Wednesday, June 13, 2012

जनाब मेहदी हसन होरां नी रैह

होई सकदा दयारे तिकर गोहणे ते पैहलैं इ तुसां जो एह उदास करने आली खबर मिली गेह्इयो होए भई गजला दे बादसाह मेहदी हसन होरां नी रैह। सैह मतेयां सालां ते बमार थे। तिन्‍हां गजल गायिकी जो जेहड़ा गास दस्‍सेया सैह मते लोकां दे बसे दी गल नीं हुंदी। मते शायरां जो तिन्‍हां महान बणाइत्‍ता। तिन्‍हां दियां गजलां लोकां तिकर पजाइयां जेहडि़यां उइयां होई सकदा भई उर्दुए जाणने वालेयां तिकर ई पुजणियां थियां। ऐसे महान कलाकार कनैं गजलां दे साधके जो सुरगे च ठीहया मिल्‍लै...औआ,  एह बिणती परमात्‍मे नै करिये। 

1 comment: