Thursday, November 27, 2014

बोतला दा सतान

रॉबर्ट लुई स्टीवनसन (Robert Louis Stevenson) 13 नवम्‍बर 1860 - 3 दिसम्‍बर 1894 दी क्हाणी ' बॉट्ल इम्प ”(The Bottle Imp'') दा   हिमाचली प्हाड़ी अनुवाद


रॉबर्ट लुई स्टीवनसन


पेश है इसा लम्‍मीया क्‍हाणीया दा पैहला भाग 


- द्विजेन्द्र द्विज

वाई दे टापुए इक नोजुआन था जिसजो मैं कीवेगलाहँगा तिसदा अस्ली नाँ मैं बर्ती नीं सकदा ,सच्ची गल्ल ता इह जे सैह अजैं भी जीन्दा कनैं तिद्दा नाँ गुप्त रखणाँ  जरूरी   सै गरीब था , भादर था , कनैं हर बेल्लें कुसी कम्मे जाँ खेह्ल्ला मस्त -ब्यस्त रैह्न्दा  था  स्कूल्ले  दे  मास्टरे साह्यीं सैह पढ़ी-लिखी लैन्दा था सैह तिन्हाँ किस्तियाँ भी चलाई लैन्दा था जिन्हाँ पर टापुआँ बिच होणे बाळा बपार चलदा होर ताँ होर तिन्नीं व्हेल किस्ती भी चला'इओ थी कीवें किछ दुनिया कनैं दुनिया दे बड्डे सैह्र हँडणे दा फैसला कित्ता पैह्ल्लैं तिन्नीं सैन -फ्राँसिस्को जो जाणे बाळा समुँदरी झाज पकड़ेया

 बड़े बाँके  पत्तणे बाळा बड़ा बाँका सैह्र है, सैन -फ्राँसिस्को इस बड़े अमीर लोक रैह्न्दे, इसदा इक प्हाड़ ता साराँ मैह्ल्लाँ कनैं ढकोया इक दिन कीवे इस प्हाड़े पर सैर करा  दा था, खीह्स्से डाल्लर भरयो थे प्हाड़े दे दूँह्यीं बक्खैं णयाँ बड्डेयाँ घराँ जो सैह बड़िया  हसरता  नैं दिक्खा दा था

कदेह छैळ घर हन एह ! ” सैह सोच्चा दा था, “ कनैं हर बेल्लैं कितणे खुस रैह्न्दे होणें , इन्हाँ घराँ रैह्णे बाळे !” एह गल्ल तिसदे दमाग्गे थी जाह्ल्लू सैह इक्की ऐसे घरे बाह्ल पुज्जा जेह्ड़ा होरनीं घराँ ते ता छोट्टा था अपण छैळ होर भी जादा था इस घरे दियाँ पैड़िया चाँदिया साह्यीं चमका दिया थियाँ , बाग्गाँ दे कनारे फुल्लाँ ने खिड़ेयो थे , दुआरियाँ हीरेयाँ साह्यीं लिस्का दिया थियाँ रुकदेयाँ कीवैं जो इक माह्णु सुझ्झा जेह्ड़ा तिस घरे दिया दुआरिया ते तिसजो दिक्खा दा था काळिया दाढ़िया बाळे इस गंजे माह्णुएँ दा मुँह टकेया कनैं उदास था कीवे जो सैह माह्णू सस्काराँ भरदा सुम्माँ सच्ची गल्ल ता एह जे कीवे कनैं सैह माह्णू इक्की-दूए जो दिख्देयाँ इक्की दूए दिया जगा पर होणा चाह्न्दे थे

चाणचक्क  तिस माह्णुएँ मुस्कड़ाई नैं अपणाँ मुँड ल्होळ्या  कनैं  कीवे जो अन्दर सदणे दा ()सारा करी तिसजो अपणे घरे दे दरुआज्जे पर मिल्ला

एह मेरा छैळ घर, " सस्कार भरी नैं तिस गलाया , “ तू दिखणाँ चांह्गा ?"

