Wednesday, May 16, 2012

किछ होर दोहे


लेया किछ होर लिखी चकाए। लिखी क्‍या चकाए...लखोई गै। भाई तेज सेठी होरां दा बयान मिंजो ते लखाई गेया। करिये क्‍या...कन्‍नां च जगराते दा डीजे बलदा रैं‍हंदा...कोई बियोह्ई करी आई गेया तां डीजे, कोई जम्‍मी पेया तां डीजे...सड़कां पर चल्‍ला तां छोहरुआं दा बाइक चलाणे दा जॉन अब्राहम स्‍टाइल डराई दिंदा...हैलमेट हत्‍थां, कनैं हाक्‍खी छोटे-बड्डे दीयां सरमा ते दूर गास्‍सैं टंडारैं लग्गियां...। कोई लेहाज नीं। कुसी प्‍हाड़े पर जेसीबी चल्लियो सुझदी...रुख कटोआ दे। चौडि़यां सड़कां कनारैं रुखा दे ठेले या गलाअ...लोथां पेहइयां। चिड़ुआं पखेरुआं दी जद्दी कोई जिमीं तां हुंदी नीं...कुथियो जाह़्र बचारे। सरकारी मोटरा दा कनेक्‍टर इक फेरा पठाणकोटे या चंडीगढ़े दा लाई औंदा तां खिड़की बारी या ताकी बणी जांदी। द्हे मोहले च कुणी क्‍या लिखणा। पता नीं काह्लू रोणा हासा बणी जांदा कनैं काह्लू हासा रोणे च बदलोई जांदा। खोते  जो लूण देणा तां कन्‍नां ते ई पकड़ना पौणा अपण सकायत एह हुंदी भई कन्‍न कजो पुट्टे। लूणे कोई नीं दिखदा। इन्‍नी हाल्‍लैं खच्‍चरी जो नाल फिट करिये तां सैह चींगदी अपर नी ला भला नाल...चलणा कुथू ते। जे जीहयां सुज्‍झा लिखी चकाया अग्‍गैं तुसां दिक्‍खा।
..............................................................................................

टौणे कित्‍ते स्‍पीकरां डीजे मारै राड़
बिल्‍टन पी नैं दारुए लाहड़ैं  देह्न तुआड़

साफा गुच्‍छू बणी गेया इतणी चढ़ी सराब
कोइ नी बस्‍सा बेहालदा राती होन खराब

जेसीबी जे चली पेई भेठीं होइयां साफ
हण सुज्‍झा दा खातमा धारो करनेयो माफ

मिट्ठा मिट्ठा बोलदेयां नेता मारै हाख
डक्‍का डेरी राजी नीं बणी खोआए दाख

सड़का गब्बे उपडि़यो कोइ नी दिखदा लैण
गडियां ईह़्यां उडदियां उड्डै जीहयां डैण

नीं पुज्‍जा रखड़ूनियां, थी बैहणी जो आस
डुसकी मोई बोबड़ी मिंजो करै दुआस

हाक्‍खीं नैं मत तोपदा, खाली सुझणा गास
जाह्ली दिले ते तोपगा माहणू मिलणे खास

खिड़की बारी बणी गेई, चंडीगढ़े दा फेर
ताकी नूं बंद कर लओ, देहया कनेक्‍टर सेर

टौणा  दादू नी करैं मुन्‍नए दी गल कैच
कन्‍नां बाजा ढुंबेया चौब्‍बी घंटे मैच

चिमड़ी रैह तां मुकी गेया फोने अंदर माल
गप गड़ौंजा सब खतम, बाकी है मिस काल

खच्‍चर कितणी उटकदी जे फिट करिये नाल
अकला दी गल बोल्‍यां मिलणी गाल मुआल

अम्‍मा बोल्‍ले पोटेया मिंजो घरैं पजाह
अंगण द्वार नेहालदे गाईं तोपन घाह
-नवनीत शर्मा

11 comments:

  1. दोह्येआँ दी छैळ प्हाड़ी अँगरेजिया दिया हिमाचलाइजेशनाँ कनैं होर भी छैळ लग्गा दी. असाँ दिया भासा च अँग्रेजिया दे लफ्ज
    बरतोई नें हिमाचली लफ्ज ई लगदे. पता लाणाँ मुस्कल होई जान्दा जे लफ्ज अँग्रेजिया दा है जाँ हिमाचली प्हाड़िया दा.
    भाई नवनीत होराँ दे इन्हाँ छैळ दोह्येआँ दी भासा जो हिमाचली प्हाड़िया दा "Received Pronounciation" ग्लाणे जो दिल करा दा.
    खरा प्हाड़ी मुहावरा.. खरी भासा ...अजकणी गल्ल... अजकणिया भासा च.

