दा तां जमींनां दे पाणिएं पर सैह इक बिम्बिया-गुबारे दा रूप लेई लैंन्दा कनैं किछ सकिंन्टां तिकर तैरदा रैहन्दा है। एह गुब्बारे जितणे जिआदा बणन, उतणी ही बरखा जिआदा हुन्दी है। इन्हां जल-बिम्बियां दे दिनां च रिड़ियां-प्हाड़ियां ते पाणिएं दियां सीरां निकलना शुरू होई जान्दियां हन कनैं दरियां-खड्डां च इन्हां ही दिनां नदियां दा देवता खुआजापीर बी औन्दा है। मन्नेया एह जांन्दा है जे खुआजापीर राति दे टैंमे बड़ी बड्डी बाढ़ा दे रूपे च चलदा है कनैं पूरे गाजे-बाजे सौगी चलदा है। एह बी गल्ल पक्की कनैं बसुआस करणे आल़ी है जे एह खुआजापीर चाहें कितणा बी भारी बाढ़ा दे रूपे च औऐ पर एह उस दिनैं कदी बी कण्डेयां दिया जमींनां यो जां लगिया फसला यो रूढ़ान्दा नीं है कनैं अपणियां सीमां दे अन्दर-अन्दर ही बगदा चली जांन्दा है। केई जिंमीदार इसदी पूजा करणे तांईं इन्हां दिनां च अपणे-अपणे दरियाए जां खड्डा दे कण्डें जाई नैं खुआजापीर दे नांएं पर रोट-कड़ाह-परसाद बी चढ़ान्दे हन। इन्हां दिनां च ही चम्बे दे चौगाने च दुनियां च मशूहर मिंजरां दा मेला बी सत्तां दिनां तिकर लगदा है, जिसियो सरकार कनैं लोक बड़े ही चाए नैं मिंजर बन्नीं नैं मनान्दे हन। जिस दिन चम्बे दिया राविया च मिंजर रूढ़ाई जांन्दी है, तिस दिन इतणी भारी बरखा पलैं-पलैं हुन्दी है जे राविया समेत बाकी होरनां खड्डां-दरेयां च सत्त हड़ दिनैं जां राति च जरूर औन्दे हन। जल-बिम्बियां दियां बरखां पर ही धानां कनैं छल्लियां दिया फसला दा भविक्ख बणदा है कनैं सैह खूब हरे-भरे कनैं सरोठ बणदे जांन्दे हन। 

5. कुरल़-कुरल़ाणी

सौंण म्हीने दे मुकदे अठ्ठ दिन कुरल़ दे नांएं ते कनैं भादों म्हीने दे पैह्ले अठ्ठ दिन कुरल़ी जां कुरल़ांणी दे नांए ते जांणे जांन्दे हन। इन्हां दून्हीं दा औणा, लगणा जां शुरू हुणा, इन्हां दे "बैठणे" दे नांए ते जांणेया जांन्दा है। इन्हां दिनां च ही छल्लियां देयां टण्डेयां च छल्लियां लगणे दा कनैं धानां दे डाल़ुआं च सिल्ले पौंणे दा बी समां शुरू हुन्दा है, जिसियो तिन्हां दा "गब्बिया पौंणा" नांए ते जांणेया जांन्दा है। इन्हां दिनां च जितणियां जिआदा बरखां हुन, उतणी ही तौल़ी कनैं सरोठ छल्लियां कनैं धानां दे सिल्ले फुट्टणा लगदे हन। जेकर कुत्थीं इस टैंमें पर अम्बर नां बरैह कनैं बरखां घटी जांह्न तां धांन कनैं छल्लियां दे नि:सरणे च बड़ा फरक पेई जांन्दा कनैं जिमींदारे बचारे दी कित्ती-कराई मेहनता पर बी पांणी फिरी जांन्दा है। 

