Sunday, July 1, 2012

फुलवाड़ी

 
एह् पहाड़‍िया दा ई कमाल हुंगा. जदूं असां हिमाचल मित्र कड्डा दे थे तां बड़े तरले कीते. भाई जी किछ लिखा. किछ देया. किछ करा. पर भाई होरां गैं नी पट्टी. जदूं मिलणा तां मुस्‍कड़ाई देणा.  जाह्लू मैगजीन छपणी, असां इक थब्‍बी इन्‍हां जो भेजी देणी. भई बंडी छडण्‍यों. क्‍या पता पढ़ने गुणने आळा कोई टकरी जाऐ. पर मजाल जे भाई होरां कदी जुंगसे भी होन. एह भी पता नीं लगदा था भई मैगजीन बंडोई कि गुआची गई.
पहाड़‍िया दा कमाल एह् होया भई दयार सुरू होया तां थोड़्यां दिनां परंत भाई होरां जागरत होई गै. फोन आई गया, '' कदेह्या चलेया दयार''. मैं गलाया, चलेया मठैं मठैं. लगे गलाणा, अजकला फुल खिड़यो, मैं सोच्‍या किछ फोटो भेजां''.
मिंजो पता था भाई रामस्‍वरूप होरां घरैं फुल लाह्यो कनै रोज भ्‍यागा तिन्‍हां दी खूब सेवा करदे. एह भी पता था भई इक्‍की जमाने च फोटो भी जबरदस्‍त खिंजदे थे.
ताईं तां मैं सुरू च ई बोल्‍या था, एह पहाड़‍िया दा ही कमाल लग्‍गा दा भई रामस्‍वरूप होरां अपणा मौन तोड़्या कनै फोटो भेजियां. इन्‍हां ते सांझो पैह्लें भी उमीद थी, कैंह् कि कि भाई होरां आखर हन तां कलाकार ही न. भौएं मकलोडगंज होटल खोह्ली लेया होऐ कनै पिछलेयां बीह्यां सालां ते बदेसी मसाफरां दी सेवा करा दे होन. भौएं एमएलए दे इलेक्‍सन लड़ी लड़ी नै हुण सलाहकारे दी ड्यूटी लई लइयो होऐ.
वैसे इलेक्‍सनां लड़ने दा चस्‍का इन्‍हां जो कालजे च ही लगी गया था. मैं जदूं धर्मसाळा कालजे च एमए च दाखला लया तिस ई साल रामसरूप होरां भी हिंदिया दे छातर बणने ताई हाजर होई गै. इन्‍हां सोच्‍या एह् था भई कालज रैंह्गे तां बास्‍कटबाल खेलणे दा मौका मिह्लगा. पंज सत्‍त साल पैह्लें जदूं बीएससी कीती थी तां नेशनल लेवल पर खेली आयो थे. मैं लीडरां त बडा डरदा था. पर भाई होरां हिंदी बड़ी साफ बोलदे थे. असां नाटक करदे थे कनैं ऐसे बंदे तोपदे रैंह्दे थे जेह्ड़े हिंदी, पहाडि़या च न बोलदे होन. गल इन्‍हां दे कन्‍नैं पई गई. तां एह नाटक मंडलिया च सामल होई गै. असां कालजे दे पासे ते इन्‍हां सौगी बलराज पंडित होरां दा 'पांचवां सवार' नाटक खेल्‍या. फिरी बंगाली नाटककार बादल सरकार होरां दा 'जुलूस' खेल्‍या. नाटक करने ताईं टीम अंबरसर, लुधियाणा कनै होस्‍यारपुर भी गई. लौह्ल स्‍पीति बड़ी बर्फ पई तां चंदा कट्ठा करने ताईं लक्ष्‍मी नारायण लाल होरां दा संगीत नाटक 'सगुन पंछी' खेल्‍या. इस च गुरू चेले दोआ ई थे. प्रो. बेदी, प्रो. रमेस रवि, मैडम ससी शर्मा वगैरा थे. (हुण सारेयां दे नां याद भी नी औआ दे). रामसरूप होरां इस नाटके च भूत थे बणयो. मुंडुआं कुड़ि‍यां च साह्ड़े सौगी राज कुमार अग्रवाल, संजीव कनै प्रवीण गांधी (भ्राता), रकेस वत्‍स, सुजाता गुप्‍ता कनै आसा सर्मा हुंदियां थियां. सुजाता तदूं भी कवतां लिखदी थी. आसा गजलां गांदी थी कनै जलतरंग बड़ा छैळ बजांदी थी. इन्‍हां दा सारा कुनबा ही संगीतकार था.
एमए दे साह्ड़े साथी कलाकार भी थे. रमेस मस्‍ताना होरां भी साह्ड़ि‍या ई क्‍लासा च थे पर तिन्‍हां दा ध्‍यान पढ़ाइया च जादा था. तिन्‍हां दा घर भी दूर था. अज्ञेय दियां कवतां असां बगैर प्रोफेसरां ते अप्‍पू ई पढ़ी लइयां. मैं आधुनिक कहाणी अप्‍पू ई पढ़ी. कुनी पढ़ाई नीं. रामसरूप होरां दे घरें बही नै असां मुक्तिबोध दी 'अंधेरे में' कनै 'ब्रह्मराकसस' पढ़ी. तदूं लिखणे दा नौंआं नौंआं सौक था, पढ़ने दा भी जनून था. पी सर्मा होरां प्रिंसीपल थे. तिन्‍हां ते परमीसन लई लई, बीह बीह कताबां इक्‍की बरिया इसू कराई लैणियां. घरैं ढेर लाई ता. झोळे च कताबां भरी नै, छातिया नै कताबां चपकाई नै (प्रो. ओम अवस्‍थी होरां साह्ई) चलणे च बड़ा मजा औंदा था. रामसरूप होरां दे भाई विजय सर्मा होरां दे घरैं एलपी रिकार्डां दा खजाना था. सैह् अमरित भी कन्‍नां च बड़ा घुळेया. तदूं रामसरूप होरां गैं मोटरसाइकल था. सैह् गांह् मैं पचांह्.. लिकळी जांदे थे मीलां मील.. कदी तांह् कदी तुआंह्..
ओ ए मैं कुतांह निकळी आया. भाई होरां चार फोटो भेजियां, खिड़ेयां फुल्‍लां दियां. मेरे अंदर पुराणे वक्‍तां दी फुलवाड़ी खिड़ी पई. फुल्‍लां दे ब्‍हानें पुराणेयां मितरां दे कछ झाती मारी लई. जियां कोई पुराणी एलबम बड़े सालां परंत दिक्‍खी होऐ.
लेया हुण फोटो भी दिक्‍खी लेया
Ramswaroop14062012
Ramswaroop14062012 (1)
Ramswaroop14062012 (3)
Ramswaroop14062012 (2)
अनूप सेठी
 

