Tuesday, June 5, 2012

प’थराँ नैं क्या हाल सुणाणाँ सीह्स्से दा


मितरो ! मेरी इक ग़ज़ल पढ़ा. जे टैम लग्गै ता दस्सा कदेह्यी लग्गी

 ग़ज़ल




इक्क जमोरड़ ऐब पुराणाँ  सीह्स्से दा
छुटदा ई नी‍ सच्च गलाणाँ सीह्स्से दा

तोड़ी नैंभन्नी नैंप’थराँ मारी नैं ?
दस्सा कीह्याँ सच्च छडाणाँ सीह्स्से दा

अपणे चेहरे दा नीं झलणाँ सच्च मितराँ
प’थराँ ने थोब्बड़ छड़काणाँ सीह्स्से दा

किरचाँ दा एह ढेर तुसाँ जे दिक्खा दे
एह्त्थू इ था सै सैह्र पुराणाँ सीह्स्से दा

कदी ता मितरो मूँह्यें अपणे भी पूँह्ज्जा
घड़-घड़ियें भी क्या लसकाणाँ सीह्स्से दा

इट कुत्ते दा बैर ए सीह्स्से प’थरे दा
प’थराँ नैं क्या हाल सुणाणाँ सीह्स्से दा

इक्क स्याणाँ माह्णूँ एह समझान्दा था
प’थराँ बिच नीं सैह्र बसाणाँ सीह्स्से दा

भखियो तौन्दी अग्ग बर्हा दी पर अपणाँ
हर समियान्नाँठोह्र-ठकाणाँ सीह्स्से दा

जे घड़ेया सैह भजणाँ भी त्ता था इक दिन
द्विज’ जी किह्तणाँ सोग मनाणाँ सीह्स्से दा

 द्विजेन्द्र द्विज

8 comments:

  1. तोड़ी नैं, भन्नी नैं, प’थराँ मारी नैं ?
    दस्सा कीह्याँ सच्च छडाणाँ सीह्स्से दा

    अपणे चेहरे दा नीं झलणाँ सच्च मितराँ
    प’थराँ ने थोब्बड़ छड़काणाँ सीह्स्से दा

    कदी ता मितरो ! मूँह्यें अपणे भी पूँह्ज्जा
    घड़-घड़ियें भी क्या लसकाणाँ सीह्स्से दा

    इक्क स्याणाँ माह्णूँ एह समझान्दा था
    प’थराँ बिच नीं सैह्र बसाणाँ सीह्स्से दा

    भखियो तौन्दी अग्ग बर्हा दी पर अपणाँ
    हर समियान्नाँ, ठोह्र-ठकाणाँ सीह्स्से दा

    जे घड़ेया सैह भजणाँ भी त्ता था इक दिन
    ‘द्विज’ जी ! किह्तणाँ सोग मनाणाँ सीह्स्से दा

    बड़ी दमदार गजल जेह्ड़ी सीहसा बणी नैं असां जो असां दा ई मुंह दस्‍सा दी। गल्‍ल एह ए भई सीहसा बचारा पैहले ते ई बदनाम रेह्या कैह कि तिसियों सच्‍च गलाणे ते बगैर किछ औंदा ई नीं। उर्दूए दीयां गजलां च ता आईना बड़ी पैहले ते औआ दा अपर प्‍हाडि़या दीयां गजला च इस तरीके नैं सीहसा मिंजो मेद पैह्ली बरी लसकेया हुंगा। मैं एह नीं गला दा भई पैहलैं कदी नीं होया कनैं नां गांह कदी होणा अपर तरीके दी गल करा दा। अपर बड़का जी, सीह्से जो साहरने ताईं मती ताकत चांहिंदी जेह्ड़ी बड़े घट लोकां वाली रेह्ई गह्इयो। गजल खरी ए। जुआंडेयो होर भी पढ़ाई छड्डा।

    ReplyDelete
  2. द्विज जी, तुसां ता सीसे जो प्रिजम बणाई ता. इन्‍हां सेह्रां ते कई रंग निकळा दे. साह्णडि़या जिंदगिया दे रंग भी बदरंग भी. इञा भी लग्‍गा दा भई शायर कनै शायरी भी सीसा ई हुंदे. हरेक बंदा अपणी तस्‍वीर दिक्‍खी सकदा

    ReplyDelete
  3. अनूप भाइयां दी प्रिज्‍मे आली गल बड़ी मनभौंदी लग्‍गी।

    ReplyDelete
  4. द्विज जी,
    बड़ी छैल गज़ल है. पहले भी पढ्हियो मैं कने अपने सारी मित्रां जो भी सुणाईओ. सारेयाँ जो बड़ी ज्यादा पसंद आई. इतने प्यारे शेर हन की जितनी वारी वि पढ़िए हर वारी फिरे पढ़ने दा जी करदा.


    इक्क जमोरड़ ऐब पुराणाँ सीह्स्से दा
    छुटदा ई नी‍ सच्च गलाणाँ सीह्स्से दा

    अपणे चेहरे दा नीं झलणाँ सच्च मितराँ
    प’थराँ ने थोब्बड़ छड़काणाँ सीह्स्से दा

    वाह!

    ReplyDelete
  5. बड़ी पैनी चोट मारी, सर और खूबसूरत शे’र साथ में हिमाचल की महक..प्रणाम!!

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. द्विज जी,
    सौं:ह रब्ब दी
    ग़ज़ल है गज़ब दी
    शायरे दीया आत्मा दा सीह्स्सा,
    सच्च बुळकणे बाह्ज्जी नी रैह्न्दा.
    पत्थरां ते भणै चथोन्दा,
    टुकड़े-टुक्ड़े भी होई नै
    इस्स ते सच्च ही गलोन्दा.
    सीह्स्सा टुट्टी नै भी सी:ह्स्सा ही रैहन्दा.
    इक्क बड़ी बड्डी सच्चाई
    तुसां ग़ज़ला च सुणाई.
    आस है भई सीह्स्सा
    जा:ह्ल्ली भी गाणा लग्गै,
    अपणा सच्च सुणाणा लग्गै,
    झट्ट "दियारे" जो दि:ह्न्नियों चढ़ाई.
    द्विज जी तुसां जो
    दिला -जान्नी ते बधाई..

    ReplyDelete
  8. वाह द्विजेन्द्र जी बडी बढ़िया गजल पेश किती तुसे ...बधाई |

    ReplyDelete