Wednesday, June 20, 2012

मेरी जून

6955342763_d7d3698874_z-1-3 

जाह्लू ते मैं होस सम्भाळी, गल्ळैं पईया”जूंगा’, 
                  
हळैं ही लग्गी रे:आ प्यारेया, मैं तां बौ:ळ्द गूंगा   
             .                      
इक्सी हत्थैं थम्मी हाळीयें धर्मे दी लक्क्ड़ ’ल्हाळी’,


दूयें हत्थें ’प्रैण’ पकड़ीयो उपदेसां दीयां हुज्जां.


मईयें भी मैं ही जतो:या, मैं ही खिन्जणी ’दंदाळी’.


जुआनैं धानैं भुक्खां मारनीयां मुं:ह्यें लग्गेया ’छिक्कड़ा’,


जे भी खाणा”खुण्डें’ ई मिलणा,घा:-पतरा:हे दा बूज्जा.


थाप्पी देई नै हळैं जोड़ना पटोई गिया मेरा छिक्कड़ा.


हाये वो जानी अपणे ताईं जीणे दा टैम नी लग्गा,


होईया रटैर हुण गोड्डे गैर लैः ब:हीया ’बैहड़ू बग्गा’.


 
जिन्‍हां जो ज्‍यादा पहाड़ी नीं औंदी तिन्‍हां ताई मुसकल सब्‍दां दे मतलब:
जूंगा      : हळे जो ब;हळदां दीया पिट्ठी नै जोड़ने आळा
ल्हाळी   : हळे जो सम्भाळने आळी लक्कड़े दी हत्थी
प्रैण        : ब:हळदां जो चुंग देणे वास्ते बै:न्जे दी सोठी या छिह्टी
मई        : लक्कड़े दा भारी फट्टा जिसने बीयां बाहणे ते बाद खेत्रां दी मिट्टी बराबर करदे
दंदाळी   : बै:न्जे दा कन्घीनुमा औजार जिसने खेतरे च ते घा-खरपात साफ करदे (दंदाल्टी)
छिक्कड़ा  : बै:न्जे दा जाळीदार छक्कू बैलां दे मुंहे चढ़ाई दिन्दे तां जे बौ:ळ्द तां तूं मुंहें नी मारन.
खुण्ड     : मजबूत बेळणनुमा लक्कड़ ( गोह्ड्डें गा:हर्नी जमीना च गड्डिया हुंदा जिसने डंगरेयां जो ब:ह्नदे)
बग्गा बैह्ड़ू  :गोरे रंगे दा ब:हळद


तेज सेठी


तस्‍वीर फिल्‍करा ते ऐथी ते 

5 comments:

  1. सेठी जी तुसां बौ:ळ्दे कन्‍ने मरदे दा भी बड़ा छेळ खलड़ु पेड़ी ने रखी तिया। बौ:ळ्द हुण तरसा दे अपणे जमणे दे अरथे ताएं। जालु तक हळ जूंगा ल्हाळी दंदाळी प्रैणा दियां हुज्जां कन्‍ने मुंहें छिक्कड़ा था। इक खुण्डं किछ थाप्पीयां भी थियां। सच्‍च बौ:ळ्दे कन्‍ने मरदे दी जून इक्‍को देही होंदी कन्‍ने ऐही जीणा अपणे ताईं भी जीणा होंदा। इनां बगैर मरदे कन्‍ने बौ:ळ्दे दी कोई बुकत नीं होंदी। हुण बौ:ळ्द दर-दर रिड़का दे। कोई पुच्‍छ नी कोई मुल नी।

