Sunday, November 29, 2015

चौहार घाटी दी लोककथा

भत्त कनैं बत्ता





इक था मुण्डुए दा बुढ़ा, इक था कुड़िया दा बुढ़ा। मुन्डुए कुड़िया दा होई गेया ब्याह कनैं तिन्हाँ दे बुढ़े बणी गै अप्पू च कुड़म। कुड़माँ- कुड़माँ दे घर ता खरे इ दरेड्डैं थे, अपण मुण्डुए दे बुढ़े दा घराट कुड़िया दे बुढ़े दे घरैं रैड्डैं इ था। बस इक छोटी देह्यी कुआळी लौह्यी नैं पौन्दा था कुड़िया दे बुढ़े दा घर। नौंआँ-नौंआँ नात्ता, नौंआँ -नौंआँ कुड़मचारा था।

 इक दिन सुख-सान्त्ते जो कुड़िया दा बुढ़ा अपणे कुड़में दे घराट्टे पुजी गेया। खूब सुख-साँद होया। सुख-सान्दे लई-दई नैं घराट्टे बाळें कुड़में गलाया,कुड़म जी, औआ, रोट्टी खाई लेआ, तुसाँ दिया धीया, अज छलियाँ दियाँ रोटियाँ बह्न्नी नै दिह्तियाँ, असाँ दूह्यीं इक-इक रोट्टी बण्डी खाणी।"  " नाँ कुड़म जी, धीया दे घरे दा कीह्याँ खाणाँ? मैं एह पाप कीह्याँ खटणा? हाँ, तुसाँ चला असाँ दे घरैं, तुसाँ दिया कुड़मणियाँ दाळ-भत्त कनैं चणेआँ दा खट्टा रिह्न्नेया होणा, तिह्त्थु खान्दे असाँ दोह्यो!" कुड़िया दे बापुएँ जुआब दित्ता।  घराट्टे आळा कुड़म खुस्स होई गेया। ओ कुड़म जी, गौं ता मेरा भी भत्ते जो इ करदा, अपण घर दूर, गर्म-गर्म भत्ते खाणा घराट्टे छड्डी जाणाँ भी कीह्याँ? कोई इक्क पीह्ण भी चुक्की लई जाये ता भत्त पक्कैं मुल्लैं पौणा। अपण तुसाँ गलाअ दे ता धनभाग, कुड़माँ देयाँ घराँ दा तत्ता भत्त मिली जायें ता होर चाह्यी दा भी क्या? चला चली पौन्दे, घराट्टे जँदरा इ सह्यी, इक कुआळी इ ता लौह्णी ऐं।"

दोह्यो कुड़म घरें जाई रेह । कुड़मणिया बधिया भत्त खुआया, बधिया खात्तर कित्ती, कुड़म परसन्न होई नैं घराट्टे जो हटी गेआ। अपण अगलैं इ रोज्जैं कुड़िया दा बाप्पू भत्ते दे टैम्मे  घराट्टे वाळे कुड़मे जो फिरि घरैं लई आया । चायैं- चायैं कुड़मणियाँ फिरि गर्म-गर्म भत्त खुआई दित्ता।
बस फिरी ता कुड़मैं खो पाई लई, सैह ता बिह्ड़ी पेया। तिन्नी ता कुड़माँ दे घरैं नाज्जे दियँ बोरियाँ पर पक्की इ मोह्र लाइत्ती । " भत्ते दे टैम्मे भत्त मिली जाए ता कुनी खाणे ठण्डे-सुक्के रोट! " रोज भत्ते दे टैम्मे सैह अपणे कुड़माँ दे घरैं नडरोणा लगी पेया। हँडुए दा मुँह  खुह्ल्ला था, अपण कुड़में जो सर्म नीं थी। कुड़में धड़ैं पुटि त्ती। तिस मची-मची, मछरी -मछरी खाणा, कई बरि ता कुड़मणियाँ तियैं भी नीं बचणाँ , तिसा जो अप्पुँ तियैं होर रिह्नणा पौणा । गलाणा बी क्या? धीया दा सौह्रा,जाई नै धीया जो ग कोई गल्ल इ नी करै! सर्म-सरमाइया, घ्यूए दा चिमचू भी कुड़में दिया थाळिया च पाणा पौणा ।