9 comments:

  1. बड़े ही सुंदर फुलां दी फुलवाड़ी है। अनूप जी तुसां भाल। असां जों ता इसा फुलवाड़ीया दा इक ही फुल तुसां च मिलया। सारी या बंबई च हिमाचली संस्‍कृति दी जेड़ी खरी कन्‍ने सच्‍ची इत्र खुशबु तुसां भाल है सैह होर कुसी भाल नी है। इस दा जेड़ा माड़ा दे‍‍ह्या तुसां दा साथ करी ने मिला। तिस ताएं हिमाचल मित्र कन्‍ने दयार दा निमित्‍त लगा। सच। झोळी भरोई गई। ऐह गंध बधदी रैह कन्‍ने दूर-दूर तक पूजे।

    ReplyDelete
  2. ahut khoob anoop ji, bahut achhi collcetion hai

    ReplyDelete
  3. हरीश जी शुक्रिया, ब्‍लॉग दि‍खणे ताईं कनैं खरियां गल्‍लां लिखणे ताईं.
    कुशल जी,तीह साल घट भी नीं हुंदे. कई बरि मैं सोचदा, बड़ी खुसकिस्‍मती है, भई कालजे च जेह्ड़े गुरू मिल्‍ले तिन्‍हां नै अज्‍जे तक संपर्क बणेया है कनै तिन्‍हां दा प्‍यार कनै असीरबाद नित मिलदा रैंह्दा. जेह्ड़े दोस्‍त मिल्‍ले, सैः भी अंग संग ही हन. इन्‍हां रिस्‍तेयां दी बड्डी वजह कवता कनै नाटक ई थी. सैही हुण भी है.

