Sunday, May 23, 2021

आम आदमी

 


मसहूर कार्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण दे आम आदमिए जो कुण नी जाणदा। तिह्दी महिमा अपरंपार है। 

इह्दिया महिमा दा रति'क गुणगान कुशल कुमार होरां भी कीता है। 


असां सारे आम आदमी हन। एह् होणा कोई माड़ी-मोटी गल नीं है। तुसां गलाणा जे सारे ही आम आदमी हन ता इस च होणे वाळी क्‍या गल है। बड़का जी गल एह है कि सारिया दुनिया च जितणे भी राजे, मंत्री, प्रधानमंत्री, नेते, अभिनेते, हाकम, कोतवाल, थाणेदार, डाक्‍टर, जज, वकील, लखारी, कविए, जे भी हन सब इस आम आदमी दी ही सेवा च हन। सबनां जो इस दी ही चिंता है, एह् जे किछ भी करदे इस दा नां लेई, इस ताईं, इस दिया तरफा ते ही करदे। इस दे नाएं दिया गंगा च एह् सब नौही गोरे होंदे रैंह्दे। सब इस आम आदमिए दिया लोई नें अपण्‍या दियां वाळा दे।

जिञा अंबरे च इक सूरज है तिञा ही इसा धरतु पर एह् आम आदमी है। सूरजे दा इक घेरा है, सैह तिस तोड़ी नीं सकदा, जिम्‍मेवारी है तिसा ते सैह् नठी नीं सकदा। इस आम आदमिए दा कोई घेरा ना जिम्‍मेवारी है। इस ताईं सारी दुनिया इक भंडारा है कनै इस जो इस दा पररीह्या मिलणा चाही दा। जे उन्नी-इक्की होऐ तिस ताईं बणाणे, खुआणे, पतळुआं देणे कनै चुकणे वाळे जिम्‍मेवार हन। एह् बचारा कुत्‍थी टूंडू ल्हांदा ही नीं, पतळुए च परीह्ता इन्‍नी खाई लिया। जूठा रही गिया या पतळू रस्‍ते च सटी ता। एह् भंडारे वाळयां दी गलती, तिन्‍हां दस्या नीं पिपळीं जादा पाई तियां। जूठा रही ईया। गलाणे दी गल एह है भई किछ भी होई जाऐ पर इस दी गलती नी होई सकदी। फिह्री भी चौंही पासें इस दी ही बळी चढ़दी।

हुण करोने जो ही लेई लेया। ऐह् कोई वुहान था गिया, जे मतलब नीं होऐ ता पुत्तर, बुढ़े ब्हाल नीं जांदा। सरकार पारिवारिक दूरियां दे माहिर आम आदमिए जो सामाजिक दूरी समझाई जा दी कनै एह् छिकड़े बराबर नीं ला दा। एह गलाई जा दी। इत इस जो गरीबी, बेरोजगारी, मंह्गाइया दे छिकड़े ता जनमां दे ही लगेयो। करोना दा इक होर लगी गिया। हुण छिकड़ा दर्जीएं ठीक नीं सीतया। टिरी जादां। दम घुट्टा दा ता ऐह् जरा की नक्‍के कड्डी लैंदा। इनीं बीड़ी-सीड़ी भी पीणी होंदी। आदत नीं है इस ताईं याद भी नीं रैह् दी। घेलर पुलसां वाळें पकड़ी लेया तैं छिकड़ा नीं लाह्या। घेलरें गलाया, लाह्या महाराज पक्‍का लाह्या। लाह्या ता मिंजों कैंह् नीं सुझा दा। मैं अन्‍हा है। नहीं महाराज तुसां ठीक हन मैं छिकड़ा घरें मेखा नैं लाह्या। तुसां जो किञा सुझणा।

पुलसां वाळें फिह्री भी चलान कटी ता। आम आदमी घेलरे जो समझा ही नीं आया एह कैस दा चलान पुळसिएं कटी ता। घेलर बचारा भी क्‍या करै। जितणियां भी बमारियां, समारियां, बद्दळ, बरखां, धुप्‍पे, सणाट, हाकम, सरकार, थाणेदार, चोर, लटेर सब इस आम आदमिए दे मुंडे पौंदे।  जेह्ड़े बमार हो दे सैह् हस्‍पताल जा दे ता बिस्‍तरा नीं, दुआईं नीं, ऑक्‍सीजन नीं। घेलर हौलदारे नें घुळी पिया। जे मेरे मुंहें ते करोना अंदर गिया ता मिंजो होणा। मैं बमार होणा। मरना ता मैं मरना। उपरे ते तू चलान मिंजो साही घेलरां दा ही कटी जा दा। एह् कदेह्या कनून है।

दशा दी गल है कि चौंही ध्‍याड़यां बाद घेलरे जो करोना होई गिया। हुण घेलर, हाई वो मेरिये माए एह क्‍या होई गिया। मैं मरी गिया ता कोपां दा क्‍या होंगा। सारी दुनिया बगैर मासकां घुम्मा दी, बजारां च लोग भंडोरे साही भुण-भुण करा दे। कोई नीं पुच्छा दा। कोई किछ नीं करा दा। घेलरे साही आम आदमी मरा दे कुसी दा क्‍या जा दा। हाई वो मिंजो हस्‍पताल लेई चल्ला।                                                              


5 comments:

  1. बड़ा बधिया व्यंगय आम आदमी।

    ReplyDelete
  2. कुशल भाई जी शानदार व्यंग्य
    बणद-बणदे छिकड़ेयां दा जुआब नी|

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  4. भाई कुशल जी,
    जबरदस्त ।
    आम माहणू दी सोच अपणे पत्तलुए तिकर ही है। इसते अग्गैं जाये भी कुथु *बचारा*
    तगड़ा ब्यंग🙏🌹

    ReplyDelete
  5. सुरेश भारद्वाज निराश जी,द्विजेन्द्र द्विज जी, जन गण मन जी
    पढ़नें कने हौसला अफजाई ताईं धन्यवाद

    ReplyDelete