घरैं आळा सरीफ था, कुड़मणी दुखी थी, जादा कमोन्दा भी नीं था। गोड्डेयाँ च अह्ड़ाँ दियाँ पीड़ाँ, अप्पूँ जो इ बचारी  घसटोई-घसटोई रसोअ बणान्दी थी। "इक रोज , दो रोज , ओ त्रैअ म्हीन्ने! एह ता खरा गिह्जेया कुड़म! इन्नी ता नाँह कराई दैणी! इद्दा ता केह्की लाज करना पौणा, उपरा ते लाड़ा मेरा डँगरा, सैह ता कुड़में दी  कस्सम खाई राजी नीं। भोळा खून! कुड़में जो किछ गलाई नीं सकदी , लाड़े जो किछ समझाई नी सकदी, तिन्नी गलाणा कमीन्नी ऐं। अपण कुड़में ते प्राण ता छड़काणाँ पौणे!" तिसा दमाग लगाया। सकीम लड़ाई।

इक दिन भत्ते दा टैम आई लग्गा ता तिसा अपणे लाड़े जो गलाया,"अड़ेओ मैं रात्ती धख देह्यी दाळ सेड़ी थी। सोच्चेया था, अज बचारे कुड़में जो माँह दिया दाळी दे पकौड़े खुआह्न्गी, अपण जळी गेया मेरा दमाक, कल तुसाँ ते तेल मँगाणा इ भुली गई। मैं दाळी पीह करदी तुसाँ जाई नैं थोह्ड़ा देह्या तेल ता लई औआ।" सैह भोळा बचारा तेल्ले लैणा चली गेया। दकानाँ  भी दरेड्डैं इ थियाँ , अपण सैह कु़ड़में दे चायैं खिट्टैं इ पई गेया।

सै अँगणे च बेह्यी नैं सिल्ला पर दाळी पीह्णा लगी पई। ठीक भत्ते दे टैम्मे घराट्टे वाळा कुड़म आई पूज्जा। " कुड़मणियें! कुथु ऐ मेरा कुड़म?" तिन्नी ओन्देयाँ इ कुड़मणी पुच्छी। झूण्डे पान्दी-पान्दी  सैह ढिल्ली देह्यी गलाई। क्या इ दस्साँ कुड़म जीअसाँ ने ता बुरी होई, कल्ला तियैं खरे भले थे, तुसाँ जो घराट्टे तियैं छड्डी ने आये, ओन्देयाँ इ एह बत्ता चुक्केया, कनैं मिंजो दड़ाई पै। लोक छडाणा लगे ता लोक्काँ जो दड़ाई पै।  घरैं जे भी औआ दा , तिसियो इस बत्ते लई ने दड़ाई पौआ दे। पता नीं क्या जड़ी लंघी लई! पता नीं क्या झपट -चपेट लगी , खबनीं कोई बत्त- बलाअ चिमड़ी गई ! पँवरे होई गेह्यो ! हर बेल्लैं इस बत्ते इ चुक्की छड्डा दे, मसैं छडाया, तुसाँ जो दाळी दे पकोड़ू खुआणे थे मैं । खबरैं कुथु नच्चा दे! भँडोराँ साह्यीं केह्की भुण-भुण- भीं भीं करी जा करदे , मारना हन पौआ दे । तुसाँ बैट्ठा । अपन सोह्घे इ रैह्न्नेओ, मैं पकोड़ुआँ तळदी, तुसाँ भी खा, कने मेरिया कुड़मणियाँ कने धीया तियैं भी लई जा । अपण मेरिया कुड़मणिया कने धीया जो मत दसदे जे एह पँवरे होई गैह्यो । तिन्हाँ जो दुख लगणा ।गलाई नैं  कुड़मणी अन्दर गई । घराट्टे वाळा कुड़म तिह्त्थु ते  हिर्न होई गेया / गोळी होई गेया, खड़ेयाँ पैराँ न्ह्ट्ठा। ओ पँवरे कुड़मे ते घँडैर खाणी? पूरे ग्रायें च बेजती होणी!" तिन्नी सोच्चेया।

