Thursday, July 26, 2012

फिलमकार बी.आर. ईशारा नी रैह



लीका ते हटी ने फिलमां बणाणे वाळे फिलमकार बी.आर. ईशारा नी रैह। हिमाचली कैमरामैन सुदर्शन नाग होरां इना दे बारे च गलाया कि हिमाचले दे कांगड़ा जिले दे इक्‍की ग्रांये ते रोजी-रोटी ताएं बंबई आये कन्‍ने रणजीत स्‍टुडियो दे बाहर इक्‍की होटले च चाही वाले मुंडुऐ ते  इना दा सफर शुरू होया। स्‍टुडियो च कलाकारां जो चाह प्‍यादें-प्‍यादें अप्‍पु भी कलाकार बणी गै। लेखकां दे घरें भांडया मांजी लेखका दियां गप्‍पां सुणी-सुणी लेखक बणी गै। इन्‍हां कन्‍ने इक सतपाल भी होटले च कम करदे थे। सैह भी फिलम डरेक्‍टर बणे पर दोनों जणे हिमाचल बापस नी गै। नाग होरां जो इन्‍ना ही अपणी फिल्‍म चेतना च मौका दिता कन्‍ने ऐह पैहली फिल्‍म थी जेड़ी स्‍टुडियो ते बाहर खुलीया जगह पर शूट होई थी। शूट करने वाले थे सुदर्शन नाग कन्‍ने बणाणे वाळे बी आर ईशारा। नाग होरां साही इनां परवीन बॉवी, बप्‍पी लैहरी जो पैहली बरी फिल्‍मां च मौका दिता। रजा मुराद होरां दा गलाणा है कि अणपढ़ होणे दे बावजूद ऐह असां दे सबते बडे प्रग‍तीशील फिल्‍मकारां च थे। इनां दी उड़दु कन्‍ने हिंदी पर गजब दी पकड़ थी। हिमाचल मित्र ताएं इन्‍ना ने गलबात करने दी असां सोचदे ही रही गै। हिमाचल मित्र, दयार कन्‍ने सारयां हिमाचली मित्रां दी तरफां ते नमन कन्‍ने परमात्‍मे ने आत्‍म शांति दी बिणती। 

3 comments:

  1. बड़ी बुरी लग्‍गी। भगवान तिन्‍हां दिया आत्‍मा जो सांति दैं। घराटे ते आटा लैणा गै कनै फिरी बांबे जाई करी साह लेया था। कल श्री विनोद लखनपाल होरां नै गल होआ दी थी, मतियां गल्‍लां पता लगियां।
    ........................
    इशारा होरां उर्दू कनैं हिंदी दे जाणकार तां होई सकदे थे अपर उडद भासा दा नां मैं पैहलो बरी सुणेया।

    ReplyDelete
  2. बड़ी दुखद खबर..

    ReplyDelete
  3. भाई नवनीत जी। ईशारा होरां दा भी सोच कन्‍ने दिल हिरदे ता पक्‍का था पर हिज्‍जे मार खाणे ते मायने बदलोई गै। अज ही पढ़या ईशारा होरां दी फिल्‍म चेतना पर प्रतिबंध लगाणे ताएं बडियां फिल्‍मा वाळयां 45 शकायंता कितीयां पर ऐह टस ते मस नी होये। इकी फिल्‍म प‍तरिका दी जनाना संपादिका ईशारा होंरा ते पुछया ‘तुहां ईंया कैं सोचदे कि सारीयां जनानां वेश्‍या होंदियां।‘ ईशारा होरां तुरंत जवाब दिता ‘मैं ईंया नी सोचदा कि सारीयां जनानां वेश्‍या होंदियां पर मैं सोचदा सारीयां वेश्‍यां जनानां होंदियां। कन्‍ने जनानां होणे दे नातें सैह भी उताणिया ही इन्‍सान हन। तिना दियां भी जरूरतां कन्‍ने ईच्‍छां हन।‘ रही गल उड़दां दी दाली दी। पहाड़ीया च उर्दु नी उड़दु ही गलांदे पर ऐह कुछ तकनीकी खरीबी दे कारण सारे ही लेखे ते ऊ दी मातरां डकोई गईयां। कन्‍ने असां दे पासे उड़द नी शायद माह गलादें।

    ReplyDelete