Wednesday, May 9, 2012

अम्‍मा पुछदी


लोकगीतां लोक गांदे कनै लोकगायक भी गांदे. लोक अपणे आपे ताईं गांदे, लोकगायक अप्‍पू सौग्‍गी दुयां ताईं भी गांदे. कुछ लीका पर चल्‍ली नै गांदे, कुछ लीकां तोड़ी नै गांदे कनै नौइयां लीकां बणांदे. मोहित चौहान होरां भी एह गीत अपणे तरीके नै गाह्या है. एथी सिंथेसाइजरे कनैं ड्रमां दी छिंझ नीं है, गिटारे दी रुण-गुण है. सुणा भला.   

2 comments:

  1. बड़ा ही सरस गीत है. मोहित चौहान होरां दी आवाज़ बड़ी मन-मोह्णी है कनै भाव-राग-ताले दा "तृफळा" हाजमे जो दुरुस्त करदा जाआ दा.

    ReplyDelete
  2. कई साल पैहलें लता मंगेशकर ने किछ डोगरी गीत गाये थे हुण अम्‍मा पुछदी प्‍हाड़ी लोकगीते जो मोहित चौहन दी मोहणी कन्‍ने मेहरम अवाजा च सुणी ने कई बींड़ा ढैंदियां लग्गियां। मुंबई दी फिल्‍मी दुनिया च मोहित चौहान इक बडा नां है इस ते बावजूद सैह प्‍हाड़ी हिमाचली हन। नवनीता होरां दे चंडीगढ़ रिर्टन कन्‍नेक्‍टर साही तिनांदी खिड़की ताकी नी बणी। मैद है इसा खिड़किया ते लोकगीतां दी होआ ओंदी रैह्गीं। दयार कन्‍ने चीलां दे डाळू झुलदे रैह्गे।

    ReplyDelete