Saturday, December 12, 2015

भगवाने दी तोप



रविंद्रनाथ टैगोर दी कहाणीया दा पहाड़ी अनुवाद।





जितणा की मिंजो याद ऐह् मैं कईंयाँ जिंदगियां ते, धरतीया पर जाह्लु जीवन शुरू ई होया था ताह्लु ते ही भगवाने जो तोपा दा ऐह्। तिसदे बारे च सबना ते पुछदा रैहन्दा।
कई बरि मैं तिसियो दूर इक्की तारे बहखें बैठया दिखया कने दिह्खि करि खुसिया च नच्चेया भी था की भई दूर ता ऐह् पर पुजणा कोई नामुमकिन भी नि।
फिरी मैं यात्रा भी किती तिस तारे पर पुज्ज्या, पर जाह्लु मैं तिहथु पुज्जा ता भगवान तिहथु ते जाई चुकया था कुसी दूजे तारे पर। एह सिलसिला कैइयां सदियाँ ते चलेया। एह कम ऐह् ही इतणा ओखा की मैं कोई आस नि होणे पर भी आस नि छड्डियो। मिंजो कुसी भी हालता च सैह तोपणा ऐह्, मैं तिदीया तोप्पा च पूरा रम्मी चुकेया।
एह तोप ऐह् ही इतणी दिलचस्प, रहस्यमयी कने लुभाव्णी की भगवान ता इक बॉह्ना बणी करि रेह्यी गया, तोप ही मकसद बणीयोह।
मेरिया रैह्निया जो इक दिन मैं दूर इक्की तारे पर इक्की घरे बह्खे पुज्ज्या जिस पर लिखेया था, "भगवाने दा घर"
मैं ता खुसिया ने पागल होइ गया, आखरकार मैं पुज्जि गया। मैं खिट लाई, तेज तेज तिस घरे बह्खे लप्पां मारियां। पर जिंयांह जियांह मैं  घरे दे नेड़े पुज्जा दा था, दिले च इक अजीब देया डर भरोई या। मैं जिंयांह ही दरवाजा खटकाणा लाया मिंजो इक्की अजीब दे डरैं लकवा मारी ता, इस डरे दे बारे मैं कदि सोचेया नि था, सुपने च भी नि।
कने डर एह था "अगर सच्ची च ही एह भगवाने दा घर ऐह् ता अगर मिंजो भगवान मिली या ता मैं तिसते बाद क्या करगा"
हुण भगवाने जो तोपणा मेरी जिंदगी बणी चुकियो थी, कने अगर भगवान मिंजो मिलिया ता एह आत्महत्या करने दे बराबर ऐह्। कने मैं तिदा करगा क्या। मैं एह सब चीजां पैह्ले कदि नि सोचियां थियां, एह सब मिंजो अपणियां तोप्पा दे पैह्ले सोचणा था, मैं तिदा करगा क्या?
मैं जुट्टे खोड़ी के हथे च पकड़े कने पीछे हटेया की कुथकी भगवाने छेड़ सुणी के दरवाजा खोलेया कने पुछ्या, "कतां चलया तू? मैं ऐहथु ही ऐह् अंदर उरया।
जिंहंया ही मैं पैड़ियां उतरया इतणी तेज नठया जितणा कदि नि नठया होणा।
तिस्ते बाद फिरि मैं अपणी तोप सुरु करि ति, फिरि मैं हर बह्खे भगवाने जो ही दिखदा फिरदा, बस जिस घरे च सैह रैहन्दा तिस्ते दूर टळी के रैहन्दा।
हुण मिंजो पता ऐह् की तिस घरे ते दूर रैहणा ऐह्।
मेरी तोप जारी ऐह्, यात्रा दा पूरा मजा लैह दा ऐह्, धार्मिक यात्रा।
मूल कहाणी: रविंद्रनाथ टैगोर  

पहाड़ी अनुवाद: सुमित भट्ट।

2 comments:

  1. सुमित जी ने बड़े प्‍यारे नै अनुवाद कीत्‍तया। क्‍हाणिया च इक अंदरूनी मस्‍ती कनै डुग्‍घी खोज करने दी धुन है। सुमित होरां दी पहाड़ी पढ़ी नै बड़ी मिठास बझोआ दी।

    ReplyDelete
  2. सुमित जी
    मुबारकां।
    सूफ़ी संतां वालिया सोच्चा दी कहाणी।
    बुह्ल्ले शाह तूँ उडदियाँ फड़ना ऐ।
    कदी अपणे आप नू फड़ेया इ नीं
    अनुवाद बोहत बधिया। बधाई।
    मिंजो खुसी इसा गल्ला दी ऐ जे तुसाँ एह कहाणी अनुवाद तियें छांटी।

    ReplyDelete