Wednesday, May 23, 2012

मारवाड़ी गीतां दी दादी



राजस्‍थानी मारवाड़ी च इक कहावत है कि बदलोंदे वक्‍ते च दो ही चीजा बची रैंहदिया गीत कन्‍ने भींत। पर राजस्‍थान दे नागौर जिले दे इक अमीर जमींदारे दे घरें जमियो कन्‍ने सोमानी समूह दी नूंह लीला सोमानी जो गीतां दे बारे च ऐह गल ठीक नी लगी। तिनां 1950 च 20 सालां दी उमर च ही ऐह महसूस कीता कि मारवाड़ी संस्‍कृति च जणासा भाल ब्‍याह-गाहं, तीज-तौंहारां ते बच्‍चयां जमणे तक गीत हन। पर ऐह जे जोरे-जोरे ने बंबईया फिल्‍मी गीत बजणा लगी पियो। इस शोर-शराबे च लोग पारंपरिक लोकगीतां भुलदे जा दे। इस ते पैहले वरासता दा ऐह खजाना गुआची जाए इस जो बचाणे ताएं तिना अपणी कमर कस्‍सी लई। इस कम्‍मे च तिनां जो बडी बैण कमला कन्‍ने सोमानी उद्योग समूह दा साथ मिला। 
इनां दूंही मिली करी गीतां गाणे वाली लंगास जनजाति दे गवईयां ते गीत सिखे। अपणी गायकी सधारने ताएं शास्‍त्रीय संगीत सिखया। इस दौरान अप्‍पुं ही हत्‍थां ने गीत लीखे रटा मारी ने गीतां दियां तर्जां याद कितियां। मतयां लोकगीतां दा संगीत ढिला-ढाला होंदा। ऐह दैह्यां गीतां दिया अप्‍पु ही तर्जा बणाईयां। तिस जमाने च राजस्‍थानी क्‍या सारयां ही समाजां च जणासा दा सारयां सामणे गाणा ठीक नी समझया जांदा था। इस ताएं कुछ रिश्‍तेदारां ने मिली करी पैहला एलपी रिकार्ड बणाया जेड़ा 1965 च अपणे ही घरे दे इकी ब्‍याहे च सोमानी फेमली ट्स्‍ट ने जारी किता।
इस रकार्डे जो राजस्‍थानी समाजें हत्‍थों-हत्‍थ लिया। इस ते बाद लीला जी ने पिछें हटि ने नी दिखया। राजस्‍थानी बंजतरियां, नृत्‍य कन्‍ने हीना कलाकार, वोटियां-रसोईयां जो घरें सदी करी तिनां ते गीत सिखे। अज इन्‍हां भाल तिन संग्रह, 17 ए‍लबम रिकार्डां च पंज सौ लोकगीतां दा खजाना है। अज 78 सालां दिया उमरा च भी दादी राजस्‍थानी लोकजीवन, लोककथां पर हिंदी-राजस्‍थानी कवतां लीखी कन्‍ने राजस्‍थानी गीतां दी तर्जां बणायी जादी। मुंबई दे अपणे घरे च ही इक रिकार्डिंग स्‍टुडियो बणाई ने नोंई पीढ़ीया जो राजस्‍थानी-मारवाड़ी गीतां सखा दी। धन है मारवाड़ी राजस्‍थानी गीतां दी ये दादी। जिनें इस दौर च भी राजस्‍थानी संस्‍‍कृति दा खजाना सांभी ने रखया।
पता नी असां दे पहाड़ी लोकगीतां च इस तरीके ने कोई कम्‍म होया कि नी। लोकगीत ता हन पर भाखां-तर्जां कन्‍ने सबदां दा बुरा हाल है। जगरातांया दिया तर्जा पर दूंही-चौंही पराणे गीतां दे टप्‍पयां च फौजी, नौकर कन्‍ने पक्‍के-कच्‍चे अम्‍ब जोड़ी ने पंजाबी तुड़के च रोज नोंयीं सीडी बजारे च ओआ दी। ब्‍याह-गाहं च जणासा गीतां गादिंया थियां हुण भी गांदियां पर डीजे दे रोळे च सब खत्‍म होई चलया। कीर्तनां च बेसुरियां फिल्‍मी परोडि़यां ना से हिंदी, ना पहाड़ी, ना पंजाबी। पिछले महीनें में हिमाचल च था हमीरपुर एफएम पर इक गीत ओआ दा था उठ गुजरिये मधाणिया लायां अडि़ये। सुणी ने मिंजो पैर सबेला दी गई रे बहुए दिन चढ़ने जो आया। दी याद आई। मेरी मा भ्‍यागा उठी ने इस भ्‍यागड़े गांदी थी।