कुरल़ जां कुरल़ी दे पहले ही दिनैं जाह्लू भ्यागा ही जोरे दी बरखा शुरू हुन्दी, सारे ही एह गलांणा लगी पौंन्दे जे कुरल़ बैठी गेया जां कुरल़ी बैठी गेई है। इदेहा बी अनुमान लगाया जांन्दा है कनैं एह गल्ल पूरी सच्ची बी है जे इन्हां दून्हीं दे शुरुआती चौंह्-चौंह् दिनां च जे बड़ियां बरखां हुन तां अगलेयां चौंह् दिनां च फिरी घट-घट ही अम्बर बरह्दा है कनैं जे शुरुआती दिनां च बरखां घट हुन तां मुकदे चार-चार दिनां च खूब जोरे दियां बरखां पौन्दियां हन। पूरिया बरसाती दे मौसमे च कुरल़-कुरल़ांणी दियां बरखां सारेयां ते जिआदा खतरनाक बी सिद्ध हुन्दियां हन, कैंह जे सारी जमीन पाणिएं नैं तरमंडल होई चुकियो हुन्दी है। जरा क बी जे कुत्थीं खाह्र लगियो होऐ जां कोई कट-कटाई कितियो होऐ तां केई बरी प्हाड़िया दी प्हाड़ी ही डिगी नै थल्लैं आई जांन्दी है कनैं बड़ा ही जिआदा जानीं कनैं माली नुकसान बी होई जांन्दा है। 

कुरल़ कनैं कुरल़ी यो इक पक्खरु जोड़े दे रूपे च मन्नेया जांन्दा है कनैं एह इन्हां सोलहां दिनां च पता नीं कुत्थू ते आई नैं सदियां ते नरह्यांणा नांए दिया जगहा दे इक बड़ी दे रुक्खे उपर आई नैं बैहन्दे हन। एह नरह्यांणा नांए दी जगहा सन् 1970-72 ते बाद पौंग डैंम बणने करी नैं डैंमे दे पांणिएं च डुबी गेइयो है। अठ्ठ-अठ्ठ दिन एह पक्खरु जोड़ा बारिया-बारिया तप-साधना करदा है कनै इक्की दे तप-साधना च बैठणे पर दुआ पैहलें ब्यास दरयाए ते कनै हुण डैंमे दे पांणिएं चैं मच्छियां पकड़ी-कड्डी नैं ल्योंन्दा कनैं दूए यो खुआंन्दा है। पैहलें ब्यासा दरयाए च मच्छियां मारने आल़े कनैं हुण डैंमे च जाल़ लांणे आल़े मच्छुआरे अज्ज बी एह मन्नदे हन जे इन्हां दून्हीं दे बैंहणे पर एह मच्छियां मारी लेई जांन्दे कनैं जाल़ां च मच्छियां इन्हां दिनां च घट ही फसदियां। कुरल़ी दे मुकदेयां दिनां च जेह्ड़ा हल्कियां कनैं झांम्बां दे रूपे च बरखां पौंन्दिया कनैं अम्बर गरोड़ेयां मारदा तां एह मन्नेया जांन्दा है जे एह बरखां कनैं गरोड़े सारेयां छोटेयां-बड्डेयां धानां यो एह गलांन्दे जे तुसां सारे ही झटपट इक बरोबर होई जा कनै असां हुण जाणे आल़े ही हन। सोलहां दिनां ते बाद एह पक्खरु जोड़ा कुत्थू यो जांन्दा कनैं कुत्थू जाई नैं बाकी पूरा साल कटदा, इस दे बारे च कोई बी गल्ल्बात जां अता-पता कोई बी स्याणा माहणू नां दस्सदा है नां जांणदा ही है। कुरल़-कुरल़ांणी दे बारे च एह मन्नेया जांन्दा है जे एह दोयो ही बरही-बरही नैं दून्हीं फसलां यो पालदे हन। 

6. जल-सोच जां जल-सोख

भादों म्हीने दे अठ्ठां दिनां ते परन्त कनैं कुरल़ाणिया दे उठणे ते बाद भादों म्हीने दे अगले सोलहा दिन जल-सोच जां जल-सोख दे नांएं ते जांणे जांन्दे हन। इन्हां दिनां तिकर बरसाती दा मौसम तकरीबन-तकरीबन खत्म ही होई चुकेया हुन्दा है कनैं पैहलें छल्लियां दी फसल कनैं फिरी धानां दी फसल त्यार हुणा लगी पौंन्दी है। बरखां बरह्ने ते बन्द हुणे करी नैं ही धरतू ते पाणी सुकणा शुरू होई जांन्दा कनै धरत पांणिए यो सोखी लैंन्दी है, इस बास्तैं ही इन्हां दिनां यो जल-सोख दा नांअ दित्ता गेया है। भादों म्हीना जियां ही खत्म हुन्दा है, सूज म्हीने दी संगरांन्दी यो सारे लोक सैर जां सायर त्याहरे जो खूब चाए नैं मनांन्दे हन। इस ही दिनैं भ्यागा ही जिमींदार लोक  "टप्पाल़िया" दी पूजा बी करदे हन। टप्पाल़ी सैह जगहा हुन्दी है, जित्थू खड्डा जां चोए ते टप्प बन्नीं नैं कुल्हा दे रस्तें पांणी खेतरां तिकर पुजाया हुन्दा है। सैरी बास्तैं जेहड़े पकुआन बणयो हुन्दे, तिन्हां चैं ही थोड़ा-थोड़ा समान लेई नैं जिंमीदार धूप-टिक्का कनैं पूजा दा समान लेई टप्पाल़िया दी पूजा करी नैं टप्पे दे पाणिएं यो डक्क लाई नैं बन्द करी दिन्दा है।  

