Monday, October 6, 2014

श्रद्धाजंली


                    कांगड़ा कलम चित्रकार ओपी  टाक  

पिछ्ल्याँ पंजाह सालां ते कांगड़ा शैली दी लघु चितर कला दा झंडा अपणे मूंढयाँ पर चकणे वाले .पी. टाक होरां दा 29 सितंबर 2014 जो देहांत होई गिया। पंज हजार कृतियाँ दे चितेरे वजीराबाग(पाकिस्तान) दे मूल बसिंदे कनै धर्मशाला जो अपणा घर बणाणे वाले टाक होरां दी  गुलाबा राम जी ने  1960  कांगड़ा शैली ने पछेण कराई।

इस ते परंत कांगड़ा शैली जो समर्पित टाक होरां इसा दे आकार कनै शैली दा साथ नी छडया। कांगड़ा चितर कला हिन्दू देवी-देवतयां कनै मिथकां चितरणे दी परम्परा है। टाक होरां गुरु ग्रन्थ साहिब, इस्लाम कनै इसाईत पर भी कांगड़ा कलम चलाई।

टाक होरां दा जाणा कांगड़ा कला ताएँ बडा सदमा है इन्हां दी भरपाई मुश्कल है। कांगड़ा लघु चित्रकला सिखणा आणे वाले नोयाँ कलाकारां दे बारे च टाक होरां दा गलाणा था कि एह शैली रोज़ अठ ते दस घंटे दी मेहनत मंगदी इस ताएँ  नोयें होनहार कलाकार ओंदे कला दे गुर सिखदे कनै अमूरत कला दे बखें मुड़ी जांदे।


पहाड़ी कांगड़ा शैली दे इस अनूठे चितेरे जो पहाड़ी दयार दी श्रद्धाजंली। 

2 comments:

  1. ओपी टाक होरां दे बारे च जे लखोएे सैह ई घट। दयारे पर इस बड्डे कलाकारे जो श्रद्धांजलि देणी बड़ी जरूरी थी। गल ईहयां भई असां पहाड़ी लोक ई अपणे माह्ण्‍ुाए दी पछैण नी करदे। कितणे लोक टाक होरां जो तुलसी सम्‍मान जरूर मिलेया अपर सैह मध्‍य प्रदेश सरकार दा था। तिन्‍हां जो बेस्‍ट टीचर सम्‍मान भी मिल्‍ला अपर सैह इस पढ़ाने आले़ दे रूपे च मिल्‍ला। न तिन्‍हां दा नां पद्मश्री वास्‍तैं गया कनैं न हिमाचले दियां सरकारां ई तिन्‍हां जो कला ताईं कोई सम्‍मान दित्‍ता।

    ReplyDelete
  2. तुसां ठीक गला करदे नवनीत जी, असां अपणेया माह्णुआं जो हईनी पछैणदे। लघुचित्रकला कांगड़ा कलम सारिया दुनिया च मश्‍हूर है पर मिंजो नी मेद स्‍हाड़यां लोकां जो इस बारे च कुछ पता है। इसा घैरा ते जागणा कनै जगाणा बड़ा जरूरी है भाई जी

    ReplyDelete