तिस कीवे जो अपणाँ घर दस्सेआ, जमीन्दोज्जे  ते लई नैं छत्ती  तिकर हर चीज बधिया थी

सच्चैं , " कीवें गलाया ,“घर ता बड़ा छैळ है, जे मैं इसा जगा हुन्दा ता मैं सारा दिन हसदे रैह्णाँ था अपण  तू सस्काराँ भरदा रैह्न्दा !" 

कोई बजह नीं ऐं,” तिस माह्णुएँ गलाया,“जे तिज्जो बला देह्या- देह्या जाँ इसते भी बधिया घर नीं होंयैं ! किछ डाल्लर हन्न तिज्जो बला ? ” “मिंजो बला पँजाह डॉलर हन्न अपण एह देह्ए घरे दा मुल्ल ता कई पँजाह डाल्लर होणाँ तिस माह्णुएँ इक मिंट सोच्ची नैं बोल्लेया, “ मिंजो अफसोस तिज्जो बला पैसे घट हन्न बा तिज्जो मुस्कल होई सकदी, अपण तू पँजाह डॉलराँ ने लई लैह ” “एह घर?”  कीवें पुच्छेया नीं, एह घर नीं,” माह्णुएँ गलाया, “ अपण  बोतल तिज्जो एह दसणाँ मैं अपणाँ धर्म सम्झदा जे मैं जितणाँ अमीर है, मेरी धन दौलत कुथु ते इओ एह सभ किछ , एह घर , इसदा बाग, इक्की ऐसिया बोतला ते आह्या  जेह्ड़ी अधिये ते बड्डी नीं ऐं " तिस अल्मारिया दा जँदरा खोह्ड़ी नैं इक गोळ लमगळी बोतल कह्ड्डी सीह्स्सा दुद्धे साह्यीं चिटा था इसा जो घुमाणे पर अँदरा ते लाल, नीलियाँ कनैं सैलियाँ लौईं निकळा दिया थियाँ बोतला अन्दर  ढोरे कनैं अग्गी साह्यीं केह्की हिल्दा रेह्या दा था
एह बोतल”, माह्णुएँ गलाया कीवे हस्सेआ ता माह्णू बोल्लेया, “तिज्जो मिन्जो पर बसुआस नीं ऐं ताँ अप्पुँ कोसस करी लै इसा बोतला जो तोड़ने दी कीवैं बोतल लई,घड़-घड़ियैं फर्से पर फोड़ी-फोड़ी नै सट्टीबोतल बच्चे दे खिन्नुएँ साह्यीं उटकी अपण टुट्टी नीं

अजीब गल्ल , ”  कीवें बोल्लेया, “बोतल सुझ्झा कनैं लग्गा दी ता सीह्स्से साह्यीं !”

एह सीह्स्सा बड्डा सस्कार भरी नैं माह्णुएँ जुआब दित्ता अपण एह सीह्स्सा नर्के दिया अग्गी ढळी नैं णेंयाँ इसा बोतला इक सतान रैह्न्दा मेरिया समझा इसा अन्दर हिलदा सुझणे बाळा ढोर तिसदा जेह्ड़ा इसा बोतला खरीददा एह सतान तिद्दे गलाए होई जान्दा इसा बोतला दे माल्के दी हर इच्छेया - प्यार, मस्हूरी, पैसा, एह द्हेया मकान, एह द्हेया सैह्र - मँगदेया पूरी होई जान्दी
नेपोलियने बला एह बोतल थी, सैह दुनिया दा बादसाह बणेया,तिन्नी बोतल बेच्ची त्ती ता सैह हारी गेया केप्टन कुक बला एह बोतल आई,तिन्नी इसा कनैं कइयाँ टापुआँ दा रस्ता तोप्पेया,अपण बोतला बेचणे परन्त सै हवाई कुह्स्की  मारी  सट्टेया कैंह जे इसा बोतला बेचणे परन्त एह बोतल नाँ ता तुसाँ दी कोई इच्छेया पूरी करदी, नाँ  तुसाँ जो बचान्दी   कनैं जे माह्णू तिसते खुस नीं जे किछ तिस बला है, ता तिसदे बुरे ध्याड़े पक्का आई जाणें "