सैरी ते परन्त जे कदीं मूहरत गणना च शुभ दिन नां होन, अस्त पौंणे दी गल्ल होऐ जां सराद्ध बगैरा लगी पौणे हुन तां जिमींदार सैरी दिया संगरान्दी यो ही धानां बह्ड्डणे दा शुभ मूहरत करी लैंन्दा है। इस बास्तैं सैह अपणे इक्की खेतरे दिया कूणां ते इक मुट्ठ धानां दी बह्ड्डी नैं घरे यो लेई औन्दा कनैं तिन्हां यो बरांन्डे दे कोल़ां नैं टुंगी दिन्दा है। इस शुभ मूहरते यो "तरप्प-लैंणा" बोल्या जांन्दा है। कोल़ां नैं टुंगेयां इन्हां धानां यो चिड़ियां भोरी-भोरी नैं खांन्दियां रैंहन्दियां हन। 

इस तरीके नैं पूरे दे पूरे बरसाती दे इन्हां चौंह् म्हीनेयां दे मौसमे यो लोक-रीतियां दे स्हाबे नै बंडी करी, जिंमीदार लोक पूरी आस्था कनैं बसुआस रखी, जिंमींदारिया दे सारेयां कम्मां यो करदे हन कनैं पूरे साले तांईं चौल़ कड्डणे कनैं भत्त बणाणे तांईं धानां दिया फसला यो घरें ल्योन्दे हन। धानां कनैं छल्लियां दियां दून्हीं फसलां यो रांह्णे-बांह्णे ते लेई नैं पकणे पर कट्टी-गाह्ई नैं घरें पुजाणे तिकर, सारेयां कम्मां यो जिंमीदार वक्ते दी पूरी सम्हाल़ करदा होय्या, शुभ-शुभ मूहरतां च ही पूरा करणे दी कोसत करदा है।


लोक-सन्दर्भों में बरसात का मौसम

यूं तो सम्पूर्ण भारत वर्ष अपनी भोगौलिक परिस्थितियों के कारण सम्पूर्ण विश्व से बिल्कुल अलग सा ही जान पड़ता है और अपने प्राकृतिक दृश्यों एवं विभिन्न मौसमों के बदलते मिजाज से लोगों को प्रत्येक दो-तीन महीने बाद नए अनुभव दे जाता है, वहां हिमाचल प्रदेश जैसा पहाड़ी राज्य अपने में प्राकृतिक सौंदर्य एवं मौसम से सम्बन्धित अनेक विशेषताओं को लिए हुए है। पहाड़ी वादियों में बसने वाले लोग  भले ही कड़ाके की ठण्ड से ठिठुरते हुए दिखाई देते हैं  परन्तु बर्फ की फैली चांदी की चादर सभी को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित कर लेती है। वर्ष के पूरे बारह महीने हिमाचलवासियों को अपने अलग-अलग अनुभव परोसते हुए दिखाई देते हैं। माघ और फाल्गुन की कम्पकम्पाती ठण्ड के उपरान्त जब वातावरण चैत मास की चैती गाथाओं--- ढोलरुओं से गूंजता है, तब मौसम भी करवट बदलता हुआ दिखाई देता है और वातावरण में कुछ-कुछ गर्मी का अहसास होना प्रारम्भ हो जाता है। मौसम के करवट बदलते-बदलते जब वैसाख व ज्येष्ठ महीना आता है तो गर्मी का आलम बढ़ता जाता है और प्रत्येक व्यक्ति गर्मी से परेशान होने लगता है। 


