Thursday, July 12, 2012

चाचू-भतीजू


चाचू-भतीजू     




(चाचू ग्रांये च जायी ने फसी गिया। सरकारी डाक्‍टरें पराणे दंद ता पट्टी लै पर नोंये लाए नी। सरकारी समान मुक्‍की गिया था दुबारा ओणे जो गलाया कन्‍ने चाचू मुंबई पूजी गिया।) 


भतीजू: चाचू तू फळफळ क्‍या करी जादा कन्‍ने ऐह चूफयो अम्‍बे साही क्‍या शकल बणाई लईयो।
चाचू : भतीजू तिजो क्‍या पता। अहुं मुल्‍खें था गिया। ऐह सरकारी मुस्‍कान है।
भतीजू: ऐह मुस्‍कान है या सस्‍ते नाजे वाळी खाली सरकारी दकान है। ठीक भी है माल ही नी है ता ताळा भी कैत पाणा। 
चाचू : मुआ तू दकान होए ता माल ओंदा जांदा रैहंदा।
भतीजू: चाचू ऐह ओणे जाणे वाळा माल नी था। ऐह माल ता फूकणे ते बाद गंगा पजाणे ताएं कम्‍मे ओंदा। तैं खरा कीता पैहलें ही पजाई आया। मेरी ऐह टेन्‍सन ता गई।
चाचू : तू किछ खरा भी सोचा कर।
भतीजू: अहुं ता खरा ही सोचदा तेरे बारे च पर तू अप्‍पुं ही पुठयां कमा कमांदा रैंहदा। सारयां दंदा ही गुआई आया।  
चाचू : गुआई नी आया। कुर्से पाई आया। इस पर हुण नौयीं बिल्डिंग खड़णी है।
भतीजू: बडा आया कुर्से वाळा। जेड़े दो-चार गठी थे तिनां ते भी छुटी होई गई। चाचू तेरे जमाने दी गप्‍प है। जेड़े चलदे बगाने बोलां सेह जांदे बजदे ढोलां।
चाचू : कोई ढोल नी बजया। बस इक बरी कड़च होई कन्‍ने दंद हत्‍थें।
भतीजू: सोची-समझी करी चला कर। तेरी उमर होई गईयो तैं कैत पाणे ऐह डंड-कीले काल की ओईंया ही कड़च होई जाणी है। 
चाचू : भतीजू। तू ता अहुं जो मारना ही बही गिया तिजो ते ता अपणी सरकार खरी जेड़ी नोंयां ददां मुफ्त लगा दी।
भतीजू: मुफ्त लगा दी कि पुट्टा दी।
चाचू : नोंये बूटे लगाणे ताएं पराणा जंखाड़ साफ करना ही पोंदा।
भतीजू: चाचू। तिजो मती बरी गलाया। जादा भासण बाजी मत करा कर। जमाना ठीक नी है। हुण करदा रैह फळफळ।
चाचू : भतीजू। तू जादा बकबास मत करें। नहीं ता अहुं ते पई जाणीयां हन।
भतीजू: बस ऐही कमी है। तैं बुड़बुड़ कीती कन्‍ने तिनां तेरे दंद ही पट्टी लै।
चाचू : चौप। मेरे दंद कुन्‍नी नी पट्टे। अहुं अप्‍पुं ही गिया था सरकारी हस्‍पताल।
भतीजू: ठीक है ऐही ता अहुं भी गला दा। तू अप्‍पुं ही गिया था कन्‍ने तिनां दंदां पट्टी भेजी ता।
चाचू : भतीजू। हुण तिनां नोंये दंद भी लाणे हन। सरकारी स्‍कीम है। सरकार जबरयां जो मुफ्त दंदां ला दी।
भतीजू: चाचू। तू समझा कर ऐह स्‍कीम है। वरोधियां दें दंदा पट्णे दी।  
चाचू :  भतीजू। तू किछ भी मत बोला कर। नोंयां दंदा दा समान मुक्‍की गिया था नईं ता अहुं तिजो इतणी बकबक करना ही नी देणी थी। नोंयां दंदा ने तू धेड़ी खाणा था।
भतीजू: चाचू। समझा कर तेरिया बारिया ही समान कैं मुक्‍या। बडी जीभा कन्‍ने दंदां वाळयां जो कोई पसंद नी करदा। सब डरदे सरकार भी।   
चाचू : भतीजू। मेरयां दंदा ते सरकारा जो क्‍या डर।
भतीजू: है ना। तिजो साही जबरयां दे जियां-जियां दंद टुटदे जांदे जीभां अजाद होंदियां जांदियां। नूहां, पुतर, गुआंडी-पड़ेसी, सरकार सभनां जो बेले-कवेले गाळीं बक दे रैहंदे। कन्‍ने सरकार नाएं दा जेड़ा ऐह जीव है ना रोळे ते बड़ा डरदा।   
चाचू : मुआ। तू भी ह्नेरें ही पत्‍थरां मारदा रैंहदा। नूहां पुत्‍तरां भाल टैम ही कुत्‍थु है जबरयां दियां गप्‍पां सुणने ताएं। ऐह ता याणयां संभाळ ने दी नौकरी कन्‍ने गठरी या ताएं ही होंदी जबरयां दी पुछ। 
भतीजू: चाचू। तू किछ भी बोल तुंहा जबरे होंदे बड़े कपते। इक जबरे अन्‍नें सारयां जो वक्‍त पाई तिया। 
चाचू : भतीजू। सरकार भी कुत्‍थु जवान है। सब जबरे ही ता हन। घर होऐ या देश जबरयां वगैर नी चली सकदा।
भतीजू: चाचू। सब तुहां जबरयां दा ही गंद है। ता ही सरकार तुहां दे दंदां पट्टा दी। 
चाचू : भतीजू। तेरा दमाग खराब है। सरकारा च जेड़े जबरे बैठयो तिनां जो असां दी चिंता है तिनां असा जो नोंयें दंद लाणा लायो।
भतीजू: चाचू। तेरा दमाग खराब है। सरकार कोई बेवकूफ नी है। जेड़ी खूने वाळे असली दंदा पुट्टी नकली दंदां ला दी। 
चाचू : भतीजू। अहुं जो समझा नी ओआ दा। इनां नोंया दंदा च क्‍या खराबी है।