    सड़का गब्भैं उह्प्पड़िओ कोइ नी दिखदा लैण(line)
    गडियां ईह़्यां उडदियां उड्डै जीहयां डैण

    वह जी वाह क्या इ ग्लाइये... मजा आई गेया...

    मतियाँ मतियाँ मबारकाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुकरिया भाई जी। प्रतिक्रिया तां छैल है ई टैम भी कढ्डेया इस ताईं होर भी सुकरिया। मैं तां डोल रैहणे वालेयां जो भी न्‍याहला दा। जेहड़े प्‍हाडि़या ताईं चिंतित हन अपर गलाणे कनैं लिखणे ते डरदे।

      Delete
  2. दोहे असल च ई जबरदस्‍त हन. द्विज होरां मेरे मने दी गल ई कीती है - ''खरा प्हाड़ी मुहावरा.. खरी भासा ...अजकणी गल्ल... अजकणिया भासा च.''
    इन्‍हां दोहृयां पढ़ी नै मिंजो एह भी समझ औआ दा है भई मेरी प्‍हाड़ी तीह साल पचांह रही गइयो. प्‍हाड़ि‍या दी जगहा हिंदिया अंगरेजिया दे अक्‍खर ई चेतें औंदे. कुछ साल पैह्लें इक सेमिनार एटैंड कीता था, तिस च विज्ञापन दी दुनिया दे इक्‍क बंदें दस्‍सेया भई कंपणियां कापी राइटरां जो साले च इक दो म्‍हीने अपणे घरैं भेजी दिंदियां. सैः ओथी जाई नै भासा दे नौंए नौंएयां कपड़यां पैन्‍हीं औंदे. मतलब एह भई भासा दे गढ़े च रहई नै ई भासा दा मजा है.
    दूई गल एह भई इन्‍हां दोह्यां च गुझियां गल्‍लां हन. अजकला दिया जिंदगिया दियां, द्विज होरां जिञा दस्‍सेया ई है. कुछ दोह्यां च सूक्तियां साही नसीह्तां भी हन.

    ReplyDelete
  3. भाई अनूप सेठी जी कनैं द्विज जी,
    तुसां जो एह दोहे ठीक लग्‍गे, एह सुणी-पढ़ी नैं तबीत सैली होई गेई। क्‍या गलां...तुसां ग्‍लाई दिता। इक नौआं दोहा होर होई पेह्या...

    मिठड़ू बबरू भालै दिल जरमदिनें दा खेल
    अपण दिले दैं थालुएं एसएमएस ईमेल

    ReplyDelete
  4. जे लिखणे आळा नवनीत होए ताँ दोहे भिरी जबरजस्त ही निकळणे, अपण कई दोहे नवनीत भाई होराँ पर ही फिट होआ दे। दिक्खा भला:


    हाक्‍खीं नैं मत तोपदा, खाली सुझणा गास
    जाह्ली दिले ते तोपगा माहणू मिलणे खास

    मिठड़ू बबरू भालै दिल जरमदिनें दा खेल
    अपण दिले दैं थालुएं एसएमएस ईमेल
    इक दोहा नवनीत भाई, द्विज भाई कनैं मेरे सारे मित्तरां जो, मिंजो दिले दे बडडे ही प्यारे हन अपण मिलणे दी गल्ल औंदी ताँ.... ब्लॉगे छड्डी नैं ऑल लाईन बिजी........