लम्बे दिन, गर्मी की तपन तथा उमस से भरा वातावरण सबको पसीने से सराबोर कर देता है। ऐसी स्थिति में सभी लोग टकटकी लगाए आसमान की ओर इन्द्र देवता की कृपा दृष्टि के लिए देखना शुरू कर देते हैं। भले ही यह मौसम गर्मी का होता है और वर्षा के लिए प्रार्थनाएं की जाती हैं परन्तु यह भी कम आश्चर्यजनक नहीं है कि किसान के लिए गर्मी के मौसम में गर्मी का पड़ना भी उतना ही आवश्यक है, जितना कि समय पर वर्षा का होना। फसल बीजने के लिए जहां वर्षा यानी 'बतर' आवश्यक होता है, वहां उसके फलने-फूलने के लिए गर्मी का होना भी आवश्यक होता है। अपनी कृषि में किसान मक्की एवं धान की फसलों को लगाने के लिए बिलकुल उपयुक्त समय की प्रतीक्षा करता है और बिना किसी लापरवाही एवं समय को खोए हुए अपने खेतों में पूरे परिवार सहित जुट जाता है। यदि कहीं उससे कोई चूक हो जाए और उपयुक्त समय हाथ से निकल जाए तो उसके पास सिवाय पछताने के और कोई चारा नहीं रह जाता है। इसी कारण एक लोक कहावत प्रसिद्ध है कि :-

"राढ़े दा भुल्या बोटी

कनैं 

हाड़े दा भुल्या किसान

कदी बन्ने नी लगदे।"

अर्थात रसोइया यदि राहड़ा-तड़का लगाते समय चूक जाए तो खाना कभी

स्वादिष्ट नहीं बनता है और किसान यदि बरसात के मौसम की वर्षा का उचित और

उपयुक्त फायदा नहीं उठाता है तो उसका कभी कल्याण नहीं हो सकता है। उसकी फसल ठीक ढंग से फल-फूल नहीं सकती है।

गर्मियों के मौसम में आम व्यक्ति जहां गर्मी से राहत पाने हेतु वर्षा के लिए प्रार्थना करता है, वहां किसान खेती-बाड़ी का काम शुरू करने के लिए वर्षा का आह्वान करते हैं। हिमाचल में वर्षा का आह्वान एवं इन्द्र देवता की कृपा दृष्टि के लिए कई प्रकार के टूणे-टेसे भी किए जाते हैं। कृषक-वर्ग की छोटी-छोटी बच्चियां शाम के समय आंगन के बीच खड़ी होकर आसमान की ओर ताकती हुई गीत गाती हैं :-         बरह-बरह् झिज़रूआ पाणी दे|

इसी प्रकार छोटे-छोटे लड़के हाथों में लकड़ियां लेकर, काले कोयले पीसकर अपने-अपने मुंह

काले करके विभिन्न सुआंग बनाकर पूरे गांव में घूम-घूम कर आंगन की मिट्टी को अपने हाथों में पकड़ी हुई लकड़ियों से उखाड़ते हुए यह गीत गाते हैं :-

"ओ मिंहा ओ, काले मुंहे धो

नालें-खोहले धान बाह्ए

सैह वी ओ मिंहा तैं ही गुआए। 

बरह्- बरह् मिंहा कालेया, गुड्डी-गुड्डा जालया

कालियां इट्टां काले रोड़, मींह बरसा दे जोरों-जोर

बल्द धियाए, हाली भुक्खे घरां जो आए

बरह बचारया बरह् ।" 

इन बच्चों ने मिंह के पुतले के रूप में पुराने गुदड़ों का एक गुड्डा–गुड्डी भी बनाया होता है, जिसे आंगन के बीच रखकर यह मिट्टी उखाड़ते व गीत गाते हैं। सारे गांव-वासी उन्हें यथाश्रद्धा रुपये पैसे या अन्न प्रदान करते हैं और शाम को रात होने से पहले-पहले ये बच्चे किसी निर्जन स्थान या तालाब आदि के किनारे उस गुड्डे-गुड्डी को जलाते हैं और इकट्ठे किए गए पैसों से कड़ाह–प्रसाद बना कर किसी स्थानीय देवी-देवता के मन्दिर में चढ़ाने के बाद मिल बांटकर खा लेते हैं। इसके अतिरिक्त कई बार गांव वाले अपने-अपने आराध्य देव के मन्दिर के द्वार को बन्द कर, नंगे पांव दरिया-बाबड़ी से पानी लाकर भी भर देते हैं और उसी दिन सामूहिक जग-भंडारे का भी आयोजन किया जाता है। इस प्रकार से सभी छोटे-बड़े वर्षा हेतु ईश्वर से प्रार्थना करते हैं और यह भी अवश्यम्भावी है कि उनकी प्रार्थनाएं रंग लाती हैं, श्रद्धा एवं विश्वास फलीभूत होता है और उसी रात को या दूसरे दिन वर्षा अवश्य ही हो जाती है। इस वर्षा से जहां जन सामान्य गर्मी से राहत महसूस करता है, वहां कृषक वर्ग अपनी फसल की बुआई अर्थात् धान अथवा मक्की बीजने के कार्य में जी जान से जुट जाते हैं। ज्यों-ज्यों मौसम करवट बदलता है, कृषक-वर्ग अपनी फसल के भविष्य के विषय में अनुमान लगाना प्रारम्भ कर देते हैं। 