अपण तू ता अप्पुँ इसा बोतला जो बेचणे दी गल करा दा कीवे बोल्लेया

‘‘ मेरिया मर्जिया दा मिन्जो बला सभ किछ है कनैं मैं बुढ्ढा भी ता होआ दा इक चीज है जेह्ड़ी इसा बोतला दा सतान नीं करी सकदा एह तुसाँ दी उमर नीं बधाई सकदा एह बेइमान्नी होणी जे मैं  तिज्जो नीं दस्साँ , इक कसर होर इसा बोतला इसा बोतला जो बेचणे ते पैह्ल्लैं   जे इसा दा मालक  मरी जाएँ ता तिसिओ म्हेस्सा तियैं नर्के दिया अग्गी भी फकोणाँ पोणाँ

बिल्कुल एह कमी ता  सबते बड्ड़ी !” कीवे कळाया मैं कैत लाणीं एह देह्यी चीज? बाझ्झी सार घरे ते ! परमात्मा  दी मेह्र , अपण मैं नर्के जो नीं जाणाँ

अरा तू ईह्याँ मत न्ह्ठ्ठैं ,” तिस माह्णुएँ गलाया,  “ इतणाँ जरूर करेयाँ , सतान्नें दिया पावरा (ताकता) जादा मत बर्तदा, गाँह बेच्ची देयाँ इसा बोतला जीह्याँ  मैं एह तिज्जो बेचणाँ लाइयो कनैं अराम्में नैं अपणी जिंदगी जीयाँ

मैं दो गल्लाँ ता दिक्खा दा !” कीवैं गलाया,“हर बगत तू सस्काराँ भरदा रैह्न्दा- इक गल, कनैं दूसरी एह जे तू  बोतल इतणीं सस्ती बेच्चा दा

मैं सस्काराँ कैंह भरदा रैह्न्दा इह ता मैं तिज्जो दस्सी बैट्ठाँ,” माह्णू बोल्लेया, “कैंह जे मेरी सेह्त हुण नीं इओ कनैं जीह्या तू गला दा,बड़ी भ्यानक गल जे माह्णू मरी नैं नर्के जो जाए ! बोतल इतणी सस्ती कैंह , मैं दसदा

बड़ी पैह्ल्लैं जाह्ल्लू सतान्नैं एह बोतल धर्ती पर ल्यन्दी थी , एह कइआँ लखाँ डालराँ बिकी थी अपण घाट्टे पर नीं बेचिये ता एह बोतल बिकदी नीं    जितणें दी खरीद्दा तितणें दी बेच्ची देया ता एह बोतल तुसाँ बला हटी ओन्दी एह जा   है जे सैंकड़ेयाँ साल्लाँ ते बिक्दिआ -बिक्दिआ इसा बोतला दा  मुल्ल इतणाँ सस्ता होई गेह्या   मैं एह बोतल प्हाड़े पर अपणे इक्की पड़ेसिए ते खरीद्दी थी, कनैं मैं इसा दी कीम्त सिर्फ नब्बे डाल्लर दित्ती थी मैं इसा बोतला जो जादा ते जादा अणाँह्नुएँ डॉलराँ कनैं न्ढ़ीनुएँ सैन्टाँ बेच्ची सकदा था अपण इक भी सेन्ट उप्पर नीं , नीं ता बोतला मिन्जो बला हटी औणाँ था

दूँह बजहाँ नें हुण एह बोतल बिकणाँ मुस्कल होई इयो,पैह्ल्ली ता एह जे जाह्ल्लू मैं इसा बोतला जो अणाँह्नुएँ डॉलराँ  बेच्चा दा, ता लोक सह्म्जा दे मैं मजाक करा दा दूई बज्हा एह : अपण तिसा बजहा दसणे दी कोई खास काह्ळी नीं ऐं मिन्जो दसणे दी जरूर्त भी नीं ऐं

मिन्जो पता कीह्याँ लगणाँ जे एह सभ सच्च ? ” कीवें पुच्छेया
‘‘किछ ता तू हुण   इकदम पर्खी सकदा मिन्जो अपणे पँजाह डाल्लर देह, बोतला लैह  कनैं इच्छेया कर जे तेरिया जेब्बा पँजाह डाल्लर हटी ओह्न मैं बचन दिन्दा  जे तेरी भ्लाखा पूरी नीं होए ता मैं बोतला लई नैं तेरयाँ डालराँ ट्हाई  दिंह्गा

तू मिन्जो उल्लू ता नीं बणाँ दा?”