कनो-कनियैं   भोळा कुड़म तेल्ले लेई ने आई रेह्या। " कुड़म नीं आया?" तिस अपणी घरेआळी पुच्छी। तिसा गलाया, आह्या था तुसाँ दा कुड़म , अपण नराज होई ने चली  भी गेया। मैं ता दाळी पीह्या दी थी तिस तियैं , सैह बत्ते इ मँगणा लगी पेआ।"  “ ता भलिये लोक्के, बत्ता  इ ता था, दई देणा था कुड़में जो, तैं दित्ता कैंह नीं?" सैह रह्ड़ेआ।  जी मैं कोई नाँह थोड़ी दित्तीमैं ता  इतणा इ गलाया था  ,दाळी पीह्णा देआ, मैं तुसाँ तियैं पकौड़ू बनाणाँ लाह्यो।, अपण सैह मन्नेआँ इ नीं, बत्ते  खोह्णा इ लगी पेआ, मैं गलाया ,धोणा ता देआ बत्ते!’ ता तिन्नी मिंजो धक्का  इ दई त्ता ।सैह बोल्ली।    भोळे कुड़में गलाया, "  अड़िये पत्थर इ ता  थादाळ तेरी फिरी प्हियोई जाणी थी, तिसियो पता नीं क्या जरूर्त फह्सिओ थी। इतना खरा म्हारा कुड़म, लखाँ दा म्हारा जुआई, तैं बत्ते तियैं नात्ता नराज करी लाया? फिटैं मुँह तेरा! देह बत्ते , मैं हुण देई ने औन्दा कुड़में जो बत्ता।"

तिन्नी तिसा ते बत्ता छडाया कने बत्ते चुक्की नैं कुड़में पचाँह नह्ट्ठेया । " लैह कुड़माँ, बत्ते लेई जाह मैं देआ दा तिज्जो बत्ता। लैह , लैह  नराज मत होंयें। " अपण घराट्टे वाळे कुड़में जो ता अपणा कुड़म जमराज दुह्स्सा दा था । सैह गाँह-गाँह नह्ट्ठेया । जाह्ल्लू बत्ते वाळा कुड़म न्ह्ठी -न्ह्ठी थकी गेया कने घराट्टे आळा कुड़म तिसदैं हत्थैं नीं आया ता तिन्नी सोच्चेआ , " खसमाँ खाह, नीं लैणा बता ता मत लैह, एड्डी भी क्या अक्कड़! एड्डी भी  कदेह्यी नराजगी! मैं भी ता कुड़म इ ऐं । कुड़िया दा बुढ़ा इ सह्यी, दर्जा ता बरोब्बर इ ऐ।"

कनै सैह भोळा कुड़म घरे जो हटी आया । घराट्टे वाळे कुड़में भी फिरी सैह कुड़माँ वाळी कुआळी लोह्यी नैं नीं दिक्खी। कुड़माँ दे भत्ते दा सुआद ता तिसिओ  याद औन्दा था अपण कुड़माँ दे बत्ते दा डर तिसिओ सुपनेआँ बिच भी कँबाई दिन्दा था।  


द्विजेन्द्र ‘द्विज’



3 comments:

  1. बड़ी बधिया लोक कथा पढ़ाई तूसाँ द्विज़ जी। कुडमनिया दी चाल कम्म करी गई ।

    ReplyDelete
  2. बड़ी मज़ेदार घाणी। पळमा दी बोलिया दी मठास। ढक्के ते चूँडिया तिक्कर घाणीया च रस भरो:ह्या।इक्क इक्क सीन नज़री साह्मणे दु:सदा जाएँ।कुड़म कुड़मणीयां दे चेह्रे भी कल्पणा च उत्तरदे जाआदे। होर गा:न्ह वी छेड़ छुणका करदे रिह्या करा। पुराणियां दादिये दे टैम्मे दीयां घाणीयां चेत्ते दीया वह्यीया च लुब्भण तां लिखा अपणीयाँ शैहदे नै लिम्बड़ीयो भाखा च।

    ReplyDelete