बरसात के मौसम से पूर्व का ज्येष्ठ मास और फिर बरसात के आषाढ़, सावन और भादों महीने धान एवं मक्की की फसल के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। हिमाचल का जनमानस इन मासों को अपनी लोक परम्पराओं के आधार पर पाक्षिक रूप में बांटकर अपने-अपने विभिन्न लोक सन्दर्भों से पहचानकर फसल का कार्य प्रारम्भ करते हैं।

1. मिरग- सनाइयां

ज्येष्ठ मास के अन्तिम आठ दिन और आषाढ़ मास के प्रारम्भिक आठ दिन अर्थात् आठ प्रविष्टे तक का समय मिरग-सनाइयों का होता है। ज्येष्ठ महीने के आठ दिनों की मिरग-सनाइयां जेठी (ज्येष्ठी) मिरग-सनाइयां और आषाढ़ महीने की आठ मिरग-सनाइयां कन्हीं  (कनिष्ठी) मिरग-सनाइयां कहलाती हैं। इन मिरग-सनाइयों में तपती गर्मी की लूएं उठती हुई दिखाई देती हैं और पानी के स्रोत- खड्डें अथवा छोटे-छोटे नाले सूखने शुरू हो जाते हैं। इन दिनों में कृषक लोग सुबह शाम खेतों को जोतना शुरू कर देते हैं और घास-खरपतवार आदि गर्मी से जलकर नष्ट हो जाता है। इन दिनों की एकाध वर्षा बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि उसे फसल के लिए - 'बतर' माना जाता है। इस वर्षा का भरपूर फायदा उठाकर किसान धान या मक्की की फसल को बीजना प्रारम्भ कर देते हैं। 

2. तीर

मिरग-सनाइयों के उपरान्त तीर प्रारम्भ होते हैं। तीर भी सोलह ही होते हैं और कनिष्ठी मिरग-सनाइयों के अगले सोलह दिन तीर कहलाते हैं। मिरग-सनाइयों के बीच में बीजी हुई धान या मक्की की फसल धीरे-धीरे उगनी व बढ़नी प्रारम्भ हो जाती है। तीरों के सम्बन्ध में हिमाचल के जनमानस में एक लोक-विश्वास है कि :-

"तपन तीर तां होए अमीर

बह्रन तीर तां होए फकीर ।"

कहने का अभिप्रायः यह है कि तीरों में जितनी अधिक तपन, गर्मी पड़े किसान लोग उतने ही अमीर बनते हैं और तीरों में बारिशें पड़नी शुरू हो जाएं तो वह फकीर अर्थात निर्धन हो जाते हैं। लोक विश्वास का भाव एवं अमीरी तथा फकीरी का ज्योतिष इस कारण लगाया जाता है कि यदि तीरों में तपन-गर्मी ज्यादा हो तो खेतों में घास उगता ही नहीं है और जो उगता भी है वह निराई-गुडाई से जल जाता है। इसके विपरीत यदि तीरों में बारिशें पड़नी शुरू हो जाएं तो फसल कम तेज़ी से बढ़ती है और घास शीघ्रता से बढ़ता हुआ धान या मक्की के पौधों को

ढक लेता है और सारा खाद-पानी घास ही खा जाता है। इस दशा में फसल कम होती है और किसान फकीर हो जाता है। तीरों की बारिश फसल के लिए लाभ पहुंचाने की अपेक्षा हानि ही पहुंचाती है। तीरों में मक्की की फसल की गुडाई करते हुए मानव शरीर से जितना पसीना बहे, वह फसल के लिए उतना ही अच्छा माना जाता है। मक्की के पौधे कड़ी गर्मी में जितने

ऐंठ जाएं और घास जितनी गुडाई करने बाद जल जाए- मक्की के पौधे उतनी ही तेजी से रात के समय ओस के कण पाकर तेजी से बढ़ते हैं। मक्की के पौधे के पत्तों के बीच में ओस का पानी इकट्ठा हो जाता है जो कि पौधे के लिए अमृत के समान होता है। इसी प्रकार धान की फसल भी शुरू-शुरू में जितनी गर्मी में रहे, वह उतनी ही अच्छी होती है और उसमें घास नहीं लगती है। 

