Tuesday, October 21, 2014

दीये वाळा, दयाळी मना।


पहाड़ी दयार दी तरफा ते सभनां जो दयाळीया दियां मुबारकां। 
      
                      इक पहाड़ी व्‍यंग्‍य पेश है

दयाळी खुशियाँ दा तुहार है पर मिंजो अजे तक एह समझा नी आया कि ख़ुशी है इस तांई तुहार मनादें या तुहार इस तांई खुशियाँ मनादें। जे ख़ुशी है ता इयां ही दयाळी है, कनै जे मने च खुशी नी है ता दयाळी भी न्‍हेरा ही है। राम जिती ने जोधया आये ता कुछ बंडया ही होणा नहीं ता दयाळी कियां मनोणी थी। खाली हत्‍थां ओणे वाले परोहणे तांई  कोई दिये नी बालदा। 

हुण ै ी    त  मांह्णू नांए दा जीव इयाँ ही थोड़ी खुश होई जांदा। धानां दी नज़र पराले पर माह्णू अे दी माले पर। बाकी ता सब गल्लां हन। जे माल है, ता दिया है, तेल है लाटुआं दी जगमग रेलठेल है। गल्ला दा निचोड़ एह है भई सारे तुहार पैसयाँ दे ही होंदे। दुनिया पैसयां तांई पागल है। जिस भाल हन सैह भी, जिस भाल नीं हन सैह भी।   

हुण दयाळी या च पैसयां दा कोई ना कोई जोड़-जुगाडं होई ही जांदा। सरकार भी हर साल अपणया करींदयां जो बोनस नांए दी पोटळी पकड़ाई दिंदी। इस तांई दयाळी या असां सारे पागल होई जांदे। हुण तुसां ही दसा लोकां जो घरें सदी मठयाई खुआणा। जेड़े घरें नी ओन तिनां दे घरें पजाणा। दियां, बिजलिया दे लाटुआँ, कनै मोमबत्तीयां  ने घर भरी देणा। पटाखयां पैसे फूकणा, शराब पीणा, जुआ खेलने साही कम कोई होरसी दिनें करें ता तुस्सां तिसजो क्या गल्लाणा-पागल।

वैसे ए‍ह पागलपण कोई इतणी भी बुरी गल्ल नी है। पागलपणे च ही माह्णु अे ते कुछ होई जांदा। समझदारां दा वक्त ता सोचणे-समझणे ही बीती जांदा। दयाळी कियां मनाणी एह फैसला होंदे होदें इन्हां दी दयाळी बीती जांदी। इन्‍हां ताएँ अखबारां लेख छ्पदे दियाळी कियां मनाणा चाही दी, क्‍या करना चाही दा कनै क्‍या नी करना चाही दा, दियाळी मनाणे दी परंपरा क्‍या है। पर इस ते होंदा जांदा कुछ नी बस दियळीया दे नाएं पर वरके काले होंदे।

इस मामले मेरे सयाणे बड़े समझदार थे तिन्हा मिन्जो कुछ नुस्खे गठी बन्‍ही ते थे। तिन्हा समझाया पटाखयां फूकणे पर क्या होंदा। धाँ-धाँ करीने जोरे दा धमाका होंदा। जे दियाळीया दे धमाके ही सुणने हन ता घरे दे बाहर खड़ोई  जितनी मरजी धाँ-धाँ कनै धुअें दा मजा लई लिया। इसा बेमतलब दी धूं-धाँ दुनिया अपण्‍या पैसयाँ फूका दी तुसां जो फूकणे दी कोई जरूरत नी है। अपणे आपे कनै अपणिया   जेबाँ ताएं एह धुमड़-धुसा दूरे ते ही ठीक लगदा।

मठियाई या  दा मजा खाणे है लोक बंडा दे तुसां खा। मज़ा करा। ज्यादा लोई ताएँ बिजली कनै तेल फूकणा ता देशद्रोह है। लछ्मी माता दे फोटुए अगें इक दिया वाळी ता होई गई दियाळी। सालां ते इस तरीके ने याळी मनाणे दे कारण आन्ड़ियाँ-गुआंडियाँ, घरैतां मेरा नां महाकंजूस रखी तिया। पर एह सच नी है दरअसल च मिंजो पर लछमी माता दी इतणी किरपा कदी होई ही नी कि मेरा दमाग खराब होई जांदा।

