Wednesday, November 4, 2015

गभला रस्ता नीं होन्दा। - पाश




ग्रां तलवंडी सलेम जलंधर  जम्मयो पाश (1950-1988) दा घरे दा नाँ अवतार सिंह था। एह मकतूल नाएं ने लीखदे रेह। इन्हां दे पिता फौजा च मेजर थे। एह  दसमीं पास थे कनै इन्हां भाल  मुशकला ने  हासल कितया प्राथमिक अध्यापक दा डिप्लोमा था। बाद च प्राइवेट बीए भी कीता। 

इन्हां पंद्रह सालां दिया उमरा च अपणी पहली कवता लीखी कनै ताहलु ही इन्हां दा मेळ कम्युनिस्ट आंदोलन ने होया। 17 सालां दिया  उमरा च पाश इक  बौद्धिक -सांस्कृतिक कार्यकर्ता साही  नक्सलबाड़ी आंदोलन ने जुड़ी गै। एह राजनीति साहित्य दे कनै-कनै  विज्ञान कनै दर्शन दे भी जाणकार थे। पाश गंभीर राजनीतिक मनन और विश्लेषण करदे थे। एह कई-कई घंटे कताबां च डुबयो रैंहदे थे।   

19 सालां दिया  उमरा च इन्हां जो इकी झूठे मामले    फँसाई ने जेला च पाई जुल्म कनै यातानां दितिया गईंयां। इसते इन्हां दी मुखर उआज बंद नी होई बल्कि एह होर  मजबूत बणी बाहर आये। इन्हां दियां कवतां जेला ते बाहर  औंदीयां रहियाँ। 1970 36 कवतां दा इन्हां दा पेहला कवता  संग्रह लौह कथाप्रकाशित होया । इन्हां  कवतां च अग ही अग थी। 1972 च पाश छात्र आन्दोलन दे दौरान फिरी ते गिरफ्तार होए। 1974 च रेलवे मजदूरां दिया हड़ताला दे दौरान जेल च पाई दिते गै कनै फिरि  इमरजेंसी दे दौरान जेला च ही रेह। 

पाश दी कवता जो नज़रअंदाज़ नी कीता जाई  सकदा। क्रान्‍ति‍कारी कम्युनिस्ट आंदोलन दी उआज कनै नुमाइंदगी करदियां इन्‍हां दियां कवतां कालजयी कनै हर किस्म दी गलामी दे खलाफ हन। अजाद जिंदगीया ताईं  लड़ने कनै बदलाव दे सुपने मरी नी जान, एह कवतां इस ताईं  प्रेरित कर दियां। 

पाश होरां कई साहित्यिक-राजनीतिक लेख कनै  मितरां जो चिठियां लीखियां। इन्हां च तिन्हां दी प्रतिबद्धता नज़र औंदी। 1971 च जेला ते बाहर ओणे ते बाद इन्हां  अपणे ग्रांए ते सिआड़पत्रिका कडी। इन्हां  ग्रां च हस्तलिखित पत्रिका हाँकजो लोकां दे बिच बंडणे दा कम भी किता। 

पाश दे थोड़े जेह् लेख कनै चिट्ठियां ही बाकी बचिह्यां हन। इन्‍हां ते पाश दिया राजनीतिया दे बारे च पता लगदा है कनै एह् पाश दे वरोधियां, पीत वाम-पंथियां दे कारनामेयां कनै झूठी क्रांतिया दी गुहाई दिंदे। पाश नकली वामपंथियां दा मखौल दड़ांदे थे कनै नौजवानां जो जुझणे  ताईं ललकारदे थे।

पाश दे जीन्दे जी तिन्हां दे तिन्न कवता संग्रह प्रकाशित होए। लौह कथा’, ‘उडदे बाजां मगरकनै साड्डे समियां विच। इन्हां दी मृत्यु ते बाद 1989   प्रकाशित खिलरे होए पन्ने’  तिन्हां दे लेखां कनै चिट्ठियाँ दा संग्रह है। हिंदीया च अनुवादित दो संग्रह बीच का रास्ता नहीं होताकनैसमय ओ भाई समयभी प्रकाशित हन।  तिन्हां दी कवतां दा ईक होर संग्रह 1997 लहौर ते प्रकाशित होया। पाश होरां सौ सवा सौ कवता ही लीखियां। हिन्‍दीया च इन्‍हां दियां सारीयां कवतां आधार प्रकाशन ते प्रकाशित हन।    

इन्हां दियां कवतां च मेहनतकश जनता दी आत्मा बोलदी थी। इन्हां  कवतां दे  कई देसी-वदेसी भांसा च अनुवाद प्रकाशित होयो हन। इन्‍हां जो पंजाब साहित्य अकादमी दे सर्वोच्च पुरस्कार समेत कई सम्‍मान मिले।

राज्यसभा च भाजपा सांसद रविशंकर प्रसाद सिंह दी मांग  थी। पाश दिया कवता जो एनसीईआरटी दी ग्यारहवींया क्लासा दिया कताबा ते कडया जाये। 

पाश लगातार सरकारी दमन दे शकार होन्दे रैह, झूठयां मकदमयाँ च  फसाईबार-बार जेह्ला च जांदे रैह।  झूठयाँ  वामपंथीं नेतयाँ भी  पाश जो भगोड़ा कनै  गद्दार गल्लाइ कनारें  लाणे च कोई कसर नीं छडी। 

पंजाब च खालिस्तानी उग्रवाद दे दौर च पाशदरअसल तिन्नां मोरच्यां  पर लड़ा दे थे। इकी पासें  पूंजीवादी सत्ता, दुए पासें  खालिस्तानी कनै  त्रियें पासें स्टालिनवादी कम्युनिस्ट। इसा लड़ाईया च कवता ही तिन्हां दा हथियार थी। अपणिया ही शरतां पर जीणे-मरने वाळे पाश  23 मार्च 1988 जो अपणे ग्रांए  च खालिस्‍तानियाँ दे हत्थां शहीद होए। 
एह भगत सिंह कनै तिन्हां दे साथियाँ दी शहादत दा दिन भी है।

प्रस्‍तुति : सूरज प्रकाश
पहाड़ी अनुवाद : कुशल कुमार


हर कुसी जो नीं ओंदे
बेजान बरूदे दे कणां
सुत्तिया अग्गि दे  सुपने नीं ओंदे
बराईया ताईं उठीया
थ्याळियां जो पसीने नीं ओंदे
दराजां च पियो
तिहासे दे ग्रंथां जो सुपने नीं ओंदे
सुपनयां ताईं लाज़मी है
झलणे वाळयां दिलां दा होणा
निंदरा दी नज़र होणा लाज़मी है
सुपने इस ताई हर कुसी जो नीं ओंदे
पाश



No comments:

Post a Comment