3. दक्खणैण

आषाढ़ महीने के अन्तिम आठ दिन और सावन मास के प्रारम्भिक आठ दिन सोलह-दक्खणैणों के नाम से जाने जाते हैं। इन दिनों में भरपूर मात्रा में बारिशें होती हैं और फसलें अपनी पूर्ण हरियाली की ओर अग्रसर होती हैं। खेतों के साथ-साथ घासनियां एवं मैदान भी हरे-भरे होने प्रारम्भ हो जाते हैं। चारों ओर हरियाली से पूरी प्रकृति में एक अद्भुत सौन्दर्य दिखाई देता है। वर्षा प्रारम्भ होते ही किसान बैलों और छोटे हल को लेकर खेतों की ओर चल देता है। वर्षा का पानी खेतों में रोका जाता है और खेत पानी से भर लिए जाते हैं। धानों के बीच छोटा-हल चलाया जाता है, जिसे 'हौड करणा' कहा जाता है। पुरुष-किसान हौड करके थोड़ा आराम करता है तो स्त्रियां खेतों में 'ढिम्ब-करती' हैं। ढिम्ब में जहां धानों को व्यवस्थित करके तरतीब के साथ पुनः रोपा जाता है, वहां घास, डील एवं पुराने-धानों से उगे आल़े को निकाल करके या तो बाहर फैंका जाता है या फिर तोड़ मरोड़ कर पानी-कीचड़ में नीचे पैरों के माध्यम से दबा दिया जाता है। दक्खणैण के दिनों में भरपूर मात्रा में मूसलाधार बारिशें होने से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है, रास्ते कीचड़ से भर जाते हैं और पत्थरों पर शैवाल, काई के जमने से फिसलन भी हो जाती है। 

4. जलबिम्बियां


दक्खणैणों के उपरान्त अगले सोलह दिनों तक अर्थात् सावन महीने के आठ प्रविष्टे के उपरान्त सोलह दिन जलबिब्बियों के नाम से जाने जाते हैं। इन दिनों में जो बारिशें होती हैं, उसमें पानी की बूंद ज़मीन के पानी पर पड़ते ही बिम्बि बन कर गुब्बारों की तरह बन जाती है। लोक विश्वास है कि जब-जब भी यह गुब्बारे ज्यादा बनते हैं, वर्षा भी उतनी ही अधिक होती है। वर्षा की अधिकता के कारण नदी-नालों में बाढ़ भी आती है और वह लबालब पानी से भी भर जाते हैं। ज़मीन पूर्ण रूप से पानी से सन्तुष्ट हो जाती है और रिड़ियों, पहाड़ियों से पानी की सीरें निकलनी प्रारम्भ हो जाती हैं। जलबिम्बियों में ही नदियों का देवता "ख्वाजापीर" भी आता है। लोक मतानुसार ख्वाज़ा रात के समय बहुत बड़े 'हड़' अर्थात् बाढ़ के रूप में आता है। यह भी कहा जाता है कि जब ख्वाज़ा चलता है तो पूरे बाजे-गाजे बजते हैं और यह ख्वाज़ा बिलकुल नदी की सीमा रेखा के भीतर ही चलता है। आगे-पीछे की बाढ़ें भले ही किनारों की ज़मीन का कटाव करें परन्तु ख्वाजा कभी भी किसी किसान की ज़मीन को या उसकी फसल को बहाता नहीं है। कई कृषक इसी कारण ख्वाज़ा को उन दिनों में कड़ाह-रोट-प्रशाद भी भेंट करते हैं। इन्हीं दिनों चम्बा में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का मिंजर मेला भी होता है। मिंजर मेले के सात दिनों में और समापन वाले रविवार को सम्पूर्ण चम्बा शहर एवं चौगान दुल्हन की तरह सजा संवरा होता है और सभी लोगों का मिंजर के प्रति उत्साह एवं उल्लास देखते ही बनता है। यह भी माना जाता है कि इस दिन इतनी अधिक वर्षा होती है कि सात 'हड़' दिन या रात में जाते हैं अर्थात् पहाड़ियों पर बार-बार इतनी बारिश होती है कि एक बार नदी-खड्ड का पानी उतरता ही नहीं है कि दोबारा 'हड़' बाढ़ आ जाती है। जलबिम्बियों की वर्षा की फुहारों पर ही धान एवं मक्की की फसल की सम्पन्नता निर्भर करती है। 