इन्‍हां पड़ेसी यां दा क्या है सभ मिंजो पर जलदे। जलदे ता जलदे रैह्न दियालिया नी जलना ता काह्ली जलना। दियाळी लोई दा तुहार है। लोई दा नियम है इक जलदा ता दुआ रोशन होंदा। सूरज जलदा धरत रोशन होंदी। लाटू जगदा घर रोशन होंदा पर घरे जगमग ताह्लू होंदी जाह्लु पडे़शियाँ दा दिल जलदा। 

इस मामले पड़ेसियाँ दी बड़ी मेहरबानी है मिंजो अजे तक दिये जगाणे दी नौबत ही नी आई। हुण कोई कुत्‍थी भी धमाका करे आतंकवादी भीड़ा या पड़ेसी अपणे दरवाजे पर धमाके पड़ेसियाँ दा कालजा ल्‍हाणे ताएँ ही कित्ते जांदे। गाँधी बाबें कुछ भी गल्‍लाया होंगा। धमाके दा जवाब धमाका ही होंदा। धमाके करने वाले इक बरी शुरू करने ते बाद अपणी बस होणे तक बंद नी करदे। भले उपरे दा टिकट कटो जाये। 

कनै कुछ लोकां जो दुए दे फटयो जघं फसाणे दी बड़ी गंदी आदत होंदी। इन्हा लोकां जो दयाळीया साही खुशियाँ दा तुहार कियां हाजम होई सकदा। इन्हा लोकां दयाळीया दी बुराइयाँ दा बडा परचा बणाई रखया। लेकन इन्हा दी सुणदा कुण। असां अजाद देशे दे अजाद बसिंदे हन। असां जो अपणे ह्साबें ने दियाळी  मनाणे दी पूरी अजादी है। असां अपनी धन सम्पति पैसयाँ दी जियां मरजी नुमाइश करन जुआ खेलन,पटाखयां फूकन, शराब पीन। भई, असां अपण्‍या पैसयाँ दयाळी या च जियां मर्जी फूकन। कुसी जो क्या पईयो। 

इतणा की अरथ-सास्त्र सभ ना जो पता है कि इक खर्चदा ता दुए दी ओंदण होंदी। इन्‍हा खड़पंचां जो कुण समझाये अज के बजार जुग़े च जे असां तरक्की करनी है ता घर दकान, रिश्ते-नाते, मितरता-यारी सभ बजारे दे ह्साबें चलाणा पोणे। फिरी बजार कनै दयाली दोन्हा दा सन्देश इक ह़ी है। बजारे दा मूल मन्तर है पैसा कुथी ते कियां भी ओ अे  देश-वदेश, रोकड़ा-दुहार, भीखा , दाने , करजे पर गिरबी पर ओणा देया। 

दयाळीया दा भी एही मूल मंतर है लो-उजाला कुथी ते भी ओ अे ओणा देया। न्‍हेरे ते लोई बखी चला। अजकल लोई दा ठेका अमरीका भाल है इस ताएं असां अमरीका दे पासें चला दे, बल्कि सरनूट लाई खिट दित्तियो। इसा दौड़ा च जेह्ड़ा अमरीका पूजी जा दा से अमेरिकी होई जादा। जेह्ड़ा ऐत्‍थु रही जा दा सैह अमरीका ते भी अगें होर गांह लंघी जादा।

इसा खिटा दा कोर्इ अंत नी है। दिलेच न्‍हेरा कठेरी घर-अंगण रोशन करने दा नां दियाळी है। लुट-मार, चौरी-डकैती, रिश्‍वत-दलाली, कुथी ते भी, कियां भी पैसा ओणा दैया। दीये वाळा, दयाळी मना।


कुशल कुमार

3 comments:

  1. आपको दिवाली की मंगलकामनायें

    ReplyDelete
  2. भाई कुशल जी
    तिह्यार असाँ जो बड़े- चिंतण मंथणे च पाई दिन्दे।
    छैळ चिंतण मंथणे दा नतीज्जा ऐ तुसाँ दा इह छैळ ब्यंग ।
    मार गैहरी है डूह्गी ऐ।
    तीर निसान्ने पर लग्गा दा।

    ReplyDelete
  3. द्विज जी, चिंतण-मंथण इक्‍की किस्‍मा दी झड़ झंब ई है। जिञा इस त्‍योहारे ते पैह्लें घरां च झाड़-झंब करदे तिञा ई तीज-त्‍योहारां कनै रस्‍मां-रुआजा दी भी झाड़ झंब करदे रैह्णा चाइदा। तां इन्‍हां जींदयां रैह्णा, नई तां अहां मूड्यां पर बताळ ई ढोणे। कुसल होरां ठुड़की-ठड़की नै बछाई दी दियाळिया दी दरी।

    ReplyDelete