भतीजू: चाचू। दंदां वालयां ते सारे ही डरदे। तिजो पता है सपेरे सरपां दे जेह्रे वाळयां दंदा पटटी ने झोळिया पायी लेंदे। इस भाने सरकारें भी तिजो साही जबरयां दे थोबड़े मारी ते।     
चाचू : भतीजू। सरकार कोई सपेरी नी है। तिन्‍नें कैत पाणे असां दे दंद।
भतीजू: चाचू। सरकारां इसते भी उपरलियां पुडि़यां होंदियां। इनां सरकारी दंदां लाई तू रों गा, गाळी दिंगा, कुछ भी करगा ता भी ईयां लगणा हास्‍सा दा कैं कि इनां दा नां ही मुस्‍कान है। होर जै ते बड़ी हुश्‍यारी कीती ता इक्‍की थप्‍पड़े ने दंद बार कन्‍ने तैं रही जाणा फळफळ करदे।

गप्‍पी डरैबर 

2 comments:

  1. ठेठ कांगड़ीया च मुहावरेयां दा सीण-परोण ऐन ट्ठिच्च करदा की:तिया. गल्लां गपा:ह्ड़ां च सरकारी कुड़्हम्मां दी ऎसी दी तैसी फेरी:यो. बड़ा मजा आया पढ़ी नै. इन्हां जबरैठां देयां द्न्दां जो लेयी नै जे:ह्ड़ी चुत्थ-बट्ट की:तियो ऐ: भी सराहणे जोग्गी है. लिखा:रीये जो अण-मुक्क बधाईयां.

    ReplyDelete