Sunday, November 9, 2014

गुजारी दित्ती जिन्द्डी – ग़ीत



पराल्ले दी बिन्दरियाँ पर सोई
कद्दी भुक्खे कद्दी अद्दे पेटे रोई
सुप्न्ने दी ताराँ अक्खाँ च परोई
टारेयाँ शैल्णा च अम्बर ऐ टोई
गुजारी दित्ती जिन्द्डी ओ मेरेया मैरमा

गागर कन्ने चरोटू दिक्खे
लकडू कन्ने भरोठू दिक्खे
पैरूआँ दे हरे चारे लअई
बीडाँ कन्ने उच्चे रुक्ख दिक्खे
मारी दित्ती जिन्द्डी ओ मेरेया मैरमा

तुज्जो नी गुमान होया
तू कुत्थी परेशान होया
रिश्तेयाँ कन्ने व्यवहाराँ लअई
इन्ना झूठ्याँ ऐतवाराँ लअई

चारी दित्ती जिन्द्डी ओ मेरेया मैरमा

मोहिन्दर कुमार

9899205557

3 comments:

  1. मोहिन्‍दर होरां ग्रां दी जिंदगी लफ्ज़ां च चितेरी तियो। गीते उप्‍पर जेह्ड़े बुजुर्गवार ठोडिया पर हत्‍थ रखी बैठ्यो, सै: पीर पंजाल क्‍या गांह् उचेयां हिमालय दे भी नीं लग्‍गा दे। एह् तां जणता आल्‍प्‍स परबते दिया खिड़किया च ही बैठ्यो हन, सोचां च डुब्‍बेयो,भई एह् प्‍हाड़ी सम्‍झां तां किञा सम्‍झां।

    ReplyDelete
  2. अनूप जी एह गुस्तीरखी मेरी है। दरअसल च मिंजो इनांह् दे चेहरे दे हाव-भाव कवता ने मिलदे लगे। तुसां ईयां भी सोची सकदे एह हिमालय च आयो थे जिन्द्ड़ीया गुजारी। जिन्द्ड़ीया दा अरथ तोपणा।

    ReplyDelete
  3. छैल गीत।
    गराएं दी पूरी झलक सुझ्झा दी।

    ReplyDelete