    ReplyDelete
  4. भाई अनूप सेठी जी
    भाई रामस्वरूप होराँ दिया छैळ फुलबाड़िया देयाँ मनमोहणेआँ फोटुआँ कनैं तुसाँ दियाँ कालेज टैम्माँ दियाँ याद्दाँ देआँ फुल्लाँ दिया
    खुस्बूई मेरेआँ कालेज टैम्माँ दे भी सारे ई फुल्ल सजरे करि दित्ते. इक दो हफ़्ते होर बधिया सधरोई गै.कालेज टैम्माँ दे नसे च निकळी जाणे. अपणियाँ इक्की ग़ज़ला दा इक शे’र याद औआ दा :

    ‘है महक मुमकिन तभी सारे ज़माने के लिए
    सोच में ‘द्विज’ कुछ अगर फुलवारियाँ रहने लगें’
    भाई रामस्वरूप होराँ जो छैळ फोटुआँ तियैं मुबारक

    ReplyDelete
    Replies
    1. द्विज जी, तुहां जो इक होर फायदा है, नौजवनां दा साथ हमेसा रैंह्दा. नौंई नजर, नौएं सुपने. स्‍कूलां कालजां च पढ़ाणे आळेयां जो एह बोनस मिलदा.

      Delete
    2. भाई तेज सेठी जी
      मेरे पिता होराँ दा इक शे’र है:

      ‘साग़र’ ये आन पहुँचे हम किस मुकाम पर
      मुड़-मुड़ के देखते हैं जवानी किधर गई

      ओ भाई जुआन्नी ता टपाकळुआँ मारदी पता नीं कुताँह ते कुताँह पुजी गई अपण
      तिन्हाँ दिनाँ खुस्बू ता अजैं बी सजरी है.

      Delete
  5. ती:ह्यां बत्तीय़ां साल्लां पुराणा वक्त जिंञां ज़िप्प करी ता कनै छैळ सुनैहरी फिल्म मुंहें गेड्डें खरेड़ी ती-फुल्लां ने भरो:ईयो- महक हुण भी तरो-ताज़ी. जितणी वारी पढ़ा तित्तणी नौंई नकोर. जणतां हुण भी सै: ई जोश जवान्नी रगां च दौड़ना लगी पौआदी. लग्गा दा भई हुण तिन्हां सारेयां दोस्तां जो सद्दी बुलाई नै भिरी "जलूस" कढी देईये. कितणी मिट्ठी चासनी जे:ई जिन्दगी है. पर जिन्दगी फुर्र-फुर्र फुरक्दी अगांह टप्पाकळुआं मारदी जाआ दी. असां पचां:ह मुड़ी-मुड़ी दिक्खा दे कनै हाक्खीं पळचोई जाआ दीयां.

    ReplyDelete
    Replies
    1. भाई तेज सेठी जी मेरे पिता होराँ दा इक शे’र है: ‘साग़र’ ये आन पहुँचे हम किस मुकाम पर मुड़-मुड़ के देखते हैं जवानी किधर गई ओ भाई जुआन्नी ता टपाकळुआँ मारदी पता नीं कुताँह ते कुताँह पुजी गई अपण तिन्हाँ दिनाँ खुस्बू ता अजैं बी सजरी है. फुलवाड़ी पर

      Delete
    2. एह कमेंट द्विजेंद्र द्विज होरां दा है. कनै तेज होरां दे कमेंटे पर कमेंट है. पर तकनौल्‍जिया दे कमाले नै अनूप होरां दे कमेंट नै भी चिप्‍की गया.

      Delete