    ReplyDelete
  2. एह कवता मजेदार है. बळदे नै माह्णुए दी तुलना होई गई. मेरे ख्‍याले च इसा दी आत्‍मा ए‍ह लैण है - ''अपणे ताईं जीणे दा टैम नी लग्‍गा''. मतलब अजादी नीं मिल्‍ली. स्‍हाडि़यां सभ्‍यतां संस्‍कृतियां सांझो माह्णु घट , अपणा गुलाम ज्‍यादा बणांद‍ियां. भाई होरां ता रटैर होणे ते परंत तड़पा दे, जेह्ड़े जुआनिया च अपणे मने दी करदे, तिन्‍हां जो लोक बागी गलाणे ते भी बाज नीं औंदे.
    दूई गल्‍ल होर भी मजेदार है भई पहाड़ी कनै तिसा दे भी लफ्जां दे मतलब. इक्‍की तरीके नै एह जरूरी भी हन. पढ़ने लिखणे आळे खेती नीं करदे कनै खेती करने आळे देह् देइयां कवतां नीं पढ़दे. असां हिमाचल मित्र च पहाड़ी भासा पर चर्चा चलाई थी तां तिसा च डा. आत्‍माराम होरां लिखया भई कम्‍म काज बदलोई गै तां भासा दे सब्‍द भी बदलोई जाणे. जिन्‍हां खेती नी कीती तिन्‍हां जो क्‍या पता 'मई' क्‍या कनै 'जूंगा' क्‍या. म्‍हातड़ जेह, जेह्ड़े दूर पार रैंह्दे, तिन्‍हां ताईं तां एह अरबी फारसी ई है.

    ReplyDelete
  3. भाई अनूप होरां ठीक गलाया अरबी फारसी ई ए अपर तेज सेठी होरां मतलब समझाई करी नौइया पुंगरासा दा मता भला करीत्‍ता। कविता बड़ी बधिया लग्‍गी। जून ते परंत पहली बरखा जे पौंदी तां सौग्‍गी इक सगंध भी ल्‍योंदी....सैह सगंध मिंजो इसा कवता ते आई.....बड़का होरां जो मती-मती बधाई।

    ReplyDelete
  4. भाई तेज कुमार सेठी जी
    छैळ कवता तियैं बधाई !

    नजीब्भे बो’ळ्दे दिया कवता च तुसाँ खुण-पुट साइंसा कनें जु’ड़ेओ सारे प्हाड़ी लफ्ज बर्ते. कवता दी मंग भी ता एह इ है. लफ्ज सैह इ जिन्हाँ कवता दी रूह मंगै.

    असाँ माह्णूँ खरे पुत्तर, खरे बुह्ड़े, खरे खसम , खरे भाऊ, खरे सक्के, खरे रिस्तेदार,खरे मित्तर, खरे अफसर, खरे नोक्कर बणने दिया कोस्ता च इक खरे बो’ळद इ ता बणी जान्दे, खरे individual नीं बणीं सकदे। असाँ दे घुट्टिआ कनैं मि’ह्ल्लेओ संस्कार / उपदेस बगैरा सभ depersonalising forces दा कम्म करदे असाँ सै नीं होई सकदे जे असाँ होई सकदे ।

    अपण गोड्डेयाँ गुआई करि एह खरा बो’ळद मसूस करदा ता है : जे कुती मैं अप्पुँ तियें भी खरा बणने पास्सैं भी सोचदा ता ! ” अपण भाई जी बो’ळदे दीया जून्नाँ च सोचणे ग्लाणें दा टैम इ कुथु हुन्दा ! फिरि माह्णूँ सबर करि लैन्दा जे भई लेक्खाँ च एह इ लखोह्या हुंगा.

    ReplyDelete
  5. खलील जिब्रान होरां दी इक निक्‍की क्‍हाणी है, इक्‍की कुत्‍तें खिट्ट थी दित्‍तीयो. रस्‍ते च दुआ कुत्‍ता मिल्‍ला, सैः भी सौगी होई लेया कनै पुछणा लगा- 'क्‍या गल कुती ओ दौड़या?' पैह्ल्‍कैं गलाया- 'छोड़ कर, सभ्‍यता स्‍हाड़ें पिच्‍छैं है पइयो'.
    सभ्‍यतां संस्‍कृतियां दे बन्‍हण बड़े मजबूत हन. पर इन्‍हां चा ते ई अस्तित्‍ववाद (existentialism) निकळेया, धुर दूए पासैं साम्‍यवाद (marxism). पर चैन कुती पासैं भी हई नीं.

    ReplyDelete