5. कुरल-कुरलाणी

सावन महीने के अन्तिम आठ दिन कुरल के नाम से और भादों महीने के आरम्भिक आठ दिन कुरलाणी अथवा कुरली के नाम से जाने जाते हैं। कुरल अथवा कुरली का आना अथवा प्रारम्भ होना इनके “बैठने" के नाम से जाना जाता है। इन दिनों में धान अथवा मक्की में बालियां फूटने को होती है, जिन्हें 'गब्बिया पौणा अर्थात् धान व मक्की के पौधों की बालियां फूटने से पहले की क्रिया में पहुंचती हैं। इन दिनों की वर्षा का सीधा लाभ बालियों के फूटने को मिलता है। 

यदि कुरल-कुरली में बारिशें न पड़ें और यह सूखे ही गुजरें तो दोनों फसलों पर विपरीत असर पड़ता है। कुरल या कुरली के पहले दिन जब सुबह तड़के ही जोर की बारिश पड़ती है तो सभी लोग यह कहते हैं कि कुरल बैठ गया है या कुरली बैठ गई है। ऐसा भी अनुमान लगाया जाता है कि यदि प्रारम्भिक कुरल या कुरली ज्यादा बरसें तो अन्तिम में कम अथवा यदि प्रारम्भिक में कम बरसें तो अन्तिम में ज्यादा जोर की बारिशें होती हैं। पूरे बरसात के मौसम में कुरल अथवा कुरलियों की मूसलाधार बारिशें सबसे ज्यादा भयानक एवं खतरनाक भी होती हैं। ज़मीन व पहाड़ियां पानी से भरे होने के कारण सारी मिट्टी गीली व दलदली हो चुकी होती है और कई छोटी-मोटी पहाड़ियां अथवा चट्टानें गिरनी प्रारम्भ हो जाती हैं। इस गिरने की क्रिया को "धार-गिरणा" अथवा 'लाहण-गिरणा' कहा जाता है। इस कारण कई कच्चे-पक्के रास्ते बन्द भी हो जाते हैं और नदियों-खड्डों में भी मिट्टी मिले हुए पानी की बाढ़ें आती हैं। कुरल-कुरली का निवास नरहयाणा में एक वृक्ष पर माना जाता है, जोकि अब पौंग बान्ध की झील में समा चुका है। 

कुरल एवं कुरली को एक पक्षी जोड़े के रूप में माना जाता है। इसी कारण इनके आने को 'बैठने' के नाम से जाना जाता है और यह दोनों ही आठ-आठ दिन साधना-तप करते हैं। यह भी माना जाता है कि जब कुरल बैठता है तो कुरली मच्छली पकड़ कर लाती है और कुरल उसे खाता है और जब कुरली बैठती है तो कुरल मच्छली लाकर खिलाता है। यह क्रम पूरे सोलह दिन चलता है। इसी लोक विश्वास के कारण इन दिनों में झील में मच्छुआरों के जाल में मच्छलियां भी कम ही आती हैं और लोग यही मानते हैं कि कुरल अथवा कुरली ही मच्छलियां ले जा रहे हैं, इसलिए मच्छलियां जालों में कम ही फंसती हैं। कुरल-कुरली के अन्तिम दिनों में जब बादल गरजते हैं तो ऐसा माना जाता है कि वह धानों से यह कहते हैं "ऐ छोटे-बड़े धानों, तुम सब बराबर हो जाओ, अब हम जा रहे हैं।" इसके उपरान्त मूसलाधार बारिशों का दौर समाप्त प्रायः ही समझा जाता है और धान व मक्की की फसल लहलहाती हुई पूरे यौवन को प्राप्त हो चुकी होती है। बाद में जो धीमी-धीमी बारिशें होती हैं उन्हें 'झाम्बैं' कहा जाता है। इन झाम्बों से धान व मक्की की बालियां फूट कर लहलहाने भी लगती हैं और उनमें धान व मक्की के दानों में रस भरना भी प्रारम्भ हो जाता है। कुरल एवं कुरलाणी के विषय में यह भी माना जाता है कि यह भरपूर बरस कर धान की फसल को पालते हैं। 

