Saturday, November 1, 2014

मेरी ड्यूठळिए





हिन्‍दिया दी आधुनिक मीरा महादेवी वर्मा होरां दिया गीतां दिया कताबा दीपशिखा दा पैह्ला गीत है दीप मेरे जल अकम्‍पित ... । पैह्लें भी अर्ज कीता था, मैं जदूं बीए च पढ़ा दा था तां पहाड़ी भासा लिखणे दा म्‍हौल बड़ा छैळ था। गुरुआं दिया संगतां च मैं भी अक्‍खर जोड़ना सिक्‍खे। तिह्दा नतीजा एह् भी है। महादेवी होरां दे इस गीते दा पहाड़िया च अनुवाद। हुण इतणेयां सालां परंत दियाळिया त्‍हाड़ें व्‍टस अप पर लाया ता सुज्‍झा भई कई चीजां छुटी गइयां। पर हुण क्‍या कीता जाऐ। माफी ई मंगी सकदा। कोई होर करै ता इसते बधिया अनुवाद जरूर होई सकदा। डायरिया च इस अनुवादे दी तरीक लिखियो - 14 जनवरी 1977 ।   


मेरी ड्यूठळिए तू बळ अणकम्‍बी,
घुळ अणहिल्‍ली
दरयाए दे साह् बद्दळियां
न्‍हेरे दा मन बिज्‍जळियां
डर कैह्दा, अम्‍बर पीड़ा आळी
हथरुआं दी चादर गिल्‍ली
 
दिसां दिसां सुर कम्‍बी जाऐ
धरती दी भी नस-नस गाऐ
तेरे ताईं मंगल गीत
झक्‍खां भी अज गाह्ण झुल्‍ली
क्‍या करने राती दे काळे रंग
गुडरुआं दे झुळस्‍ह्यो फंह्ग
सौगी सच्‍ची ज्‍वाला तिज्‍जो
मिल्‍ली स्‍हेली अणमुल्‍ली
 
पथ न भुल्‍लै इक्‍क भी पंथी
औटळै न कोई निक्‍का पंछी
प्‍यारे नै लौ लई नै, सबदी
छौआं उजली बणदी चल्‍ली
 
सौगी चल्‍ले सारे अपणे
मिट्ठे चुपचुपीते सुपने
एह् मरूदेसां दियां सुकियां ताह्ंगां
इन्‍हां नै सौगी किञा चल्‍ली
 
धुएं-धुएं हुण बोल्‍लां क्‍या
धूड़ी-धूड़ी हुण तोल्‍लां क्‍या
भ्‍यागा हासी रोई गिणनी
कितणी घड़ियां चमकी चल्‍ली
मेरी ड्यूठळिए तू बळ अणकम्‍बी,
घुळ अणहिल्‍ली
दीप मेरे जल अकम्पित,    
घुल अचंचल!
सिन्धु का उच्छवास घन है,
तड़ित, तम का विकल मन है,
भीति क्या नभ है व्यथा का
आँसुओं से सिक्त अंचल!
स्वर-प्रकम्पित कर दिशायें,

मीड़, सब भू की शिरायें,
गा रहे आंधी-प्रलय
तेरे लिये ही आज मंगल
मोह क्या निशि के वरों का,
शलभ के झुलसे परों का
साथ अक्षय ज्वाल का
तू ले चला अनमोल सम्बल!

पथ न भूले, एक पग भी,
घर न खोये, लघु विहग भी,
स्निग्ध लौ की तूलिका से
आँक सबकी छाँह उज्ज्वल

हो लिये सब साथ अपने,
मृदुल आहटहीन सपने,
तू इन्हें पाथेय बिन, चिर
प्यास के मरु में न खो, चल!

धूम में अब बोलना क्या,
क्षार में अब तोलना क्या!
प्रात हंस रोकर गिनेगा,
स्वर्ण कितने हो चुके पल!
दीप रे तू गल अकम्पित,
चल अंचल!




4 comments:

  1. भाई अनूप सेठी जी

    अनुवाद छैळ ऐ जी !
    प्हाड़ी भासा दी ड्यूठ्ळी ईह्याँ नीं बळियो लगातार।
    तुसाँ साह्यीं कइयाँ साधकाँ अपणिया
    मिण्ह्ती दे तेल्ले ने बळाई नै रह्खियो ।
    बधाई!
    मैं पढ़ेया कल १ नवम्बर जो प्हाड़ी भासा दिवस बी था ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. द्विज जी, धन्‍नवाद। मिंजो लगदा मेरिया ड्यूठळिया दा तेल ता बड़ी पैह्लें सुकी गेया। खासकरी नै लिखणे दे मामले च। हुण गल्‍लां करने दा ई मौका मिली जाऐ सैह्ई बड़ा है। मिेजो एह् भी लगदा भई नौयां लखारियां दी बड़ी जररूत है।

      Delete
  2. द्विज जी, अनूप जी होर भी असां तुसाँ साह्यीं मतयां सारयां साधकाँ अपणिया
    मिण्ह्ती दे तेल्ले ने प्हाड़ी भासा दी ड्यूठ्ळी बळाई नै रह्खियो। पर हुण ह्ववाआं पुठीयां हन। इन्हां ते कियां बचांगे एह बडा सवाल है। दयार दी छाऊं कनै सांभ भी जरूरी है पंची भी चलणा चाही दा पर सबते जरुरी है लोकां च अपणिया इसा मिठडि़या वोलीया जो वोलने दी हिम्मचत कने ताकता दा होणा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुशल जी तुसां भी ठीक फरमा दे पर जंग्‍घां भारी नै कम्‍म नी चलदा। हिम्‍मत ता रखणा ई पौणी। कनै टैगोर होरां दक 'एकला चलो' आळे मंतरे ते भी ताकत खिंजणा पौणी। कुछ दिन पैह्लें मैं डोगरी लेखक ध्‍यान सिंह होरां दियां कताबां दे कवर पेज एथी लगाए थे। सैह् भाई होरां कल्‍हे ई लगेयो। अप्‍पी कताबां छापी जा दे। एह्जो फतूर भी गलाई सकदे कनै जनून भी। वेद राही होरां भी कताबां अप्‍पी ई छापदे थे। कताबां छापणां नी छापणां ज्‍यादा जरूरी नीं है पर मेरे ख्‍याले च पैह्लें अपणे अंदर भरोसा कनै अपणे लिखणे दी 'सार्थकता' पैदा करना जरूरी है।

      Delete