Saturday, November 22, 2014

डोगरी बयार


किछ चिर पैह्लें तुसां डोगरी लेखक ध्‍यान सिंह होरां दियां कताबां दे मूरह्ले सफे दिक्‍खे थे। तिन्‍हां दियां तिन कताबां होर दिक्‍खा। ध्‍यान सिंह होरां रटैर होणे परंत फुलबक्‍ती लिखणे दे कम्‍मे च लगेयो हन।  इनां सौगी प्रद्युमन सिंह जिंदाहिया होरां दी इक कताब भी है - भव सागर। इसा कताबा च भक्‍ित रसे दियां ई रचनां हन। प्रद्युमन होरां डोगरी लोक गीत भाखां दे भी जाणकर थे। 











2 comments:

  1. भाई कुशल जी
    डोगरी बी बड़ी गे शैल भाषा ऐ।
    फोटुआं दिक्खि ऐ केह होग?
    इंदी कोई रचना भी पढ़ाई उड़नी ही।

    ReplyDelete
  2. भाई कुशल जी
    डोगरी बी बड़ी गै शैल भाशा ऐ।
    पर शड़ियाँ फोटुआँ दिक्खि ऐ केह होग?
    इन्दी कोई कव्ता बी पढाई योड़नी ही।
    दिक्खेओ टाइप करिये। नी ता अऊँ करि देह्न्ग।

    ReplyDelete