6. जल सोच अथवा जल सोख

कुरलाणी के दिनों के बाद अर्थात् भादों महीने के प्रारम्भिक आठ दिनों के उपरान्त सोलह दिनों का समय जल सोच अथवा जल सोख के नाम से जाना जाता है। इन दिनों तक बरसात का मौसम लगभग समाप्तप्राय: ही होने लग पड़ता है और मक्की व धान की बालियां लहलहाती हुई पकने की अवस्था की ओर अग्रसर होती हैं। प्रायः मक्की की फसल पहले और धान की फसल उसके बाद तैयार होती है। इन दिनों में जोर की वर्षा बरसनी बन्द हो जाती है और पानी खेतों से धीरे धीरे सूखने लगता है। पानी के सूखने की इस प्रक्रिया के कारण ही इन दिनों को जलसोच अथवा जलसोख कहा जाता है। जल-सोखों के समाप्त होने पर ज्यों ही भादों महीना समाप्त होता है और असूज की संक्रान्ति को सैर अथवा सायर के त्योहार के रूप में मनाया जाता है, उस दिन किसान अपने-अपने खेतों के सबसे ऊपरी सिरे पर, जहां से छोटी-मोटी कुल्ह से पानी खेतों में भेजा होता है, उसे बन्द कर देते हैं। कुल्ह के पानी के इस स्थान-स्रोत को 'टपाली' अथवा 'टप्प' की संज्ञा दी जाती है। सैर / सायर के दिन टपाली पर धूप-दीप-टीका लगाकर तली-रोटी चढ़ाकर टपाली–स्रोत पर पत्थर लगा दिया जाता है और पानी पूर्ण रूप से बन्द कर दिया जाता है। सैर के बाद के दिन यदि आध्यात्मिक गणना के अनुरूप शुभ व उचित न हों अथवा श्राद्ध इत्यादि लग पड़े तो किसान इसी दिन अपने खेत के एक कोने से धान का एक "तरप" काट कर कटाई का शुभ मुहूर्त कर लेता है और उस धान के तरप को घर ले आता है। धान की फसल के सम्बन्ध में यह माना जाता है कि यह फसल पार्वती की फसल है और किसान व उसके परिवार को पालने वाली होती है। कहा जाता है कि शिव जी ने पार्वती को धान की फसल के सम्बन्ध में श्राप दिया था कि भले ही तेरी फसल जल्दी तैयार हो जाएगी पर इस फसल के उगाने और बाद में खाने तक तेरी 'जून' बुरी होगी। इसी श्राप के कारण धानों की फसल के लिए औरतों को कई दिक्कतों व कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और खाने के बाद भी बर्तनों का ज्यादा ढेर मांजना/ साफ करना पड़ता है। इसके विपरीत गेहूं की फसल को शिवजी की फसल माना जाता है। शिव जी ने गेहूं बीज कर ताड़ी लगा ली थी और छः महीने तक ताड़ी लगाकर बैठे रहे और छः महीने बाद गेहूं की फसल को काटा था। इसी कारण किसान गेहूं बीजने पर छः महीने तक मस्ती मार कर आराम करता है। 

इस प्रकार से विभिन्न लोक सन्दर्भों में बंटा यह बरसात का मौसम किसानों एवं सर्वहारा वर्ग के लिए पूरे वर्ष भर की सुबह-दोपहर-रात के भोजन के लिए अन्नदाता माना जाता है। किसान की सम्पूर्ण मेहनत वर्षा पर ही निर्भर करती है और ज्यों-ज्यों दिन व्यतीत होते हैं, किसान मौसम के मिजाज को देखता व समझता हुआ अपनी फसल के कार्यों को सम्पन्न करता है। इस प्रकार से समस्त कृषक परिवार पूरी सावधानी बरतते हुए और लोक-आस्थाओं तथा विश्वासों के अनुसार कार्य सम्पन्न करके एक दिन अपनी पकी हुई फसल के मोती-से दाने निकाल कर अपने घर ले आता है। फसल की बुआई से लेकर कटाई एवं गहाई तक के समस्त कार्यों को किसान परम्परागत तरीके से निपटा कर ही अपने को अहोभाग्य भी समझता है और किसी भी अनिष्ट से अपनी फसल को बचाने का भी प्रयास करता है। प्रत्येक कार्य को उचित एवं शुभ मुहूर्त में ही सम्पन्न करने की पूरी कोशिश किसान द्वारा की जाती है और फिर वह अपने परिवार सहित ताजे व स्वादिष्ट भोजन का आनन्द प्राप्त करता है।

1955 में जन्मे रमेश मस्ताना पहाड़ी के जाने माने लेखक हैं।  पहाड़ी भाषा की मान्यता के लिए संघर्षशील। प्रमुख कृतियां: झांझर छणकै, पखरू बोल्लै (पहाड़ी कविता), कागज के फूलों में (हिंदी कविता), आस्था के दीप, लोकमानस के दायरे, पांगी घाटी की पगडंडियां एवं परछाइयां, मिटिया दी पकड़ (गद्य साहित्य) ।

No comments:

Post a Comment