कस्सम अरा !”

ठीक मैं इक बरी ता पर्खी सकदा, इसदा कोई खास नुकसान भी नीं ऐं कीवें अपणे डाल्लर दइत्ते   माह्णुएँ अपणी बोतल तिसजो दइत्ती

बोतला बाळेया सतान्नाँ !” कीवे गलाया, “मैं अपणे पँजाह डाल्लर बापस चाह्न्दा
बस एह गलान्देआँ जेब्बाँ टोह्णे ते पैह्ल्लैं  डाल्लर जेबा हटी यो थे
बोतल ता खरी ! ” कीवें बोल्लेया
कनैं हुण, मेरेया भलेया मितरा ! तिज्जो गुड मोर्निंग ! कनैं मेरे भले सतान तिज्जो बला चली जाए !"
ठैह्र", कीवें गलाया , “एह मजाक मिन्जो नीं चाह्यी दा, एह लैह बोतला लई लैह !”

अरा ! एह ता तैं मुल्लैं लई लई ,” तिस माह्णुएँ हत्थाँ मळ्देयाँ-मळ्देयाँ गलाया,“ “हुण ता एह तेरी जिह्त्थु तिकर मेरी गल्ल मैं ता हुण बस तेरी जान्दे दी पिठ दिखणाँ चाह्न्दा  एह बोल्ली नैं तिन्नी अपणाँ चीनीं नौक्कर सद्दया कनैं तिस जो गलाया, “ इसजो बार्हा  दा रस्ता दसी देह

हुण कीवे जाह्ल्लू बोतला अपणियाँ कच्छा हेठ लई नैं ळिया पुज्जा ता तिस सोच्च्या , “ इसा बोतला बारे सब किछ सच्च   ता एह भी होई सकदा जे मिन्जो ते गल्त सौद्दा होई गेया होएँ कुथी सैह माह्णु मिन्जो उल्लु नीं बणा दा होएँ

 पैह्ल्लैं ता तिस डाल्लर गिणें डाल्लर पूरे थे - अणून्जा अमरीकन डाल्लर कनैं इक नग बिदेस्सी ठीक , मेरे सारे डाल्लर हटी आए, जीह्याँ मैं चाह्येया था एह ता सच्च लग्गा दा हुण मैं किछकी होर पर्खी लैन्दा

सैह्रे दे तिस हेस्से गळ्हियाँ जितणियाँ साफ होई सकदियाँ, तितणियाँ   साफ थियाँ कनैं द्पैह्र होणे दे बाबजूद कोई भी ता सुझ्झा दा नीं था कीवे बोतला धर्ती पर रक्खी नैं तित्थु ते चली पेया प्चाँह ह्टी नैं तिन्नीं दो बरी दिक्खेया , लमगळी सै गोळ बोतल तित्थु थी जित्थु सै तिन्नी रक्खी थी तीस्सरिया बरिया फिरी तिन्नी  ह्टी नैं प्चाँह दिक्खेया , कनैं मोड़े मुड़ी गेया मोड़े मुड़देआँ केह्की तिसदिया कूह्णियाँ नैं आई बज्जा एह था बोतला दा लम्माँ गळा कनैं बोतल तिदिया जेब्बा सलाम्त हटी आ’इओ थी

कनैं एह सभ ता सच्च लग्गा दा !” कीवें गलाया

फिरी  तिन्नीं इक डट्टे दा पेच खरीद्देया कनैं इक्की खेतरे जाई नैं तिसा बोतला दा डट्टा बाह्र कढणें दी कोसस कित्ती अपण जितणीं बरी तिस डट्टे दा पेच लाया तितणीं बरी डट्टे दा पेच बाह्र आई गेया अपण डट्टा जुम्स्या, हिल्लेया