लीला सोमानी 
मिंजो लगदा कि सच्‍च ऐह है कि भींत कन्‍ने गीत तां ही बचदे जे लीला सोमानी साही दादिंया होन। मिंजो नी पता हिमाचली लोक-गीत संगीत दी क्‍या स्थिति है पर ऐह लगदा असां भी इसा मारवाड़ी दादिया ते सिख लई ने अपणे गीत-संगीत जो हाली भी सांभी सकदे। कन्‍ने इक होर मेद ही कि इस कम्‍मे च जिलयां वाळी लैणी दी कोई अड़चन भी नी होणा चाही दी।
कुशल कुमार 

(नीता मुखर्जी कन्‍ने नंदिनी पाटोडिया दी कताब वायसेज फ्राम द इनर कोर्टयार्ड पर हिंदुस्‍तान टॉईम्‍स च आरिफा जोहरी दे लेखे पर अधारित)

7 comments:

  1. लोकगीतां जो संभा‍ळणे दा बड़ा कम्‍म आकाशावाणी नै कीत्‍या है. हिमाचल संस्‍कृति अकादमी नै कोई बीह साल पैह्लें त्रै कैस्‍टां कढियां थियां. बोल्‍दे तिन्‍हां दी रिकार्डिंग म्‍यूजिक टुडे आळयां कीती थी. तिन्‍हां भी दो कैस्‍टां कड‍ियां थियां. दो क साल पैहलें बीट ऑफ इंडिया आळयां दियां तिन्‍न कैस्‍टां मैं दिखियां थियां (विवेक मोहन होरां दी मेहरबानिया नै). कई साल पैह्लैं musicindiainline पर चंबे दे गीत मिल्‍ले थे. ए मैं सैही नां गणाए, जिन्‍हां च सिंथेसाइजरें लोकगीतां दी जड़ नी पुट्टियो. कवि दीनू कश्‍यप होरां दे भरा सोम कश्‍यप बालीवुड ते हटी नै गै तां तिन्‍हां मंडिया म्‍यूजिक स्‍टूडियो बणाया. कई कैस्‍टां कढियां, पर गीतां दी आत्‍मा कळपदी ई रही.
    यूनिवर्सिटिया च रिसर्च भी होआ दी पर पता नीं गीतां दियां नोटेसनां सम्‍हाळदे कि नीं. वैसे मेरे ख्‍याले च बांसुरीवादक राजेंद्र गुरंग भोलू होरां भी कांगड़े दे लोकगीतां पर रिसर्च कीतियो. इस बारे चे गौतम व्‍यथित होरां भाल भी मती जानकारी होणी है.

    ReplyDelete
  2. जी

    इस दिशा च बड़ा कुछ कित्ता जाणा बाकी है.. बल्कि इक ठोस शुरुआता जी जरूरत है.

    ReplyDelete
  3. वाह भई दादी सोमानी.. तेरा न को ई सानी

    ReplyDelete
  4. गल ईह़ंयां भई कुशल भाइयां दा लेख बड़ा जरूरी था। हिमाचले दे मते लोकगीत हन अपर तिन्‍हां जो संभालणे वाला कोई नीं। मते साल पैहलैं इक गीत चल्‍लेया था '...ठंडी-ठंडी हौआ झुलदी कि झुलदे चीलां डे डालू, जीणा कांगड़े दा'इस गीते जो लिखणे कनैं धंतारा लई करी गाणे वाले पंडत प्रताप चंद शर्मा होरां अजकल देहरे वला नलेटी ग्राएं च रेहया करदे। कोई पुछदा नीं कोई संभालदा नीं। असां दैनिक जागरण च दो की बरी फोटो समेत बडि़या मने जो छूहणे वालियां खबरां भी छापियां भई इस कलाकारे दी संभाल करा, इसदे खजाने ते किछ ले ई लेआ अपर म्‍हाराज मजाल ए कोई सुणी जाए...
    कन्‍नां पर जूं नीं जुमसा दी।
    नोएं नोएं कलाकार ऐसी प्‍हाड़ी ल्‍योआ दे जेहड़ी ग्‍लोंदेयां ग्‍लोदेंया काहलू अंग्रेजी कनैं हिंदी बणी जांदी, किछ समझा नी औंदा..।
    करनैल राणा होरां किछ गीत संभाले।
    भाई अनूप सेठी होरां आकाशवाणी दी गल्‍ल कित्‍ती जेहड़ी ठीक ए। अपर अजकल मंगलवारे जो आकाशवाणी ते सुरधारा परोगराम सुणा ता हटी फिरी सैह इ गीत सुणने जो मिलदे....असली कलाकारां कनैं गीतां ते असां हल्‍ली भी दूर हन।