    सैह देही नी रैई हुण तेरी मेरी प्रीत, रांझू-फुलमू मुकी गए मुक्के गंगी गीत।
    इंटरनैट पर प्रीत दसदे, मिलणे जो नीं टैम
    प्यार-प्रीत दीयाँ खडडाँ रोकी, लगे बणाणाँ डैम।

    चम्बे ते सिमले आई करी भी सन्झा हटी जांदे सरकार,
    लाड़िआँ सुंघाई दित्ती मित्तरो खबरैं क्या नखसार।

    ऊन मुंडी लेई गए सारी भिई मुंडणे दी आस,
    खाडू दे खाडू ही रई गए खाडू भाई प्रकास ।

    सारे दोहे नवनीत भाई दी ही नज़र हैं। :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्‍यारे भाऊ कनैं दोस्‍त प्रकाश होरां दे मने च छाहएयो रोस्‍से दे बद्दल बह्री पै...एह ठीक भी होया। अरा भाऊ इब्‍भैं जे सिमले जो आया तां सरीरे तिज्‍जो वला ई सट्हगा।

      जित्‍थू तिकर ऑल टाइम बिजी रैहणे वाली गल्‍ल ए, तुसां तां अप्‍पू पत्‍तरकार रैहएयो।
      परकास भाई प्‍यार रैहंदा ई ए, भौंएं तिसियो साह्मणै ल्‍योणे च भुलचूक हुंदी हुंगी।
      लैह अरा इक दोहा सुणी चकाह...

      भौंएं लख भलाई देइये, कोई नीं रखिए फाह
      मने दे लाहड़ुएं चढ़ी चलै बस यादीं दा घाह

      मती नराजगी भी ठीक नीं।

      गल्‍ल सैह ई हुंदी अपण कदी मोहल असां जो टौण करी दिंदा कनैं टौणेयां ने मती बरी गल्‍त होइयांदा...
      इक होर सुणा...

      टौणा पुच्‍छै टौणे जो तैं भी पीती चाह
      टौणा बोल्‍ले नईं अरा, मैं भी पीती चाह

      मिंजो समर्पित तुसां दे दोहे खरे लग्‍गे। खूब बला दे। भखा दे। सारे इ मंजूर अपण लाश्‍ट आला या अखीर दोहा मिंजो नैं कीहया जुड़ेया सैह खानैं च नीं औआ दा। तुसां दिया ऊन्‍नी राड़ने दिया खोह्दली या घड़म्‍मचौधरा च मैं कुथू ते आई गेया। मैं तां चाहंदा...खूब उन्‍न चढ़ै।
      तुसां टिप्‍पणिया दा प्रकाश कित्‍ता, खरा लग्‍गा। टैम कू ए अपर फिरी भी कढ्डेया....सुकरिया मितरा..।

      Delete
  5. Replies
    1. भावुक कनैं हरीश भाइयां दा सुकरिया...टैम कढ्डेया...।

      Delete
  6. अम्‍मा बोल्‍ले पोटेया मिंजो घरैं पजाह
    अंगण द्वार नेहालदे गाईं तोपन घाह
    Bahut Khoob

    ReplyDelete
  7. भाई प्रकास बद्दल खाड्डू साहब जी
    बड़ा खरा... तुसाँ बर्हे ... अपण ब्लोग्गे पर बर्ही पै... कुती फोन्ने पर बर्ह्दे ता मजा बी ओन्दा.
    असाँ (लखारी ---तुसाँ भी) जे किछ भी लिखदे कुसी न कुसी पर ता लाग्गू हुन्दा इ है. दोहा कनै कविता कनैं खासकर ग़ज़ल विधा दी मंग ता एह है जे सैनताँ- सैनताँ इसारेयाँ- इसारेयाँ च गल्ल समझी- समझोई जाए, नीं ताँ लखारी लोक बी (क्या-कुस पर लाग्गू हुन्दा) समझाणाँ लगी पै ता फिरी सायरी कनैं डायरी च क्या फर्क रेह्यी जाणाँ . बस गल्ल जिन्नी जिसजो समझाणी ( छुहाणी) है, अप्पूँ ची रक्खा .

    ReplyDelete
  8. भाई नवनीत जी तुसां दे दोहे पढ़ी के मिन्जो बी जोस आई गया | तुसा लिखदे भोत बढिया हो ...बधाई |

    ReplyDelete