एह ता कुसी नोखिया किस्माँ दा डट्टा !” कीवें सोच्चेया कनैं तिस सैह बोतल ल्होळ्नाँ लाई पाई, तिद्दा पसीन्ना चुड़ना लगी पेया हुण सैह बोतला ते डरी भी गेह्या था

खाह्ड़िया जो हटदिया बरिया तिस इक दुकान दिक्खी जित्थु इक माह्णु जँगली टापुआँ ते ल्य्न्द्याँ संखाँ सीपियाँ ; चीन कनै जपान ते पुराणे देबतेयाँ दियाँ मूर्तियाँ ; पुराणे सिक्के; कनैं होर भी मता किछ बेच्चा दा था;   जे किछ भी   म्लाह अपणेयाँ झाज्जाँ देयाँ सँदूक्काँ भरी नैं ल्यणदे एत्थु कीवे जो इक ख्याल आया

सै द्कान्नाँ गेया कनैं तिस दकानदारे जो गलाया, “मैं तिज्जो एह बोतल सौ डालराँ देई देणीं

 पैह्ल्लैं ता दकानदार हस्सेया फिरी बोल्लेया, “पन्जाँ ” “बड़ा मुल्ल-भा करने बा तिस कीवे जो बोतला दे सठ्ठ डाल्लर पकड़ाइ त्ते कनैं बोतल बाक्की चीज्जाँ कनैं खिड़किया टकाइ त्ती

हुण”, कीवें सोच्चेया , “पँजाँह डालराँ खरीद्दी नैं मैं एह बोतल सठ्ठाँ डालराँ बेच्ची त्ती कनैं सच्च ता एह है जे मैं ता अणूँज्जा डाल्लर दित्ते थे , इक डाल्लर ता बिदेस्सी था हुण जाई नैं  मिन्जो कुतकी सच पता लगणाँ

सैह खाड़िया जाई नैं झाज्जे बेह्यी गेया तिन्नीं अपणाँ बड्डा सँदूक खोह्ड़ेया कनैं बोतल तिस सँदूक्के आई पुजियो थी एह ता तिसते भी पैह्ल्लैं आई रह्यिओ थी ! कीवै हरैन  होई गेया

4 comments:

  1. सच तान एह की अन्ग्रेजिया च तान मै प्ड़ीयो नि थी, पर इतना वस्वास है की पहाड़िया च जेड़ा मजा ओआदा पड़ने च सै अंगरेजिया च शायद ही ओंदा। कदि कदि मिंजो शक हुंदा की ऐ अनुवाद करने आले लेखक अंग्रेजी कियां पड़ानदे ऒङ्गे, क्योकि एह देई ठेट पहाड़ी कोई प्यूर गरानचड़ इ बोली सकदा। मजा आइ गया
    अगला पाग कालू छपना बेस्ब्रिया ने भाह्ल है।
    सुमित भट्ट

    ReplyDelete
  2. सच तान एह की अन्ग्रेजिया च तान मै प्ड़ीयो नि थी, पर इतना वस्वास है की पहाड़िया च जेड़ा मजा ओआदा पड़ने च सै अंगरेजिया च शायद ही ओंदा। कदि कदि मिंजो शक हुंदा की ऐ अनुवाद करने आले लेखक अंग्रेजी कियां पड़ानदे ऒङ्गे, क्योकि एह देई ठेट पहाड़ी कोई प्यूर गरानचड़ इ बोली सकदा। मजा आइ गया
    अगला पाग कालू छपना बेस्ब्रिया ने भाह्ल है।
    सुमित भट्ट

    ReplyDelete
  3. सुमित जी मैं पैहल्लें इह क्हाणी हिन्दीया च ट्रांसलेट करना लाई थी । अपण फिरी पता नी कैंह मैं एह प्हाड़िया च करी दित्ती।

    ReplyDelete
  4. सुमित जी मैं पैहल्लें इह क्हाणी हिन्दीया च ट्रांसलेट करना लाई थी । अपण फिरी पता नी कैंह मैं एह प्हाड़िया च करी दित्ती।

    ReplyDelete