    ReplyDelete
  5. आकाशवाणी हमीरपुरे वालेयां फिरी भी किछ पद्धर रखेया पअर धरमसाला ते गीत गोआची हन गैह्यो...
    कोई पीयूष राज दिल्‍ली ते औए कनैं संभालैं इन्‍हां गीतां जो तां इ बणनी गप्‍प।
    नोइयां पीढि़या नैं जोड़े हत्‍थां नै बिनती ए भई जाहलू सैह सीला दियां जुआनियां कनैं मुन्नियां दिया बदनामिया ते फारग होई जाहंगे तां घालू मजूरे दे पैरां च पेहयो छाल्‍ले भी दिखगे....चंचलों जो कुजुए दे डेरैं छड्डी औंहंगे...डाहडे दिया बेडि़या दा हाल चाल भी पुछगे कनैं कोई एह भी गलांहगा भई
    गड़क छमक भाउआ मेघा ओ
    बरह्र चंबेआली रे देसा ओ....

    अपर हल्‍्ली एह हुंदा लग्‍गा नीं करदा।

    इस ताजा दोहे नैं मैं अपणी गप खत्‍म करादा...

    सोचां दे रसयालुएं, चिंतां खुणी लई तीण
    उठ नवनीता नोह्देया! दुखां दा बालण बीण

    ReplyDelete
  6. नवनीत जी,
    तुहां ठीक गला दे, कोई औञ्गा कनै साह्ड़‍िया बरासता सम्‍हाळगा. पर कुती एह् निहाळप 'वेटिंग फार गोदो' ई न होई जाऐ. असल च संस्‍कृतियां तां बचदियां कनै बदध‍ियां जे सैः लोकां दिया जिंदगिया दा हिस्‍सा होन. नई तां सजावटी चीज बणी नै नुमाइस हुंदी रैंह्दी.

    दूई गल, दयारे पर पहाड़ी पढ़ने दा मजा आई जा दा.
    तुहाड़े दोहे च 'नौह्दा' अखर पता नीं कितणेयां जुगां बाद सुणया/पढ़ेया. अहां छोट-छोटे थे तां साह्ड़े बड्डे भरा सांजो चौबी घंटे इसा ई पदविया पर बठयाळी रखदे थे.

    ReplyDelete
  7. नवनीत जी तुहां दा कने अनूप होरां दा गलाणा ठीक है। मोहिन्‍दर कुमार कन्‍ने तेज कुमार दा भी धन्‍यवाद। पंडत प्रताप चंद शर्मा साही मते लोक हन पर कम्‍मे दी कोई पछेण नी मुल नी। असां दी समस्‍या ऐह् है कि असां भाल अपणे आपे दा अपणे हिमाचली होणे दा ही कोई मुल नी है। जै कुसी हिमाचलीये ने भासा दे बारे च गल्‍ल करा ता सै पुछदा कोणसी भासा। जळिये इतणे साल होई गै पर कौन दा कोण कुण ठीक नी होया फिरी भी पुछी जा दा कोण सी भासा। सैही भासा जेड़ी तेरी मा कन्‍ने दादी गलादियां थियां। जित्‍थु तिक लोकगीत, संगीत कन्‍ने कला दी गल है किछ असां दा स्‍वाद खराब होई गिया किछ असां दे कलाकार नोंये सप्‍पड़ खुणने दे बजाये खड़ोतिया आळी च ही जुम्मियां मारी जा दे। अपरैल च में हिमाचले च इकी व्‍याह च राती वेदी भाल बैठया था। तित्‍थु इक हिमाचली कुड़ी तिसा दा मरठी लाड़ा कन्‍ने तिनां दा दूहीं-तरीं सालां दा जागत ठेठ मरठिया च गलबात करी जान कन्‍ने असां दे ग्रांये वाले अपणे बच्‍चयां ने टूटी-फ्रूटी हिन्‍दी ठोकी जान। अपणियां भासा दी बड़ी बुरी आयी। असां दियां माऊं-दादीयों जो ऐह क्‍या होई गिया। मिंजो सच्‍चे दिले ते लगया असां भाल भी सोमानी दादीयां साही कोई दादी होणा चाही दी थी।

    ReplyDelete